World's
Only Cure

No Antibiotics

No Ear-Tubes

No Grommets

No Tympanoplasty

No Myringoplasty

No Myringotomy

No Chemicals

No Preservatives

100% Natural

100% Herbal

MICROBIOLOGY 101

explained :

Why Antibiotics Do Not Work ?

Antibiotic Resistance

The age of the Superbugs !

Biofilm Matrix

Quorum Sensing

A Bacteria has a UNIQUE & Miraculous Ability to transfer its DNA & its Lifetime of Learning to another Bacteria.. just by a mere touch or Contact !! Your Doctor tells you - either, to complete a course of Antibiotics or not to take them at all else - the Bacteria that escapes death, learns to defend itself from this Antibiotic, and transfers this immunity/ learning to other bacteria, by way of a touch - thus making them all - Antibiotic Resistant.

Since the advent of the Antibiotic Era, with the Discovery of the worlds first Antibiotic in the 1930s by Alexander Fleming - five generations of Antibiotics have been discovered, launched and become ineffective due to the Spread of the Antibiotic Resistance. No New Antibiotic has been discovered in last 20 years. but The Bacteria never Stopped Working - learning to defend itself & spreading the Antibiotic Resistance.

The age of Superbugs has long begun. A bacteria that becomes resistant to 2 or more generations of Antibiotics is called a Super Bacteria or the Superbug. THESE Superbugs are everywhere and are the Main Reason that WOUNDS DO NOT HEAL. Over & Above These Superbugs join hands with other fungi & bacteria and form a stronger Biofilm Matrix within the Wound.

Through a concept called Quorum Sensing, these Superbugs super-strengthen all Microbes in the Biofilm Matrix - and make the Wound Infection - even more Invincible to any existing Antibiotic(s).

Eardrum Perforation

a Worldwide Epidemic
in the Making...

Middle Ear Infection Does Not Heal.

Effusion / Pus / Fluid Pressure Ruptures the Eardrum

Antibiotics Do Not Work.

We are back to

the Pre-Antibiotic Era.


Vaidyaraj Anil Dogra

the SuperBugBuster




the Gram +ve SuperBug - the M.R.S.A.

Methicillin Resistant Staphylococcus Aureus

or the toughest

Gram -ve SuperBugs - the Pseudomonas Aeruginosa or the E.Coli


We Slay them all.

Lock Stock & Barrel.

better yet..
We Slay them with Herbs

No Side-effects.


Why the Modern Medical System
fails You in Ear Infection Control...?!

its

MICROBIOLOGY 101

do not trust

your anti-biotic

no more !!

Our Solution

We Categorically State that Our Plant Extract Ear Drops are the Only & Real Solution for Closing the Eardrum Perforation Naturally - in the Whole Wide World.

The Logic & Concept of our treatment is vividly stated and elaborated below, along with the Microbiological Certificates stating the World Class Uniqueness of our Plant Extract.

Our Success Rate in Complete Healing and Closure of the Eardrum Perforation is 60 to 70 percent alone.

Our Success Rate is 100% in cases of Acute or Chronic Middle Ear Infection with Effusion / Pus / Fluid with Eardrum Intact.

We Earnestly State that Our Plant Extract Drops Cannot be Made Better by or for us - According to Our Knowledge & Research.

Without giving excuses for less than 100 % Success Rate in complete closure, we state that there are many factors playing or been played with, which are beyond our control.

Vaidyaraj Anil Dogra
+91 9810260704

ENT Doctors & Hospitals Worldwide are ineffective against the Chronic Otitis Media with Effusion ( OME ).

OME is also called Recurrent Middle Ear Infection with Pus/ Fluids or Chronic Suppurative Otitis Media. It is commonly called 'Glue Ear'.

To put it in a simple language, OME is when you feel that your Ear is Closed or filled with fluid, with or without Pain, and when such a situation keeps returning back, even after 2 to 3 successive courses of Antibiotic administration.

In Chronic OME situation, the fluid pressure builds up in the Middle Ear, just behind the Eardrum - and its pressure eventually bursts the Eardrum.

This ineffectiveness of Antibiotics against the OME infection is the Major Reason of Eardrum Perforation in the World.

Vaidyaraj Anil Dogra’s Plant Extract is Certified by the Microbiology Labs of the Prestigious - The Shriram Institute for Industrial Research, New Delhi, India - to Kill the toughest of the Super Bacteria like the Pseudomonas Aeruginosa, the MRSA and the E.Coli. This Discovery is akin to the Discovery by Alexander Fleming in the 1930s. With this Discovery the Antibiotic Era started, and that has now come to an end, due to the advent and spread of Antibiotic Resistant Superbugs or Super Bacteria.

Annually - 2 million Eardrums of American Kids, suffering from OME, are Intentionally Surgically Perforated to place a tunnel like Eartube across the Eardrum, just to drain off the Middle Ear fluid, lest it bursts the Eardrum.

The ear tubes stay in for a year or so, and then either fall off, or are surgically removed, with the hope that the tiny hole closes by itself naturally.

BUT - In 10 to 20 percent cases - it does not.

If such is the State of Affairs in the World’s topmost country and economy, one can very well imagine what all could be happening around the World.

Ear Tubes is just a Mechanical Solution to a Medical Issue, and does nothing for the existing Infection. Infection which is the Key Issue - Stays.

Ear Tubes prevent the probability of a bigger hole in an Eardrum, by making a tiny hole beforehand, to ease off the fluid pressure.

Understanding Eardrum Hole :

An Eardrum Hole is like a Wound on your Skin. If all is well with Body Immunity & with normal infection, the Wound closes naturally.

Just like your hair grow back slowly, a Wound closes even Slower - but it does close. You Simply have to be patient about it.

But if the Body Immunity is low - like in a child - and or the Bacteria is a Super Bacterial Infection - an Infection that does not get killed by Antibiotics - an Antibiotic Resistant Infection - then the Natural Process of Closure of a Wound or an Eardrum Hole - gets interjected , interrupted and it stalls.

The Super Bacterial Infection Stops the Natural Process of Wound or Hole Closure.

In Such Cases -

You Build back the Body Immunity by Stopping Antibiotics, and feeding yourself well.

With our Plant Extract, you slowly yet surely & continuously mitigate the Infection...and the Natural process of Closing of the Wound / Hole - Restarts !

This is the Logic we work with, and this alone can patiently recreate the Natural Magic of Hole Closure.

MOST OF THE VISITORS TO OUR PAGE ARE PERSONS WHO ALREADY HAVE A PERFORATED EARDRUM….

YOU LOOK OUT FOR US.

BUT YOU CAN HELP OTHERS SAVE THEIR EARDRUM FROM PERFORATION…..

THEY DO NOT HAVE THIS KNOWLEDGE THAT YOU GET HERE.

THERE ARE TENS OF PEOPLE AMONGST YOUR FAMILY & FRIENDS , MOSTLY CHILDREN UPTO The AGE 15 years or so, WHO COULD BE OR WOULD BE SUFFERING FROM AN EAR PAIN , MIDDLE EAR INFECTION, AN OME Infection - that could potentially be a Super Bacterial Infection…

AND MAY LEAD THEM TOWARDS A RUPTURED EARDRUM.

THEY ARE NOT LOOKING FOR US.

DO SPREAD THIS KNOWLEDGE AROUND & -

SAVE A CHILD’s EARDRUM.

Saving a potential Eardrum Perforation due to Chronic Middle Ear Infection with Fluids, is just a matter of a day or two for us - with our Diluted Ear Drops alone.

Anil Dogra's Ear Drops for Chronic Middle Ear Infection & Ruptured / Perforated Eardrum Repair - All Natural. All Herbal. Safe for all ages.

Standing Instructions -


Please immediately stop the use of oral antibiotics. Instead take green vegetable hot soup or fresh juices a couple of times a week.

No water while bathing should enter the ear in question, especially if it's perforated.. Add a cotton ball into the ear while bathing. You may apply a little Vaseline to the Cotton Ball - this will repel water.

No swimming or religious bathing , till at least a year after the perforation gets repaired.

No chemical or homeopathic or home herbal remedy be added into the ears.

What's in our herbal drops package -:


Our Pure Plant Extract Drops are the Master Drops.

All other Drops can anytime be made with these Pure Drops.

These Drops may get darker or indicate Coagulated Plant Residue showing up with time - that is Normal - their effectiveness & Potency remains intact - forever. Our Drops have no expiry. They can be kept in Clean Area at normal temperatures, away from direct light, as much as possible.

No environmental microbe has the capacity to kill our Drops. That is why they remain good - forever.

We send four 10 ml / 300 drops dropper bottles -

Two bottles have our pure plant extract totalling approx. 600 Pure Plant Extract drops.

For your Perforation Treatment, you Would Not Need More Pure Drops.

The Success or Failure of our treatment shall happen well with these many alone, and some more could get left after that. They Never Go Bad - Ever.

One bottle is of diluted ear drops with 35 drops of pure extract mixed in 10 ml clean water. You may increase the potency anytime you want by adding more Pure Drops.

Fourth bottle is a 10ml Nasal drop bottle, which can be remade anytime by adding 4 drops of pure plant extract, and the rest 10 ml of clean water.

The Nasal Drops and the Diluted Ear Drops can thus be made by anyone anytime, with Pure Extract Drops.

Nasal Drops -


Add 2 drops of nasal drops in each nostril once a day, or as many times as needed if there is a cold / nasal congestion issue or Throat infection issue. This is the Only Real Solution for Sinusitis. This shall help in middle ear infection as its all connected internally.

Ear Drops Administration -


FOR EAR PAIN / CHRONIC MIDDLE EAR INFECTION - WITH NO PERFORATION YET :

SAVE YOUR EARDRUM WITH OUR DILUTED DROPS ALONE.

Add 4 drops of Diluted Ear Drops into the concerned ear and let it stay in for 2 minutes. After this when you stand upright you clean anything that comes out of the ear with cotton. You may do this once to thrice a day till your heaviness and/ or pain is completely gone and you feel normal.

Our drops are NOT FOR TINNITUS although it may help in it, when the infection is gone. TINNITUS is an issue of the Inner Ear connected to the Brain, and the Drops do not reach the Inner Ear.

How much hearing eventually would improve, is anybody's guess. Only time can tell.

For Swimmers - Add 4 drops of Diluted Ear Drops for two minutes everytime after swimming, diving, surf boarding or Scuba Diving, as a precaution or prevention from Infection. Nasal Drops should also be put in once as indicated above.

IN CASES OF EARDRUM PERFORATION -

Start with adding diluted drops first. Add 2 to 4 drops of diluted plant extract once a day, every day for 2 minutes.

If stinging is bearable or eventually gets bearable, you start adding pure drops every ALTERNATE DAYS.

If stinging continues to be bearable, you continue with pure drops else you go back to diluted drops.

Ultimately the stinging should become very less so you can move to adding pure drops again.

This above process may take much longer for many. There is nothing one can do except to be patient about it.

PURE EXTRACT DROPS SHOULD BE ADDED ONCE EVERY ALTERNATE DAY.

TWO TO THREE PURE DROPS FOR TWO MINUTES IS ENOUGH.

NO EXTERNAL WATER SHOULD ENTER THE CONCERNED EAR TILL IT GETS COMPLETELY HEALED or even a for a year after that.

Once the Pus stops coming out, and the Stinging is totally gone, it indicates the infection has been neutralized.

By this time you have had already been adding pure drops and shall continue adding pure drops alone, every alternate day.

Neutralizing infection is no mean achievement in this era of Antibiotic Resistance and Superbugs like Pseudomonas Aeruginosa , MRSA, E Coli.

These Superbugs are playing havoc worldwide. These can only be Neutralized with our Plant Extract.

Copies of the Certificates from the prestigious THE SHRIRAM INSTITUTE FOR INDUSTRIAL RESEARCH, New Delhi, India, indicating the same are posted on this site.

Once the Infection gets neutralized, have the size of hole checked, and estimated by an ENT doctor.

Continue adding the pure drops once every other day and get the hole size checked again after 40 days, and then again after 80 days by the same ENT doctor, if possible.

If in the 2nd or 3rd check its found that healing / repair or closing is happening and the hole size has reduced, it shall close in a couple of months or so using our pure drops, else you may have to go for surgical repair.

Additional Points -

The extract can go dark / black around the bottle sides with time, and Coagulated plant residue may appear within, but it remains potent and effective, forever.

The extract is handmade by Vaidyaraj Anil Dogra and family.

Vaidyaraj Anil Dogra +91 9810260704

The Cost of the above Set is INR 3700.00 for Orders within India, including shipping. The prices are subject to change anytime.

Generally one would not need additional Pure Extract for complete healing. If you need extra, then a whole new set, as above, needs to be ordered again.

COST is USD 145.00 for Above Set including shipping for outside India.

WE CANNOT SEND IT TO UAE , SAUDI AND SOME OTHER ISLAMIC COUNTRIES, OWING TO THEIR IMPORT RESTRICTIONS FOR HERBAL PRODUCTS.

IT CAN BE SENT TO PAKISTAN.

You may pay using our email address [email protected] using www.Paypal.com or send by Moneygram or Western Union using following details : ANIL KUMAR DOGRA, IA / 20 A, PHASE ONE, ASHOK VIHAR, DELHI , INDIA - 110052 . Phone +91 9810260704. You may then send details to our email address [email protected] .

For Within India - Please deposit money in the following account and notify with name, address, pin code and phone number , either on our email above, or on our phone 9810260704 via SMS or whatsapp :

Please deposit Rs 3700 in the Savings Account of Mrs. Minu Dogra number 35782552316 at the SBI BANK Branch Ashok Vihar, Phase 1, Delhi 110052, India. NEFT IFSC CODE is SBIN0007783.

FAQs :

1. ) When the Eardrum is Intact and the person has Ear Pain and or Middle Ear Infection, ENT Doctors say no to any Ear Drops and Incase of Eardrum Perforation, the ENT Doctors Warn not to put in any Ear Drops. So why and how your Ear Drops may help ?

ENT Doctors say that do not put any Ear Drops to cure Middle Ear Infection or Otitis Media because No Drop can enter or go across an intact EarDrum.

Most Categorically Speaking, We State & Claim that our Ear drops can Cure any Acute or Chronic Otitis Media, at Any Age, within a Single Day to a week with Eardrum totally intact.

No need of any oral antibiotics.

The Modern Medical Science is a Work in Progress, to say the least.

Actually through Osmosis our Ear Drops reach across the Eardrum, in minute yet sufficient quantity , to neutralize the Infection. Rest of the added drops simply drain off after 2 minutes.

The Doctors may be afraid that a Chemical medicine via Ear Drops may increase the problem - Which could be correct. Also, the Ear Drops themselves may carry the Bacterial Pathogen - and we agree with them.

BUT - OUR EAR DROPS ARE DIFFERENT.

Our Drops are purely herbal, and they have proven capacity to neutralize the toughest of pathogens.

One is completely safe with our drops.

We also instruct NOT to put any other ear drop along with our drops and no swimming. No water should enter your ear while bathing, till the eardrum gets completely closed. This is required because the Municipal water has Super Bacterial pathogens and may restart the infection.

2.) Can you assure 100 percent Eardrum Closure ?

There is complete assurance of 100 percent infection neutralization, but only 60 to 70 percent assurance of complete eardrum repair.

It's a process with Steps, and these are vividly described above. We have closed many a Ruptured Eardrums completely and forever. Our List of Clients with their phone numbers in the Testimonials* list, is irrespective of the Treatment Results. This list is not complete, because many Clients choose not to be included, because of Privacy Issues.

3.) No Pus comes out of my Ear, does this mean that It has No Infection ?

Pus consists of dead cells that drain out when infection is being fought with by the Body Immunity and or Medicine.

If the pus keeps coming out every now and then, it indicates that the infection is still there.

Sometimes, there is No Pus initially, but as you add our Ear drops, it starts coming out. This means that the Infection was dormant. It got dried up due to Antibiotics or otherwise, but did not finish off.

As our Drops restart the fight against the existing infection, the dead cells get created and they flow out as Pus.

One must not allow public supply water to enter the ear till the time the hole gets completely repaired - Because this may add to or restart the infection due to bad bacteria in the public water supply.

This infection risk is there while Bathing , Swimming or during Religious Baths. So Beware and use Cotton to protect the Ear while bathing.

Once the pus completely stops with our Drops , then we can say that the infection is totally gone.

4. ) Can we meet Vaidyaraj Anil and take Ear Drops from you by hand ?

No. We explain everything in Detail here. Rest you may call and or send email.

We have this ultimate remedy for all ear problems and would not recommend any other medicine.

Generally, when you see a doctor, they do not explain even 10 percent of what we explain here. And as Vaidyas - Herbalists we treat a health issue holistically, so our Herbal Drops work and help, irrespective of the Diagnosis.

All Perforation Issues are the similar.

Its unlike a Chemical Based Modern Medicine or Allopathy, where only a certain part of the issue is targeted or addressed, while the rest get entangled with the side effects.

5.) WHY THE EARDRUM REPAIR SURGERY OFTEN FAILS NOW A DAYS & WHY PUTTING EAR TUBES OR GROMMETS IS GETTING RISKIER IN MIDDLE EAR INFECTION.

WHY THESE OFTEN FAIL NOWADAYS ?

2 Million Rivet like Ear Tubes or Grommets are placed through the intact Eardrum, every year in the USA, by making a minute hole through the eardrum. Mostly they perform this Surgery on Kids.

These ear tubes are supposed to fall off in a year or two and it's assumed that the minute ear hole closes by itself - sooner.

These grommets are placed through a tiny surgical hole to create a tunnel so that the pus behind the eardrum flows out and does not accumulate behind the eardrum - because if it does - it may put pressure on the eardrum and make it go Burst.

The pus is due to the Acute or Chronic Middle Ear infection which does not get neutralized or killed or eliminated with Oral Antibiotics now a days.

The Middle Ear Infection has mostly become Antibiotic Resistant - so the ONLY alternative left is to make a mechanical tunnel through the eardrum and at least save the Eardrum from getting Burst up into a big hole. It is hoped that as the child's immunity gets better with age, the infection gets naturally fought and neutralized, and then when the ear tube or grommet falls off or are removed, the same immunity would help close the tiny hole that's left.

THIS IS THE COMPLETE STORY OR LOGIC BEHIND EAR TUBES.

But IF the Super Bacterial Infection sets in , after the Ear Tube falls off, the hole would not close but shall eventually get bigger due to bacterial population multiplying with time.

SIMILAR IS THE CASE WITH TYMPANOPLASTY OR EARDRUM PERFORATION REPAIR SURGERY - Before surgery the Surgeon gives you Oral Antibiotics to eliminate the underlying infection, due to which the Eardrum did not close by itself naturally.

When the Doctor visually sees no infection he assumes that its been eliminated. He does not do any Microbiological testing to determine if complete infection is gone or not. Its impractical to do so sometimes. But infection is very very minute bacteria and fungi and if a little bit of these are left after long periods of antibiotics, or these are Antibiotic Resistant Superbugs or Super Bacteria, and the Doctor repairs the Eardrum, it's similar to constructing a building over a weak foundation….

Its building is bound to collapse.

So these Superbugs multiply and collapse the repaired eardrum again, after a couple of years or less.

This is becoming more and more common and frequent, nowadays.

WE ARE LIVING IN THE ERA OF SUPERBUGS - SUCH SURGERIES ARE BOUND TO FAIL UNLESS ONE HAS AN ANTIBIOTIC THAT CAN KILL THESE ANTIBIOTIC RESISTANT SUPERBUGS.

5.) Can we use these Ear Drops to save our Eardrum post/ after the Eardrum Repair Surgery ?

If you get the eardrum repaired by surgery, you wait for a month and then add 4 drops of our Diluted Eardrop in that ear, once a week for two minutes for a year, to make sure that the repaired eardrum must not fail due to the superbugs that may not have got killed with antibiotics, that you took prior to, or post surgery.

This way you completely mitigate the risk of these bugs multiplying in due course and failing the repaired eardrum.

6.) If both your eardrums are perforated, then try our drops on one of the two first, and when you gain confidence, start with the other.

7.) Sometimes the infection in Perforation cases is intense and situation within is such, that when you add even Diluted Drops the first time, there is lots of Pain and it lingers with heaviness for a longer period of time, say for half a day or more. In such cases one may Dilute the Diluted drops further by taking 50 percent of it out of the Diluted Drops bottle and addityng Clean water to it instead. Continue with Nasal Drops but add these New Extra Diluted Drops only when Pain and Heaviness is over. Diluted Drops sent have 35 drops of Pure Extract and rest 10 ml clean water. You may create New Diluted Drops separately also by getting a new empty 10 ml dropper bottle, as a suggestion.

8.)The Oral Chemical Antibiotics only dry up the Infection - nobody knows if the infection is completely neutralized or not. Beyond this, if the pain, inflammation or heaviness persists - these people have nothing but to Clean the Ear tunnel. PROBLEM IS THAT THEY USE A VACUUM CLEANER like tool or technology to clean. If the Vacuum Pressure increases, it Bursts the Eardrum while cleaning itself. Many such cases we have come across. SO PLEASE TELL FRIENDS AND FAMILY NOT TO HAVE YOUR EAR EXTERNA OR TUNNEL CLEANED, SPECIALLY NOT BY A VACUUM TOOL. OUR DILUTED DROPS ALONE, shall clean the Ear Wax slowly and naturally. It shall create such a externa environment, that later the ear shall clean itself of Earwax naturally, as it is supposed to do. Do Not Use any Ear Bud for cleaning.

9.) Sometimes, with Diluted Drops the pain and heaviness in the ear is a bit too much and prolongs - this happens in few cases only.

In such cases, even the Diluted Drops should be used every alternate days or later - until the pain and heaviness completely subsides.

Such cases have complex and severe infection issues. We have to be very patient about it , and should not rush and expect results in the short term.

10.) Abstain from using the Chemical Based Antibiotic Drops into the Ear any further, if atleast after a Course of Antibiotic Drops, the Infection has Not cleared. Additional Courses of Antibiotics shall lead to increased Antibiotic Resistance & a more Complex Internal Situation to treat.

11.) BEWARE : Do Not use Butterfly Machine in your Gym with heavy weights.

This is found to dislocate inner ear/middle ear bones/tissues, leading to pain and inflammation.

Regrowth or Closing of the Eardrum Hole, is a game of patience, consistency and discipline.

Also you have to be intelligent, smart and self-introspective to analyze what all is happening, and change and devise your own treatment strategies with our Drops, and our overall knowledge we present here and the essay advise.

Essay/ Instructions in Hindi

हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि आयुर्वेदिक पौधों के अंश से बने हमारे इयर ड्रॉप्स सम्पूर्ण विश्व में कान के परदे में मौजूद सुराख या छेद को प्राकृतिक रूप से बंद करने के एकमात्र एवं असल उपाय हैं ।

हमारे उपचार के तर्क एवं सिद्धांतों तथा माइक्रोबायोलॉजिकल प्रमाण पत्रों के बारे में, जो हमारे पौधों के अंशों की विश्व स्तरीय गुणवत्ता का बखान करती है, नीचे काफी विस्तार से चर्चा की गयी है ।

कान के परदे के छेद के पूर्ण उपचार एवं भराव के क्षेत्र में हमारी सफलता दर 60 से 70 प्रतिशत है ।

कान के परदे के क्षतिमुक्त होने के साथ रिसाव/पस युक्त कान के मध्य भाग के तीव्र या दीर्घकालिक संक्रमण के मामलों में हमारी सफलता दर 100% है ।

हम नम्रतापूर्वक यह कहना चाहते हैं कि पौधों के अंशों से निर्मित हमारे ड्रॉप्स हमारे ज्ञान एवं शोध के आधार पर इसके वर्तमान स्वरुप से बेहतर होना असंभव है ।

पूर्ण उपचार में सफलता दर के 100% से कम होने पर कोई भी सफाई दिए बिना हम यह स्पष्ट करते हैं कि ऐसे कारक ऐसे समय काम कर रहे होते हैं जो हमारे नियंत्रण से परे हैं ।

वैद्यराज अनिल डोगरा +91 9810260704

www.EardrumPerforation.com

विश्व भर के इएनटी डॉक्टर्स एवं अस्पताल रिसाव युक्त दीर्घकालिक ओटिटिस मीडिया (ओएमइ) के विरुद्ध प्रभावहीन रहे हैं ।

ओएमइ को पस/द्रव्यों के साथ कान के मध्य भाग में होने वाला पुनरावर्ती संक्रमण या दीर्घकालिक सपरेटिव ओटिटिस मीडिया कहा जाता है ।

इसे आम तौर पर ‘गोंद भरे कान या ग्लू इयर’ कहा जाता है ।

यदि इसे सामान्य भाषा में कहें, तो ओएमइ की स्थिति तब उत्पन्न होती है जब आपको लगता है कि आपके कान बंद हैं या द्रव्य से भरे हैं । इस स्थिति में कई बार दर्द भी होता है तथा एंटीबायोटिक की 2 से 3 खुराक लेने के बाद भी ऐसी स्थिति बार बार उत्पन्न होती है ।

दीर्घकालिक ओएमइ की स्थिति में, द्रव्य का दबाव कान के मध्य भाग में ठीक कान के पर्दे के पीछे बढ़ता रहता है – एवं यही दबाव अंततः कान के पर्दे के फटने का कारण बनता है ।

ओएमइ संक्रमण के विरुद्ध एंटीबायोटिक्स की यह प्रभावहीनता ही विश्व में कान के पर्दे में छेद होने की समस्या का प्रमुख कारण है ।

वैद्यराज अनिल डोगरा द्वारा पौधों के अंश से तैयार यह उपचार नयी दिल्ली, भारत के प्रतिष्ठित श्रीराम इंस्टिट्यूट फॉर इंडस्ट्रियल रिसर्च की माइक्रोबायोलॉजी प्रयोगशाला द्वारा प्रमाणित है, तथा यह स्यूडोमोनस एरुजिनोसा, एमआरएसए एवं इ.कोली जैसे हानिकारक सुपरबग्स बैक्टीरिया को मारने में पूर्ण रूप से सक्षम है।

यह खोज 1930 के दशक में एलेग्जेंडर फ्लेमिंग के आविष्कार के समान है ।

अविष्कार के साथ ही एंटीबायोटिक युग की शुरुआत हुई जो एंटीबायोटिक रोधी सुपरबग्स या सुपर बैक्टीरिया के प्रचार प्रसार की वजह से आज समाप्त होने की कगार पर है ।

सालाना अमेरिका में ओएमइ से ग्रस्त 2 मिलियन बच्चों के कान के पर्दों में जान बूझकर शल्य क्रिया के माध्यम से सुराख किया जाता है जिससे कान के पर्दे से होकर जाने वाली एक सुरंग जैसी इयरट्यूब लगाई जा सके, जिसका उद्देश्य कान के मध्य भाग में जमने वाले द्रव्य को समय रहते निकालना होता है, अन्यथा इससे कान का पर्दा फट भी सकता है ।

ये इयर ट्यूब्स करीब एक साल तक टिके रहते हैं, और इसके बाद या तो ये गिर जाते हैं या फिर इन्हें शल्य क्रिया के माध्यम से इस आशा से निकाला जाता है कि यह छोटा सुराख़ प्राकृतिक रूप से खुद ही बंद हो जाएगा ।

परन्तु – 10 से 20 प्रतिशत मामलों में - ऐसा नहीं होता ।

यदि विश्व के श्रेष्ठतम देश एवं अर्थव्यवस्था में ऐसी अवस्था है, तो आप खुद ही कल्पना कर सकते हैं कि सारी दुनिया में क्या चल रहा होगा ।

इयर ट्यूब्स केवल एक चिकित्सकीय मामले का मशीनी इलाज हैं एवं कान में मौजूद संक्रमण को ठीक करने के लिए कुछ नहीं करते ।

संक्रमण, जो मुख्य समस्या है – वह रह ही जाती है ।

इयर ट्यूब्स कान के पर्दे में बड़ा सुराख होने की संभावना को रोकते हैं । इसके लिए वे पहले से ही एक छोटा सुराख़ कर देते हैं जिससे द्रव्य का दबाव कम हो जाए ।

कान के पर्दे में सुराख़ को समझना :

कान के पर्दे में हुआ सुराख आपकी त्वचा में हुए घाव की तरह होता है ।

यदि आपकी प्रतिरोधक क्षमता अच्छी है एवं संक्रमण सामान्य है, तो यह घाव प्राकृतिक रूप से भर जाता है

जिस तरह आपके बाल काफी धीरे उगते हैं, घाव उससे भी धीरे भरता है – पर अंततः यह भर अवश्य जाता है । इसके लिए आपको काफी धैर्य रखना होगा ।

परन्तु यदि आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता काफी कम – एक बच्चे की तरह है एवं/या बैक्टीरिया सुपर बैक्टीरियल संक्रमण – ऐसा संक्रमण जिसे एंटीबायोटिक्स से समाप्त नहीं किया जा सकता - तो ऐसी स्थिति मंप घाव या कान के पर्दे के छेद के भरने की प्राकृतिक प्रक्रिया में बाधा आती है एवं यह रूक जाता है ।

ऐसे मामले में आप एंटीबायोटिक को बंद करके, और अच्छी तरह से भोजन करके आप शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को दोबारा से बनाते हैं।

हमारे पौधे के अंश के साथ, आप संक्रमण और घाव/छिद्र को भरने की कुदरती प्रक्रिया को गति से और निश्चित रूप से करते हैं।

यह एक तर्क है जिसके साथ हम काम करते हैं, और यह अकेले छिद्रों को बंद करने के प्राकृतिक जादू को धैर्यपूर्वक दोबारा बना सकता है।

IMPORTANT :

हमारे पेज के अधिकतर विजिटर वह व्यक्ति हैं जिनके पहले से ही कान के पर्दे में छिद्र है।

लेकिन आप दूसरों लोगो के कान पर्दे के छिद्रों के बचाने के लिए उनकी मदद कर सकते हैं. उनको यह ज्ञान नही है जो आप यहॉ पर पाते हैं।

आपके परिवार या दोस्तों में दसों लोग हो सकते हैं, अधिकतर 15 उम्र के बच्चे, जो कान के दर्द, मध्य कान के संक्रमण एक ओएमई सक्रमण से पीड़ित हो सकते हैं या होगे- यह संभवतं सुपर बैक्टीरियल संक्रमण हो सकता है और इसके कारण कान के पर्दो क्षतिग्रस्त हो सकते हैं।

इस ज्ञान को चारो ओर फैलायें और बच्चे के कान के पर्दे की रक्षा करें !

कान के मध्य में गंभीर संक्रमण के कारण कान के पर्दे के संभावित छिद्र को बचाना, हमारे लिए सिर्फ एक या दो दिन का मामला है- केवल हमारे पतले ईयर ड्रॉप्स के साथ---- पूरी तरह से प्राकृतिक। पूरी तरह से हर्बल। सभी उम्र के लिए सुरक्षित।

स्थायी निर्देश -

कृपया सभी खाने वाले एंटीबायोटिक का इस्तेमाल तुरंत बंद करे। इसके बजाय हरी सब्जी गर्म सूप या ताजे जूस को सप्ताह में कई बार लें।

नहाने समय कान में बिल्कुल भी पानी नहीं जाना चाहिए, खासकर अगर यह छिद्रित है...नहाते समय कान में रूई की गेंद डालें। आप रूई की गेंद पर थोड़ी वैसलीन भी लगा सकते हैं।–इससे पानी रूक जायेगा।

छिद्र के उपचार के बाद एक साल तक स्वीमिंग या धार्मिक स्नान ना करें।

कान में कोई केमिकल या होम्योपैथक या घरेलू हर्बल दवाई ना डालें।

हमारा हर्बल ड्रॉप्स पैकज क्या है -:

हमारा शुद्ध पौधों का अंश PURE DROPS ड्रॉप्स मास्टर ड्रॉप्स हैं।

सभी अन्य ड्रॉप्स को इन शुद्ध ड्रॉप्स से कभी भी बनाया जा सकता है।

यह ड्रॉप्स समय के साथ गहरे रंग की हो सकती है या गाढ़ा पौधे के अवशेष दिख सकते हैं-यह सामान्य है- उनकी प्रभावशीलता और क्षमता हमेशा बरकरार रहती है।

हमारे ड्रॉप्स कभी खराब नहीं होते हैं। इसे सामान्य तापमान पर जितना संभव हो, रोशनी से दूर साफ जगह पर रखा जा सकता है।

कोई भी पर्यावरण सूक्ष्म जीव हमारे ड्रॉप्स को मारने में क्षमता नहीं हैं। इसलिए वे हमेशा सही रहते हैं।

हम 4 -- 10 मिली/300 ड्रॉस ड्रॉपर बोतले भेजते हैं-

दो बोतलों में हमारे शुद्ध PURE DROPS पौधों के अंश की कुल लगभग 600 शुद्ध पौधों के अंश की ड्रॉप्स हैं। आपके छिद्र के उपचार के लिए, आपको ज्यादा शुद्ध ड्रॉप्स की जरूरत नहीं होगी।

हमारे उपचार की सफलता या असफलता सिर्फ इनसे ही हो जायेगी, और उसके बाद कुछ बच भी सकता है। यह कभी खराब नहीं होती

एक बोतल 10 मिली साफ पानी में शुद्ध अंश के 35 ड्रॉप्स के साथ पतला DILUTED DROPS इयर ड्रॉ है। आप जब भी चाहें शुद्ध बूँदें मिलाकर किसी भी समय शक्ति को बढ़ा सकते हैं।

चौथी बोतल10 मिली नेजल NASAL DROPS ड्रॉप बोतल है, जिसे कभी भी शुद्ध पौधे के अंश की 4 बूँदों और बचे हुए 10 एमएल साफ पानी को मिलाकर दोबारा बना सकते हैं।

नेजल ड्रॉप्स और पतले इयर ड्रॉप्स को शुद्ध पौधे के अंश के साथ कभी भी बनाया जा सकता है

नेजल ड्रॉप्स -


दिन में एक बार या आपको जितनी बार जरूरत हो प्रत्येक नाक में नोजल ड्रॉप्स की दो बूँद डाले यदि आपको सर्दी/नाक में संकुचन या गले में संक्रमण की समस्या है।

यह साइनसाइटिस का एकमात्र असली समाधान है।

यह मध्यम कान संक्रमण में मदद करेगा क्योंकि यह सब अंदर से जुड़े हुए हैं।

कान ड्रॉप्स का इस्तेमाल -


कान के दर्द/कान के मध्य भाग में गंभीर संक्रमण - अभी छिद्र नहीं है-


सिर्फ हमारे पतले / DILUTED DROPS ड्रॉप्स के साथ अपने कान के पर्दे को बचायें। पतले इयर ड्रॉप्स को सम्बंधित कान में 4 बूँद डाले और इसे 2 मिनट उसमें रहने दें।

इसके बाद जब आप सीधे खड़े होते हैं तो आप कान से बाहर आने वाली किसी चीज को रूई से साफ कर सकते हैं।

आप इसे दिन में 1 से 3 बार तब तक कर सकते हैं जब तक आपका भारीपन और/या दर्द पूरी तरह से चला नहीं जाता है और आप सामान्य नहीं महसूस करते हैं।

हमारा ड्रॉप टिनीटस ( NOT FOR TINNITUS ) के लिए नहीं है हालांकि यह इसमें मदद कर सकता है, जब संक्रमण चला जाता है

सुनने की क्षमता में कितना सुधार होगा - सिर्फ समय बता सकता है।

तैराकों के लिए- तैरने, सर्फ बोर्डिंग या स्कूबा डाइविंग के बाद संक्रमण से सावधानी या रोकथाम हर बार पतले DILUTED इयर ड्रॉप्स की 4 बूँद 2 मिनट के लिए डालें। नोजल ड्रॉप्स को भी एक बार डालना चाहिए जैसा कि उपर बताया गया है।

कान के पर्दे में छिद्र के मामले में- IMPORTANT


पहले पतले DILUTED ड्रॉप्स से शुरू करें। पतले पौधे के अंश की 2 से 4 बूँदे दिन में एक बार डाले, रोजाना 2 मिनट के लिए।

यदि चुभन सहन योग्य है या अंततः को सहने लायक हो जाता है, तो हर एक दिन के बाद ( ALTERNATE DAYS ) शुद्ध PURE DROPS ड्रॉप्स को डालना शुरू करें।

यदि चुभन से सहनशील होना जारी है, तो शुद्ध ड्रॉप्स के साथ जारी रखें अन्यथा पतले ड्रॉप्स पर वापस जायें। अंततः चुभन बहुत कम हो जानी चाहिए जिससे कि आप दोबारा शुद्ध ड्रॉप्स को डाल करें।

उपर दी गयी यह प्रक्रिया में कई लोगों के लिए बहुत ज्यादा समय लग सकता है। इसके बारे में धीरज रखने के अलावा कोई भी कुछ नहीं कर सकता है।

शुद्ध अंश PURE DROPS की ड्रॉप्स को हर दूसरे दिन एक बार डालना चाहिए।

दो मिनट के लिए 2 या तीन शुद्ध ड्रॉप्स पर्याप्त है।

सम्बंधी कान में कोई बाहरी पानी नहीं जाना चाहिए जब तक यह पूरी भर ना जाये या इसके 1 साल बाद तक।

जब पस निकलना बंद हो और चुभन पूरी तरह से चली जाये, यह दर्शाता है कि संक्रमण निष्प्रभावी हो गया है।

इस समय सिर्फ शुद्ध ड्रॉप्स को, हर दूसरे दिन डालना जारी रखना चाहिए।

एंटीबायोटिक प्रतिरोध और सुपरबुग्स जैसे स्यूडोमोनस एरिजिनोसा, एमआरएसए, ई-कॉयल के इस युग में संक्रमण को निष्क्रिय करना उपलब्धि है।

ये सुपरबग दुनियाभर में कहर ला रहे हैं। इन्हें सिर्फ हमारे पौधे के अंश से निष्क्रिय किया जा सकता है

प्रतिष्ठित श्रीराम इंस्टीट्यूट फॉर इंडस्ट्रियल रिसर्च, नई दिल्ली, भारत के प्रमाण पत्र की प्रतियां, जो इस बात को दर्शाती हैं, इस साइट पर पोस्ट की गई हैं।

एक बार जब संक्रमण निष्प्रभावी हो जाये, तो छिद्र के आकार को चेक करना चाहिए, और एक ईएनटी चिकित्सक द्वारा अनुमान लगाया जाता है।

शुद्ध ड्रॉप्स को दूसरे दिन डालना जारी रखें और यदि संभव हो तो उसी ईएनटी डॉक्टर से 40 दिनों के बाद और फिर 80 दिनों के बाद छिद्र के साइज को चेक करायें।

यदि दूसरी या तीसरी जांच में पाया गया कि छिद्र का आकार कम हो गया है, तो इसे कुछ महीनों में आगे बंद हो जाना चाहिए और हमारे शुद्ध ड्रॉप्स का इस्तेमाल जारी रखें अन्यथा आप सर्जिकल रिपेयर के लिए जा सकते हैं।

अतिरिक्त बिंदु-


अंश समय के साथ बोतल की साइड्स में गहरा/काला हो सकता है, और उनमें पौधे का गाढ़ा अवशेष दिख सकता है, लेकिन यह हमेशा के लिए शक्तिशाली और प्रभावी रहता है।

इस अंश को वैद्यराज अनिल डोगरा और परिवार द्वारा अपने हाथों से बनाया गया है।

वैद्यराज अनिल डोगरा +91 9810260704

Prices & How to Order :

इस उपर दिये गये सेट की भारत में आर्डर के लिए कीमत शिपिंग को शामिल करते हुए रूपये 3700.00 है। कीमतें किसी भी समय बदल सकती हैं

सामान्यतौर पर व्यक्ति को पूरे उपचार के लिए अतिरिक्त शुद्ध अंश की जरूरत नहीं होगी। यदि आपको अतिरिक्त की जरूरत है, तो उपर बताये गये के अनुसार दोबारा पूरे नये सेट को आर्डर करना होगा।

शिपिंग को शामिल करते हुए भारत के बाहर उपर दिये गये सेट की कीमत USD 90.00 डालर है।

हम इसे उनके हर्बल प्रोडक्ट्स के आयात के प्रतिबंध के कारण यूएसई, साउदी और कुछ अन्य इस्लामिक देशों, में नहीं भेजते हैं। इसे पाकिस्तान में भेजा जा सकता है

आप www.Paypal.com का इस्तेमाल करके हमारे ईमेल अड्रेस [email protected] का इस्तेमाल करके या नीचे दी गयी जानकारी का इस्तेमाल करके मनीग्राम या वेस्टर्न यूनियन से भुगतान कर सकते हैं।

अनिल कुमार डोगरा, आईए/20ए, फेज एक, अशोक विहार, दिल्ली, इंडिया-110052 फोन +91 9810260704. फिर आप जानकारी को हमारे ईमेल अड्रेस [email protected] पर भेज सकते हैं।

भारत के भीतर- पैसे को निम्नलिखित एकाउंट में जमा कर सकते हैं और नाम, पता, पिन कोड और फोन नम्बर के साथ या तो हमारे उपर दिये गये ईमेल, या हमारे 9810260704 फोन पर एसएमएस या व्हाटएप के द्वारा जानकारी दे सकते हैं।

Please deposit Rs 3700 in the Savings Account of Mrs. Minu Dogra number 35782552316 at the SBI BANK Branch Ashok Vihar, Phase 1, Delhi 110052, India. NEFT IFSC CODE is SBIN0007783.

FAQs एफएक्यू (अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न) :

1. ) जब कान का पर्दा पूरा रहता है और व्यक्ति को कान में दर्द होता है और या मध्य कान में संक्रमण होता है, इएनटी डॉक्टर किसी इयर ड्रॉप के लिए मना करते हैं और कान के पर्दे में छिद्र के मामलेमें, इएनटी डॉक्टर किसी भी इयर ड्रॉप को ना डालने के लिए चेतावनी देते हैं। तो आप आपका इयर ड्रॉप्स क्यों और कैसे मदद कर सकता है?

इएनटी डॉक्टर कान के मध्य भाग में संक्रमण या ओटिटिस मीडिया के उपचार के लिए इयर ड्रॉप्स ना डालने के लिए कहते हैं क्योंकि कोई भी ड्रॉप जुड़े हुए कान के पर्दे के पार या उसमें नहीं जा सकता है।

शुरुआत में ही हम स्पष्ट रूप से बोलते हुए, हम कहते हैं और दावा करते हैं कि हमारा इयर ड्रॉप्स किसी भी तीव्र और पुराने ओटीटिस मीडिया का किसी भी उम्र में पूरी तरह से जुड़े हुए कान के पर्दे का एक दिन से एक सप्ताह में उपचार कर सकता है। किसी खाने वाले एंटीबायोटिक की जरूरत नहीं है।

कम से कम कहने के लिए, आधुनिक मेडिकल साइंस प्रगति पर है, असल में ऑस्मोसिस OSMOSIS के माध्यम से हमारे इयर ड्रॉप्स संक्रमण को निष्क्रिय करने के लिए 2 मिनट में पर्याप्त मात्रा में, कान के पर्दे के पीछे तक पहुँचता है। डाली गयी बची हुई ड्रॉप्स सामान्य रूप से 2 मिनट के बाद बह जाती है।

डॉक्टरों को डर लग सकता है कि इयर ड्रॉप्स के माध्यम से एक रासायनिक दवा समस्या को बढ़ा सकती है- जो कि सही हो सकता है - और, इयर ड्रॉप्स खुद बैक्टीरियल रोगजनक ला सकते हैं- और हम उसके साथ सहमत हैं।

लेकिन-हमारा इयर ड्रॉप्स अलग है।

हमारे ड्रॉप्स विशुद्ध रूप से हर्बल है, और वे सबसे मुश्किल रोगज़नक़ों को बेअसर करने की क्षमता के लिए प्रमाणिक है। व्यक्ति हमारे ड्रॉप्स के साथ पूरी तरह से सुरक्षित है।

हम यह भी निर्देश देते हैं कि हमारे ड्रॉप्स के साथ कोई दूसरा इयर ड्रॉप्स ना डालें और स्वीमिंग ना करें। नहाते समय आपके कान में बिल्कुल भी पानी ना जाये, जब कि कान के पर्दे पूरी तरह से बंद ना हो जायें। यह जरूरी है क्योंकि नगरनिगम के पानी में सुपर बैक्टीरियल रोगजनक होते हैं और संक्रमण फिर से शुरू हो सकता है।

2.) क्या आप 100 प्रतिशत कान के पर्दे बंद होने का भरोसा दे सकते हैं?

संक्रमण के 100 प्रतिशत निष्क्रिय होनेका पूरा आश्वासन है, लेकिन कान के पर्दे का पूरी तरह से रिपेयर होने का सिर्फ 60 से 70 प्रतिशत आश्वासन है।

हमने बहुत से फटे हुए कान के पर्दो को पूरी तरह से और हमेशा के लिए बंद किया है।

प्रशंसापत्र सूची में क्लाइंट्स के फोन नम्बर के साथ हमारी सूची, उपचार परिणामों के बावजूद है। यह पूर्ण नहीं है, क्योंकि गोपनीयता संबंधी मुद्दे के कारण कई क्लाइंट्स ने शामिल ना होने का चुनाव करते हैं।

3.) मेरे कान से कोई पस नहीं निकलता है, क्या इसका मतलब है कि इसमें संक्रमण नहीं है?

पस में मृत कोशिकाएं होती है जो तब निकलती है जब सक्रमण शरीर की प्रतिरोधक क्षमता या दवाई से लड़ता है।

यदि पस जब तब निकलता रहता है, तो यह दर्शाता है कि सक्रमण अभी भी वहीं हैं

कभी-कभी, शुरू में पस नहीं होता है, लेकिन जब आप हमारा इयर ड्रॉप्स डालते हैं, यह बाहर आने लगता है। इसका मतलब है कि संक्रमण निष्क्रिय था। यह एंटीबायोटिक्स या अन्य किसी वजह से सूख गया है, लेकिन समाप्त नहीं हुआ।

जैसे ही हमारे ड्रॉप्स मौजूदा संक्रमण के खिलाफ लड़ाई शुरू करते हैं, मृत कोशिकाएं को बनाया जाता है तो वह पस के रूप में बाहर निकलती हैं।

व्यक्ति को सार्वजनिक आपूर्ति वाले पानी को कान में डालने कि अनुमति नहीं है जब तक छेद पूरी तरह से भर ना जाये- क्योंकि सार्वजनिक पानी की आपूर्ति में खराब बैक्टीरिया का संक्रमण बढ़ सकता है या दोबारा शुरू हो सकता है।

इस संक्रमण का खतरा नहाते,स्वीमिंग करते, या धार्मिक स्नान के समय हो सकता है।सावधान रहें और नहाते समय कान की सुरक्षा के लिए रूई का इस्तेमाल करें

एक बार जब हमारे ड्रॉप्स से पस पूरी तरह से रूक जाये, तो हम कह सकते हैं कि सक्रमण पूरी तरह से चला गया है।

4. ) क्या हम वैधराज अनिल से मिल सकते हैं और आपसे हाथों से इयर ड्रॉप्स ले सकते है?

नहीं।

हम सभी चीजों को यहॉ पर विस्तार से बताते हैं। बाकी आप कॉल कर सकते हैं या ईमेल भेज सकते हैं।

हमारे पास कान की सभी समस्याओं के लिए यह सर्वश्रेष्ठ उपाय हैं और किसी और दवाई की सिफारिश नहीं करते हैं।

आमतौर पर जब आप डॉक्टर के पास जाते हैं, वे उसका 10 प्रतिशत भी नहीं समझाते हैं जो हमने यहॉ पर समझाया है।

वैधराज- हर्बलिस्ट के रूप में हम स्वास्थ्य समस्या का समग्र रूप से इलाज करते हैं, इसलिए हमारी हर्बल ड्रॉप्स निदान के बावजूद, काम करते है और मदद करते हैं।

सभी छिद्र की समस्याएं समान हैं।

यह एक रासायनिक आधारित आधुनिक दवाई या एलोपैथी के विपरीत है, जहां समस्या का केवल एक निश्चित हिस्सा लक्षित किया या सुलझाया जाता है, जबकि शेष दुष्प्रभाव से जलिट हो जाते हैं।

5.) आजकल कान के पर्दे की सर्जरी अक्सर विफल हो जाती है और कान के मध्य में संक्रमण में इयर ट्यूब या ग्रोमेट्स डालना ज्यादा जोखिम वाला हो रहा है। ये आजकल अक्सर विफल क्यों होती है?

हर साल यूएसए में, कान के पर्दे में छोटा छेद करके, जुड़े हुए कान के पर्दे में 20 लाख रिविट जैसे इयर ट्यूब्स या ग्रोमेट्स डाला जाता है। अधिकतर वे यह सर्जरी बच्चों में करते हैं।

ये इयर ट्यूब्स एक या दो साल में गिर जाते हैं और ऐसा माना जाता है कि कान का छोटा छेद जल्दी ही खुद भर जाता है।

इन ग्रॉमेट्स को एक सुरंग बनाकर एक छोटे से सर्जिकल छेद के माध्यम से रखा जाता है ताकि कान के पर्दे के पीछे का पस बाहर निकल जाये और कान के पर्दे के पीछे जमा ना हो- क्योंकि अगर ऐसा होता है-तो यह कान के पर्दे पर दवाब डालता है और इसे फाड़ देता है।

पस तीव्र या पुराने कान के मध्य के संक्रमण के कारण होता है जो कि आजकल खाने वाली एंटीबायोटिक से निष्क्रिय नहीं होता/मरता नहीं है या समाप्त नहीं होता है।

कान के मध्य के संक्रमण अधिकतर एंटीबायोटिक प्रतिरोधी हो जाता है- इसलिए सिर्फ कान के पर्दे के माध्यम से मकैनिकल छेद बनाने और कम से कम इसे बड़े छिद्र में फटने से बचाने का विकल्प बचता है।

आशा की जाती है कि उम्र के साथ बच्चे की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, सक्रमण से प्राकृतिक रूप से लगती है और उसे निष्क्रिय करती है, और फिर जब इयर ट्यूब या ग्रोमेट गिर जाता है या निकल जाता है, तो वही प्रतिरोधक क्षमता छोटे छिद्रको बंद करने में मदद करेगी जो बचा रहता है।

यहा इयर ट्यूब के पीछे की पूरी कहानी या तर्क है।

लेकिन यदि सुपर बैक्टीरियल संक्रमण अंदर रहता है, तो इयर ट्यूब के गिरने के बाद छिद्र बंद नहीं होगा लेकिन समय के साथ बैक्टीरिया की संख्या बढ़ने के कारण अंत में बड़ा हो जायेगा। इसी तरह से टैमनोप्लास्टी या कान के पर्दे में छिद्र की रिपेयर सर्जरी के मामले में होता है

सर्जरी के पहले सर्जन अंतर्निहित संक्रमण को समाप्त करने के लिए आपको खाने वाली एंटीबायोटिक देता है, जिसके काण कान के पर्दे प्राकृतिक ढंग से खुद से बंद नहीं होते हैं।

जब डॉक्टर को कोई संक्रमण नहीं दिखता है तो वह मान लेता है कि यह समाप्त हो गयी है। वह पता लगाने के लिए कि पूरा संक्रमण चला गया है या नहीं वह माइक्रोबायोलॉजिकल टेस्ट्स नहीं करता है। यह कभी कभी ऐसा करने के लिए अव्यावहारिक है

यदि एंटीबायोटिक के लम्बे समय के बाद यह थोड़ा सा भी बच गया या ये एंटीबायोटिक प्रतिरोधी सुपरबग्ज या सुपर बैक्टीरिया हैं, और डॉक्टर कान के पर्दे को रिपेयर करता है, तो यह कमजोर नींव पर एक इमारत बनाने के समान है

इसकी इमारत ढहने के लिए बाध्य है

इसलिए ये सुपर बग्स बढ़ते हैं और कई साल के बाद कान के पर्दे के रिपयेर को गिरा देते हैं। यह आजकल बहुत ज्यादा सामान्य और अक्सर बनता जा रहा है।

हम सुपरबग्स के युग में रह रहे हैं

5.) क्या हम ईयरड्रम रिपेयर सर्जरी के बाद अपने कान के पर्दे को बचाने के लिए इन इयर ड्रॉप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं?

यदि आप सर्जरी के द्वारा कान के पर्दे को रिपेयर करवाते हैं, तो आप एक महीने इंतजार कर सकते हैं और फिर उस कान में एक साल तक हमारे पतले DILUTED इयरड्राप की 4 बूँदे को दो मिनट के लिए सप्ताह में एक बार डाल सकते है, यह सुनिश्चित करने के लिए कि सुपरबाग के कारण रिपेयर किये गये कान के पर्दे विफल ना हो जो एंटीबायोटिक दवाओं से ना मारे हों, जो आपने आपने सर्जरी के पहले या बाद में लिया हो।

इस तरह से आप इस दौरान इन बग्स के बढ़ने और रिपयेर किये गये कान के पर्दे के विफल होने के जोखिम को पूरी तरह से कम करते हैं

6.) यदि आपके दोनों कान के पर्दे में छिद्र है, तो हमारे ड्रॉप्स को दोनों से एक में इस्तेमाल करें,और जब आप में आत्मविश्वास आ जाये तो दूसरे को शुरू करें।

7.) कभी-कभी छिद्र के मामलों में संक्रमण तीव्र होता है और भीतर की स्थिति ऐसी होती है, कि जब आप पहली बार पतला DILUTED ड्रॉप्स डालते हैं, तो बहुत दर्द होता है और यह बहुत ज्यादा समय तक भारीपन के साथ रहता है, कहते हैं आधा दिन या ज्यादा ।

ऐसे मामलों में, व्यक्ति पतले ड्रॉप में से 50 प्रतिशत को पतले DILUTED ड्रॉप की बोतल से निकाल सकता है और इसके बाद इसमें साफ पानी मिला सकता है।

नोजल ड्रॉप को जारी रखें लेकिन इस अतिरिक्त पतले ड्रॉप को सिर्फ तभी डालें जा दर्द और भारीपन खत्म हो जाये।

भेजे गय पतले ड्रॉप में 35 बूँद शुद्व अंश और बचा हुआ 10 मिली साफ पानी है। आप एक खानी 10 मिली की ड्रॉपर बोतल को लेकर अलग नयी पतली NEW EXTRA DILUTED DROPS ड्रॉप्स को भी बना सकते हैं। जैसा कि सुझाव दिया गया है

8.) खाने वाली रासायनिक एंटीबायोटिक संक्रमण को सिर्फ सुखा सकती है- किसी को पता नहीं होता है कि क्या संक्रमण पूरी तरह से खत्म हुए है या नहीं। इसके आगे, यदि दर्द, सूजन या भारीपन बना रहता है- तो इन लोगों के पास कान को साफ करने के अलावा कुछ नहीं होता है।

समस्या यह है कि वे साफ करने के लिए वैक्यूम क्लीनर VACUUM CLEANER OR WATER PRESSURE के जैसे उपकरण या तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। यदि वक्यूम प्रेशर बढ़ता है, तो कान को साफ करते समय यह कान के पर्दे फाड़ सकता है। हमने इस तरह के कई मामले देखे हैं।

इसलिए कृपया दोस्तों और परिवार को बताएं कि अपने कान के बाहरी भाग को साफ न करें, विशेष रूप से एक वैक्यूम टूल से ना करें

अकेले हमारे पतले DILUTED ड्रॉप्स, कान की मैल को धीरे-धीरे और स्वाभाविक रूप से साफ कर देंगे। यह एक ऐसी स्थिति / वातावरण बनायेगा जो बाद में, कान के मैल और कान को खुद स्वाभाविक रूप से साफ कर देगा। सफाई के लिए किसी इयर बड का इस्तेमाल ना करें।

9.) Sometimes, with Diluted Drops the pain and heaviness in the ear is a bit too much and prolongs - this happens in few cases only.

In such cases, even the Diluted Drops should be used every alternate days or later - until the pain and heaviness completely subsides.

Such cases have complex and severe infection issues. We have to be very patient about it , and should not rush and expect results in the short term.

10.) Abstain from using the Chemical Based Antibiotic Drops into the Ear any further, if atleast after a Course of Antibiotic Drops, the Infection has Not cleared. Additional Courses of Antibiotics shall lead to increased Antibiotic Resistance & a more Complex Internal Situation to treat.

Regrowth or Closing of the Eardrum Hole, is a game of patience, consistency and discipline.

Also you have to be intelligent, smart and self-introspective to analyze what all is happening, and change and devise your own treatment strategies with our Drops, and our overall knowledge we present here and the essay advise.

11.) BEWARE : Do Not use Butterfly Machine in your Gym with heavy weights.

This is found to dislocate inner ear/middle ear bones/tissues, leading to pain and inflammation.

Regrowth or Closing of the Eardrum Hole, is a game of patience, consistency and discipline.

Also you have to be intelligent, smart and self-introspective to analyze what all is happening, and change and devise your own treatment strategies with our Drops, and our overall knowledge we present here and the essay advise.



کسی آدمی کے ایک یا دونوں کانوں میں سوراخ ہو سکتے ہیں۔ سوراخ پیدائشی بھی ہو سکتے ہیں۔ کوئی مسئلہ نہیں.
 
اگر کسی قسم کا مواد باہر نہیں آرہا ہے اور سماعت ٹھیک ہے - تو اس سلسلے میں کچھ پریشان نہ ہوں. کان کے پردے میں سوراخ ہونے کے باوجود، لوگ عمر بھر معمول کی زندگی گزارتے ہیں۔ 
صرف احتیاط کو برقرار رکھیں کہ کوئی بیرونی پانی کسی بھی دو کانوں میں داخل نہ ہو. غسل یا کسی اور صورت میں دونوں کو بیرونی پانی سے محفوظ کیا جانا چاہئے.
 
جب مواد نکلنا شروع ہو جائے یا سماعت اس انفیکشن سے بری طرح متاثر ہو جائے، اس صورت میں ایکشن  لینے کی ضرورت ہوتی ہے. 
 
اگر آپ کے دونوں کانوں میں سوراخ  ہیں، تو شروعات اس کان سے کریں  جس کا سوراخ چھوٹا ہے، جب تک کہ دوسرے کان سے بھی بہاؤ شروع نہ ہوجائے. 
 
اگر دونوں میں بہاؤ ہو تو آپ دونوں میں ایک ساتھ شروع کریں. 
 
بہاؤ کا مطلب ہے فعال انفیکشن. 
 
میری تمام ویڈیوز، مضامین اور ویب سائٹ کا بغور مطالعہ کریں اور مشورہ و ہدایات پر عمل کریں. 
 
آپ کے تقریبا 100 فیصد سوالات کے جوابات دیے جاتے ہیں. 
 
ہمارے ڈراپ کیسے آرڈر کرنا ہے یہ بھی وہاں درج ہے۔ 
 
پڑھنے اور سمجھنے کے بجائے، لوگ بآسانی مجھ سے یقین دہانی کیلیے فون کرنے کو بے چین رہتے ہیں۔یہ مناسب طرز عمل نہیں ہے۔ 
 
مسئلے کے تعلق سے آپ کو واقف کار ہونا چاہیے اور اس سے بھی کہ کامیابی حاصل کرنے کے لیے آپ کتنے اچھے طریقے سے ہمارے آلات کا استعمال کرسکتے ہیں. 
 
صرف ہماری یقین دہانی سے کامیابی نہیں ملے گی، لیکن اگر آپ ہدایات پر عمل کرتے ہیں تو اس صورت میں کافی امکان ہوتا ہے.
 
ہم واضح طور پر یہ بتاتے ہیں کہ ہمارے پودوں سے بنائے گئے کان کے قطرات، پوری دنیا میں قدرتی طور پر کان کے پردے کو بند کرنے کا واحد حل ہیں. 
 
ہمارے علاج کی منطق اور تصور کو ذیل میں واضح و نمایاں طور پر بیان کیا گیا ہے، ساتھ ہی ساتھ خرد حیاتیاتی (مائیکرو بایولوجیکل) سرٹیفکیٹ بھی دیا گیا ہے جو یہ بتاتا ہے کہ ہمارے پلانٹ کے پودوں سے نکالے گئے اجزاء عالمی طور پر کتنے ممتاز ہیں۔
 
----------------------
 
مکمل شفاء اور کان کے پردے بند کرنے کے ضمن میں میں تنہا ہماری کامیابی کی شرح 60 سے 70 فیصد ہے.
 
ہماری کامیابی کی شرح سنگین یا دائمی وسط کان انفیکشن جس کے ساتھ مواد کا خروج یا سیال کا بہاؤ ہو رہا ہے، کے معاملات میں 100 فیصد ہے.
 
 ہماری علم و تحقیق کے مطابق - ہم پوری ذمہ دارے کے ساتھ یہ کہہ رہے ہیں کہ ہمارے پودوں سے نکالے گئے قطرے (ایئر ڈراپ) ہم سے بہتر یا ہمارے لئے بہتر نہیں بنائے جا سکتے ۔
 
مکمل طور پر بند کر دینے کے عمل میں 100 فیصد سے کم کامیابی کی شرح نہ دے پانے کیلیے کوئی عذر نہ پیش کرتے ہوئے، ہم یہ عرض کرتے ہیں کہ بہت سارےعوامل ہیں جو کام کرتے ہیں، اور ہمارے کنٹرول سے باہر ہیں. 
 
ويديا راج انل ڈوگرا 
981026070491+
 
ENT ڈاکٹر اور ہسپتال عالمی سطح پر دائمی ’اوٹیٹیس میڈیا وِد افیوژن‘ (OME) کے خلاف غیر مؤثر ہیں. 
OME کو متواتر وسط کان انفیکشن جس میں مواد یا سیال بھی ہوتا ہے یا دائمی سپریٹیو اوٹیٹیس میڈیا بھی کہا جاتا ہے۔ اسے عام طور پر 'چیپ دار (گلو) کان' کہا جاتا ہے.
 
سادہ زبان میں، OME یہ ہے کہ جب آپ محسوس کرتے ہیں کہ آپ کا کان درد کے ساتھ یا اس کے بغیر، بند ہے یا مائع سے بھرا ہوا ہے، اور تب بھی جب ایسی صورت حال بار بار ہوتی ہے، دو سے تین بار اینٹی بائیوٹک نگرانی کے مسلسل کورسز کے بعد بھی.
 
دائمی OME صورت حال میں، کان کے پردے کے پیچھے، وسط کان میں سیال کا دباؤ پیدا ہوتا ہے - اور اس کا دباؤ آخر میں کان کے پردے کو پھاڑ دیتا ہے.
 
OME انفیکشن کے خلاف اینٹی بائیوٹک کی یہ غیر اثر اندازی، دنیا میں کان کے پردے  کے سوراخ کی اہم وجہ ہے.
 
ویدیا راج انل ڈوگرا کا پلانٹ ایکسٹریٹ (پودوں سے نکالا گیا مادہ)،  سب سے سخت جان سپر بیکٹیریا جیسے سووڈوموناس ایروگینوسا، ایم آر ایس اے اور ای. کولی کو ختم کر دینے کے ضمن میں،  شری رام انسٹی ٹیوٹ آف انڈسٹریل ریسرچ، نئی دہلی، بھارت کی معروف مائیکرو بایولوجی (خرد حیاتیاتی) لیب سے سند یافتہ ہے۔ 
یہ دریافت 1930 ء میں الیگزینڈر فیممنگ کی پنیسلِن کی دریافت کے مشابہ ہے۔ 
پنیسلِن کی دریافت کے ساتھ ہی اینٹی بائیوٹک کا دور شروع ہوا، اور اب یہ ، اینٹی بائیوٹک مزاحم سپربَگ یا سپر بیکٹیریا کی آمد اور پھیلاؤ کے باعث اپنے اختتام کو پہنچ چکا ہے.
 
سالانہ - او ایم ای سے متاثر امریکی بچوں کے 2 ملین کان کے پردوں میں ، بالارادہ  پردے کے پار ایئر ٹیوب جیسی پائپ ڈالنے کی غرض سے سرجری کے ذریعے سوراخ کیا جاتا ہے تاکہ وسط کان کے سیال کو نکالا جا سکے، ورنہ یہ سیال کان کے پردے کو پھاڑ دیتا ہے۔
 
ایئر ٹیوب ایک سال یا اس سے زائد کے لئے رہتی ہیں، اور پھر یا تو گر جاتی ہیں، یا سرجری سے ہٹا دی جاتی  ہیں، اس امید کے ساتھ کہ وہ چھوٹے سوراخ قدرتی طور پر از خود بند ہو جائیں گے۔
 
لیکن - 10 سے 20 فی صد معاملات میں- یہ بند نہیں ہوتے.
 
اگر یہ معاملہ دنیا کے سب سے بہترین ملک اور بہترین معیشت کا ہے، تو اس بات کا بخوبی تصور کیا جا سکتا ہے کہ دنیا بھر میں کیا ہو رہا ہوگا۔.
 
ایئر ٹیوب ایک طبی مسئلے کا صرف ایک مکینیکل حل ہیں، اور موجود انفیکشن کے تئیں کچھ نہیں کرتیں.
انفیکشن جو کہ بنیادی مسئلہ ہے، باقی رہتا ہے۔
 
ایئر ٹیوب، کان کے پردے میں سیال کے دباؤ کو بآسانی نکالنے کیلیے پہلے سے ہے ایک چھوٹا سا سوراخ بنا کر کسی بڑے سوراخ کے امکان کو روک دیتے ہیں۔
 
کان کے پردے کے سوراخ کو سمجھیں:
 
کان کے پاردے کا سوراخ آپ کی جلد پر ہونے والے کسی زخم کی مانند ہے۔ 
اگر باڈی امیونٹی اور عام انفیکشن کا معاملہ ٹھیک ٹھاک ہے تو، زخم قدرتی طور پر بند ہو جاتا ہے. 
 
جیسے آپ کے بال آہستہ آہستہ واپس آتے ہیں، زخم البتہ مزید دھیمی رفتار سے بھرتا ہے - لیکن یہ بھرتا ضرور ہے۔ آپ کو صرف اس کے سلسلے میں صبر کرنا ہوتا ہے
 
لیکن اگر باڈی امیونٹی کم ہے - جیسے کہ  بچے میں - یا بیکٹیریا ایک سپر بیکٹیریل انفیکشن ہے (ایسا انفیکشن جو اینٹی بائیوٹکس سے ہلاک نہیں ہوتا یا ایک اینٹی بائیوٹک مزاحم انفیکشن) ایسی صورت میں ایک کان کے پردے کے سوراخ  یا زخم کے بند کرنے کے قدرتی عمل میں مداخلت یا رکاوٹ ہو جاتی ہے اور یہ رک جاتا ہے۔ 
 
سپر بیکٹیریل انفیکشن زخم یا سوراخ کو بند کرنے کے قدرتی عمل کو روک دیتا ہے.
 
اس طرح کے معاملات میں - 
 
آپ اینٹی بائیوٹکس کو روک کر، اچھی اور متوازن غذا لے کر باڈی امیونٹی کو دوبارہ پیدا کرتے ہیں۔ 
 
ہمارے پلانٹ ایکسٹریکٹ کے ساتھ، آپ آہستہ آہستہ لیکن یقینی طور پر اور لگاتار انفیکشن کو کم  کرتے ہیں۔ اور زخم / سوراخ کے بند ہونے کا قدرتی عمل دوبارہ شروع ہو جاتا ہے!
 
یہ وہ منطق ہے جس کے ساتھ ہم کرتے ہیں، اور تنہا یہی وہ طریقہ ہےجو سوراخ کے بند ہونے کے قدرتی جادو کو دوبارہ پیدا کر سکتا ہے۔
 
ہمارے ویب پیج پر زیادہ تر وزیٹر وہ ہیں جن کے کان کے پردے میں پہلے سے ہی سوراخ ہوتا ہے۔
 
آپ ہمیں ڈھونڈتے ہوئے آتے ہیں۔
 
لیکن آپ کان کے پردے کو کسی سوراخ سے بچانے میں دیگر لوگوں کی مدد کر سکتے ہیں۔ 
 
جو معلومات آپ کو یہاں مل رہی ہے انہیں اس کا علم نہیں۔
 
آپ کے خاندان اور دوستوں میں ایسے دسیوں لوگ ہوں گے، زیادہ تر 15 سال یا زائد عمر کے بچے، جو کسی کان کے درد یا وسط کان کے انفیکشن یا ایک او ایم ای انفیکشن سے متاثر ہوں گے یا متاثر ہونے والے ہوں گے- اور جس کا نتیجہ ممکنہ طور پر سپر بیکٹیریل انفیکشن ہو سکتا ہے ...
 
اور جس کی بنا پر ان کے کان کا پردہ پھٹ سکتا ہے۔
 
لیکن انہیں ہمارا علم نہیں۔
 
اس علم کو عام کیجیے اور
 
ایک بچے کے کان کے پردے کو بچائیے۔
 
سیال کے ساتھ دائمی وسط کان انفیکشن کی وجہ سے ایک ممکنہ کان کے پردے کے سوراخ کو بچانا ہمارے لئے، صرف ہمارے رقیق ایئر ڈراپ کے ذریعے، محض ایک یا دو دن کا معاملہ ہے.
 
دائمی وسط کان انفیکشن اور پھٹے ہوئے یا سوراخ شدہ کان کے پردے کی مرمت کیلیے انل ڈوگرا کا ایئر ڈراپ - مکمل قدرتی.  مکمل ہربل۔ ہر عمر کے لئے مناسب۔
 
فوری  ہدایات-
---------------------------------
 
برائے مہربانی فوری طور پر اورل (منہ سے لینے والی) اینٹی بائیوٹیکٹس کا استعمال بند کریں۔ اس کے بجائے، ہری سبزیوں کا گرم سوپ یا تازہ جوس ایک ہفتے میں کئی بار لیں۔
 
غسل کے دوران کچھ بھی پانی کانوں میں داخل نہ ہو، خصوصا اگر کان کے پردے میں سوراخ ہو۔ غسل کرنے کے دوران کان میں کاٹن بال لگا لیں۔ آپ کاٹن بال پر تھوڑی ویسلین لگا سکتے ہیں - یہ پانی کو روک دے گا۔ 
 
سوراخ کی مرمت ہو جانے کے کم از کم ایک سال بعد تک بھی، کوئی تیراکی یا مذہبی غسل نہ کریں۔
 
کوئی کیمیکل یا ہوموپیتھک یا گھریلو ہربل دوائیں اس دوران کان میں نہ ڈالی جائیں۔
 
ہمارے ہربل ڈراپ پیکیج میں کیا ہے ----------------------------------
 
ہمارے خالص پلانٹ ایکسٹریکٹ ڈراپ، ماسٹر ڈراپ ہیں.
 
دیگر تمام ڈراپ کسی بھی وقت ان خالص ڈراپ کے ذریعے بنائے جا سکتے ہیں.
 
یہ ڈراپ وقت کے ساتھ ساتھ سیاہ ہوسکتے ہیں یا ان میں پودوں کے منجمد بقایا جات دکھ سکتے ہیں  - یہ معمول کی بات ہے - ان کی تاثیر اور صلاحیت ہمیشہ برقرار رہتی ہے. ہمارے قطرے کی کوئی اختتامی تاریخ نہیں. انہیں صاف جگہ پرعام درجہ حرارت میں رکھا جا سکتا ہے، سورج کی راست روشنی سے دور، جہاں تک ممکن ہو. 
 
کسی ماحولیاتی جرثومے میں یہ صلاحیت نہیں کہ وہ ہمارے ڈارپس کو ختم کر سکے۔ یہی وجہ ہے کہ وہ ٹھیک رہتے ہیں - ہمیشہ.
 
ہم چار   10 ملی لیٹر / 300 ڈراپ ڈراپر بوتلیں بھیجتے ہیں.
 
دو بوتلوں میں ہمارے خالص پلانٹ ایکسٹریکٹ ہوتے ہیں جو مجموعی طور پر 600 خالص پلانٹ ایکسٹریکٹ ڈراپ بنتے ہیں. 
 
آپ کے سوراخ کے علاج کے لیے، آپ کو مزید خالص ڈراپ کی ضرورت نہیں ہوگی.
 
ہمارے علاج کی کامیابی یا ناکامی صرف ان بہت سے ڈراپ سے ہی برآمد ہو جائے گی، اور ممکن ہے ان سب کے بعد بھی کچھ بچا رہ جائے. وہ کبھی خراب نہیں ہوتے۔
 
رقیق ایئر ڈراپ کی ایک بوتل جس میں 10 ملی لیٹر صاف پانی میں خالص ایکسٹریکٹ کی 25 بوندوں کو ملا دیا جائے۔
آپ مزید خالص ڈراپ لے  کرکے کسی بھی وقت اس کی صلاحیت بڑھا سکتے ہیں. 
 
چوتھی بوتل 10 ملی لیٹر نیزل (ناک کی) ڈراپ بوتل ہے، جو کسی بھی وقت ہمارے خالص پلانٹ ایکسٹریکٹ کے 4 قطرے، اور باقی 10 ملی لیٹر صاف پانی کو ملا کر بنایا جا سکتا ہے۔.
 
اس طرح کسی بھی وقت، خالص ایکسٹریکٹ ڈراپ کے ذریعے، نیزل ڈراپ اوررقیق ایئر ڈراپ بنائے جا سکتے ہیں.
 
نیزل ڈراپ -
-----------------------
 
ناک کے ہر نتھنے میں روزانہ ایک مرتبہ نیزل ڈراپ کے دو قطرے ڈالیں، یا اگر ضرورت ہو تو کئی مرتبہ بالخصوص جبکہ نزلہ یا ناک منجمد ہو جائے یا گلے کے انفیکشن کا مسئلہ ہو۔ 
یہ سائینوسائٹس کا واحد حقیقی حل ہے.
اس سے وسط کان انفیکشن میں مدد ملے گی کیونکہ یہ سب آپس میں داخلی طور پر ملے ہوئے ہوتے ہیں۔
 
ایئر ڈراپ کا انتظام و انصرام 
-------------------------------
 
کان کے درد یا دائمی وسط کان انفیکشن کے لئے - جبکہ ابھی تک کوئی سوراخ نہ ہوا ہو:
 
صرف ہمارے رقیق ڈراپ کے ذریعے اپنے کان کے پردے کو بچائیں۔
 
متعلقہ کان میں رقیق ایئر ڈراپ کے 4 قطرے ڈالیں اور اسے 2 منٹ تک رہنے دیں.
اس کے بعد جب آپ سیدھی کھڑے ہوں توکان سے جو بھی باہر نکلے اسے کاٹن سے صاف کریں. 
آپ ایک بار سے لے کر ایسا کرنے کے لئے ایک بار ایسا کر سکتے ہیں جب تک کہ آپ کی شدت اور / یا درد مکمل ختم نہ ہوجائے اور آپ نارمل محسوس نہ کرنے لگیں۔ 
 
ہمارے قطرے ٹنیٹس (سنسناہٹ) کے لئے نہیں ہیں اگرچہ اس میں مدد مل سکتی ہے، جب انفیکشن ختم ہو جائے. 
ٹنیٹس (سنسناہٹ) دماغ سے منسلک اندرونِ کان کا ایک مسئلہ ہے، اور ڈراپ اندرونِ کان نہیں پہنچتے.
 
نتیجتہ سماعت کتنی بہتر ہوگی، یہ محض ایک قیاس ہے۔ صرف وقت ہی یہ بتا سکتا ہے.
 
تیراکوں کیلیے - تیراک، انفیکشن سے بچنے یا اس کی روک تھام کے لیے، ہر تیراکی، غوطہ خوری، سرف بورڈنگ یا سکوبا ڈائیونگ کے بعد دو منٹ کے لئے رقیق ایئر ڈراپ کے چار قطرے ڈالیں۔ 
مندرجہ بالا طریقے کے مطابق، ایک مرتبہ نیزل ڈراپ بھی ڈالے جائیں۔
 
کان کے پردے کے سوراخ کی صورت میں-
 
رقیق ڈراپ ڈالنے سے شروع کریں۔ روزانہ ایک مرتبہ، 2 منٹ کے لئے رقیق پلانٹ ایکسٹریکٹ کے 2 سے 4 قطرے ڈالیں۔. 
 
اگر اسٹِنگِنگ (چبھن/ڈنک) قابل برداشت ہے یا بالآخر قابل برداشت ہو جاتی ہے تو آپ ہر دوسرے دن خالص ڈراپ ڈالنا شروع کر دیں۔
 
اگر اسٹِنگِنگ (چبھن/ڈنک) قابل برداشت رہتی ہے، آپ خالص ڈراپ جاری رکھیں ورنہ آپ دوبارہ رقیق ڈراپ استعمال کرنا شروع کر دیں۔ 
 
بالآخر اسٹِنگِنگ (چبھن/ڈنک) بالکل کم ہو جانی چاہیے، ایسے میں آپ واپس خالص ڈراپ لینا شروع کر سکتے ہیں۔
 
یہ مذکورہ بالا عمل بہت سے لوگوں کے تئیں کچھ زیادہ وقت بھی لے سکتا ہے. اس سلسلے میں سوائے صبر کے اور کچھ نہیں کیا جا سکتا ہے۔
 
خالص ایکسٹریکٹ ڈراپ کو ہر دوسرے دن لیا جانا چاہیے۔ 
 
دو منٹ کیلیے دو سے تین خالص ڈراپ کافی ہے۔ 
 
کوئی بھی باہری پانی متعلقہ کان میں اس وقت تک داخل نہ ہو جب تک وہ مکمل طور پر ٹھیک نہیں ہو جاتا یا حتی کہ اس کے ایک سال بعد تک بھی۔
 
ایک بار جب مواد باہر نکلنا بند ہو جاتا ہے، اور اسٹِنگِنگ (چبھن/ڈنک) مکمل طور پر بند ہو جاتی ہے، اس سے پتہ چلتا ہے کہ انفیکشن بے اثر ہو گیا ہے. 
 
اس وقت، آپ نے پہلے ہی سے خالص ڈراپ ڈالنے شروع کر دیے ہیں اب صرف خالص ڈراپ ہی ڈالنا جاری رکھیں، ہر دوسرے دن۔
 
اینٹی بائیوٹک مزاحمت اور سپر بگ جیسے کہ سیوڈونوماس ایرگینوسا، ایم آر ایس اے، ای کولی کے ضمن میں انفیکشن کو بے اثر کرنا کوئی معمولی حصولیابی نہیں۔
 
یہ سپر بگ دنیا بھر میں تباہی مچا رہے ہیں۔ انہیں صرف ہمارے پلانٹ ایکسٹریکٹ کے ذریعے ہی بے اثر کیا جا سکتا ہے۔
 
معروف شری رام انسٹی ٹیوٹ فار انڈسٹریل ریسرچ، نئی دہلی، انڈیا کی سندوں کی کاپیاں، مذکورہ تمام تفصیلات پر مشتمل، اسی سائٹ پر شائع شدہ ہیں۔
 
ایک بار جب انفیکشن بے اثر ہوجاتا ہے، تو سوراخ کا سائز چیک کیا جانا چاہیے، اور ای این ٹی ڈاکٹر سے اس کا اندازہ لگوایا جائے۔
 
ہر دوسرے دن ایک بار خالص ڈراپ لینا جاری رکھیں اور 40 دن کے بعد سوراخ کا سائز دوبارہ چیک کریں، اور پھر اگر ممکن ہو، اسی ای این ٹی  ڈاکٹر سے 80 دن کے بعد دوبارہ چیک کرائیں۔ 
 
اگر دوسری یا تیسری چیک میں یہ معلوم ہوتا ہے کہ شفا یابی / مرمت یا بند ہونے کا عمل جاری ہے اور سوراخ کا سائز کم ہوگیا ہے، تو یہ ہمارے خالص ڈراپ کا استعمال کرتے ہوئے چند مہینوں میں بند ہو جائے گا، ورنہ آپ کو سرجیکل ریپئر کے لے جانا پڑ سکتا ہے. 
 
اضافی پوائنٹس -
 
وقت گذرنے کے ساتھ بوتل کے اطراف عرق گاڑھا/ کالا ہوسکتا ہے،
 
يہ عرق ويديا راج انل ڈوگرا اينڈ فيملى کے ذريعہ ہاتھوں سے بنايا جاتا ہے
 
ويديا راج انل ڈوگرا
 
981026070491-
 
 
مندرجہ بالا سیٹ کی قیمت بشمول شپنگ چارج بھارت کے اندر 3700.00  روپے ہے۔ قیمتیں کسی بھی وقت تبدیل کى جاسکتى ہيں 
 
 
عام طور سے مکمل شفا يابى کے ليے خالص عرق کى ضرورت نہيں ہوتى ہے۔ اگر آپ کو اضافی ضرورت ہے تو ایک مکمل سیٹ دوبارہ آڈرکرنا پڑے گا جيسا کہ اوپر ذکر کيا گيا ہے۔ 
 
مذکورہ بالا سيٹ کى قيمت بھارت کے باہر شپنگ سمیت 145.00 امریکی ڈالر ہے. 
 
ہم اسے متحدہ عرب امارات، سعودی اور دیگر اسلامی ممالک ميں نہیں بھیج سکتے ہیں، ہربل کی مصنوعات پر درآمد کى پابنديوں کى وجہ سے۔
 
یہ پاکستان بھيجا جا سکتا ہے. 
 
آپ www.Paypal.com کا استعمال کرکے ہمارے ای میل ایڈریس [email protected] پر ادائیگی کر سکتے ہیں یا منیگرام یا ویسٹرن یونین کے ذریعہ درج ذیل تفصیلات کے مطابق بھيج سکتے ہيں۔
انل کمار ڈوگرا، آئی اے / 20 اے، فيس ون، اشوک ويہار، دہلى، بھارت - 110052. فون  98102607091-.
پھر آپ تفصیلات ہمارے ای میل ایڈریس پر بھیج سکتے ہیں [email protected]
 
بھارت کے اندر - برائے مہربانی مندرجہ ذیل اکاؤنٹ میں رقم جمع کروائيں اور مذکورہ بالا اى ميل پريا ایس ایم ایس یا واٹساپ کے ذريعہ ہمارے فون پر 9810260704 پر، نام، ایڈریس، پن کوڈ اور فون نمبر کے ساتھ مطلع کریں.
 
ایس بی آئی بینک برانچ اشوک ویار، فیز 1، دہلی 110052، بھارت میں مسز مينو ڈوگرا کے بجت کھاتہ نمبر 35782552316  میں 3700 روپئے جمع کریں. NEFT IFSC کوڈ SBIN0007783 ہے.      
 
 
سوالات:
 
1.) جب کان کا پردہ بالکل صحيح سالم ہو اور آدمى کے کان ميں درد ہو اور/يا کان کے بيچ ميں انفيکشن ہو، اى اين ٹى (آنکھ، ناک اور گلے) کے ڈاکٹر کان کے کسى بھى ڈراپ استعمال کرنے سے روکتے ہيں، اوراس صورت ميں جب کان کے پردے ميں چھيد ہو تو کوئى بھى ڈراپ نہ رکھنے کے بارے ميں آگاہ کرتے ہيں۔ تو بتائيے آپ کا کان ڈراپ آپ کو کيوں اور کيسے مدد کرسکتا ہے۔
 
اى اين ٹى ڈاکٹروں کا کہنا ہے کہ بيچ کان کا انفیکشن یا اوٹیٹیس میڈیا کا علاج کرنے کے لئے کان کا کوئى ڈراپ استعمال نہ کريں کیونکہ کوئى بھی ڈراپ صحيح سالم کان ميں داخل نہیں ہوسکتا ہے. 
 
ميں قطعى طور پر يہ بيان اور دعوى کرتا ہوں کہ ہمارا کانوں کا ڈراپ ہر طرح کے پھوڑے يا کان کے درميانى حصے کى سوجن کا علاج کرسکتا ہے، ہر عمر ميں ايک دن سے ايک ہفتے کے اندر کان کا پردہ صحيح سالم ہوجاتا ہے۔ 
 
کوئی اورل  اینٹی بائیوٹیکٹس کی ضرورت نہیں ہے. 
 
 کم سے کم يہ کہہ سکتے ہيں کہ جدید میڈیکل سائنس زير ترقى ہے۔
 
اصل میں اوسمیسس کے ذریعہ ہمارا کان کا ڈروپ کان کے پردہ تک پہونچ جاتا ہے، منٹ ميں مناسب مقدار انفيکشن کو زائل کرنے کے ليے کافى ہے. اضافی ڈراپ کا بقايا 2 منٹ کے بعد آسانی سے سوکھ جاتا ہے.
 
ڈاکٹروں کو خدشہ ہوسکتا ہے کہ کیمیائی دوا کان کے ڈراپ کے ذريعہ مشکل ميں اضافہ کرسکتا ہے - جو صحیح ہو سکتا ہے. 
اس کے علاوہ، کانوں کے ڈراپ بذات خود بيکٹريا کے جراثيم پيدا کرسکتا ہے- اور ہم ان سے اتفاق رکھتے ہيں۔ 
 
لیکن ہمارا  ایئر ڈراپ مختلف ہے. 
 
ہمارے ڈراپ خالص طور پر جڑى بوٹيوں سے بنے ہیں، اورانہوں نے ثابت کيا ہے کہ مشکل سے مشکل ترين جراثيم کو بے اثر بنانے کى صلاحيت رکھتے ہيں. 
 
ہر کوئى ہمارے ڈراپ سے مکمل طور پر محفوظ ہے. 
 
ہم نے يہ تجويز بھى پيش کى ہے کہ ہمارے ڈراپ کے ساتھ کوئى اور ڈراپ استعمال نہ کريں اور نہ ہى تيراکى کريں۔ جب تک کان کا پردہ مکمل طور پر بند نہ ہوجائے پانى کا کوئى قطرہ غسل کے دوران کان ميں نہيں داخل ہونا چاہيئے۔ یہ ضروری ہے کیونکہ میونسپل کے پانی میں سپر بیکٹریی پیروجینس ہیں اور انفیکشن کو دوبارہ شروع کر سکتے ہیں. 
 
2) کیا آپ کو 100 فی صد کان کے پردے کی بندش کا یقین ہے؟
 
انفيکشن کو بے اثر بنانے کا ۱۰۰ في صد يقين ہے ليکن کان کے پردے کى اصلاح کا ۶۰-۷۰ فى صد ہى يقين ہے۔
 
یہ اقدامات کے ساتھ ایک عمل ہے، اور یہ مندرجہ بالا ميں واضح طور پر بیان کردہ ہیں. ہم نے مکمل طور پر اور ہمیشہ کے لئے بہت سے کان کے پھٹے ہوئے پردوں کو بند کر دیا ہے.
تصديق نامہ کى فہرست ميں ہمارے گاہکوں کى لسٹ ان کے فون نمبروں کے ساتھ ہے۔ علاج کے نتائج سے قطع نظر۔ یہ فہرست مکمل نہیں ہے، کیونکہ بہت سے گاہکوں نے رازداری کے مسائل کی وجہ سے شامل نہ ہونے کو ترجيح دى ہے۔
 
3) میرے کان سے کوئی پيپ نہيں آتا ہے، کیا اس کا مطلب یہ ہے کہ اس میں کوئی انفیکشن نہیں ہے؟
 
پيپ مرے ہوئے خيلوں پر مشتمل ہوتا ہےجو سوکھ جاتا ہے ايسا اس وقت ہوتا ہے جب انفيکشن جسم کى قوت مدافعت اور يا دوا سے لڑتا ہے۔ 
 
اگر مواد  ہر وقت باہر آ رہا ہے تو، اس سے یہ پتہ چلتا ہے کہ انفیکشن اب بھی موجود ہے. 
 
کبھی کبھی، ابتدائی طور پر کوئی مواد  نہیں ہوتا ہے، لیکن جب  آپ ہمارے کان کا ڈراپ لینا شروع  کرتے ہیں، یہ شروع ہوتا ہے. اس کا مطلب ہے کہ انفیکشن غیر معمولی تھا. اینٹی بائیوٹکس یا دوسری وجہ سے خشک ہو چکا ہوتا ہے، لیکن ختم نہیں ہوا ہوتا ہے۔ 
 
جيسا کہ ہمارا ڈراپ دوبارہ موجودہ انفيکشن سے لڑتا ہے، مردہ خليے پيدا ہو جاتے ہيں اور پيپ بن کر باہر آجاتے ہيں۔ 
 
جب تک سوراخ کى مکمل اصلاح ہو نہ جائے ہر کسى کو اس بات کا خيال  رکھنا چاہيئے کہ پبلک سپلائى واٹر اس ميں نہ جائے۔ کيوں پبلک واٹر سپلائى ميں موجود خراب بيکٹريا کى وجہ سے پھر سے انفيکشن ہوسکتا ہے، يا اس ميں اضافہ کرسکتا ہے۔ 
 
غسل، تیراکی یا مذہبی غسل کے دوران اس  انفیکشن کا خطرہ ہے. 
لہذا  غسل کے دوران پانى سے بچنے کے لئے کاٹن  کا استعمال کرنا چاہيئے۔
 
ایک بار جب پيپ ہمارے ڈراپ سے  مکمل طور پر بند ہوجاتا ہے تو ہم کہہ سکتے ہیں کہ انفیکشن مکمل طور پر چلا گیا ہے. 
 
 
4.) کیا ہم ویديا راج انل سے مل سکتے ہیں اور دستى طور پر ڈراپ لے سکتے ہیں؟
 
نہيں۔ ہم يہاں تفصیل میں سب کچھ بیان کرتے ہیں. باقی آپ ای میل کال کریں اور يا اى ميل بھیج سکتے ہیں. 
 
ہمارے پاس تمام کان کے مسائل کے لئے یہ حتمی علاج ہے اور کسی دوسرے دوا کی تجويز  نہیں ديں گے. 
 
عام طور پر، جب آپ ڈاکٹر کو دیکھتے ہیں، تو وہ اس کى ۱۰ فى صد بھى وضاحت نہيں کرتے ہيں جتنى ہم کر رہے ہيں۔ اور ویڈیاس کے طور پر - جڑى بوٹيوں کے ماہرين  ہم صحت سے متعلق معاملات کا حل کل طور پر کرتے ہیں، لہذا ہمارا ہربل ڈراپ کسى تشخيص سے قطع نظر کارگر اور معاون ہوتا ہے.
 
سوراخ  کے تمام مسائل اسی طرح ہیں. 
 
کیمیکل پر مبنی جدید دوائی یا  ایلو پیتھی  کے برعکس ہے، جہاں مسئلہ کا صرف ایک مخصوص حصہ  ٹارگٹ  کیا جاتا ہے، باقی منفى اثرات ميں الجھے ہوتے ہیں. 
 
 
5) آج کل کان کے پردے کى سرجرى عام طور سے کيوں ناکام ہوتى ہے اور کان ميں ٹيوب يا چھلا وغيرہ ڈالنا کان کے درميانى حصے کے ليے خطرناک ہوسکتا ہے۔ 
 
آج کل يہ زيادہ تر کيوں ناکام ہوتے ہيں؟
 
ہر سال رياستہائے متحدہ امريکہ ميں بيس لاکھ نوکيلى چيز جيسے کان کا ٹيوب يا چھلا ايک صحيح سالم کان کے پردے ميں ايک چھوٹا سا سوراخ بناکر ڈالا جاتا ہے زیادہ تر وہ بچوں پر اس سرجری کو انجام دیتے ہیں.
 
یہ کان کی ٹیوبیں ایک یا دو سال میں گر جاتے ہیں اور یہ فرض کیا جاتا ہے کہ کان کا سوراخ خود ہی بند ہوجاتا ہے - جلد ہی. 
 
یہ چھلا ایک چھوٹے سرجیکل سوراخ کے ذریعہ ایک سرنگ بننے کے لئے رکھی جاتی ہیں تاکہ کان کے پردے کے پیچھے سے پيپ نکل سکے اور کان کے پردے کے پیچھے جمع نہ ہوجائے. کیونکہ اگر ایسا ہوتا ہے تو کان کے پردے پر دباؤ بڑھ جاتا ہے جس کى وجہ سے اس کے پھٹنے کا امکان بڑھ جاتا ہے۔ 
 
پيپ پھوڑے یا کان کے درميانى حصے ميں دائمی انفیکشن کی وجہ سے ہے جو اب زبانی اینٹی بائیوٹک کے ذريعے بے اثر یا قتل یا ختم نہیں ہوتا ہے. 
 
وسط  کان کا انفیکشن زیادہ تر اینٹی بائیوٹک مزاحم بن جاتے ہیں - لہذا صرف يہى متبادل رہ جاتا ہے کہ کان کے پردے کے  بيچ سے ميکانيکى سرنگ بنائى جائے تاکہ کم از کم کان کا  پردہ پھاڑ  کر ايک بڑا سوراخ ہونے سے بچا لیا جائے۔ 
امید ہے کہ بچے کی قوت مدافعت عمر کے ساتھ بہتر ہوجائے گی، انفیکشن سے  قدرتی طور پر لڑا جاتا  ہے  اور بے اثر ہوجاتے ہیں، اور پھر جب کان کا ٹیوب یا چھلا گر جاتے ہیں یا ہٹا دیا جاتا ہے تو وہى قوت مدافعت بچے ہوئے چھوٹے سے سوراخ کو بند کر ديتی ہے.
 
يہ کان کے ٹيوب کے بارے ميں مکمل کہانى يا منطق ہے۔ 
 
ليکن جب بڑا بيکٹريائى انفيکشن بن جاتا ہے، کان کے ٹيوب کے گرنے کے بعد، تو سوراخ بند نہيں ہوتا ہے بلکہ وقت کے گذرنے کے ساتھ بيکٹريا کى تعداد بڑھتى چلى جاتى ہے اورممکنہ طور پر سوراخ کے بڑے ہونے کا خدشہ بڑھ جاتا ہے۔
 
 
يہى معاملہ کان کے پردے ميں موجود چھيد کى اصلاح کے ليے يا قوت سماعت کو درست کرنے کى جراحى ميں ہوتا ہے۔ 
سرجری سے پہلے سرجن آپ کے  اساسى انفیکشن کو ختم کرنے کے لئے زبانی اینٹی بائیوٹکس دیتا ہے، جس کے نتیجے میں کان کا پردہ قدرتی طور پر خود بخود بند نہیں ہوتا ہے۔
 
جب ڈاکٹر بصرى طور پر کوئی انفیکشن نہیں دیکھتا تو وہ سمجھتا ہے کہ یہ ختم ہوگیا ہے. 
اس بات کا تعین کرنے کے لئے کہ  مکمل انفیکشن چلا گیا یا نہیں وہ کوئى بھی مائکروبائیو لوجی ٹیسٹنگ نہیں کرتا ہے۔ 
کبھی کبھی ایسا کرنا غیر معمولی ہوتا ہے. 
ليکن انفيکشن بہت ہى چھوٹا سا بيکٹريا اور فنگس ہوتا ہے اور اينٹى بايوٹک کے عرصہ دراز تک استعمال کرنے سے ان کا کچھ حصہ باقى رہ جاتا ہے يا يہ سپر بگ يا سپر بيکٹريا،  اينٹى بايوٹک  مزاحم بن جاتا ہے اور ڈاکٹر کان کے پردے کى اصلاح کرتا ہے، یہ ایک کمزور بنیاد پر ایک عمارت کی تعمیر کی مانند ہے ....
 
یہ عمارت ایک دن ڈھہ جانے والی ہے. 
 
لہذا یہ سپربگ کچھ سال یا اس کے بعد دوبارہ بار بار مرمت شدہ کان کے پردے کو ختم کر دیتے ہیں. 
 
یہ آج کل زیادہ عام اور بار بار ہوتا ہے.
 
ہم سپر بگ کے زمانے میں رہ رہے ہیں- جب تک کوئى ايسا انيٹى بايوٹک نہیں  ليتا جو اينٹى بايوٹک مزاحمتى سپر بگ کو مارتا ہے ،  اس طرح کى سرجری کامیاب  نہيں ہوتى ہے۔ 
 
5) کان کے پردے کے  اصلاح کی  سرجری کے بعد کيا ہم اپنے کان کے پردے کو محفوظ رکھنے کے ليے ان کان کے ڈراپ کا استعمال کر سکتے ہيں؟
 
اگر آپ کے کان کا پردہ سرجرى سے ٹھيک ہوجاتا ہے تو آپ ايک مہينے انتظار کيجيئے پھرايک سال تک ہفتے ميں ايک بار دو منٹ کے ليے ہمارا رقيق کان کے ڈراپ کا چار قطرہ کان ميں ڈاليں، جب تک آپ يقين نہ کرليں کہ اصلاح شدہ کان کا پردہ اس سپر بگ کى وجہ سے جو اينٹى بايو ٹک کى مدد  سے مرا نہيں ہے ، ناکام نہ ہونے پائے۔ ايسا آپ کو سرجرى سے پہلے اور بعد کرنا ہوتا ہے۔ 
 
اس طريقے سے آپ مکمل طور پر مناسب وقت پر ان بگس کو بڑھنے سے اور اصلاح شدہ کان کے پردے  کو ناکام ہونے سے روک سکتے ہيں۔
 
6) جب آپ کے دونوں کان کے پردے ميں چھيد ہو تو پہلے ايک کان ميں ہمارا ڈراپ استعمال کيجيئے اور جب آپ کو يقين ہو جائے تو دوسرے ميں بھى استعمال کيجيئے۔
 
 
7) کبھى کبھار چھيد کا انفيکشن زيادہ ہوجاتا ہے اور اس طرح کى صورت حال ميں جب يکساں رقيق ڈراپ پہلی بار شامل  کريں گے اس وقت بہت زيادہ درد ہوگا اور اس کا اثر لمبے وقت رہے گا، آدھا دن يا اس سے زيادہ تک۔ 
اس طرح کے حالات میں کوئى بھى شخص رقيق ڈراپ کی بوتل میں سے 50 فی صد لے کر صاف پانی کا اضافہ کرلے۔ ناک کے  ڈراپ کے ساتھ جارى رکھيں ليکن يہ نيا اضافى رقيق ڈراپ اسى وقت استعمال کريں جب درد اور بھارى پن حد سے زيادہ بڑھ جائے۔ 
رقيق ڈراپ ميں ۲۵ فى صد خالص عرق ہوتا ہےاور باقى ۱۰ ملى ليٹر صاف پانى۔ تجزيہ کے طور پر آپ ايک ۱۰ ملى ليٹر کی  بوتل لے کر ايک نيا رقيق ڈراپ عليحدہ بنا سکتے ہيں۔
 
8) اورل  کیمیائی اینٹی بائیوٹکس صرف انفیکشن کو خشک کرتے ہیں - کوئی بھی نہیں جانتا ہے کہ انفیکشن مکمل طور پر بے اثر ہوا ہے یا نہیں. اس کے علاوہ، اگر درد، سوزش یا بھاری پن برقرار رہتا ہے - تو ايسے لوگوں کو کان کى ٹیوب  صاف کرنے کے سوا کچھ بھی نہیں کرنا ہے. مسئلہ یہ ہے کہ وہ صاف کرنے کے لئے ويکيوم کلينر آلہ یا ٹیکنالوجی  استعمال کرتے ہیں. اگر ویکیوم پریشر میں اضافہ ہوتا ہے، تو خود صفائی کرتے وقت کان کا پردہ پھٹ سکتا ہے. بہت سے ایسے معاملات ہم نے ديکھے ہیں. 
لہذا برائے مہربانی آپ اپنے اہل خانہ اور دوستوں سے کہيں کہ کان کى زرد رنگ کى جھلى يا سرنگ کو صاف نہ کريں، خاص طور سے ويکيوم آلہ کے ذريعے۔ 
ہمارا رقيق ڈراپ ہى کان کى گندگى آہستہ آہستہ قدرتى طور پر ختم کر سکتا ہے۔ یہ اس طرح کا  ایک بیرونی ماحول پیدا کرے گا، بعد میں  قدرتی طور پر کان کی  گندگى کو خود ہى صاف کرے گا، ايسا کرنا چاہيئے. صفائی کے لئے کسی بھی کان بڈ کا استعمال نہ کریں. 
 
9) کبھی کبھی رقيق ڈراپ کان ميں درد اور بھارى پن کچھ بڑھا ديتا ہے اور لمبے وقت تک رہتا ہے- ايسا صرف چند حالات میں ہوتا ہے. 
 
اس طرح کے معاملات میں،  رقيق ڈراپ بھی ہر  دوسرے   دن یا بعد میں استعمال کرنا چاہئے - يہاں تک  کہ درد اور بھارى پن مکمل طور پر ختم ہوجائے.
 
ایسے معاملات پیچیدہ اور شدید انفیکشن کے مسائل پيدا کرتے ہیں. ہمیں اس کے بارے میں بہت صبر کرنا ہوگا، اور مختصر مدت میں نتائج کى توقع نہيں کرنی چاہيئے. 
 
اسى طرح دائمى انفيکشن کى شفايابى  اور کان کے پردے ميں سوراخ کو پر کرنے کى نشو نما،  استحکام، نظم و ضبط اور صبر کا کھيل ہے
 
اس کے علاوہ جو کچھ ہو رہا ہے اس سلسلے  ميں آپ کو ذہین، ہوشیار اور خود سے محاسبہ نفس کا عادى ہونا چاہئے، اپنے آپ کے علاج ميں ہمارے ڈراپ کے ذريعہ تبديلى اور حکمت عملی کو تیار کریں۔ اور ہم يہاں اپنى مجموعی معلومات پیش کرتے ہیں اور جامع مشورہ دیتے ہیں.


একটা মানুষের একটা বা দুটো কানেই ছিদ্র থাকতে পারে। এই ছিদ্র জন্ম থেকেই হতে পারে আর এতে ভাবনার কিছু নেই।
 
যদি কান থেকে পূঁয না বেরয় আর আপনার শুনতে কোনো কষ্ট না হয় তো এটা নিয়ে বেশি চিন্তা করবেন না। লোকে বিদ্ধ কানের পর্দা নিয়ে লম্বা সময় অব্দি সামান্য ভাবে বাচতে পারে । 
শুধু এতটা ধ্যান রাখবেন যে দুটো কানের মদদে কোনোটাত ও বাইরের জল ঢুকতে দেবেন না। দুটো কানেরি স্নান বা অন্য কাজ করার সময় জল থেকে সুরক্ষা করা খুব দরকার ।
 
যদি কান থেকে পূঁয বেরোনো শুরু হয় বা এই সংক্রমনে আপনার শোনার শক্তি প্রচুর পরিমানে বাধিত হউয়া আরম্ভ হয় তাহলে এটার একটা নিরাকরণ করা খুব দরকার হয়ে ওঠে । 
 
যদি আপনার দুটো কানেই ছিদ্র আছে, তাহলে আপনি অন্য কান থেকেও পূঁয  না বেরোনোর স্থিতি তে ছোট ছিদ্র যুক্ত কান থেকে শুরু করবেন। 
 
যদি দুটো কান থেকেই পূঁয বেরয় তাহলে দুটো একসাথে শুরু করবেন। 
 
কান থেকে পূঁয বেরোনো মানে কার্যশীল সংক্রমণ। 
 
আমার সমস্ত ভিডিও, প্রবন্ধ এবং ওয়েবসাইট ভালো করে দেখবেন এবং সমস্ত নির্দেশ পালন করবেন। 
 
আপনার সমস্ত প্রশ্নের সমাধান এখানে রয়েছে। 
 
আমাদের কাছ থেকে ড্রপস আনানোর পদ্দতি ও এখানে দেওয়া রয়েছে। 
 
পড়া এবং বোঝার চেয়ে লোকে সোজা আমাকে কল করে প্রতিশ্রুতি চায়। এটা এই ভাবে কাজ করেনা। 
 
আপনার এই সমস্যা সম্পর্কে জানা দরকার এবং এও জানা দরকার যে আপনি সফলতা পাওয়ার জন্যে এও মাধ্যম কিভাবে শ্রেষ্ঠ ভাবে ব্যবহার করতে পারেন। 
 
শুধু আমাদের প্রতিশ্রুতি দেওয়া মাত্রই সফলতা আপনার কাছে আসবেনা, কিন্তু যদি আপনি নির্দেশ ঠিক ভাবে পালন করেন তবে এটা হউয়ার অনেক সম্ভাবনা আছে।
 
আমরা স্পষ্ট রূপে বলছি যে আমাদের প্লান্ট এক্সট্র্যাক্ট এয়ার ড্রপস পুরো বিশ্বে প্রাকৃতিক রূপে বিদ্ধ কানের পর্দা ঠিক করার একমাত্র এবং আসল উপায়। 
 
আমাদের উপচারের যুক্তি এবং সিদ্ধান্ত নীচে স্পষ্ট এবং ভালো করে ব্যাখ্যা করা হয়েছে, এবং তার সাথে মাইক্রোবায়োলজিক্যাল সার্টিফিকেটস ও দেওয়া রয়েছে যা আমাদের প্লান্ট এক্সট্রাক্টর বিশ্ব স্তরীয় অদ্বিতিয়তা প্রমান করে।
 
----------------------
 
কানের বিদ্ধ পর্দার সম্পূর্ণ আরোগ্য এবং বন্দ করে আমাদের সাফল্য দর 60 থেকে 70 শতাংশ।
 
উত্ক্ষেপ/পূঁয/দ্রব্য যুক্ত কানের মাঝের বিষম বা গম্ভীর সংক্রমণের স্থিতি তে আমাদের সাফল্য দর 100 শতাংশ।
 
আমরা নম্র ভাবে জানাই যে আমাদের জ্ঞান ও শোধ হিসেবে আমাদের প্লান্ট এক্সট্র্যাক্ট ড্রপস আমাদের দ্বারা অথবা আমাদের জন্যে কেউ এর চেয়ে ভালো ভাবে নির্মিত করতে পারেনা। 
 
যেই স্থিতি তে সম্পূর্ন আরোগ্য হউয়ার সাফল্য দর 100 শতাংশ চেয়ে কম, অতার সম্পর্কে কোনো রকম তর্ক না দিয়ে আমরা জানায় যে এমনি অনেক রকম কারণ কাজ করে বা করে নিয়ে থাকে যা আমাদের নিয়ন্ত্রনের বাইরে। 
 
বৈদ্যরাজ অনিল ডগরা 
+91 9810260704
 
 
বিশ্বের সমস্ত শের ইএনটি ডাক্তার এবং হসপাতাল উত্ক্ষেপ যুক্ত গভীর অটিটিস মিডিয়ার (ওএমই) বিরুদ্ধে বিফল।
ওএমই কে পূঁয/দ্রব্য অথবা ক্রনিক সাপারেটিভ ওটিটিস মিডিয়া যুক্ত মাঝ কানের আবৃত্তিশীল সংক্রমণ ও বলা হয়। এটাকে সামান্য ভাষায় ‘ গ্লু এয়র’ বলা হয়।
 
যদি সামান্য ভাষায় বলা যায়, তাহলে ওএমই এরকম এটা স্থিতি কে বলে যখন আপনার মনেন্হয় যে আপনার দ্রব্য দিয়ে বন্দ অথবা ভরা। এরকম অবস্থায় ব্যাথা হউয়ার অথবা না হউয়ার দুটোরই সম্ভাবনা থাকে, এবং এন্টিবায়োটিকের 2 থেকে 3 নিয়মিত কোর্সের পর ও যদি এই অবস্থা বার বার ফিরে আসে।
 
ক্রনিক ওএমই স্থিতি তে দ্রব্যের চাপ কানের মাঝে কানের পর্দার ঠিক পেছনে বাড়তে থাকে, এবং এই চাপ অবশেষে কানের পর্দা ফাটিয়ে দেয়।
 
ওএমই সংক্রমণের বিরুদ্ধে এন্টিবায়োটিক্সের এই বিফলতা ই বিশ্ব ভরে কানের পর্দার বিদ্ধ হউয়ার সমস্যার মুখ্য কারণ।
 
বৈদ্যরাজ অনিল ডগরার প্লান্ট এক্সট্র্যাক্ট মর্যাদাপূর্ণ শ্রীরাম ইনস্টিটিউট অফ ইন্ডাস্ট্রিয়াল রিসার্চ, দিল্লী, ভারতের মাইক্রোবায়োলজি গবেষণাগার দ্বারা সেউডমনস এরুগিনোসা, এমআরএসএ এবং ই কলির মতন শক্ত ব্যাকটেরিয়া কে মারার উদ্দেশ্যে  স্বীকৃতি  পাওয়া। 
এই আবিষ্কার 1930 এর দশকে আলেক্সান্ডার ফ্লেমিং দ্বারা পেনিসিলিনের আবিষ্কারের সমকক্ষ। 
পেনিসিলিনের আবিষ্কার থেকে এন্টিবায়োটিকের যুগ শুরু হয়েছিল যেটা এন্টিবায়োটিক রোধী ব্যাকটেরিয়ার উত্পত্তি এবং বিস্তারের জন্যে শেষের দিকে এগিয়ে এসেছে।
 
প্রতি বছর ওএমই গ্রস্ত 2 মিলিয়ন আমেরিকি বাচ্চাদের কানের পর্দার শল্য চিকিত্সা দ্বারা উপচার করা হয় এবং এটাতে কানের পর্দায় সুরঙ্গের মত কানের টিউব লাগানো হয় যার উদ্দেশ্য কানের মাঝ ভাগের দ্রব্য বের করা, যা না হলে এটা কানের পর্দা ফাটিয়ে দিতে পারে।
 
কানের টিউব এক বছরের মত কানে থাকে, যার পর এটা বা তো বেরিয়ে পড়ে যায়, অথবা শল্য ক্রিয়া দ্বারা এই আশায় বার করে নেওয়া হয় যে এই ছোট ছিদ্র নিজেই প্রাকৃতিক রূপে ভরে যাবে।
 
কিন্তু 10 থেকে 20 শতাংশ ক্ষেত্রে এমনি হয়না।
 
যদি বিশ্বের শ্রেষ্ঠ দেশ এবং অর্থব্যবস্থার এরকম দশা হয়, তাহলে আপনি নিজেই চিন্তা করতে পারেন যে বিশ্বের বাকি ভাগে কি অবস্থা হবে।
 
কানের টিউব শুধুমাত্র একটা চিকিত্সকিয় সমস্যার যান্ত্রিক সমাধান এবং এতে আগের থেকে হয়ে থাকা সংক্রমণ কোনো ভাবে ঠিক হয় না।
সংক্রমণ, যেটা সবথেকে গম্ভীর সমস্যা, থেকেই যায়।
 
কানের টিউব দ্রব্যের চাপ কম করার জন্যে আগের থেকে একটা ছোট ছিদ্র বানিয়ে কানের পর্দায় বেশি বড় ছিদ্র হউয়ার সম্ভাবনা দূর করে।
 
কানের পর্দার ছিদ্র সম্পর্কে বোঝা:
 
কানের পর্দায় ছিদ্র আপনার শরীরে হউয়া একটা ঘাএর সমান হয়। 
যদি শরীরের প্রতিরোধক ক্ষমতা এবং সামান্য সংক্রমণ নিয়ে সব ঠিক থাকে, তাহলে ঘা নিজেই প্রাকৃতিক রূপে ভরে যায়। 
 
যেরকম আপনার চুল ধীরে ধীরে বাড়ে, সেইরকম একটা ঘা আরও ধীরে, কিন্তু অবশ্য ঠিক হয়। আপনাকে শুধু এটা নিয়ে ধৈর্য রাখতে হবে।
 
কিন্তু যদি আপনার শরীরের প্রতিরোধক ক্ষমতা একটা বাচ্চার মত কম হয়, এবং যদি ব্যাকটেরিয়া টা গম্ভীর ব্যাকটেরিয়াল সংক্রমণ হয় – এরকম সংক্রমণ যা এন্টিবায়োটিক্স দিয়েও শেষ হয়না – তাহলে ঘা অথবা কানের পর্দার ছিদ্র ভরার প্রাকৃতিক তে নিক্ষেপ হয় এবং বাধা পড়ে যার জন্যে এটা বন্ধ হয়ে যায়। 
 
সুপার ব্যাকটেরিয়াল সংক্রমণ ঘা অথবা ছিদ্র ভরার প্রাকৃতিক পদ্দতি থামিয়ে দেয়।
 
এরকম স্থিতি তে  - 
 
আপনি এন্টিবাযোটিক্স বন্দ করে এবং খাওয়াদাওয়া ভালো রেখে নিজের শরীরের প্রতিরোধক ক্ষমতা বাড়ান। 
 
আমাদের প্লান্ট এক্সট্র্যাক্টে আপনার সংক্রমণ ধীরে ধীরে কিন্তু নিশ্চিত রূপে প্রশমিত হয় ।।।এবং ঘা/ছিদ্র ভরার প্রাকৃতিক প্রনালী আবার শুরু হয়ে যায়!
 
আমরা এই যুক্তি নিয়ে কাজ করি, এবং এতেই ছিদ্র ভরার প্রাকৃতিক বিদ্যা সম্ভব করা যেতে পারা যায়।
 
আমাদের পেজে বেশিরভাগ এরকম পরিদর্শক আসেন যাদের কানের পর্দায় আগের থেকেই ছিদ্র আছে …।
 
আপনি আমাদের খুঁজে আসেন।
 
কিন্তু আপনি অন্যদের নিজের কানের পর্দায় ছিদ্র হয়ে যাওয়ার সমস্যা থেকে বাচাতে পারেন…।। 
 
ওদের কাছে ওই জ্ঞান থাকেনা যা আপনি এখানে পাবেন।
 
আপনার পরিবার ও বন্ধু, যাদের মদদে মুখ্য রূপে 15 বছর অব্দি বয়সের বাচ্চারা আছে, যারা কানের ব্যথায়, কানের মাঝের সংক্রমনে, ওএমই সংক্রমনে ভুগছে, এবং এটা একটা শক্ত ব্যাকটেরিয়াল সংক্রমণ হতে পারে…
 
এবং কানের পর্দা ফেটে যাওয়ার কারণ হতে পারে।
 
ওরা আমাদেরকে খুজছেনা।
 
এই খবর নিজের জানাশোনাদের মদদে ছড়িয়ে দিন  এবং -
 
একটা বাচ্চার কানের পর্দা বাচান।
 
দ্রব্য যুক্ত কানের মাঝের গম্ভীর সংক্রমনের জন্যে কানের পর্দা ফেটে যাওয়ার সম্ভাবিত সমস্যা ঠিক করা আমাদের জন্যে শুধু এক বা দুই দিনের ব্যাপার – শুধু ডিল্যুটেড এয়র ড্রপসের মাধ্যমে।
 
কানের মাঝের গম্ভীর সংক্রমণ এবং ছিদ্রযুক্ত কানের পর্দার জন্যে অনিল ডগরার  ইয়র  ড্রপস সম্পূর্ণ ভাবে প্রাকৃতিক এবং আয়ুর্বেদিক। এটা সবরকম বয়শের লোকের জন্য ব্যবহার করার জন্য সুরক্ষিত।
 
স্থায়ী নির্দেশ -
---------------------------------
 
ওরাল এন্টিবাযোটিক্সের ব্যবহার তত্ক্ষনাত বন্দ করে দিন। তার জায়গায় সপ্তাহে দুই বার সবুজ তরকারী, গরম সুপ অথবা তাজা ফলের রস খান।
 
স্নান করার সময় কানের ছিদ্র পর্দায় জল যাওয়া উচিত না।। স্নান করার সময় কানে রুই দিয়ে রাখুন। আপনি রুই তে একটু ভেসলীন লাগাতে পারেন – এতে জল কানে ঢুকতে পারবেনা । 
 
এক বার কানের ছিদ্র পর্দা ঠিক হউয়ার এক বছর অব্দি সাঁতার কাটা অথবা ধার্মিক স্নান করবেননা।
 
কানে কোনো রকম রাসায়নিক, হোমিওপ্যাথিক বা ঘরোয়া আয়ুর্বেদিক দ্রব্য ঢালবেননা।
 
আমাদের আয়ুর্বেদিক ড্রপস প্যাকেজে কি আছে ----------------------------------
 
আমাদের শুদ্ধ প্লান্ট এক্সট্র্যাক্ট ড্রপ মাস্টার ড্রপ।
 
এই শুদ্ধ ড্রপ দিয়ে অন্য সব রকম ড্রপ কখনও তৈরী করা যেতে পারে।
 
এই ড্রপ সময়ের সাথে কালো হয়ে যেতে পারে অথবা গাছের জমাট অবশিষ্ট দেখা যেতে পারে – এটা সামান্য – এবং এটার প্রভাব ও কার্যকারিতা সবসময় একরকম ই থাকে । আমাদের ড্রপস কখনও খারাপ হয়না। এটাকে সামান্য তাপ্মানে পরিষ্কার জায়গায় যতটা সম্ভব হয় আলো থেকে দূরে রাখা যেতে পারে । 
 
কোনো পরিবেশগত জীবানুর আমাদের ড্রপ কে শেষ করার ক্ষমতা নেই। এটাই এদের সবসময়ের জন্য ভালো থাকার কারণ।
 
আমরা 10 এমএল/300 ড্রপস ড্রপার বোতল পাঠাই -
 
আমাদের দুই বোতলে শুদ্ধ প্লান্ট এক্সট্র্যাক্টের 600 ড্রপস আছে। 
 
আপনার কানের পর্দার ছিদ্রের উপচারের জন্যে আপনার আর শুদ্ধ ড্রপসের দরকার হবেনা।
 
আমাদের উপচারের সাফল্য বা অসফল্য এই ড্রপসেই বোঝা যাবে এবং এর বেশি নিলে ওগুলো বেচে ই থাকবে। এগুলো কখনও ও খারাপ হয়না।
 
একটা বোতল ডিল্যুটেড কানের ড্রপসে 25 ড্রপ শুদ্ধ এক্সট্র্যাক্ট হয় যেটা 10 এমএল পরিস্কার জলে মেশানো থাকে।
আপনি নিজের ইচ্ছা মত বেশি শুদ্ধ ড্রপ মিশ্রিত করে এটার শক্তি বাড়াতে পারেন। 
 
চতুর্থ বোতল 10 এমএল এর একটা নাকের ড্রপ বোতল হয়, যেটাতে শুদ্ধ প্লান্ট এক্সট্র্যাক্টের 4 ফোটা এভাম পরিষ্কার জলের 10 এমএল ঢেলে এটা কখনও পুনর্নির্মিত করা যেতে পারে।
 
নাকের ড্রপ এবং ডিল্যুটেড  কানের ড্রপ শুদ্ধ এক্সট্র্যাক্ট ড্রপের সাহায্যে কেউও কখন ও বানাতে পারে।
 
নাকের ড্রপ -
-----------------------
 
সর্দী/নাক বন্দ হউয়া অথবা গলার সংক্রমণের স্থিতিতে নাকের ড্রপের 2 ফোটা  দিনে এক বার, অথবা যত বার দরকার হয়, নাকের প্রত্যেক ফাঁকে ঢালুন। 
এটা সাইনাসাইটিসের একমাত্র আসল উপচার।
এটা কানের মাঝের সন্ক্রমনেও কাজে লাগবে কেননা এসব আন্তরিক ভাবে জোড়া।
 
কানে ড্রপ ঢালার পরিচালনা - 
-------------------------------
 
কানের ব্যথা/কানের মাঝের গম্ভীর সংক্রমণ যেটা কানের পর্দা ছিদ্রিত হউয়ায় পরিনত হয়নি :
 
শুধু আমাদের ডিল্যুটেড কানের ড্রপ ব্যবহার করে নিজের কানের পর্দার রক্ষা করুন।
 
প্রভাবিত কানে ডিল্যুটেড কানের ড্রপের 4 ফোটা ঢালুন এবং এটা 2 মিনিটের জন্য ছেড়ে দিন।
এরপরে যখন আপনি সোজা হয়ে দাড়াবেন, তখন কান থেকে বেরোনো কোনো ও রকম দ্রব্য রুই দিয়ে পরিষ্কার করুন। 
আপনি এটা দিনে এক থেকে তিন বার অতদিন করতে পারেন যতদিন আপনার ব্যথা পুরোপুরি ঠিক হচ্ছেনা এবং আপনি সামান্য অনুভব করছেননা। 
 
আমাদের ড্রপ টিনিটাসের জন্য ব্যবহার করা হয় না, অথচ সংক্রমণ ঠিক হয়ে গেলে এটা টিনিটাস ঠিক করাতে সাহায্য অবশ্য করে। 
টিনিটাস কানের ভেতরের ভাগের মস্তিস্কড্রপ কানের ভেতরের ভাগ থেকে জড়িত এক স্থিতি, এবং  ড্রপস কানের ভেতরের ভাগে যেতে পারেনা।
 
অবশেষে আপনার শোনার শক্তি কতটা বাড়বে এটা ঠিক বলা যেতে পারেনা এবং শুধু সময়ের সাথেই এটা বোঝা সম্ভব।
 
সাঁতারুদের জন্যে-  প্রত্যেক বার সাঁতার কাটা, ডাইভিং, সার্ফ বোর্ডিং অথবা স্কুবা ডাইভিং করার পর সংক্রমনের প্রতি সাবধানী রাখার এবং এটার নিবারণ করার জন্য দুই মিনিটের জন্যে ডিল্যুটেড কানের ড্রপের 4 ফোটা দিন। 
উপরে ইঙ্গিত করা মত নাকের ড্রপ ও ব্যবহার করুন।
 
কানের পর্দা ছিদ্রিত হউয়ার স্থিতি তে -
 
প্রথমে ডিল্যুটেড ড্রপ দেওয়া দিয়ে শুরু করুন।  ডিল্যুটেড প্লান্ট এক্সট্র্যাক্টের 2 থেকে 4 ফোটা রোজ দিনে এক বার 2 মিনিটের জন্যে দিন। 
 
যদি ব্যথা সহ্য করার মত হয় অথবা অবশেষে সহ্য করা যেতে পারা যায়, তাহলে আপনি প্রতি এক দিন ছেড়ে শুদ্ধ ড্রপস দেওয়া শুরু করতে পারেন।
 
যদি ব্যথা সহ্য করার মত থাকে তাহলে শুদ্ধ ড্রপস ব্যবহার উড়তে থাকুন অথবা ডিল্যুটেড ড্রপস ব্যবহার করা শুরু করে দিন। 
 
অবশেষে ব্যথা অনেক কমে আসবে, তাই আপনি আবার শুদ্ধ ড্রপস ব্যবহার করতে পারেন।
 
উপরে দেওয়া পদ্দতি অনেকের জন্যে আরও লম্বা চলতে পারে।  আপনাকে এটা নিয়ে অনেকটা ধৈর্য ধরে থাকতে হবে।
 
শুদ্ধ এক্সট্র্যাক্ট ড্রপস প্রতি এক দিন ছেড়ে ব্যবহার করুন। 
 
দুই মিনিটের জন্য দুই থেকে তিন শুদ্ধ ড্রপ যথেষ্ট। 
 
প্রভাবিত কান ঠিক না হউয়া অব্দি  অথবা এটার আরও এক বছর পর অব্দি ও বাইরের জল কোনো ও ভাবে কানের ভেতরে আশা উচিত না।
 
একবার যখন পূঁয বেরোনো বন্দ হয়ে যায় এবং ব্যথা ও পুরোপুরি সেরে যায়, এতে বোঝা যায় যে সংক্রন কে ব্যর্থ করা হয়েছে। 
 
এই সময় অব্দি আপনি শুদ্ধ ড্রপ ব্যবহার করা শুরু করবেন এবং এক দিন ছেড়ে ছেড়ে শুধু শুদ্ধ ড্রপস ব্যবহার করবেন।
 
এন্টিবায়োটিক প্রতিরোধ এবং সিউডোমোনাস এরুগিনোসা, ইমআরএসএ, ই কলির মত জীবানুর যুগে  সংক্রমণ কে ব্যর্থ করা কোনো ছোট কথা না।
 
এই শক্ত জীবানু সম্পূর্ণ বিশ্বে ব্যাপক ধংশ করছে  এবং এদের শুধু আমাদের প্লান্ট এক্সট্র্যাক্ট দ্বারা ব্যর্থ করা যেতে পারে।
 
এই সম্বন্ধে ব্যাখ্যা করা মর্যাদাপূর্ণ শ্রীরাম ইনস্টিটিউট ফর ইন্ডাস্ট্রিয়াল রিসার্চ, দিল্লি, ভারতের প্রমান পত্রের প্রতিলিপি আমাদের সাইটে পোস্ট করা হয়েছে।
 
এক বার সংক্রমণ ব্যর্থ হয়ে গেলে একটা ইএনটি ডাক্তার কে দিয়ে ছিদ্রের আকারের পরীক্ষা করান।
 
প্রত্যেক দিন ছেড়ে ছেড়ে শুদ্ধ ড্রপস ব্যবহার করতে থাকুন এবং 40 দিন ও আবার 80 দিন পড়ে একই ইএনতী ডাক্তার কে দিয়ে ছিদ্রের আকার পরীক্ষা কোরান। 
 
যদি দ্বিতীয় বা তৃতীয় পরীক্ষা তে এটা দেখা যায় যে ছিদ্র ঠিক হয়ে বন্দ হয়ে আসছে এবং এটার আকার কম হয়ে গেছে, তাহলে আমাদের শুদ্ধ ড্রপস ব্যবহার করলে এটা প্রায় দুই মাসের মদদে কমে যাবে, অন্যথা আপনাকে শল্য ক্রিয়ার সাহায্য নিতে হবে। 
 
অতিরিক্ত তথ্য  -
 
এই এক্সট্র্যাক্ট বোতলের কনে থেকে থেকে সময়ের সাথে কালো হয়ে যেতে পারে, এবং জমাট প্লান্ট অবশিষ্ট ভেতরে জন্ম নিতে পারে, কিন্তু সব সময় একরকম শক্তিশালী এবং কার্যকারী থাকে।
 
এই এক্সট্র্যাক্ট বৈদ্যরাজ অনিল দগ্রা এবং তার পরিবার নিজের হাথ দিয়ে তৈরী করে।
 
বৈদ্যরাজ অনিল ডগরা 
 
+91 9810260704
 
 
উপরোক্ত সেটের মূল্য ভারতের ভেতরে 3700 টাকা, যেটায় আরোহনের টাকা যুক্ত আছে। এই মূল্য কখনও পরিবর্তিত করা যেতে পারে। 
 
 
সাধারনত  সম্পূর্ণ আরোগ্যের জন্য কারুর অতিরিক্ত শুদ্ধ এক্সট্র্যাক্টের দরকার হয়না। যদি আপনার অতিরিক্ত এক্সট্র্যাক্ট চাই তাহলে উপরে বর্ণিত নতুন সেট আবার অর্ডার দিতে হবে। 
 
ভারতের বাইরে এই উত্পাদ পাঠানোর মূল্য 145।00 ডলার যেটায় আরোহনের মূল্য যুক্ত আহে। 
 
আমরা ইসলামিক দেশে আয়ুর্বেদিক উত্পাদে আগম সীমাবদ্ধতা থাকার জন্য এটা যুএই, সৌদি এবং অন্য কোনো ইসলামিক দেশে পাঠাতে পারিনা।
 
এটা পাকিস্তানে পাঠানো যায়। 
 
আপনি www।Paypal।com  ব্যবহার করে আমাদের ইমেল এড্রেস [email protected]।com এ টাকা পাঠাতে পারেন অথবা নিম্নলিখিত বিবরণ ব্যবহার করে মানিগ্রাম বা ওয়েস্টার্ন ইউনিয়ন থেকেও টাকা পাঠাতে পারেন:
অনিল কুমার ডগরা, Iএ / 20 এ, ফেজ বন, অশোক বিহার, দিল্লি , ভারত- 110052 । ফোন  +91 9810260704। 
এরপর আপনি আমাদের ইমেল এড্রেস [email protected]।com এ পুরো জানকারী পাঠাতে পারেন ।
 
ভারতের জন্যে – নিম্নলিখিত একাউন্টে টাকা জমা দিন এবং উপরে দেওয়া ইমেলে অথবা আমাদের ফোন নম্বর 9810260704 এ এসএমএস বা হোয়াট্সএপ মাধ্যমে নিজের নাম, ঠিকানা, পিন কোড এবং ফোন নম্বরের জানকারী ও দিন:
 
শ্রীমতী মিনু ডগরার জমা খাতা সংখ্যা 35782552316 তে, যেটা অশোক বিহার, ফেজ, দিল্লি  110052, ভারতের এসবিআই ব্যাঙ্ক শাখা তে আছে, 3700 টাকা পাঠান। নিফ্ট আইএফএসসী কোড SBIN0007783।      
 
 
সাধারণত জিগ্গেস যোগ্য প্রশ্ন:
 
1। ) যখন কানের পর্দা ঠিক থাকে এবং কারুর কানে ব্যথা বা কানের মাঝখানে সংক্রমণ হয়, তখন ইএনটি ডাক্তার রা কানের ড্রপ ব্যবহার করতে বারণ করে এবং কানের পদরা ছিদ্রিত হউয়ার স্থিতি তে, ইএনটি ডাক্তার রা কানে কোনো রকম কানের ড্রপ দিতে সাবধান করে দেয়। তাহলে আপনার কানের ড্রপ কিকরে সাহায্য করতে পারে ?
 
ইএনটি ডাক্তার রা কানের মাঝের সংক্রমণ বা ওটিটিস মিডিয়ার ক্ষেত্রে কানের ড্রপ দিতে বারণ করে কেননা একটা সামান্য এবং সুস্ত কানের পর্দায় কোনো ড্রপ প্রবেশ করতে পারেনা। 
 
স্পষ্ট ভাবে যদি বলা হয় তাহলে আমরা এটা জানাই এবং দাবি করি যে আমাদের কানের ড্রপ কোনো ও রকম গম্ভীর ওটিটিস মিডিয়ার সমস্যা এক দিন থেকে এক সপ্তাহের মদ্দে ঠিক করতে পারে এবং এই পদ্দতি তে কানের পর্দা ও একদম ঠিক থাকে। এটা সব বয়সের লোক ব্যবহার করতে পারে। 
 
আপনার কোনো ওরাল এন্টিবাযোটিক্সের দরকার হবেনা। 
 
সত্তি কথা বলতে আধুনিক চিকিত্সা বিজ্ঞান আজকের সময়েও পুরোপুরি উন্নতি করতে পারেনি।
 
আসলে অস্মসিসের মাধ্যমে আমাদের কানের ড্রপ সংক্রমণ ব্যর্থ করার জন্য কানের পর্দায় একটু একটু করে কিন্তু যথেষ্ট মাত্রায় পৌছায়ে। বাকি ড্রপ 2 মিনিট পর নিজেই বেরিয়ে যায়।
 
ডাক্তার রা এই ভয় টা পায় যে কানের ড্রপের মাধ্যমে রাসায়নিক ওষুধ সমস্যা বাড়াতে পারে – যেটা ঠিক হতে পারে। 
এটা ছাড়া কানের ড্রপে ব্যাকটেরিয়াল প্যাথোজেন ও থাকতে পারে এবং আমরা ওদের কোথায় একমত। 
 
কিন্তু আমাদের কানের ড্রপ আলাদা । 
 
আমাদের ড্রপ পূর্ন রূপে আয়ুর্বেদিক এবং এদের কঠোর প্যাথোজেন  কে ব্যর্থ করার ক্ষমতা পুরোপুরি প্রমাণিত। 
 
আমাদের ড্রপ ব্যবহার করে আপনি পূর্নত সুরক্ষিত থাকবেন। 
 
আমাদের ড্রপের সাথে অন্য কোনো কানের ড্রপ ব্যবহার করবেননা এবং সাঁতার ও কাটবেননা। স্নান করার সময় কানের পর্দা পুরোপুরি ঠিক হউয়া অব্দি যেন কানে জল না ঢোকে। এটা দরকারী কেননা পৌর জলে অনেক রকম শক্ত প্যাথোজেন থাকে যাতে সংক্রমণ আবার থেকে শুরু হয়ে যেতে পারে। 
 
2।) আপনি কি কানের পর্দার 100 শতাংশ বন্দ হউয়ার আশ্বাস দেন?
 
সংক্রমণের 100 শতাংশ ব্যর্থতার পূর্ণ নিশ্চিততা দেওয়া হয়, কিন্তু কানের পর্দা পূর্ণ রূপে ঠিক হউয়ার 60 থেকে 70 শতাংশ আশ্বাস দেওয়া হয়।
 
এটা এরকম একটা প্রনালী যাতে অনেক ধাপ আছে, এবং তাদের সম্পর্কে উপরে বিস্তৃত ভাবে বর্ণনা করা হয়েছে। আমরা অনেক ছিদ্রিত কানের পর্দা পূর্ণ রূপে এবং সব সময়ের জন্য বন্দ করেছি।
আমাদের সাক্ষমূলক সূচি তে আমাদের গ্রাহকদের সূচি এবং তাদের ফোন number আমাদের চিকিত্সা পরিনামের সাক্ষ্য। এই সূচি টা সম্পূর্ণ না কেননা অনেক গ্রাহক  নিজি কারণের জন্যে নিজের নাম দিতে চায়না।
 
3।) আমার কান থেকে পূঁয বেরোয়না, তার মানে কি এটা যে আমার কানে কোনো রকম সংক্রমণ নেই?
 
পূঁয মৃত কোষ দিয়ে তৈরী হয় যেটা ওই সময় বেরিয়ে যায় যখন শরীরের প্রতিরোধক ক্ষমতা এবং অথবা ওষুধ সংক্রমণের সাথে যুদ্ধ করে। 
 
যদি যখন তখন পূঁয বেরোতে থাকে, তাহলে এটার মানে যে সংক্রমণ এখনো আছে। 
 
কখনও কখনও শুরুর দিকে কোনো পূঁয থাকেনা, কিন্তু আপনার কানের ড্রপ ঢালতেই এটা বেরোনো শুরু হয়ে যায়। এটার মানে যে সংক্রমণ তা ভেতরে ভেতরে ছিল। এটা এন্টিবাযোটিক্স বা অন্য কারণে শুকিয়ে গিয়ে থাকতে পারে কিন্তু এটা শেষ হয়নি। 
যেই আমাদের ড্রপ এই সংক্রমনের সাথে লড়তে শুরু করে, মৃত কোষ উত্পন্ন হউয়া শুরু হয় এবং এগুলোই পূঁজের মতন বেরয়। 
 
কানের ছিদ্র পূর্ণ রূপে না ভরা অব্দি পৌর জল কানে ঢুকতে দেবেননা – কেননা এই জলে খরাপ ব্যাকটেরিয়া থাকার কারণে সংক্রমণ আবার শুরু হয়ে যেতে পারে। 
 
স্নান করার, সাঁতার কাটা বা ধার্মিক স্নান করার সময় এই সংক্রমণের ঝুঁকি থাকে। 
অতএব সাবধান থাকুন এবং স্নান করার সময় রুই কানে লাগিয়ে রাখুন।
 
একবার যখন আমাদের ড্রপ থেকে পূঁয পুরোপুরি বেরোনো বন্দ হয়ে জায়, তখন আমরা বলতে পারি যে সংক্রমণ পুরোপুরি ঠিক হয়ে গেছে। 
 
 
4। ) আমরা কি বৈদ্যরাজ অনিলের সাথে দেখা করে অনার হাথ থেকে কানের ড্রপ নিতে পারি?
 
না। আমরা এখানে বিস্তারে সব বুঝিয়েছি। আর কিছু জানার জন্যে আপনি কল বা ইমেল করতে পারেন। 
 
আমাদের কাছে সবরকম কানের সমস্যার জন্যে এই অদ্ভূত উপচার আছে এবং আমরা অন্য কোনো ওষুধের পরামর্শ দেইনা। 
 
সাধারনত যখন আপনি কোনো ডাক্তারের সাথে দেখা করেন, তো ওরা আমাদের দ্বারা দেওয়া জান্কারির 10 শতাংশ ও আপনাকে দেয়না। এবং বৈদ্য হিসেবে আমরা চিকিত্সা সমস্যা হোলিস্টিক ভাবে দেখি যাতে  রোগের নিদান যাও হোক, আমাদের আয়ুর্বেদিক ড্রপ কাজ এবং সাহায্য করুক।
 
সমস্ত কানের পর্দা ফতার সমস্যা একরকম ই হয়। 
 
এটা রসায়ন ভিত্তিক আধুনিক ওষুধ বা অ্যালোপ্যাথির মত না, যেখানে সমস্যার একটা চত ভাগেরি চিকিত্সা করা হয় এবং বাকিটা কে সাইড ইফেক্টের সাথে ছেড়ে দেওয়া হয়। 
 
 
5।) কেন কানের পর্দা মেরামত শল্য ক্রিয়া আজকাল বিফল হয় এবং কেন ইয়ার টিউব বা গ্রমেট কানের মাঝের সংক্রমনের ক্ষেত্রে ঝুঁকিপূর্ণ হয়ে দাড়িয়েছে। 
 
এগুলো আজকাল বিফল কেন হয়?
 
আমেরিকা তে প্রতি বছর 2 মিলিয়ন রিভেটের মত কানের টিউব বা গ্রমেট সুস্ত কানের ড্রামে লাগানো হয়, যার জন্যে কানের পর্দায় একটা সুক্ষ ছিদ্র করা হয়। সাধারনত এই শল্য ক্রিয়া বাচ্চাদের উপরে করা হয়।
 
কানের এই টিউব নিজেই এক বা দুই বছরে পড়ে যায় এবং এটা মানা হয় যে এই সুক্ষ কানের ছিদ্র নিজেই বন্দ হয়ে যায়। 
 
এই গ্রমেট গুলোকে একটা ছোট ছিদ্রে সুরঙ্গ বানানোর জন্য ঢোকানো হয়, যাতে কানের পর্দার পেছনের পূঁয বেরিয়ে যাক এবং কানের পেছনে না জমে থাকুক – কেননা যদি এরকম হয় – to এতে কানের পর্দায় চাপ পড়ে এবং এটা ফেটে যেতে পারে। 
এই পূঁয কানের মাঝের গম্ভীর সংক্রমণের জন্যে হয় যেটা আজকাল ওরাল এন্টিবাযোটিক্সে ব্যর্থ হয়না বা মরেনা। 
 
কানের মাঝের সংক্রমণ সাধারনত এন্টিবায়োটিক প্রতিরোধী হয়ে গেছে – অতএব একমাত্র বিকল্প কানের পর্দার মাঝে একটা মেকানিকাল সুরঙ্গ বানানো এবং কানের পর্দার ছিদ্র বড় হউয়া থেকে বাচানো। 
এটা আশা করা হয় যে একটা বাচ্চার প্রতিরোধক ক্ষমতা বয়সের সাথে বাড়ে, সংক্রমনের সাথে প্রাকৃতিক ভাবে লড়ে ব্যর্থ করা হয়, এবং যখন কানের টিউব বা গ্রমেট পড়ে যায় অথবা বের করে নেওয়া হয়, এই প্রতিরোধক ক্ষমতা অবশিষ্ট ছিদ্র বন্দ করে দেয়।
 
এটা হলো কানের টিউবের পেছনের সম্পূর্ণ গল্প অথবা যুক্তি। 
 
কিন্তু যদি কানের টিউব পড়ার পর ব্যাকটেরিয়াল সংক্রমনের প্রকোপ হয়, ছিদ্র বন্দ হবেনা কিন্তু ব্যাকটেরিয়াল জনসংখ্যা সময়ের সাথে বাড়ার জন্যে বড়ই হতে থাকবে।
 
 
এরকমই স্থিতি টিমপেনোপ্লাষ্টি বা কানের পর্দার ছিদ্র ঠিক করার শল্য ক্রিয়া - 
শল্য চিকিত্সার আগে চিকিত্সক আপনাকে ভেতরের সংক্রমণ দূর করার জন্য ওরাল এন্টিবাযোটিক্স দেয় যার জন্যে কানের পর্দা নিজের থেকে প্রাকৃতিক ভাবে বন্দ হয়না।
 
যখন ডাক্তার নিজের চোখে কোনো রকম সংক্রমণ দেখতে পায়না তখন ও ভেবে নেই যে সংক্রমণ দূর করে দেওয়া হয়েছে। 
ও সম্পূর্ণ সংক্রমণের যাওয়ার পরীক্ষণ করার জন্য কোনো রকম মাইক্রোবায়োলজিক্যাল পরীক্ষণ করেনা। 
এরকম করা অনেক বার অকার্যকর সিদ্ধ হয়। 
কিন্তু সংক্রমণ খুব সুক্ষ ব্যাকটেরিয়া ও ফাঙ্গি এবং এটার ছোট ভাগ অনেক সময় ধরে এন্টিবাযোটিক্স নেওয়ার ফলে বেচে থাকে, বা এগুলো এন্টিবায়োটিক প্রতিরোধী সুপারবাগ বা শক্ত ব্যাকটেরিয়া এবং ডাক্তার কানের পর্দা ঠিক করে দেয়। এটা একটা কমজোর  ভিত্তির উপরে বাড়ি বানানোর মতন …।
 
এই বাড়ি এক না এক দিন মাটিতে নিশ্চই পড়ে যাবে। 
 
এইজন্যে এই শক্ত জীবানু বাড়তে থাকে এবংদুই বছরে বা তার ও কম সময়ের মধ্যে  সুস্ত হউয়া কানের পর্দা কে আবার খারাপ করে দেয়। 
 
এটা আজকের দিনকালে খুব সামান্য এবং নিয়মিত হতে যাচ্ছে।
 
আমরা শক্ত জীবানুর যুগে বাস করছি – এরকম শল্য চিকিত্সা অতদিন অব্দি বিফল হবে যতদিন এরকম কোনো এন্টিবায়োটিক না থাকে যেটা এই এন্টিবায়োটিক প্রতিরোধী জীবানুদের কে মারতে পারে। 
 
5।)আমরা কি কানের পর্দার মেরামত করার শল্য ক্রিয়ার পর/আগে এই কানের ড্রপ ব্যবহার করতে পারি ?
 
শল্য ক্রিয়ার মাধ্যমে আপনি যদি কানের পর্দা ঠিক করে থাকেন তবে আপনি এক মাসের জন্য অপেক্ষা করুন এবং তারপর সেই কানে আমাদের ডিল্যুটেড ইয়ারড্রপের 4 টি ড্রপ এক বছরের জন্য সপ্তাহে এক বার দুই মিনিটের জন্যে ঢালুন এবং নিশ্চিত করুন যে ঠিক হউয়া কানের পর্দা ওই জীবানুদের জন্য আবার খারাপ না হয় যারা এন্টিবাযোটিক্সে মরেনি যেটা আপনি শল্য ক্রিয়ার আগে বা পরে নিয়েছিলেন। 
 
এই ভাবে আপনি এই জীবানুদের সংখ্যা বাড়ার এবং ঠিক হউয়া কানের পর্দায় আঘাত দেওয়ার ঝুঁকি দূর করতে পারেন।
 
6।) যদি আপনার কানের দুটো পর্দাতেই ছিদ্র থাকে, তাহলে কোনো একটা কানে আমাদের ড্রপ ব্যবহার করে দেখুন, আর যখন আপনার বিশ্বাস বাড়বে তখন অন্য কানে এটা ব্যবহার করুন।
 
 
7।) কখনও কখনও ছিদ্রের ক্ষেত্রে সংক্রমণ তীব্র হয় এবং এর মধ্যেই পরিস্থিতি এমন হয় যে, যখন আপনি প্রথমবারের মতো ডিল্যুটেড ড্রপ মেশান তখন অনেক ব্যথা হয় এবং এটি দীর্ঘ সময়ের জন্য, ধরুন অর্ধেক দিন বা তারও বেশি সময়, ভারী বোঝা দিয়ে থাকে। 
এরকম ক্ষেত্রে আপনি ডিল্যুটেড ড্রপ আরও পাতলা করার জন্য এই বোতল থেকে 50 শতাংশ নিয়ে এতে পরিষ্কার জল মেশাতে পারেন। নাকের ড্রপ নিতে থাকুন কিন্তু ব্যথা ও ভারী ভাব ঠিক হউয়ার পর ই নতুন অতিরিক্ত ডিল্যুটেড ড্রপ নিন। 
পাঠানো ডিল্যুটেড ড্রপে শুদ্ধ এক্সট্র্যাক্টের 25 ড্রপ এবং বাকি 10 এমএল পরিষ্কার জল থাকে। আপনি একটা নতুন খালি 10 এমএল ড্রপর  বোতল এনে নতুন করে ডিল্যুটেড ড্রপ বানাতে পারেন।
 
8।) ওরাল রাসায়নিক এন্টিবাযোটিক্স কেবল মাত্র সংক্রমণ শুকিয়ে যায় – কেউ জানেনা যে এই সংক্রমণ সম্পূর্ন রূপে ব্যর্থ হয় কি না। এটা ছাড়া যদি ব্যথা বা জালা থাকে তো এরা আর কিছু না করে কানের ভেতরের ভাগ পরিষ্কার করে।  সমস্যা এই যে ওরারের মতন কোনো একটা জিনিস কান পরিষ্কার করার জন্য ব্যবহার করে। যদি ভ্যাকুউম চাপ বাড়ে তাহলে নিজেকে পরিষ্কার করতে যেয়ে এতে কানের পর্দা ফেটে যায়  । এরকম অনেক ঘটনা আমরা দেখেছি। 
অতএব নিজের বন্ধু এবং পরিবার জনদের কে নিজের কানের ভেতরের বা বাইরের ভাগ পরিষ্কার করাতে, বিশেষ রূপে কোনো ভ্যাকুউম টুল ব্যবহার করতে, বারণ করুন
। 
শুধু আমাদের ডিল্যুটেড ড্রপেই কানের ময়লা ধীরে ধীরে এবং প্রাকৃতিক রূপে পরিষ্কার হয়ে যায়। এটাতে এরকম একটা বাহ্য পরিবেশ তৈরী করা হয় যেটাতে পরে জেয়ে কান নিজের থেকে পরিষ্কার হয়ে যায় যেরকম এটা হউয়া উচিত। কান পরিষ্কার করার জন্য ইয়র বড ব্যবহার করবেননা। 
 
9।) কখনও কখনও ডিল্যুটেড ড্রপের সাথে কানে ব্যথা অনেক বেশি হয় এবং অনেকক্ষণ চলে – কিন্তু এটা কখনও কখনই হয়। 
 
এরকম স্থিতি তে ডিল্যুটেড ড্রপ প্রত্যেক দিন ছেড়ে ছেড়ে বা তার পড়ে ব্যবহার করা উচিত যতদিনে না কি ব্যথা পুরোপুরি ঠিক না হয়ে যায়।
 
এরকম ব্যাপার খুব জটিল এবং এতে গম্ভীর সংক্রমণ সমস্যা হতে পারে। আমাদের কে এটা নিয়ে খুব ধৈর্য ধরে থাকতে হবে এবং কোনো জিনিস ই জলদি করার চেষ্টা করলে আবগে যেয়ে মুশকিল হয়ে যেতে পারে। 
 
একটা গম্ভীর সংক্রমণ এবং কানের পর্দার ছিদ্র ভরার জন্য আপনাকে ধৈর্য, সমন্বয় এবং সংযম ব্যবহার করতে হবে।
 
এটা ছাড়া আপনাকে আপনার চার পাশে কি হচ্ছে এটা বোঝার জন্যে বুঝদার এবং স্ব-অন্তর্মুখী হতে হবে, এবং আমাদের ড্রপের এবং এখানে দেওয়া সমস্ত জ্ঞানের  মাধ্যমে আপনাকে নিজের চিকিত্সা পদ্দতি নিজেকেই আবিষ্কার করতে হবে।


काही जणांना एका अथवा दोनही कानांमध्ये छिद्र असू शकते. छिद्र जन्मजात असू शकते.  परंतु काही हरकत नाही.
 
जर पस बाहेर येत नसेल आणि नीट ऐकू येत असेल, तर त्यासाठी काहीही करायचा प्रयत्न करू नका. छिद्रित कर्णपटले असूनही लोक सामान्य आयुष्य जगू शकतात. 
फक्त कोणत्याही कानामध्ये बाहेरील पाणी जाणार नाही याची काळजी घ्या. अंघोळ करताना तसेच इतर वेळेस त्यांचे बाहेरील पाण्यापासून संरक्षण करा.
 
ह्या संसर्गामुळे ऐकू येणे खूप कमी झाले असेल अथवा पस बाहेर येत असेल तर तातडीने इलाज करायला हवेत 
 
जर तुमच्या दोनही कानांमध्ये छिद्र असतील तर, आणि दुसरा कानही वाहायला सुरुवात झाली नसेल तर तुम्ही लहान छिद्र असलेल्या कानापासून सुरुवात करा 
 
दोनही कान वहात असतील तर एकाच वेळेला दोनही कानांमध्ये वापरा. 
 
कान वाहणे याचा अर्थ संसर्ग सक्रिय आहे असा होतो. 
 
माझे सर्व व्हिडिओज, निबंध आणि वेबसाईट काळजीपूर्वक पहा आणि दिलेला सल्ला आणि सूचना अमलात आणा. 
 
तुमच्या प्रश्नांपैकी जवळ जवळ 100 टक्के प्रश्नांची उत्तरे तिथे दिली आहेत. 
 
ड्रॉप्स कसे मागवायचे हे सुद्धा तेथे सांगितले आहे. 
 
आधी वाचून आणि समजावून घेण्याऐवजी लोकं खात्री पटविण्यासाठी त्वरित माझ्याशी संपर्क साधतात. अशा प्रकारे त्याचा उपयोग होणार नाही. 
 
यश प्राप्त करण्यासाठी तुम्ही तुम्हाला होणाऱ्या त्रासाबद्दल तसेच आमचा मार्ग सुयोग्य पद्धतीने वापरण्याविषयी साक्षर असणे आवश्यक आहे. 
 
फक्त खात्री देण्यामुळे यश प्राप्त होणार नाहीये, परंतु सूचनांचे योग्य पालन केल्यास तसे होण्याची मोठी संधी आहे
 
आम्ही हे निक्षून सांगू इच्छितो की  संपूर्ण जगात आमचे वनस्पतीच्या अर्कापासून बनविलेले कानात घालायचे ड्रॉप्स हेच कानातील छिद्रे नैसर्गिकरित्या बुजविण्यासाठीचा एकमेव इलाज आहे 
 
आमच्या उपचारपद्धतीची संकल्पना आणि तर्कशास्त्र, आमच्या जागतिक दर्जाच्या वनस्पती अर्काच्या विशेषतेसहित सूक्ष्म जैविक प्रमाणपत्रांसहित खाली स्पष्ट करण्यात आलेली आहे.
 
----------------------
 
फक्त कानातील छिद्रे संपूर्ण बरे होण्याचा आणि बंद होण्यात मिळणाऱ्या यशाचे प्रमाण 60 ते 70 टक्के आहे.
 
कानाचे पडदे सुरक्षित राखून कानाच्या पडद्याचा मध्यभागी झालेला द्राव, पू व पाणी येत असलेला, तीव्र आणि जुनाट संसर्ग बरा करण्यात येणाऱ्या आमच्या  यशाचे प्रमाण 100% आहे.
 
आमचे ज्ञान आणि आमच्या संशोधनानुसार आम्ही अत्यंत विनयाने हे नमूद करू इच्छितो की आमचे वनस्पतीच्या अर्कापासून बनविलेले ड्रॉप्स यापेक्षा चांगल्या पद्धतीने बनविता येणार नाहीत 
 
कानाची छिद्रे बुजविण्यात येणाऱ्या 100% पेक्षा कमी यशासाठी कोणतीही करणे न देता आम्ही असे नमूद करू इच्छितो की तसे होण्यासाठी अनेक कारणे असू शकतात जी आमच्या नियंत्रणाबाहेर आहेत. 
 
वैद्यराज अनिल डोग्रा 
+91 9810260704
 
 
जगभरातील कान नाक घसा तज्ज्ञ आणि दवाखाने हे क्रोनिक ओटीस मीडिया विथ इफ्युजन (ओएमई) बाबत हतबल ठरले आहेत. 
ओएमईला कानाच्या मधल्या भागाला पुन्हा पुन्हा होणारा पू,/द्राव आणि  कर्णदाहासहित झालेला जुनाट संसर्ग असे सुद्धा म्हंटले जाते. याला सामान्य शब्दात “चिकट कान” असे म्हणतात.
 
सोप्या शब्दात सांगायचे झाले तर, जेंव्हा तुम्हाला वेदनांसकट अथवा वेदनांशिवाय, तुमचा कान बंद झाला आहे असे वाटणे अथवा त्यातून चिकट द्राव पाझरतो आहे असे लक्षात येणे, आणि अशी अवस्था प्रतिजैविक औषधांचा दोन ते तीन वेळा वापर करूनही पुन्हा होणे म्हणजे ओएमई होय
 
तीव्र ओएमई झाले असल्यास द्रवाचा दाब कर्णपटलाच्या अगदी मागे कानाच्या मध्यभागावर पडतो  - आणि कालांतराने त्याच्या दाबामुळे कर्णपटल फाटते
 
संपूर्ण जगामध्ये प्रतिजैविक औषधांची ओएमई संसर्गाविरुद्ध असलेली अपरिणामकारकता हे कर्णपटल छिद्रांचे महत्वाचे कारण आहे
 
स्यूडोनोमस आईरूगिनोसा, एमएसआरए, आणि इ कोलाय यासारखे कठीणात कठीण जिवाणू मारण्यासाठी वैद्य अनिल डोग्रा यांनी बनविलेला हा  वनस्पती अर्क  प्रतिष्ठित अशा "श्रीराम औद्योगिक संशोधन संस्था", नवी दिल्ली, भारत यांनी प्रमाणित केला आहे. 
हा शोध 1930 साली अलेक्झांडर फ्लेमिंगने लावलेल्या पेनिसिलीनच्या शोधासमान आहे. 
पेनिसिलिनच्या शोधाबरोबर प्रतिजैविक औषधांचे युग सुरु झाले आणि ते आता प्रतिजैविक प्रतिरोधी जिवाणूंच्या आगमन आणि प्रसारासोबतच संपुष्टात आलेले आहे.
 
प्रत्येक वर्षी ओएमई ने पीडित २० लाख अमेरिकन बालकांच्या कानामध्ये जाणीवपूर्वक शल्यक्रिया करून बोगद्यासारखी नळी  कानाच्या पडद्यात घालून कानाच्या मध्यभागी असलेला द्राव कर्णपटल फुटण्यापासून वाचविण्यासाठी बाहेर ओढून काढण्यासाठी छिद्र पाडले जाते.
 
कानातील नळी साधारणतः एक वर्ष आतमध्ये राहते. त्यानंतर ती एक तर गळून पडते किंवा शल्यक्रिया करून बाहेर काढली जाते, व सूक्ष्म छिद्र नैसर्गिकरित्या बुझून जाईल अशी आशा बाळगली जाते.
 
परंतु 10 ते 20 % घटनांमध्ये तसे होत नाही. 
 
जगातील सर्वात मोठ्या देशात आणि अर्थव्यवस्थेत जर ही परिस्थिती असेल तर उर्वरित जगात काय घडत असेल याची कल्पनाच केलेली बरी.
 
कानातील नळी हा वैद्यकीय समस्येवरील यांत्रिक तोडगा असून त्याचा उपयोग अस्तित्वात असलेल्या संसर्गासाठी काहीही नाही.
संसर्ग जी सर्वात महत्वाची बाब आहे, ती तशीच रहाते.
 
कानात घातलेल्या नळीद्वारे कर्णपटलावरील दाब कमी करण्यासाठी कर्णपटलावर आधीच सूक्ष्म छिद्र पाडून मोठे छिद्र पडण्याची शक्यता दूर केली जाते.
 
कर्णपटलावरील छिद्राची माहिती करून घेणे:
 
कर्णपटलावरील छिद्र हे तुमच्या कातडीवरील जखमेसारखे असते. 
जर शरीरातील प्रतिकारशक्ती व्यवस्थित असेल आणि संसर्ग सर्वसाधारण असेल तर जखम नैसर्गिकरित्या भरून येते.
जसे तुमचे केस परत हळुवारपणे वाढतात, जखम त्याहीपेक्षा हळू भरून येते, पण ती भरून येते हे नक्की. तुम्ही तोपर्यंत धीर धरायला हवा.
 
पण जर शरीराची प्रतिकारशक्ती कमजोर असेल, जशी ती लहान मुलांमध्ये असते, आणि/अथवा जिवाणू संसर्ग तीव्र स्वरूपाचा असेल - असा संसर्ग जो प्रतिजैविकांनी दूर होत नाही - प्रतिजैविकांना विरोध करणारे संसर्ग - अशा वेळेस जखम अथवा कानाच्या पडद्याचे छिद्र भरून येण्याची नैसर्गिक क्रियेमध्ये अडथळे निर्माण होतात आणि ती क्रिया थांबते. 
 
अतितीव्र जीवाणूंचा संसर्ग जखम अथवा छिद्र भरून काढण्याची नैसर्गिक प्रक्रिया थांबवतो.
 
अशा घटनांमध्ये - 
 
तुम्ही प्रतिजैविके घेण्याचे थांबवून आणि योग्य आहार घेऊन तुमची प्रतिकारशक्ती वाढविता. 
 
आमच्या वनस्पती अर्काच्या मदतीने  तुम्ही सावकाशपणे पण खात्रीशीररित्या सतत संसर्ग कमी करत रहाता.... आणि जखम/छिद्र भरून निघण्याची नैसर्गिक प्रक्रिया पुन्हा सुरु होते!
 
आम्ही या तर्काच्या आधारावर काम करतो, आणि केवळ ही एकच गोष्ट छिद्र बंद करायची नैसर्गिक प्रक्रिया पुन्हा सुरु करते.
 
आमच्या वेबसाईट पेजला भेट देणाऱ्या बहुसंख्य व्यक्तींना कर्णपटलावर छिद्र असते….
 
तुम्ही आमच्याकडे लक्ष द्या.
 
पण तुम्ही इतर व्यक्तींना त्यांच्या कर्णपटलाचे छिद्र वाचविण्यासाठी मदत करू शकता….. 
 
तुम्हाला इथे मिळणारे ज्ञान त्यांच्याकडे नाहीये.
 
तुमच्या कुटुंबात आणि मित्रमंडळींमध्ये अश्या अनेक व्यक्ती असतील, ज्यास्त करून 15 वर्षापर्यंतची मुले, ज्यांना कानदुखीचा, कानाच्या मधल्या भागाला झालेल्या संसर्गाचा आणि ओएमई संसर्गाचा त्रास असेल अथवा होऊ शकतो - त्याची परिणीती अतितीव्र जिवाणू संसर्गात होऊ शकते…
 
आणि त्यामुळे कानाचा पडदा फाटू शकेल.
 
त्यांचे आमच्याकडे लक्ष नाहीये.
 
ही माहिती आजूबाजूला पसरवा आणि -
 
मुलाच्या कर्णपटलाचे रक्षण करा.
 
फक्त आमच्या कानात घालायच्या सौम्य ड्रॉप्समुळे, कानाच्या मध्यभागी द्रावासह  होणाऱ्या तीव्र संसर्गामुळे होणाऱ्या संभाव्य कर्णपटलाच्या छिद्रापासून संरक्षण करणे हे आमच्यासाठी एक अथवा दोन दिवसांचे काम आहे
 
अनिल डोग्रा यांचे, तीव्र मध्यपटल संसर्ग आणि फुटलेल्या / छिद्र पडलेल्या कर्णपटलाच्या दुरुस्तीसाठी कानाचे ड्रॉप्स. अत्यंत नैसर्गिक. नैसर्गिक औषधींपासून बनविलेले. सर्व वयाच्या व्यक्तींसाठी सुरक्षित.
 
सर्व सामान्य सूचना -
---------------------------------
 
तोंडावाटे घेत असलेल्या प्रतिजैविक औषधांचा वापर त्वरित थांबवा. त्या ऐवजी आठवड्यातून दोन वेळेस हिरव्या भाज्यांचे गरम सूप अथवा ताज्या रसाचे सेवन करा.
 
अंघोळ करत असताना संबंधित कानामध्ये विशेषतः त्यामध्ये छिद्र पडले असेल तर त्यामध्ये पाणी जाऊ देऊ नका. अंघोळ करताना कानामध्ये कापसाचा बोळा घालून ठेवा. तुम्ही कापसाच्या बोळ्याला थोडेसे व्हॅसलिन फासू शकता. त्यामुळे मागे लोटले जाईल. 
 
छिद्र बुजल्यावरसुद्धा किमान एक वर्ष पोहणे अथवा नदीत स्नान करणे टाळा.
 
कानामध्ये कोणतेही रासायनिक अथवा होमिओपॅथिक अथवा घरगुती औषध घालू नका.
 
आमच्या हर्बल ड्रॉप्स पॅकेजमध्ये काय समाविष्ट आहे ----------------------------------
 
आमचे वनस्पतीच्या शुद्ध अर्कापासून काढलेले ड्रॉप्स हे प्रमुख (मास्टर) ड्रॉप्स आहेत.
 
या शुद्ध ड्रॉप्सच्या साहाय्याने इतर कोणतेही ड्रॉप्स कधीही बनविता येतात.
 
काळानुसार ह्या ड्रॉप्सचा रंग गडद होऊ शकतो अथवा वनस्पतीचे गोठलेले अवशेष दिसू शकतात. ते अतीशय सामान्य आहे.  त्याही परिणामकारकता आणि महत्व सतत कायम राहते. आमचे ड्रॉप्स कालबाह्य होत नाहीत. ते साधारण तापमानामध्ये, थेट प्रकाशापासून शक्य तितके दूर, स्वच्छ ठिकाणी ठेवावेत. 
 
पर्यावरणातील कोणताही सूक्ष्म जिवाणूमध्ये हे ड्रॉप्स नष्ट करायची क्षमता नाही. त्यामुळेच ते कायमस्वरूपी चांगले राहू शकतात.
 
आम्ही चार 10 मिलीच्या / 300 ड्रॉप्सच्या ड्रॉपर बाटल्या पाठवतो -
 
दोन बाटल्यांमध्ये आमचा शुद्ध वनस्पती अर्क आहे, ज्याचे साधारण शुद्ध वनस्पती अर्काचे 600 ड्रॉप्स होतात. 
 
तुमच्या छिद्रांच्या उपचारासाठी तुम्हाला अजून शुद्ध ड्रॉप्सची आवश्यकता भासणार नाही.
 
फक्त एवढ्या ड्रॉप्समध्येच आमचे उपचार यशस्वी अथवा अयशस्वी होऊ होतील आणि अजून काही उरतील. ते कधीची खराब होणार नाहीत. कधीही नाही.
 
एका बाटलीमध्ये 25 शुद्ध ड्रॉप्स 10 मिली शुद्ध पाण्यामध्ये मिसळून केलेले सौम्य ड्रॉप्स आहेत.
तुम्ही त्याची तीव्रता अजून शुद्ध ड्रॉप्स त्यामध्ये मिसळून केंव्हाही वाढवू शकता. 
 
चौथ्या बाटलीमध्ये १० मिली नाकात घालायचे ड्रॉप्स आहेत, जे केंव्हाही 4 शुद्ध अर्क 10 मिली स्वच्छ पाण्यामध्ये मिसळून पुन्हा तयार करता येतात.
 
म्हणजेच, शुद्ध अर्काच्या साहाय्याने नाकात घालायचे ड्रॉप्स आणि कानात घालायचे सौम्य ड्रॉप्स कोणालाही कधीही बनविता येतात.
 
नाकात घालण्याचे ड्रॉप्स -
-----------------------
 
नाकात घालायच्या ड्रॉप्सचे 2 थेंब प्रत्येक नाकपुडीत दिवसातून एकदा, अथवा सर्दी किंवा नाक चोंदले असले तर आवश्यकतेनुसार घाला. 
सायनसायटिससाठी फक्त हाच खरा उपाय आहे.
हे सर्व आतून जोडले गेले असल्यामुळे मध्य कर्णपटलाच्या संसर्गासाठी उपयोगी होते.
 
कानाच्या ड्रॉप्सचा वापर - 
-------------------------------
कानातील वेदनांसाठी / तीव्र मध्य पटल संसर्गासाठी, परंतु अजून छिद्र पडले नसेल तर:
 
फक्त आमच्या सौम्य ड्रॉप्सनेच तुमचा कानाचा पडदा छिद्र पडण्यापासून वाचवा.
 
संबंधित कानात सौम्य ड्रॉप्सचे 4 थेंब टाका आणि ते 2 मिनिटे तसेच ठेवा.
यानंतर तुम्ही सरळ उभे राहून कानांमधून येणारा कोणताही द्राव कापडाच्या साहाय्याने पुसून टाका. 
तुमच्या वेदना आणि/अथवा जडपणा संपूर्णपणे जाईपर्यंत आणि तुम्हाला नेहेमीसारखे वाटेपर्यंत तुम्ही हे दिवसातून एक ते तीन वेळा करू शकता. 
 
आमचे ड्रॉप्स कानातील गुणगुणीच्या (टीनिटस) तक्रारींकरिता नाहीत, परंतु त्यासाठी त्याचा उपयोग संसर्ग दूर झाल्यावर होऊ शकतो. 
टीनिटस हा विकार मेंदूला भिडलेल्या कानाच्या अंतर्भागातील आहे, आणि ड्रॉप्स कानाच्या आतील भागापर्यंत पोहोचत नाहीत.
कालांतराने ऐकण्याच्या क्षमतेत किती सुधारणा होईल याचा अंदाज कोणीही करू शकेल. येणार काळच ते सांगू शकेल.
जलतरणपटूंसाठी - संसर्गापासून बचाव होण्याकरिता पोहणे, डायविंग, सर्फ बोर्डिंग अथवा स्कुबा डायविंगनंतर प्रत्येक वेळी कानात सौम्य ड्रॉप्स 4 थेंब दोन मिनिटांकरिता घाला. 
नाकात घालायचे ड्रॉप्ससुद्धा वर सांगितल्याप्रमाणे घाला.
 
कानाच्या पडद्याला छिद्र असेल तर -
प्रथम सौम्य ड्रॉप्सने सुरुवात करा. दिवसातून एकदा वनस्पतीच्या सौम्य अर्काचे 2 ते 4 थेंब दोन मिनिटांसाठी कानात घाला. 
 
जर दुखणे सहन होत असेल तर अथवा कालांतराने सहन व्हायला लागल्यानंतर एका दिवसाआड शुद्ध अर्काचे थेंब वाढवायला सुरुवात करा.
 
जर वेदना सहन होत राहिल्या तर शुद्ध ड्रॉप्सचा वापर सुरु ठेवा,अन्यथा पुन्हा सौम्य ड्रॉप्सचा वापर सुरु करा. 
 
शेवटी वेदना कमी होतील आणि तुम्ही पुन्हा शुद्ध ड्रॉप्स वाढविणे सुरु करू शकाल.
 
वरील प्रक्रियासाठी खूप जणांना बराच वेळ लागू शकेल. परंतु त्या बाबतीत संयम राखण्याशिवाय कोणी काहीही करू शकत नाही.
 
एक दिवसाआड एकदा शुद्ध अर्काचे ड्रॉप्स वाढविले पाहिजेत. 
 
दोन मिनिटांसाठी 2 ते 3 शुद्ध ड्रॉप्स पुरेसे आहेत. 
 
जखमी कान संपूर्णतः बरा होईपर्यंत आणि त्यानंतरही किमान एक वर्ष कानामध्ये बाहेरील कोणतेही पाणी जाऊ देता कामा नये.
 
पस यायचे थांबणे आणि वेदना पूर्णपणे नाहीशा होणे हे संसर्ग पूर्णपणे नाहीसा झाल्याचे लक्षण आहे. 
 
आता या वेळेपर्यंत तुम्ही शुद्ध ड्रॉप्स वाढवत आहात आणि प्रत्येक एक दिवसाआड शुद्ध ड्रॉप्स वाढविणे चालू ठेवा.
 
प्रतिजैविक प्रतिकार आणि स्यूडोनोमस आईरूगिनोसा, एमएसआरए, आणि इ कोलाय सारख्या अतितीव्र जिवाणूंच्या युगात संसर्ग थांबवणे हे या वेळेपर्यंत अजिबात कमी यश नाहीये.
 
हे अतितीव्र जिवाणू जगात खळबळ माजवीत आहेत. त्यांना फक्त आमच्या वनस्पती अर्काद्वारेच रोखू शकता येते.
 
हे दर्शविणाऱ्या, प्रतिष्ठित अशा "श्रीराम संशोधन केंद्र" नवी दिल्ली, भारत यांनी दिलेली प्रमाणपत्राच्या प्रती या साईटवर उपलब्ध करून दिल्या आहेत.
 
संसर्ग थांबल्यानंतर ईएनटी तज्ज्ञ डॉक्टरांकडून छिद्राचा आकार तपासून घ्या.
 
दर एक दिवसाआड शुद्ध ड्रॉप्स वाढविणे सुरु ठेवा आणि शक्य झाल्यास ४० दिवसांनंतर पुन्हा त्याच ईएनटी डॉक्टरांकडून छिद्राचा आकार पुन्हा एकदा, आणि ८० दिवसांनंतर अजून एकदा तपासून घ्या. 
 
जर दुसऱ्या आणि तिसऱ्या तपासणीदरम्यान जखमेत सुधारणा आढळून येत असेल आणि छिद्राचा आकार कमी झालेला असेल तर आपले शुद्ध ड्रॉप्स वापरून ते छिद्र दोन महिन्यांमध्ये संपूर्णतः भरून येईल, अन्यथा तुम्हाला त्यासाठी शल्यक्रिया करावी लागेल. 
 
अतिरिक्त मुद्दे -
 
कालांतराने अर्क बाटलीच्या कडेने गडद/ काळा होऊ शकतो आणि आतमध्ये वनस्पतीचे गोठलेले अवशेष दिसू शकतात, परंतु तो कायमस्वरूपी परिणामकारक आणि उपयुक्त राहतो.
 
हा अर्क वैद्यराज अनिल डोग्रा आणि त्यांचे कुटुंबीय यांनी हाताने बनविलेला आहे.
 
वैद्यराज अनिल डोग्रा
 
+91 9810260704
 
 
भारतातील ऑर्डर्ससाठी वरील संचाची किंमत, पाठवणीच्या खर्चासकट रु. ३७००/- आहे. या किमती कधीही बदलू शकतात. 
 
सहसा, जखम पूर्णपणे भरून येण्यासाठी अतिरिक्त शुद्ध अर्काची गरज भासत नाही, परंतु तशी गरज भासल्यास वर दर्शविलेले संपूर्ण संच विकत घ्यावा लागेल. 
 
वरील संचाची भारताबाहेर पाठविण्याच्या खर्चासकटची  किंमत 145 यू.एस. डॉलर आहे. 
 
आम्ही हे यूएई, सौदी आणि इतर काही इस्लामिक देशांमध्ये त्यांच्या वनौषधी आयात निर्बंधांमुळे पाठवू शकत नाहीत.
 
हे पाकिस्तानला पाठविले जाऊ शकते 
 
तुम्ही याचे पैसे आमचा ई-मेल ऍड्रेस [email protected] वापरून, अथवा www.Paypal.com वापरून अथवा खालील तपशील वापरून मनीग्राम अथवा वेस्टर्न यूनियनद्वारे देऊ शकता:
अनिलकुमार डोग्रा, आयए / 20ए, फेज वन, अशोक विहार, दिल्ली, भारत - 110052. फोन +91 9810260704. 
त्यानंतर तुम्ही त्याचा तपशील आमच्या पुढील ई-मेल ऍड्रेसवर पाठवू शकता [email protected]
 
भारतातील ऑर्डर्ससाठी - खाली दिलेल्या खात्यामध्ये रक्कम जमा करून तुमचे नाव, पत्ता, पिन कोड आणि दूरध्वनी क्रमांक आम्हाला वरील ई-मेल ऍड्रेसवर, अथवा आमचा दूरध्वनी क्रमांक 9810260704 यावर एसएमएस किंवा व्हाट्सअपच्या माध्यमातून कळवा:
 
श्रीमती मिनू डोग्रा यांच्या बचत खाते क्रमांक 35782552316 एसबीआय बँक, अशोक विहार ब्रँच फेज 1  दिल्ली 110052, भारत  मध्ये रु. 3700/* जमा करा. एनइएफटी आयएफएससी कोड एसबीआयएन0007783 आहे.     
 
 
नेहेमी विचारले जाणारे प्रश्न:
 
1.) जेंव्हा एखाद्या व्यक्तीचा कानाचा पडदा फाटलेला नसतो, पण कानदुखी अथवा कानाला संसर्ग झालेला असतो, अशा वेळेस ईएनटी डॉक्टर्स कानात औषधे घालू नका असे सांगतात, आणि कानाच्या पडद्याला छिद्र असेल तर कोणतेही ड्रॉप्स घालू नका असे बजावून सांगतात. अश्या परिस्थितीत आपले ड्रॉप्स का आणि कसे साहाय्यकारी ठरतील?
 
कानाचा संसर्ग अथवा ओटीस मीडिया बरा करण्यासाठी कानामध्ये कोणतेही ड्रॉप्स घालू नका असे ईएनटी डॉक्टर्स धडधाकट असलेल्या कानाच्या पडद्यामधून कोणतेही औषध अथवा ड्रॉप पार होऊ शकत नाही 
 
स्पष्टपणे सांगायचे झाल्यास आमचा असा दावा आहे की आमच्या औषधांमुळे कोणत्याही वयाच्या व्यक्तीला असलेला ओटीस मीडियाचा जुनाट आणि तीव्र आजार एक दिवस ते एक आठवडा या वेळेत कानाच्या पडद्याला कोणतीही हानी न पोहोचवता बरा होतो. 
 
तोंडावाटे कोणतीही प्रतिजैविक औषधे घेण्याची आवश्यकता नाही. 
 
आधुनिक वैद्यकीय शास्त्र अजूनही प्रगतीपथावरच आहे असे किमान म्हणता येईल.
 
द्रवअभिसरणाच्या प्रक्रियेद्वारे आमचे ड्रॉप्स संसर्ग रोखण्यासाठी कानाच्या पडद्याच्या पलीकडे सूक्ष्म परंतु पुरेश्या मात्रेत पोहोचतात. इतर ड्रॉप्स २ मिनिटांनंतर बाहेर पडतात.
 
कदाचित डॉक्टरांना अशी शंका वाटत असावी की कानाच्या ड्रॉप्सद्वारे घातलेल्या रासायनिक औषधांमुळे कदाचित त्रास अधिकच वाढेल, आणि ते तसे बरोबर असू शकते. 
आणि कदाचित त्या ड्रॉप्समध्येच जिवाणू रोगास कारणीभूत होणाऱ्या पदार्थांचा अंतर्भाव असू शकेल. आणि आम्ही त्यांच्याशी सहमत आहोत 
 
परंतु - आमचे ड्रॉप्स वेगळे आहेत. 
 
आमचे ड्रॉप्स शुद्ध हर्बल असून त्यांनी जिवाणूंपासून होणारा कठीणात कठीण संसर्ग थांबविला आहे. 
 
आमचे ड्रॉप्स वापरल्यामुळे आपण संपूर्णतः सुरक्षित आहात. 
 
आम्ही सुद्धा असे सूचित करतो की आमचे ड्रॉप्स वापरत असताना त्यासोबत इतर कोणतेही ड्रॉप्स कानात टाकू नका आणि पोहोणे टाळा. कानाचा पडदा पूर्ण बंद होईपर्यंत अंघोळ करत असताना पाणी कानात जाणार नाही याची दक्षता घ्या. स्थानिक पाणी पुरवठा केंद्रातून येणाऱ्या पाण्यामध्ये मोठ्या प्रमाणावर रोग प्रसारक जिवाणू असल्यामुळे हे आवश्यक आहे. 
 
2.) आपण कानाचा पडदा १००% बंद होण्याची खात्री देऊ शकता का?
 
आम्ही संसर्ग १०० टक्के थांबण्याची खात्री देतो, तर कानाचा पडदा संपूर्णतः बरा होण्याची ६० ते ७० टक्के खात्री आहे.
 
ही एक टप्प्याटप्प्याने होणारी प्रक्रिया आहे आणि ती वर स्पष्टपणे नमूद केलेली आहे. आम्ही कानाचे फाटलेले कित्येक पडदे संपूर्णतः आणि कायमस्वरूपी बंद केलेले आहेत.
अभिप्रायाच्या सदरात आमच्या ग्राहकांची यादी, इलाजाचा निकाल काहीही असला तरीही, त्यांच्या दूरध्वनी क्रमांकासहित देण्यात आलेली आहे. काही ग्राहक त्यांची माहिती गोपनीय ठेऊ इच्छित असल्यामुळे ही यादी पूर्ण नाही.
 
3.) माझ्या कानामधून पस बाहेर येत नाही याचा अर्थ असा आहे का की त्यामध्ये संसर्ग झाला नाहीये?
 
शरीरातील रोग प्रतिकार शक्तीच्या अथवा औषधांच्या साहायाने संसर्गाशी सामना करत असताना बाहेर येणाऱ्या मृत पेशींचा समावेश पस मध्ये असतो. 
 
पस जर सारखा बाहेर येत असेल तर संसर्ग अजूनही थांबलेला नाही असे निदर्शित होते. 
काही वेळेस, सुरवातीला पस येत नाही, पण आमचे ड्रॉप्स घातल्यावर तो बाहेर पडायला सुरुवात होते. संसर्ग निद्रिस्त अवस्थेत होता असा याचा अर्थ आहे. तो प्रतिजैविक औषधें अथवा इतर कारणांमुळे सुकून गेला, परंतु थांबला नाही. 
 
आपले ड्रॉप्स अस्तित्वात असलेल्या संसर्गाशी लढा देणे परत चालू करत असल्यामुळे मृत पेशी तयार होऊन त्या पसाच्या स्वरूपात बाहेर वाहून येण्यास सुरुवात होते. 
 
आपण पडदा संपूर्णतः बरा होईपर्यंत सार्वजनिक सेवांद्वारे पुरवले जाणारे पाणी कानात जाऊ देण्याचे टाळले पाहिजे, कारण सार्वजनिक पाणी पुरवठा केंद्रातील पाण्यात असलेल्या जिवाणूंमुळे संसर्ग पुन्हा सुरु होऊ शकतो अथवा वाढू शकतो.. 
 
अंघोळ करताना, पोहोताना अथवा धार्मिक कारणांसाठी नदीमध्ये केलेल्या स्नानाच्या वेळी संसर्ग होण्याचा धोका आहे. 
त्यामुळे काळजी घ्या आणि अंघोळ करताना बचाव करण्यासाठी कानात कापसाचा बोळा वापरा.
 
जेंव्हा आमच्या औषधांमुळे (ड्रॉप्स) पस पूर्णपणे थांबतो, तेंव्हा संसर्ग संपूर्णतः गेला आहे असे आपण म्हणू शकतो. 
 
4.) आम्ही वैद्यराज अनिल यांना प्रत्यक्ष भेटून कानाचे ड्रॉप्स समक्ष भेटीमध्ये घेऊ शकतो का?
 
नाही. आम्ही या ठिकाणी सर्व गोष्टी तपशीलवार स्पष्ट केलेल्या आहेत. अन्यथा आपण दूरध्वनी करू शकता अथवा ई-मेल पाठवू शकता. 
 
आमच्याकडे कानाच्या सर्व प्रकारच्या आजारांसाठी हा सर्वोत्कृष्ट इलाज उपलब्ध असून आम्ही इतर कोणत्याही औषधाची शिफारस करीत नाही. 
 
सहसा जेंव्हा तुम्ही एखाद्या डॉक्टरांची भेट घेता तेंव्हा ते तुम्हाला इथे समजावून सांगितल्याचा १० टक्के गोष्टी सुद्धा सांगत नाहीत. आणि वैद्य म्हणून आम्ही रोगावर समग्र उपचार करतो त्यामुळे निदान काहीही असले तरीही आजार बरा होण्यासाठी आमच्या हर्बल ड्रॉप्सचा उपयोग आणि मदत होते.
सर्व छिद्राच्या समस्या एकसारख्या असतात. 
 
हे रसायनांवर आधारित आधुनिक शास्त्र अथवा ऍलोपॅथीपेक्षा निराळे आहे, ज्यामध्ये फक्त विशिष्ट भाग किंवा त्रासाचा विचार केला जातो आणि इतर त्रास त्यांच्या दुष्परिणामांसकट तसेच राहतात. 
 
 
5.) हल्ली कानाच्या पडद्याची शल्यक्रिया सहसा अयशस्वी का ठरते आणि कानाच्या पडद्याच्या मध्यभागी झालेल्या संसर्गासाठी ट्यूब्स अथवा ग्रोमेटसचा वापर करणे अधिक धोकादायक का झाले आहे. 
 
हल्ली ते अयशस्वी का होते?
 
अमेरिकेत प्रत्येक वर्षी व्यवस्थित असलेल्या कानांमध्ये सूक्ष्म भोक पाडून २० लाखांपेक्षा ज्यास्त टाचणीसारखे इअर ट्यूब्स अथवा ग्रोमेटस घातले जातात. ही शल्यक्रिया सर्वात जास्त लहान मुलांवर केली जाते.
 
ह्या इअर ट्यूब्स एक अथवा दोन वर्षांमध्ये गळून पडणे अपेक्षित असते आणि कानाचे सूक्ष्म भोक लवकरच आपोआप बुझून जाईल असे गृहीत धरले जाते. 
 
कानाच्या पडद्याच्या आतील भागातील पस तिथे साठून न राहता बाहेर वाहून यावा म्हणून शल्यक्रियेद्वारे एक सूक्ष्म भोक पाडून एक बोगदा तयार केला जातो आणि त्यातून ही ग्रोमेटस आत घातली जातात. कारण जर तसे झाले, तर कानाच्या पडद्यावर दाब पडून तो फुटण्याची शक्यता असते.. 
 
कानाच्या पडद्याच्या मध्यभागाला झालेला तीव्र अथवा जुनाट संसर्ग तोंडावाटे घेतलेल्या औषधांनी बरा न झाल्यामुळे पस तयार झालेला असतो. 
 
कानाच्या पडद्याच्या मध्यभागी झालेला संसर्ग सध्या प्रतिजैविकांना दाद देईनासा झाला आहे. त्यामुळे कानाच्या पडद्यामध्ये यांत्रिक बोगदा तयार करून कानाच्या पडद्याचा फुटण्यापासून बचाव करणे हा एकाच पर्याय शिल्लक राहतो. 
बालकांची प्रतिकार क्षमता वयानुसार सुधारून, संसर्गाशी नैसर्गिकरित्या लढा देऊन तो थांबवता येईल, आणि जेंव्हा इअर ट्यूब्स अथवा ग्रोमेट गळून पडते किंवा काढले जाते, नैसर्गिक प्रतिकारशक्तीने ते सूक्ष्म भोक भरून निघण्यास मदत होईल, अशी आशा बाळगली जाते.
हे इअर ट्यूब्सच्या मागचे तर्कशास्त्र संपूर्ण तर्कशास्त्र आहे. 
 
पण जर अतीतीव्र जिवाणूंचा संसर्ग सुरु झाला, तर जिवाणूंचे प्रमाण वाढत जाऊन इअर ट्यूब गळून गेल्यानंतर छिद्र बंद न होता उलट मोठे होईल.
 
टीमपॅनोप्लास्टी अथवा कानाच्या पडद्याच्या छिद्रांच्या शल्यक्रियेच्या बाबतीतही असेच घडते - 
शल्यक्रिया करण्याआधी आत मधील संसर्ग कमी करण्यासाठी शल्यक्रिया तज्ज्ञ तोंडावाटे प्रतिजैविक औषधे देतात, ज्यामुळे कानाचा पडदा नैसर्गिकरित्या आपोआप बंद होत नाही.
 
जेंव्हा डॉक्टर संसर्ग तपासतात तेंव्हा तो डोळ्याला दिसत नसल्याने तो गेलेला आहे असे ते गृहीत धरतात. 
संसर्ग संपूर्णपणे संपलेला आहे अथवा नाही याची तपासणी ते कोणत्याची सूक्ष्मजैवकीय चाचण्यांद्वारे करत नाहीत. 
काही वेळेस तसे करणे अव्यवहार्य असते. 
पण संसर्ग हा अतिशय सूक्ष्म जिवाणू आणि फंगस यांच्यापासून झालेले असते प्रतिजैविक औषधे घेतल्यानंतर काही वेळानंतर त्यांमधले थोडे जरी जिवाणू शिल्लक राहिले असले, अथवा हे जिवाणू प्रतिजैविक औषधांना न जुमानणारे शक्तिशाली जिवाणू असतील, आणि डॉक्टरनी कानाचा पडदा दुरुस्त केला असेल, तर तसे करणे म्हणजे ठिसूळ पायावर इमारत उभी करण्यासारखेच आहे….
 
ती इमारत नक्कीच कोसळून पडणार आहे. 
 
त्यामुळे या शक्तिशाली जिवाणूंची संख्या झपाट्याने वाढत जाऊन दुरुस्त केलेला कानाचा पडदा साधारण दोन वर्षाच्या आत पुन्हा खराब होतो. 
 
सध्या अशा घटना अजूनच अधिक प्रमाणात आणि सामान्य होऊ लागल्या आहेत.
 
आपण शक्तिशाली जिवाणूंच्या युगात रहात आहोत. जोपर्यंत कोणाकडे हे प्रतिजैविक औषधांना प्रतिकार करणारे जिवाणू मारण्याचे प्रतिजैविक औषध उपलब्ध होत नाही, तोपर्यंत अशा शल्यक्रिया अयशस्वीच होत राहतील. 
 
5.) या इअर ड्रॉप्सचा वापर आम्ही कानाच्या पडद्याची शल्यक्रिया झाल्यानंतर आमचे कानाचे पडदे वाचविण्यासाठी करू शकतो का?
 
तुम्ही शल्यक्रियेआधी अथवा नंतर घेतलेल्या प्रतिजैविक औषधांनी मारले न गेलेल्या शक्तिशाली जिवाणूंमुळे दुरुस्त केलेला कानाचा पडदा पुन्हा खराब होऊ नये म्हणून तुम्ही कानाचा पडदा शल्यक्रिया करून दुरुस्त करून घेतल्यानंतर एक महिना थांबा आणि नंतर त्या कानात आमच्या अर्काचे 4 सौम्य थेंब वर्षभर आठवड्यातून एकदा दोन मिनिटे टाका                                                                          
                                                      . 
या मार्गाने तुम्ही ते जिवाणू या काळात परत वाढण्याचा आणि कानाचा पडदा पुन्हा नादुरुस्त होण्याचा धोका संपूर्णतः टाळू शकता.
 
6.) जर तुमच्या दोनही कानांच्या पडद्यांना छिद्रे असतील, तर दोन्ही पैकी एका कानामध्ये या ड्रॉप्सचा प्रयोग करून पहा, आणि तुमचा आत्मविश्वास वाढल्यानंतर दुसऱ्या कानामध्ये त्याचा वापर सुरु करा.
 
 
7.) काही वेळेला छिद्र पडलेल्या ठिकाणचा संसर्ग इतका तीव्र असतो, की पहिल्या वेळेस तुम्ही जरी सौम्य ड्रॉप्स कानात टाकलेत, तरी त्या ठिकाणी अतिशय वेदना होतात आणि त्या ठिकाणी बराच वेळ, म्हणजे साधारण अर्धा दिवस किंवा अधिक इतका वेळ जडत्व येते. 
अशा परिस्थितीत तुम्ही सौम्य ड्रॉप्समधील 50 टक्के ड्रॉप्स बाहेर काढून त्यामध्ये स्वच्छ पाणी घालून ते अधिक सौम्य करू शकता. नाकात घालायचे ड्रॉप्स वापरणे चालूच ठेवा परंतु वेदना आणि जडत्व कमी झाल्यानंतरच हे नवीन अतिरिक्त सौम्य ड्रॉप्स वापराने सुरु करा. 
पाठविलेल्या सौम्य ड्रॉप्समध्ये शुद्ध ड्रॉप्सचे 25 थेंब आहेत आणि उर्वरित १० मिली स्वच्छ पाणी आहे. नाही तर तुम्ही 10 मिली. ची अजून एक नवीन बाटली आणून नवीन अतिरिक्त सौम्य ड्रॉप्स बनवू शकता.
 
8.) तोंडावाटे घेतलेल्या रासायनिक प्रतिजैविक औषधांनी संसर्ग फक्त कोरडा होतो - संसर्ग संपूर्णपणे थांबला आहे किंवा नाही हे कोणालाच माहिती नसते. त्यानंतरही वेदना, सूज किंवा जडत्व कायम राहिले - आणि कानातील बोगदा स्वतःच करणाव्यतिरिक्त काहीही करता येत नाही. ते स्वच्छ करण्यासाठी उपकरण अथवा तंत्रज्ञान म्हणून ते व्हॅक्युम क्लीनरचा वापर करतात. जर हवेचा दाब वाढला, तर स्वच्छ करत असतानाच त्यामुळे कानाचा पडदा फुटतो. आम्हाला अशा खूप घटना माहिती आहेत. 
कृपया आपले मित्र आणि कुटुंबीय यांना कानाचा कोणताही भाग अथवा बोगदा व्हॅक्युम क्लीनरने स्वच्छ करण्यापासून परावृत्त करा. 
फक्त आमचे सौम्य ड्रॉप्स कानातील घाण हळुवारपणे आणि नैसर्गिकरित्या स्वच्छ करतात. ते अशा प्रकारचे बाह्य वातावरण तयार करतात की कालांतराने कान नैसर्गिकरित्याच कानातील मळ बाहेर फेकू शकेल, जसे की त्याने करणे अपेक्षित आहे. कान साफ करण्यासाठी कोणत्याची काडीचा उपयोग करू नका. 
 
9.) काही वेळेस सौम्य ड्रॉप्स घातल्यानंतर कानातील वेदना आणि जडत्व खूप अधिक आणि ज्यास्त वेळ राहू शकते. असे खूप कमी व्यक्तींमध्ये घडते. 
 
अशा घटनांमध्ये जोपर्यंत वेदना आणि जडत्व पूर्णपणे बंद होत नाहीत, तोपर्यंत अतीसौम्य केलेले ड्रॉप्स सुद्धा एक दिवसाआड किंवा त्यानंतर वापरावेत.
 
अशा घटनांमध्ये गुंतागुंतीचा आणि अतितीव्र संसर्ग झालेला असतो. त्याबद्दल अतिशय संयम बाळगला पाहिजे आणि कमी वेळामध्ये निकालाची अपेक्षा ठेवता कामा नये. 
 
म्हणूनच, जुनाट संसर्ग बरा होणे आणि कानाच्या पडद्याच्या छिद्रांची जखम भरून निघणे यासाठी अतिशय संयम, चिकाटी आणि शिस्त आवश्यक आहे.
 
तुम्हीसुद्धा नक्की काय घडत आहे याबद्दल सतर्क राहून, वेळोवेळी त्याचा आढावा घेऊन, आमच्या ड्रॉप्स व इथे दिलेल्या सर्व माहिती आणि ज्ञानाच्या आधारे, स्वतःची उपचार पद्धत बदलायला हवी..


કોઈ વ્યક્તિને એક અથવા બંને કાન માં છિદ્ર હોય શકે છે. આ છિદ્ર જન્મથી હોય શકે છે. પરંતુ કોઈ ચિંતા ની વાત નથી.
જો કાન માંથી કોઈ પરુ બહાર ના આવતું હોય અને બરોબર સંભળાતું હોય તો તેના વિશે કોઈ પણ ચિંતા કરવાની જરૂર નથી અને કશુંજ કરવાની જરૂર નથી. લોકો કાન ના પડદા માં છિદ્ર હોવા છતાં એક સામાન્ય જીવન જીવી લાંબુ આયુષ્ય જીવે છે.
માત્ર એટલી સાવચેતી રાખો કે તમારા બંને કાનમાં બહારનું પાણી પ્રવેશવું જોઈએ નહીં. સ્નાન કરતી વખતે અથવા બીજી કોઈ પણ રીતે તમારા બંને કાન ને બાહ્ય પાણી પ્રવેશવાથી સુરક્ષિત કરવા જોઈએ.
પગલાં લેવા ત્યારેજ જરરી બને છે જ્યારે કાન માંથી પરુ બહાર આવતું હોય અથવા આ ચેપ થી સાંભળવામાં ખુબજ તકલીફ થઈ રહી હોય.
જો તમને બંને કાન માં છિદ્ર હોય તો જ્યાં સુધી બીજા કાન માંથી પરુ આવવાની શરૂઆત ના થાય ત્યાં સુધી તમારે નાના છિદ્ર ધરાવતા કાન થી શરૂઆત કરવી જોઈએ.
જો બંને કાન વહેવા લાગે તો બંને કાનની એક સાથે શરૂઆત કરવી જોઈએ. 
અહિયાં વહેવા નો મતલબ છે સક્રિય ચેપ લાગવો.
મારા બધાજ વિડિયો, નિબંધો અને વેબસાઇટ ને ધ્યાનથી જુઓ અને સલાહ સચનો ને અનુસરો.
તમારા લગભગ 100% પ્રશ્નો ના જવાબો તેમાં આપેલા છે.
અમારા ડ્રોપ્સ ને કેવી રીતે મંગાવવા એ પણ તેમાં લખેલું છે.
વાંચવા અને સમજવાને બદલે લોકો માત્ર ખાતરી કરવા ના ઉદ્દેશ્ય થી મને ફોન કરે છે. પણ આવી રીતે તમારા પ્રશ્નો નું નિરાકરણ નહીં આવે.
તમારે સફળતા મેળવવા માટે તમારા પ્રશ્ન વિશે શિક્ષિત થવું પડશે અને અમારા સાધનો નો સર્વશ્રેષ્ઠ ઉપયોગ કેવીરીતે કરી શકો તે શીખવું પડશે.
અમારા દ્વારા આપવામાં આવતી ખાતરી માત્ર થી તમને સફળતા નહીં મળે, પરંતુ સફળતા ની શક્યતાઓ ત્યારેજ વધશે જ્યારે તમે અમારાં સૂચનો ને અનુસરશો.
અમે વર્ગીકરણ કરીને બતાવીએ છે કે આખા વિશ્વમાં કુદરતી રીતે કાનનાં પડદાનાં છિદ્ર ને પુરવા માટે અમારા વનસ્પતિ અર્ક માંથી બનાવેલા કાનનાં ટીપાં એક માત્ર અને સચોટ નિદાન છે.
અમારા દ્વારા આપવામાં આવતી સારવાર પાછળ નો વિચાર અને તર્ક એકદમ સ્પષ્ટ રીતે અમારાં વનસ્પતિ અર્કો ને પ્રદર્શિત કરતાં માઇક્રોબાયોલોજિકલ પ્રમાણપત્રો સાથે નીચે બતાવેલો અને સમજાવેલો છે.
સંપૂર્ણ રીતે સાજા થવા નો અને કાન નાં પડદાનાં છિદ્ર ને પુરવાનો અમારી સફળતાનો દર જ માત્ર 60-70% છે.
પ્રવાહી/પરુ/રસી સાથે મધ્ય કાન માં તીવ્ર અથવા ગંભીર ચેપ ની બાબતમાં કાન નાં પડદા ને અકબંધ રાખવા માટે અમારી સફળતા નો દર 100% છે.
અમે ખુબજ ઉત્સુક્તાથી જણાવીએ છે કે અમારા વનસ્પતિ અર્ક નિર્મિત કાન નાં ટીપાં અમારા દ્વારા આપણાં માટે આનાથી વિશેષ સારા બનાવી શકાય નહીં. – અમારી શોધ અને જ્ઞાન અનુસાર.
કાનનાં પડદાને સંપૂર્ણ બંધ કરવા માટે 100% થી ઓછી સફળતા નાં દર માટે કોઈ પણ બહાનું નાં આપતા, અમે જણાવીએ છે કે એવા ઘણા બધા પરિબળો ભાગ ભજવી રહ્યા છે અથવા ભાગ ભજવ્યો છે કે જે અમારા નિયંત્રણ બહાર છે. 
 
વૈદ્યરાજ અનિલ ડોગરા
+91 9810260704
 
તીવ્ર ઓટીટીસ મીડિયા વિથ ઇફ્ફ્યુઝન (ઓએમઇ) (કાનના કપડા અને આંતરિક કાન વચ્ચેનાં મુખ્ય પોલાણ માં પ્રવાહી નો વધુ પડતો સ્ત્રાવ) સામે દુનિયાભર નાં ઇએનટી ડોક્ટરો અને હોસ્પિટલો નિષ્ફળ નીવડી છે.
 
ઓએમઇ ને ક્રોનિક સપ્પરેટિવ ઓટિટીસ મીડિયા અથવા પરુ/રસી વહેવા સાથે સતત મિડિલ ઈયર નો ચેપ પણ કહેવાય છે. તેને સામાન્ય રીતે ‘ગ્લૂ ઈયર’ કહેવાય છે.
 
સરળ ભાષામાં કહીયે તો ઓએમઇ એટ્લે જ્યારે જ્યારે 2 થી 3 વાર ક્રમિક એંટીબાયોટીક દવાઓ લેવા છતાં તમે એવું મહેસૂસ કરો કે તમારો કાન બંધ થઈ ગયો છે અથવા દુખાવા સાથે અથવા દુખાવા વિના પ્રવાહી/રસી સાથે ભરાઈ ગયો છે, અને આવી પરિસ્થિતી વારંવાર ઉત્પન્ન થાય છે.
 
તીવ્ર ઓએમઇ પરિસ્થિતિમાં પ્રવાહી નું દબાણ કાન નાં પદડા ની બરોબર પાછળ મધ્ય કાન માં તીવ્ર બની જાય છે અને તેનું દબાણ કાન નાં પડદા ને તીવ્ર વિસ્ફોટ થી તોડી નાખે છે.
 
ઓએમઇ ચેપની વિરુદ્ધ એન્ટીબાયોટિક્સની આ બિનઅસરકારકતા વિશ્વ માં કાન નાં પડદા નાં છિદ્રો માટે નું મુખ્ય કારણ છે.
 
સ્યૂડોમોનાસ એરુગીનોસા, એમઆરએસએ અને ઇ કોલી જેવા ઘાતક સુપર બેક્ટેરિયા નો નાશ કરવા માટે વૈદ્યરાજ અનિલ ડોગરાના વનસ્પતિ અર્ક પ્રતિષ્ઠિત - ધ શ્રીરામ ઇન્સ્ટિટ્યુટ ફોર ઇન્ડસ્ટ્રિયલ રિસર્ચ, નવી દિલ્હી, ભારત ની માઇક્રોબાયોલોજી પ્રયોગશાળાઓ દ્વારા પ્રમાણિત છે.
 
આ શોધ એ 1930 ના દાયકામાં એલેક્ઝાન્ડર ફ્લેમિંગ દ્વારા કરવામાં આવેલ પેનિસિલિનની શોધ જેવી જ છે.
 
પેનિસિલીન ની શોધને કારણે એંટીબાયોટિક યુગ શરૂ થયો અને હવે એંટીબાયોટિક પ્રતિરોધક વીજાણુઓ અથવા સુપરબગ્સ ની શરૂઆત અને ફેલાવા ને કારણે તેનો અંત આવ્યો છે.
 
દર વર્ષે ઓએમઇ થી પીડાતા અમેરિકન બાળકોનાં 2 મિલિયન કાનનાં પડદામાં હેતુપૂર્વક સર્જરી કરીને એક ભૂમાર્ગી રસ્તા જેવી નળી કાનનાં પડદાં સધી જોડવામાં આવે છે જેથી કરી ને મધ્ય કાન માં રહેલું વધુ પડતું પ્રવાહી/રસી સૂકવી શકાય, નહીંતર તે કાન નાં પડદાંને વિસ્ફોટ થી તોડી નાખશે.
 
કાન નાં પડદાં માં મુકાવેલી આવી નળીઓ અંદાજે 2 વર્ષ સુધી ટકી શકે છે અને પછી કાંતો તૂટી જાય છે અથવા એવું માની ને સર્જરી કરી ને દૂર કરવી પડે છે કે નાના છિદ્રો કુદરતી રીતે આપમેળે જ પુરાઈ જાય.
 
પરંતુ, 10 થી 20% કેસો માં આવું થતું નથી.
 
જો દુનિયા નાં સૌથી વિકસિત દેશ અને અર્થતંત્ર માં આવું બને તો કોઈ પણ વ્યતિ ખૂબ સારી રીતે અંદાજ કાઢી શકે કે દુનિયા નાં બીજા દેશો માં શું સ્થિતિ હશે.
 
વૈધકિય બાબત માં કાનમાં મૂકવામાં આવતી આવી નળી માત્ર એક યાંત્રિક ઉપાય છે અને આ નળી પ્રવર્તમાન ચેપ સામે કોઈજ કામ કરતી નથી.
 
ચેપ કે જે મુખ્ય બાબત છે તે તો રહેજ છે.
 
કાનમાં મૂકવામાં આવતી આવી નળી મોટા છિદ્ર ની શક્યતાઓ ને અટકાવે છે કે જે તૈયાર નાનું છિદ્ર પડી ને મૂકવામાં આવે છે જે માત્ર પ્રવાહી/રસી નાં દબાણ ને હળવું કરે છે. 
 
કાનનાં પડદાંનાં છિદ્ર ને સમજો:
 
કાનનાં પડદાંનું છિદ્ર તમારી ચામડી ઉપરનાં જખમ જેવુ છે.
 
જો શરીર ની રોગ પ્રતિકાર શક્તિ અને સામાન્ય ચેપ સાથે બધુ સારું હોય તો આ જખમ કુદરતી રીતેજ પુરાઈ જાય છે.
 
જેમ તમારા વાળ ધીરે ધીરે ફરી ઊગે છે તેના કરતાં પણ વધુ ધીરે ધીરે આ જખમ પુરાઈ જાય છે – પણ તે પુરાઈ જાય છે. તમારે માત્ર તેના વિષે થોડી ધીરજ રાખવાની જરૂર છે.
 
પરંતુ જો તમારી રોગ પ્રતિકારકતા એક બાળક ની જેમ ઓછી હોય અને અથવા સુપર બેક્ટેરિયલ ઇન્ફેકશન (વધુ પડતો ચેપ) હોય તો આવા ચેપને એંટીબાયોટિકની અસ થી નાશ નાં થતો ચેપ – એંટીબાયોટિક પ્રતિરોધક ચેપ ગણાય છે અને તેથી કાનનાં પડદાંનાં આવા જખમ-છિદ્ર કુદરતી રીતે પુરાવાની શક્યતાઓ અવરોધાય છે/ધીમી પડી જાય છે/અટકી જાય છે.
 
સુપર બેક્ટેરિયલ ઇન્ફેકશન (વધુ પડતો ચેપ) જખમ અથવા છિદ્ર પુરાવાની કુદરતી પ્રક્રિયા ને અટકાવી એ છે.
 
આવા કેસો માં, 
 
તમારે એંટીબાયોટિક નો વપરાશ બંધ કરીને અને વધુ સારો ખોરાક લઈ ને તમારી શરીરની રોગ પ્રતિકારક શક્તિને વધારવી પડે છે. 
 
અમારા વનસ્પતિ અર્ક નિર્મિત ડ્રોપ્સ દ્વારા તમે ધીરે ધીરે ને સતત આવા ચેપ ને ઓછો કરો છો........અને તમારા જખમ/છિદ્ર ને પૂરવાની કુદરતી પ્રક્રિયા શરૂ થઈ જાય છે!
 
અમે આવા વિચાર સાચે કામ કરીએ છે. અને આ એક માત્ર ઉપચાર તમારા કાનનાં પડદાંનાં છિદ્ર પુરવામાટે કુદરતી ચમત્કાર સર્જે છે.
 
અમારા પેજની મુલાકાત કરવાવાળા મોટા ભાગના લોગો એવા હોય છે કે જેમને કાનનાં પડદામાં છિદ્ર હોય છે........
 
તમે અમારી પાસે આશા રાખો છો.
 
પણ તમે અન્ય લોકોને તેમના કાનનાં પડદા ને છિદ્ર થી બચાવવા મદદ કરી શકો છો.....
 
તમારી પાસેનાં આવા જ્ઞાનથી એ લોકો અજાણ છે.
 
તમારા પરિવાર અને મિત્રોમાં, ખાસ કરી ને 15 વર્ષ સુધી નાં બાળકો, અને એવા ઘણા બધા લોકો છે કે જે કાનનાં દુખાવાથી, મધ્ય કાનનાં ચેપથી અથવા ઓએમઇ ચેપ થી પીડાય છે અથવા પીડાઈ શકે, અને આવો ચેપ મોટે ભાગે સુપર બેક્ટેરિયલ ઇન્ફેકશન (વધુ પડતો ચેપ) હોય શકે......
 
અને આને કારણે કદાચ તે કાનનાં પડદાંનાં છિદ્ર ની મુશ્કેલી તરફ ધકેલાઇ શકે.
 
તેઓ નું આપણાં તરફ ધ્યાન નથી.
 
ચાલો આપણે આ જ્ઞાનને આપની આજુ બાજુ ફેલાવીએ અને બાળકોનાં કાનનાં પડદાને બચાવીએ.
અમારા અવમિશ્રિત ઈયર ડ્રોપ્સ (કાનનાં ટીપાં) માત્રની મદદથી અમારા માટે રસી/પ્રવાહી ને કારણે પરિણમતા તીવ્ર મધ્ય કાન નાં ચેપ સામે સંભવિત કાનનાં છિદ્ર નું રક્ષણ કરવું માત્ર એક અથવા બે દિવસોનું જ કામ છે.
 
અનિલ ડોગરા નાં ઈયર ડ્રોપ્સ (કાનનાં ટીપાં) તીવ્ર મધ્ય કાન નાં ચેપ અને છિદ્રિત કાન નાં પડદા ને બચાવવા માટે સંપૂર્ણ કુદરતી છે. તે બધીજ ઉંમરની વ્યક્તિઓ માટે સંપૂર્ણ રીતે ઔષધીય અને સુરક્ષિત છે. 
 
જરૂરી સૂચનાઓ - 
 
મહેરબાની કરીને સૌપ્રથમ મુખે થી લેવામાં આવતી તમામ એંટીબાયોટિક્સ નો વપરાશ બંધ કરીદો. આથી વિપરીત, તમે અઠવાડીયામાં લીલા શાકભાજી, ગરમ સૂપ, અથવા તાજા ફાળોનો રસ વિપુલ પ્રમાણમાં લો.
 
જો કાન માં છિદ્ર હોય તો સ્નાન કરતી વખતે કાન માં બિલકુલ પાણી જવું જોઈએ નહીં. સ્નાન વખતે કાન માં રૂ નું પૂમડું ભરાવો. તમે રૂ નાં પૂમડા ઉપર થોડું વેસેલિન પણ લગાવી શકો – તે કાન માં પાણી જતાં અટકાવશે.
 
જ્યાં સુધી કાન નું છિદ્ર પુરાઈ નાં જાય/સાજું નાં થઈ જાય ત્યાં સુધી ઓછા માં ઓછા 1 વર્ષ સુધી સ્વિમિંગ અથવા ધાર્મિક સ્નાન બિલકુલ કરવું નહીં. 
 
કાન માં કોઈ પણ જાત નાં રસાયણો, ઘરેલુ ઉપચાર, હોમિયોપથી અથવા ઔષધીય ઉપાયો કરવા નહીં 
 
અમારા હર્બલ ડ્રોપ્સ પેકેજ માં શું છે_______
 
અમારા શુદ્ધ વનસ્પતિ અર્ક નિર્મિત ડ્રોપ્સ શ્રેષ્ઠ ડ્રોપ્સ છે.
 
બધાજ ડ્રોપ્સ કોઈ પણ સમયે આ શુદ્ધ ડ્રોપ્સ થી બનાવી શકાય છે.
 
સમય જતાં આ ડ્રોપ્સ કદાચ શ્યામ પડી શકે અથવા વનસ્પતિ નાં ઘટ્ટ થયેલાં અવશેષ બતાવી શકે   - કે જે સામાન્ય છે.  – તેમની કાર્યક્ષમતા અને અસરકારકતા સંપૂર્ણ રીતે હંમેશા અકબંધ રહે છે. અમારા ડ્રોપ્સ ની કોઈ સમાપ્તિ અવધિ (એક્સપાયરી) નથી. તેમને સામાન્ય તાપમાને જેટલું શક્ય બને તેમ શુદ્ધ વાતાવરણ માં સીધા સૂર્ય પ્રકાશ થી દૂર રાખી શકાય છે.
 
પર્યાવરણ નાં કોઈપણ  સૂક્ષ્મજીવો માં અમારા ડ્રોપ્સ ને નષ્ટ કરવા ની તાકાત નથી.
 
અમે 10 ml/300 ડ્રોપ્સ ની ચાર શીશીઓ મોકલીએ છે – 
 
બે શીશીઓ અમારા શુદ્ધ વનસ્પતિ અર્ક ધરાવે છે. - કુલ મળીને 600 શુદ્ધ વનસ્પતિ અર્ક ડ્રોપ્સ.
 
તમારા આ છિદ્ર પુરાણ ના ઉપચાર માટે તમને વધુ શુદ્ધ ડ્રોપ્સ ની જરૂર નથી.
 
અમારી આ ઉપચાર પદ્ધતિ ની સફળતા અને નિષ્ફળતા માત્ર આ ડ્રોપ્સ ની સાથે જ પરિણમશે, અને બીજા ડ્રોપ્સ બાકી બચી શકે. તે ક્યારેય બગડી નહીં જાય.
 
એક શીશી અવમિશ્રિત ડ્રોપ્સ ની છે કે જેમાં 25 ડ્રોપ્સ શુદ્ધ વનસ્પતિ અર્ક 10 ml શુદ્ધ પાણી માં ભેળવવામાં  આવે છે.
 
તમે ગમે ત્યારે ડ્રોપ્સ ની અસરકારકતા વધુ શુદ્ધ ડ્રોપ્સ ઉમેરી ને વધારી શકો છો.
 
ચોથી શીશી 10 ml ની નાક માં નાખવાના ટીપાં ની છે કે જે ગમે ત્યારે 4 શુદ્ધ વનસ્પતિ અર્ક ના ટીપાં અને બાકી નું 10 ml શુદ્ધ પાણી ઉમેરી ને ફરીથી બનાવી શકાય છે.
 
આથી નાક માં નાખવાના ટીપાં અને અવમિશ્રિત કાન નાં ટીપાં  શુદ્ધ અર્ક નાં ટીપાં ની મદદ થી કોઈ પણ સમયે કોઈ પણ દ્વારા દ્વારા બનાવી શકાય છે.
 
નાક માં નાખવાના ટીપા – 
 
નાક માં નાખવાના બે ટીપાં દરરોજ બંને નસકોરા માં દિવસમાં એક વાર નાખો, અથવા જ્યારે જરૂર પડે ત્યારે ઠંડી માં/નાક બંધ થઈ જવાના કિસ્સામાં/ ગળાનાં ચેપ વખતે નાખો.
 
સાઇનસાઈટિસ માં આ એક માત્ર રામબાણ ઈલાજ છે.
આ મધ્ય કાન નાં ચેપ નાં કિસ્સા માં તમને મદદ કરશે કારણકે આ બધુ આંતરિક રીતે જોડાયેલુ હોય છે. 
કાન નાં ટીપાં નાખવાની પદ્ધતિ – 
કાન નાં દુખાવા માટે/ તીવ્ર મધ્ય કાન નાં ચેપ માં – હજુ સુધી કાન માં છિદ્ર નાં હોય ત્યારે:
અમારા અવમિશ્રિત ટીપાં માત્ર થી તમારા કાન નાં પડદા ને સુરક્ષિત કરો.
નિસ્બત ધરાવતા કાન માં અવમિશ્રિત કાન નાં 4 ટીપાં નાખો અને 2 મિનિટ સુધી તેને રેહવા દો.
ત્યાર બાદ તમે જ્યારે સીધા ઊભા થાઓ ત્યારે તમે કાન માંથી જે કાંઇ પણ બહાર આવે તેને રૂ નાં પૂમડા થી લૂછી નાખો. 
તમે આ પ્રક્રિયા દિવસ માં 1 થી 3 વખત જ્યાં સુધી તમે સામાન્ય અનુભવો નહીં અથવા ભારેપણું/દુખાવો સંપૂર્ણ રીતે દૂર નાં થાય ત્યાં સુધી કરી શકો.
આમરા આ ડ્રોપ્સ ટીનીટસ માટે નથી, પરંતુ તેમ છતાં જ્યારે ચેપ જતો રહે ત્યારે તમને તેમાં તે મદદ કરી શકે.
ટીનીટસ એ આંતરિક કાન નો મુદ્દો છે કે જે મગજ સાથે જોડાયેલો હોય છે અને તેમાં ડ્રોપ્સ આંતરિક કાન સુધી પહોચતા નથી. 
સાંભળવામાં પરિણામે કેટલો સુધારો થશે તે કોઈ કહી શકતું નથી. માત્ર સમય જ કહી હકે છે. 
તરવૈયા (સ્વિમર્સ) માટે - સાવચેતી નાં પગલાં સ્વરૂપે અને ચેપ થી બચવા સ્વિમિંગ, ડાઈવિંગ, સર્ફ બોર્ડિંગ અથવા સ્કૂબા ડાઈવિંગ બાદ દર વખતે અવમિશ્રિત કાન માં નાખવાના 4 ટીપાં બે મિનિટ સુધી કાન માં નાખો.
નાકમાં નાખવાના ટીપાં પણ ઉપર જણાવ્યા મુજબ ઉપયોગ માં લેવા જોઈએ. 
કાન નાં પડદા માં છિદ્ર હોય તેવા કિસ્સા માં – 
સૌપ્રથમ કાનમાં અવમિશ્રિત ટીપાં નાખવાથી શરૂઆત કરો. અવમિશ્રિત વનસ્પતિ અર્ક નાં 2 થી 4 ટીપા દિવસમાં દરરોજ બે મિનિટ સુધી એક વાર નાખો. 
જો ખંજવાળ/બળતરા સહ્ય હોય તો શુદ્ધ ટીપા જ ચાલુ રાખો નહીંતર તમે અવમિશ્રિત ટીપા ઉપયોગમાં લો.
આખરે ખંજવાળ/બળતરા ઓછી થવી જોઈએ જેથી કરીને શુદ્ધ ટીપા ઉમેરવા તરફ આગળ વધી શકો.
ઉપર જણાવેલી પ્રક્રિયા ઘણા બધા લોકો માટે લાંબી બની શકે. તેમાં ધીરજ રાખ્યા સીવાય કોઈ કશું કરી શકે નહીં.
શુદ્ધ ટીપા ને દર એક દિવસ છોડી ને ક્રમિક રીતે આંતરે દિવસે દિવસ માં એક વાર ઉમેરવા જોઈએ. 
બે થી ત્રણ શુદ્ધ ટીપા બે મિનિટ માટે પર્યાપ્ત છે.
સંપૂર્ણ રીતે સાજા થતાં સુધી અથવા થયા બાદ એક વર્ષ સુધી સંલગ્ન કાનમાં બાહ્ય પાણી પ્રેવેશવું જોઈએ નહીં. 
એક વાર પરુ આવતું બંધ થઈ જાય અને ખંજવાળ પૂર્ણ રીતે બંધ થઈ જાય તો એનો મતલબ છે કે ચેપ બિનસરકારક બની ગયો છે. 
આ સમય સુધી દર આંતરે દિવસે તમે શુદ્ધ ટીપા નાખ્યા હશે અને નાખવાનું ચાલુ જ રાખશો.
ચેપ ને બિનઅસરકારક બનાવવાનો મતલબ એ નથી કે સુપર બગ્સ જેવા કે સ્યૂડોમોનાસ એરુગીનોસા, એમઆરએસએ અને ઇ કોલી અને એંટીબાયોટિક ની પ્રતિરોધકતા ના ક્ષેત્ર માં સફળતા મળી છે.
આવા સુપર બગ્સ સમગ્ર દુનિયા માં ખૂબ મુશ્કેલીઓ સર્જી રહ્યા છે. આવા સુપર બગ્સ ને માત્ર અમારા વનસ્પતિ અર્ક જ બિનસરકારક કરી શકે છે.
આ અનુસંધાન માં પ્રતિષ્ઠિત - ધ શ્રીરામ ઇન્સ્ટિટ્યુટ ફોર ઇન્ડસ્ટ્રિયલ રિસર્ચ, નવી દિલ્હી, ભારત તરફ થી મળેલા પ્રમાણપત્રો ની નકલ આ સાઇટ ઉપર મૂકવામાં આવેલી છે.
એક વાર ચેપ ને બિનસરકારક બનાવી લેવાય પછી છિદ્ર માપ ને ચેક કરાવી શકાય છે અને ત્યાર બાદ ઇએનટી ડોક્ટર દ્વારા તેનો અંદાજો કાઢવામાં આવે છે.
જો શક્ય બને તો દર આંતરે દિવસે શુદ્ધ ટીપા કાન માં નાખવાનું ચાલુ રાખો અને છિદ્ર ના માપ ને 40 દિવસ અને ત્યાર બાદ 80 દિવસે ઇએનટી ડોક્ટર દ્વારા ચેક કરાવો.
જો બીજા અને ત્રીજા ચેકિંગ માં એવું માલૂમ પડે કે છિદ્ર નું પુરાણ થઈ રહ્યું છે અને છિદ્ર નું માપ ઓછું થઈ રહ્યું છે તો અમારા આપેલ ટીપા થી એક યા બે મહિના છિદ્ર પુરાઈ જશે, નહિતર તમારે શસ્ત્રક્રિયા નો સહારો લેવો પડી શકે છે.
વધારાના મુદ્દાઓ – 
સમય જતાં અર્ક શીશી ની બાજુઑ ઉપર શ્યામ/કાળો પડી શકે છે અથવા તેમાં વનસ્પતિ નાં ઘટ્ટ થયેલાં અવશેષ જોવા મળી શકે છે, પરતું તે કાયમ માટે અસરકારક અને કાર્યક્ષમ જ રહે છે.
 
આ અર્ક ને અનિલ ડોગરા અને તેમના પરિવાર દ્વારા સ્વહસ્તે બનાવવામાં આવે છે
વૈદ્યરાજ અનિલ ડોગરા
+91 9810260704
 
ભારત માં ઓર્ડર આપવા માટે ઉપર જણાવેલ ડ્રોપ્સ ની કિંમત શિપિંગ સાથે INR 3700.00  નિર્ધારિત કરેલી છે. કિંમત કોઈ પણ સમયે બદલાવ ને આધીન છે.
 
સામાન્યરીતે સંપૂર્ણરીતે સાજા થવા માટે વધુ શુદ્ધ અર્ક ની જરૂર નહીં પડે. જો વધુ અર્ક ની જરૂર પડે તો એક આખો નવો સેટ ઉપર જણાવ્યા પ્રમાણે નવેસર થી ફરી મંગાવવો પડશે.
ભારત બહારથી ઓર્ડર કરવા માટેની કિંમત શિપિંગ ખર્ચ સાથે USD 145.00 નક્કી કરાયેલી છે. 
અમે અમારા ઉત્પાદન ને યુએઇ, સાઉદી અને બીજા અન્ય ઈસ્લામિક દેશો ને તેમના ઔષધીય ઉત્પાદનો ઉપરનાં આયાત પ્રતિબંધો ને કારણે મોકલી શકતા નથી. 
તેને પાકિસ્તાન મોકલવામાં આવી શકે છે.
તમે અમારાં ઈમેલ એડ્રૈસ  - [email protected] નો ઉપયોગ કરી ને www.Paypal.com વેબસાઇટ દ્વારા અમને ચુકવણી કરી શકો છો, અથવા નીચેની માહિતી નો ઉપયોગ કરીને વેસ્ટર્ન યુનિયન (Western Union ) અથવા મનીગ્રામ (Money Gram) દ્વારા પણ ચુકવણી કરી શકો છો:
ANIL KUMAR DOGRA, IA / 20 A, PHASE ONE, ASHOK VIHAR, DELHI, INDIA – 110 052. Phone: +91 9810260704. 
ત્યારબાદ તમે ચુકવણી ની માહિતીને અમારા ઈમેલ એડ્રૈસ [email protected] ઉપર મોકલી શકો છો. 
ભારત ની અંદર – મહેરબાની કરી ને તમારી ચુકવણી નીચે જણાવેલા ખાતામાં જમા કરવો અને તમારાં નામ, સરનામાં, પિન કોડ અને ફોન નંબર સહિત ની વિગતો અમને અમારા ઈમેલ એડ્રૈસ ઉપર અથવા અમારા ફોન નંબર 9810260704 ઉપર SMS કરીને અથવા WhatsApp કરીને જણાવો: 
મહેરબાની કરી ને Rs 3700 શ્રીમતી મિનુ ડોગરા નાં બચત ખાતા સંખ્યા 35782552316, SBI બેન્ક બ્રાન્ચ  - Ashok Vihar, Phase 1, Delhi 110052, India માં જમા કરવો. NEFT IFSC કોડ-SBIN0007783 છે.  
 
FAQs (અવારનવાર પુછાતા સવાલો):
1) જ્યારે કાન નો પડદો અકબંધ હોય અને વ્યક્તિને કાન માં દુખાવો હોય અને મધ્ય કાન માં ચેપ હોય ત્યારે ઇએનટી ડોક્ટર્સ કોઈપણ પ્રકાર નાં કાન માં નાખવાના ટીપા ની ના પાડે છે, અને કાન નાં પડદા નાં છિદ્ર નાં કિસ્સામાં ઇએનટી ડોક્ટર્સ કોઈ પણ પ્રકાર નાં ટીપા નાં નાખવા માટે ચેતવણી આપે છે. તો શા માટે અને કેવી રીતે તમારા કાન નાં ટીપા મદદ કરી શકે?
 
ઇએનટી ડોક્ટર્સ કહે છે કે મધ્ય કાન નાં ચેપ માં અથવા ઓટીટીસ મીડિયા ની બાબત માં કોઈ ટીપા નાખશો નહીં  કારણકે અકબંધ કાન નાં પડદા માં અથવા તેની ઉપર કોઈ પણ ટીપુ દાખલ થવું જોઈએ નહીં.
 
વધુ વર્ગીકૃત રીતે કહીએ તો અમે એવું જણાવીએ છે અને દાવો કરીએ છે કે અમારા કાન નાં ટીપા કોઈ પણ પ્રકાર નાં તીવ્ર અથવા ગંભીર સ્તર ના ઓટીટીસ મીડિયા ને કોઈ પણ ઉંમરે માત્ર એક દિવસ થી લઈ ને એક અઠવાડીયા સુધીમાં  જો કાનનો પડદો સંપૂર્ણ અકબંધ હોય તો સાજો કરી શકે છે.
કોઈ પણ પ્રકાર નાં મૌખિક એંટીબાયોટિક્સ ની જરૂર નથી.
આધુનિક તબીબી વિજ્ઞાન હજુ તેના વિશે ખૂબ ઓછું કહેતાં માત્ર તે ક્ષેત્રે પ્રગતિ નાં માર્ગે જ છે. 
 
હકીકતમાં, ભલે અમારા ઈયર ડ્રોપ્સ કાન નાં સૂક્ષ્મ પડદા સુધી પહોચે છે પરંતુ તેનો પર્યાપ્ત જથ્થો ચેપ ને એક મિનિટ ની અંદર જ બિનસરકારક બનવાની પ્રક્રિયા શરૂ કરી નાખે છે. બાકીના ઉમેરાયેલા ટીપા સરળતાથી બે મિનિટ બાદ સુકાઈ જાય છે.
ડોક્ટર્સ કદાચ ગભરાઈ શકે કે એક રસાયણયુક્ત દવા કાન નાં ટીપા નાં માધ્યમ થી મુશ્કેલી ને વધારી શકે કે જે સાચું હોય શકે છે. 
અને, કાન નાં ટીપા પોતે કદાચ વીજાણુયુક્ત ચેપી ઘટકો ધરાવી શકે  - અને અમે તેનાથી સહમત છીએ.
પરંતુ, અમારા કાન નાં ટીપા અલગ છે. 
અમારા કાન નાં ટીપા એકદમ ઔષધીય છે, અને તમણે સૌથી અઘરા વીજાણુઘટકો ને બિનસરકારક કરવાની પોતાની ક્ષમતાને પુરવાર કરેલી છે. 
કોઈ પણ વ્યક્તિ અમારા આ ટીપા થી એકદમ સુરક્ષિત છે. 
અમે એવી પણ સૂચના આપીએ છે કે અમારા કાન ના ટીપા સાથે બીજા અન્ય ટીપા ને ઉપયોગ માં ના લેવા અને સ્વિમિંગ પણ ના કરવું. જ્યાસુધી કાન નો પડદો સંપૂર્ણરીતે પુરાઈ ના જાય ત્યાસુધી કોઈપણ પ્રકારે સ્નાન કરતી વખતે પાણી કાન માં દાખલ થવું જોઈએ નહીં. આ જરૂરી છે કારણકે નગરપાલિકા ના પાણી માં સુપર બક્ટેરિઅલ પેથોજેન્સ (વધુ પડતાં વીજાણુયુક્ત ઘટકો) હોય છે અને તે ફરીથી ચેપ ને શરૂ કરી શકે. 
 
2) શું તમે 100% કાન ના પડદાનાં પુરાઈ જવાની ખાતરી આપો છો?
 
ચેપ ને બિનસરકારક કરવાની 100% પૂર્ણ ખાતરી છે, પરંતુ કાન નાં પડદા ને સંપૂર્ણ રીતે સાજો કરવાની ખાતરી માત્ર 60 થી 70% છે.
આ એક પદ્ધતિસર ની પ્રક્રિયા છે અને તે ઉપર ખૂબ સારી રીતે જણાવવામાં આવેલી છે. અમે ઘણા લોકો નાં તૂટેલા કાન નાં પદદાઓને સંપૂર્ણ રીતે અને કાયમ માટે પૂરેલા છે.
અમે આપેલા અમારા ગ્રાહકો નાં ફોન નંબર્સ પ્રમાણપત્રો ની સૂચિ માં દર્શાવેલા છે. આ સૂચિ પૂર્ણ નથી, કારણકે ઘણા ગ્રાહકો પોતે પોતાના નામ એમની ખાનગી બાબતો હોવાને કારણે સમાવિષ્ટ કરવા માટે ઇચ્છુક નથી.  
 
3) મારા કાન માંથી પરુ આવતું નથી, શું આનો મતલબ એવો છે કે તેમાં ચેપ નથી?
પરુ મૃત કોષો નું બનેલું હોય છે અને શરીર ની પ્રતિકારશક્તિ અથવા દવાઓ સાથે લડતા સુકાઈ જાય છે.
જો પરુ સતત બહાર આવાનું ચાલુ રાખે તો તે બતાવે છે કે હજુ પણ ત્યાં ચેપ છે.
અમુકવાર, શરૂઆત માં જરાપણ પરુ આવતું નથી, પરંતુ તમે જેમજેમ અમારા ઈયર ડ્રોપ્સ નાખો છો તેમતેમ તે બહાર આવવાનું શરૂ કરી દે છે. આનો મતલબ છે કે ચેપ નિષ્ક્રિય અવસ્થા માં હોય છે. તે એંટીબાયોટિક અથવા બીજી કોઈ દવા ની અસરથી માત્ર સુકાઇ ગયો હતો, પરંતુ દૂર નહોતો થયો. 
જેમજેમ અમારા ડ્રોપ્સ ચેપ ની સામે લડવાનું શરૂ કરે છે તેમતેમ મૃત કોષો ઉપર આવે છે અને પરુ તરીકે બહાર ફેંકાય છે. 
જ્યાસુધી છિદ્ર સંપૂર્ણ રીતે સાજો ના થાય ત્યાસુધી જાહેર પુરવઠા નું પાણી કાન માં દાખલ નાં થાય તે ફરજિયાત છે, કારણકે જાહેર પાણી પુરવઠામાં રહેલા વીજાણુઓથી ચેપ માં વધારો થશે અથવા ફરી સર્જન પામશે.
સ્નાન કરતી વખતે, સ્વિમિંગ વખતે અથવા ધાર્મિક સ્નાન કરતી વખતે ચેપ લાગવાનુ જોખમ રહે છે.
તો સાવચેત થઈ જાઓ અને સ્નાન કરતી વખતે કાન ને સુરક્ષિત રાખવા માટે રૂ ના પૂમડાનો ઉપયોગ કરો. 
કાન નાં પડદા માંથી જ્યારે પરુ સંપૂર્ણ રીતે આવતું બંધ થઈ જાય ત્યારે આપણે કહી શકીએ કે ચેપ સંપૂર્ણ રીતે જતો રહ્યો છે.
 
4) શું અમે વૈદ્યરાજ અનિલ ને મળી શકીએ અને ઈયર ડ્રોપ્સ રૂબરૂ લઈ શકીએ?
નાં. અમે બધુજ અહિયાં વિસ્તૃત રીતે સમજાવીએ છે. બાકી તમે કોલ કરી શકો છો અથવા ઈમેલ મોકલી શકો છો. 
આમરી પાસે તમારા કાન ની મુશ્કેલીઓ માટે આ રામબાણ ઈલાજ છે અને અમે બીજી કોઈ દવા ની ભલામણ નહીં કરીએ. 
સામાન્યરીતે, તમે જ્યારે ડોક્ટર ની મુલાકાત લો છો ત્યારે તે તમને 10% પણ સમજાવતા નથી જે અમે તમને સમજવીએ છે. અને, વૈદો અને ઔષધિકારો ની જેમ અમે તમારા સ્વાસ્થ્ય નાં મુદ્દા ને વિસ્તૃતરીતે સમજીને તમને ઉપચાર બતાવીએ છે, તેથી અમારા ઔષધીય ટીપા કોઈપણ નિદાન ની શક્યતાઓ માં પણ કામ કરે છે અને તમને મદદ કરે છે.
બધાજ છિદ્ર નાં મુદ્દાઓ સમાન હોય છે. 
આ રસાયણ આધારિત તબીબી દવાઓ અને એલોપેથી થી અલગ છે જેમાં માત્ર અમુક નક્કી કરાયેલા અથવા નિર્ધારિત ભાગ ને જ નિશાન બનાવવામાં આવે છે, જ્યારે અન્ય ભાગો દવાના દુષ્પ્રાભાવ નો ભોગ બને છે.
 
5) અત્યારે મોટેભાગે શા માટે કાન નાં પડદા ની સર્જરી નિષ્ફળ જાય છે અને શા માટે મધ્ય કાન નાં ચેપ માં ઈયર ટ્યુબ્સ અથવા ગ્રોમિટ મૂકવવી વધુ જોખમી છે?
શા માટે આ મોટે ભાગે નિષ્ફળ જાય છે?
 
યુએસએ માં દરવર્ષે 2 મિલિયન રિવેટ જેવી ઈયર ટ્યુબ્સ અથવા ગ્રોમિટ્સ કાન નાં પડદા માં નાનું છિદ્ર પાડીને અકબંધ કાન નાં પડદા સુધી મૂકવામાં આવે છે. અને, મોટે ભાગે તેઓ આવી સર્જરી બાળકો ઉપર કરે છે.
આ ઈયર ટ્યુબ્સ એક અથવા બે વર્ષ માં નીકળી જાય છે અને એવું માનવામાં આવે છે કે સૂક્ષ્મ કાન નાં છિદ્ર આપમેળે-જલ્દી પૂરાઈ જાય છે. 
આ ગ્રોમિટ્સ ને એક નાની શસ્ત્રક્રિયા દ્વારા છિદ્ર પાડીને એક નાનકડો માર્ગ બનાવવા માટે મૂકવામાં આવે છે જેથી કરીને કાન નાં પડદા પાછળનું પરુ બહાર બેંકાય અને પડદા પાછળ ભેગું નાં થયા કરે-કારણકે જો તેવું થાય તો – કાન નાં પડદા ઉપર દબાણ વધે અને તે વિસ્ફોટ થઈ ને તૂટી જાય.
આ પરુ તીવ્ર અથવા ગંભીર મધ્ય કાન નાં ચેપ ને કારણે હોય છે કે જે બિનઅસરકારક થતું નથી અને અત્યાર ની મૌખિક એંટીબાયોટિક દવા દ્વારા દૂર થતું નથી.
મધ્ય કાન નો ચેપ લગભગ એંટીબાયોટિક પ્રતિકારક થઈ ગયો છે – તેથી માત્ર એક જ પર્યાય બચ્યો છે કે જેમાં કાન નાં પડદા સુધી એક યાંત્રિક રસ્તો બનાવાવમાં આવે અને અંતે છેલ્લા ઉપાય રૂપે કાન નાં પડદા ને મોટું છિદ્ર પડવાથી અને તૂટી જવાથી સુરક્ષિત કરવામાં આવે . 
એવી આશા છે કે જેમજેમ એક બાળક ઉંમર જતાં વધુ સારી રોગ પ્રતિકારક શક્તિ ધરાવતો બને છે તેમતેમ આ ચેપ ની સામે કુદરતી રીતે લડવામાં આવે અને તેને બિનસરકારક બનાવવામાં આવે, અને ત્યારબાદ જ્યારે ઈયર ટ્યુબ્સ અથવા ગ્રોમિટ નીકળી જાય અથવા દૂર કરવામાં આવે ત્યારે એજ રોગ પ્રતિકાર શક્તિ બાકી રહેલા સૂક્ષ્મ છિદ્ર ને પુરવામાં મદદ કરે.
ઈયર ટ્યુબ્સ પાછળની આ પૂર્ણ હકીકત અને સિદ્ધાંત રહેલા છે.
પણ જો વધુ પડતો વીજાણુયુક્ત ચેપ શરૂ થઈ જાય તો ઈયર ટ્યુબ્સ નાં નીકળી ગયા પછી છિદ્ર પુરાશે નહીં પરંતુ સમયજતાં વીજાણુઓની વૃદ્ધિ ને કારણે મોટું થતું જશે. 
આજ પરિસ્થિતી ટાઇમપેનોપ્લાસ્ટી અથવા કાન નાં પડદા નાં છિદ્ર પુરાણ ની સર્જરી માં હોય છે.  
સર્જરી પહેલા સર્જન તમને પ્રવર્તમાન ચેપ ને દૂર કરવા માટે મૌખિક એંટીબાયોટિકસ આપે છે કે જેને કારણે કાન નો પદડો આપમેળે કુદરતીરીતે પુરાઈ જતો નથી. 
જ્યારે ડોક્ટર દેખીતીરીતે કોઈ ચેપ જોતાં નથી ત્યારે તે એવું માની લે છે કે ચેપ દૂર થઈ ગયો છે. 
ચેપ સંપૂર્ણ રીતે દૂર થઈ ગયો છે કે નહીં તે જોવા માટે ડોક્ટર કોઈ પણ પ્રકાર નાં માઇક્રોબાયોલોજિકલ પ્રયોગો કરતો નથી.
અમુકવાર આવું કરવું અવ્યવહારુ છે. 
પણ ચેપ ખૂબ જ સૂક્ષ્મ વીજાણુ અને ફૂગ છે અને જો લાંબા સમય નાં એંટીબાયોટિક્સ પછી તેનો એક નાનો સરખો ભાગ પણ બચી જાય, અથવા આ ચેપ જો એંટીબાયોટિક પ્રતિકારક સુપરબગ્સ અથવા મોટા વીજાણુઓ હોય તો ડોક્ટર જો તેને સુધારવાનો પ્રયત્ન કરે તો તે એક બિલ્ડીંગ નો નબળો પાયો બાંધવા સમાન છે....... 
અને તેનું બાંધકામ ચોક્કસ તૂટી જશે. 
આથી આવા મોટા વીજાણુઓ વિસ્તરતા રહે છે અને થોડા વર્ષો પછી અથવા પહેલા સાજા થયેલા કાન નાં પડદા ને ફરી તોડી નાખે છે.
આ અત્યારે ખુબજ સામાન્ય અને વારંવાર થતું બની ગયું છે.
આપણે અત્યારે સુપરબગ્સ નાં યુગમાં રહીએ છે. – જો કોઈ વ્યક્તિ પાસે આવા એંટીબાયોટિક પ્રતિકારક સુપરબગ્સ ને નષ્ટ કરવા માટે કોઈ એંટીબાયોટિક નહીં હોય તો આવી સર્જરી નિશ્ચિત રૂપે નિષ્ફળ જશે.
6) શું અમે આ ઈયર ડ્રોપ્સ ને કાન ની રીપેર સર્જરી કરાવ્યા પહેલા/પછી લઈ શકીએ જેથી કરીને અમે અમારા કાન નાં પડદા ને બચાવી શકીએ?
 
જો તમે તમારા કાન નાં પડદા ની રીપેર સર્જરી કરવો તો તમારે એક મહિના સુધી રાહ જોવી જોવાની છે અને ત્યારબાદ તમારે એક વર્ષ સુધી અઠવાડિયામાં એકવાર, બે મિનિટ માટે અમારા અવમિશ્રિત ઈયર ડ્રોપ્સ નાં 4 ટીપા કાન માં નાખવાના છે, જેથી કરી ને એવી ખાતરી કરી શકાય કે સર્જરી પહેલા અથવા પછી સાજો થઈ ગયેલો કાન નો પડદો સુપર બગ્સ કે જે કદાચ એંટીબાયોટિક્સ ને કારણે નષ્ટ પામ્યા હોય તે કારણે નિષ્ફત નાજાય . 
આરીતે તમે સમય રહેતા આવા વિકાસ પામતા સુપરબગ્સ નું રહેલું જોખમ અને સાજા થયેલા કાન નાં પડદા ની નિષ્ફળતા ને ઓછી કરી શકો છો. 
7) જો તમારા બંને કાન નાં પડદા માં છિદ્ર હોય તો અમારા ડ્રોપ્સ તમે પહેલા એક કાન ઉપર અજમાવો અને જ્યારે તમને વિશ્વાસ આવી જાય ત્યારે બીજા કાન માં શરૂ કરો.  
8) અમુકવાર છિદ્ર નાં કેસ માં ચેપ વધુ તીવ્ર હોય છે અને આવી પરિસ્થિતિમાં જ્યારે તમે સૌપ્રથમ વખત અવમિશ્રિત ટીપા નાખો છો ત્યારે કાન માં ખૂબ દુખાવો થાય છે અને લગભગ અડધા દિવસ અથવા વધારે જેટલા લાંબા સમય સુધી ભારે ભારે લાગે છે.
આવા કિસ્સાઓ માં કોઈ વ્યક્તિ અવમિશ્રિત ડ્રોપ્સ ને શીશી માંથી માત્ર 50% જથ્થો જ લઈ ને અથવા ચોખ્ખું પાણી તેમાં ઉમેરી ને વધુ અવમિશ્રિત કરી શકે છે. નાક માં નાખવાના ટીપા ચાલુજ રાખો પણ જ્યારે દુખાવો અથવા ભારણ વધી જાય ત્યારે આ નવા વધુ અવમિશ્રિત ટીપા ઉમેરો.
મોકલાયેલાં અવમિશ્રિત ટીપા 25 શુદ્ધ અર્ક ના ટીપા ધરાવે છે અને બાકીના 10 ml શુદ્ધ પાણી છે. સલાહ ના ભાગ રૂપે તમે નવા અવમિશ્રિત ટીપા અલગથી 10 ml ડ્રોપર શીશી લઈ ને બનાવી શકો છો. 
9) મૌખિક રાસાયણિક એંટીબાયોટીક્સ માત્ર ચેપ ને સૂકવી નાખે છે – એ કોઈ જાણતું નથી કે ચેપ સંપૂર્ણ રીતે બિનસરકારક અથવા દૂર થઈ ગયો છે કે નહીં. આથી વિપરીત, જો દુખાવો, સોજો અથવા ભારણ સતત રહ્યા કરે તો  - આવા લોકો એ બીજું કઈ નહીં પણ કાન ના માર્ગ ને સાફ કરવાનો છે. મુશ્કેલી એ છે કે તે લોકો સાફ કરવા માટે એક વેક્યુમ ક્લીનર જેવુ સાધન ઉપયોગ માં લે છે.  જો વેક્યુમ નું દબાણ વધી જાય તો તે કાન ના સાફ કરતી વખતે જાતેજ પડદા ને તોડી નાખે છે. આવા ઘણા કેસો અમે જોયેલા છે. 
તો મહેરબાની કરીને તમારા મિત્રો અને પરિવારજનો ને કહો કે તેમનો કાન નો માર્ગ સાફ કરાવે, મુખ્યત્વે જેમાં વેક્યુમ સાધન નો ઉપયોગ ના હોવો જોઈએ. 
આમરા અવમિશ્રિત ટીપા જ કાન ના મેલ ને કુદરતી રીતે સાફ કરી નાખશે. તે એવું બાહ્ય વાતાવરણ ઊભું કરશે કે પછી કાન નો મેલ જાતેજ સાફ થઈ જશે, અને એજ એનું કામ છે. સફાઈ માટે કોઈ પણ પ્રકાર ની કાન સાફ કરવાની સળી નો ઉપયોગ કરશો નહીં.  
10) અમુકવાર, અવમિશ્રિત ટીપા સાથે કાન માં દુખાવો અથવા ભારણ થોડોક વધારે હોય છે અથવા વધતો જાય છે  - આવું અમુકજ કિસ્સાઓમાં બને છે. 
આવા કિસ્સાઓમાં, જ્યાંસુધી દુખાવો અને ભારણ સંપૂર્ણ બંધ ના થઈ જાય ત્યાંસુધી અવમિશ્રિત ટીપા પણ દર આંતરે દિવસે વાપરવા જોઈએ. 
આવા કિસ્સાઓ માં ચેપ નું પ્રમાણ ખૂબ જટિલ અથવા તીવ્ર હોય છે. આપણે ખૂબ ધીરજ રાખવી જરૂરી છે અને ઉતાવળ કરવી જરૂરી નથી અને ટૂંક સમય માં પરિણામ મળે તેવી આશા રાખવી જોઈએ નહીં. 
નૈસર્ગિક રીતે, ગંભીર ચેપ માં થી સાજા થવું અને કાન ના પડદા નો ફરી વિકાસ કરવો એ ધીરજ, નિયમિતતા અને ઐક્ય માંગી લે તેવી પ્રક્રિયા છે. 
તમારે જે બધુ થઈ રહ્યું છે તે ચકાસવા હોશિયાર, બુદ્ધિમાન અને સ્વ નિરીક્ષક બનવાનું છે, અને અમારા ડ્રોપ્સ ની મદદ થી તમારે તમારી પોતાની સારવાર પદ્ધતિ વિકસાવવાની છે, અને તેથી અમે અમારું આ સર્વાંગી જ્ઞાન અને નિબંધ સ્વરૂપ ની સલાહ અહિયાં પ્રસ્તુત કરીએ છે


జన్మతః ఒక వ్యక్తి కి ఒక చెవ్వు లో   లేకపోతే  రొండు చెవ్వులొను చిల్లు ఉండవచ్చు.  ఇది  ఒక సమస్య కాదు.
వాటి నించి చీము రాకుండా  మరియు వినికిడి బాగా ఉంటే - దాని గురించి ఆలోచించి ఏమీ చేయనవసరం లేదు. ప్రజలు పెర్ఫెరేటెడ్ ఇయర్ డ్రం తో సాధారణమైన జీవితం జీవిస్తున్నారు.
 
స్నానం చేస్తున్నప్పుడు కానీ ఇతర పనిలు చేసేటప్పుడు,   రొండు చెవులో బాహ్య నీళ్లు పడకండా జాగ్రత్త వహించండి.
చీము రావడం ప్రారంభించినప్పుడు చర్య తీసుకోవలసిన అవసరం ఉంది లేదా ఈ సంక్రమణ ద్వారా వినికిడి ప్రభావం ఎక్కువగా ఉంటుంది. 
 
రొండు చెవులు లోను చిల్లు ఉన్నట్లయితే మరియు రొండో చెవులోంచి చిమ్ము కారక పోతే, చిన్న చిల్లు ఉన్న చెవు కి మొదట వైద్యం చేయుంచోకోవాలి.
రొండు చెవులు నుంచి కారుతుంతే, రొండు చెవులు కి వైద్యం చేయుంచోకోవాలి.  
కరాటం అంటే సంక్రమణం (ఇన్ఫెక్షన్). 
నా అన్ని వీడియోలను, వ్యాసాలను మరియు వెబ్ సైట్ను పరిశీలించండి. సలహాలు మరియు సూచనలను అనుసరించండి.
దాదాపు 100 శాతం మీ ప్రశ్నలకు సమాధానాలు ఇవ్వబడ్డాయి.
మా చుక్కలు ఎలా ఆర్డర్ చెయ్యలో కూడా చెప్పబడింది.
 
పూర్తిగా చదివి అర్ధం చేసుకోకుండా, ప్రజలు హామీ గురించి నాకు ఫోన్ చేస్తారు.  ఇది మంచి పద్ధతి కాదు.  
సమస్య గురించి అవగాహనా ఉండాలి మరియు విజయం సాధించడానికి మా సాధనాన్ని మీకు ఎలా ఉపయోగించుకోవాలో తెలియాలి.
 
విజయం కేవలం మా హామీ వల్లా రాదు, కానీ మీరు సూచనలను అనుసారిస్తే  తప్పనిసరిగా ఒక పెద్ద అవకాశం ఉంది.
మొత్తం వైడ్ వరల్డ్ లో మేము వర్గీకరణపరంగా చెప్పేది  ఏమిటంటే, మా యొక్క  మొక్కల సంగ్రహం చెవి డ్రాప్స్ సహజంగానే ఇయర్ డ్రమ్స్  పల్ఫరేషన్ను మూసివేయడానికి నిజమైన మరియు ఏకమాత్ర పరిష్కారము.
ప్రపంచవ్యాప్తంగా మా మొక్క సారం యొక్క ప్రత్యేకత మరియు మైక్రోబయోలాజికల్ సర్టిఫికేట్లు తో పాటు మా చికిత్స యొక్క లాజిక్ మరియు  కాన్సెప్ట్ గురించి క్రింద వివరించబడింది.
----------------------
ఇయర్ డ్రం  పర్ఫరేషన్ మరియు పూర్తి చికిత్స లో మా సక్సెస్ రేట్ 60 నుండి 70 శాతం మాత్రమే.
ఇయర్ డ్రం లో ఎఫ్ఉషన్ /చీము / ఫ్లూయిడ్ తో  తీవ్రమైన లేదా దీర్ఘకాలిక మధ్య చెవి ఇన్ఫెక్షన్ సందర్భాలలో మా సక్సెస్ రేట్ 100%.
మా జ్ఞానము మరియు పరిశోధనా ప్రకారంగా మేము ధృఢంగా చెప్పేది  ఏమిటెంటే,  మా ద్వారా మొక్క నించి తీసిన ద్రవం (డ్రాప్స్ ) లేదా మనకు మేలు చేయలేవు.
పూర్తి మూసివేతకు 100% కంటే తక్కువ సక్సెస్ రేట్ కు సాకులు చెపకండా, మేము చెప్పేది ఎమిటెంటే మా నియంత్రణ ను మించి అనేక కారకాలు అనేవి ఉన్నాయి.
 
వైద్యరాజ్ అనిల్ డోగ్రా +91 9810260704
 
 
ప్రపంచవ్యాప్తంగ ఈఎనటి   వైద్యులు మరియు  హాస్పిటల్స్ దీర్ఘకాలిక ఓటిటిస్ మీడియా ఎఫ్ఫ్యూజన్కు (ఓఎంఈ ) ని అరికట్టడానికి అసమర్థంగా ఉన్నాయి.
ఓఎంఈ ను చీము / ఫ్లూయిడ్స్ తో కూడిన రీకర్రెంట్ మిడిల్ ఇయర్ ఇన్ఫెక్షన్  లేదా క్రానిక్ సూప్యుయేటివ్ ఓటిటిస్ మీడియా అని పిలుస్తారు. సాధారణంగా దీన్ని 'గ్లూ ఇయర్' అని కూడా పిలుస్తారు. 
సాధారణమైన  భాషలో చెప్పాలి అంటే , ఓఎంఈ  అనేది మీ చెవిని ద్రవం తో నిండి ఉన్నట్లు నొప్పి ఉన్న లేకున్నా లేదా  మూసివేయబడినట్లు భావించిస్టారూ. 2 నుండి 3 సారులు యాంటీబయాటిక యొక్క తదుపరి కోర్సుల తర్వాత కూడా ఇట్లాంటి పరిస్థితి మల్లి రావచ్చు.
 
దీర్ఘకాలిక ఓఎంఈ పరిస్థితిలో, ద్రవం  ఇయర్ డ్రం వెనకాల మధ్య చెవిలో ఒత్తిడిని ఏర్పరుస్తుంది,  మరియు దాని ఒత్తిడి చివరికి ఇయర్ డ్రం ను పగకొడుతుంది.
ఒఎంఈ సంక్రమణకు వ్యతిరేకంగా యాంటీబయాటిక్స్ యొక్క ఈ అసమర్థత ప్రపంచంలోని ఇయర్ డ్రం పెర్ఫరేషన్ యొక్క ప్రధాన కారణం అయింది.
వైద్యంరాజ్ అనిల్ డోగ్రా గారి  మొక్క నించి తీసిన సారం ని ధీ శ్రీరామ్ ఇన్స్టిట్యూట్ అఫ్ ఇండస్ట్రియల్ రీసెర్చ్, న్యూఢిల్లీ, భారత వంటి ప్రతిష్మాక మైక్రోబయాలజీ లాబ్స్    ధృవీకరించాయి. ఈ సారం  సూడోమోనాస్ ఎరుగ్నినోసా, ది ఎంఆర్ఎస్ఏ  మరియు ఈ.కోలై వంటి సూపర్ బ్యాక్టీరియా ని నివారించడానికి ఉపయోగపడతాయి.
ఈ ఆవిష్కరణ 1930 లో అలెగ్జాండర్ ఫ్లెమింగ్ చేత పెన్సిలిన్ యొక్క ఆవిష్కరణకు అనుబంధం.
 
పెన్సిలిన్ యొక్క ఆవిష్కరణ వల్లా యాంటీబయాటిక్ యుగం  ప్రారంబాం అయింది,అది ఇప్పుడు యాంటీబయాటిక్ రెసిస్టెంట్ సూపర్బగ్స్ లేదా సూపర్ బ్యాక్టీరియా వ్యాపించటం తో ముగిసింది.
వార్షికంగా - ఓఎంఈ తో బాధపడుతున్న 2 మిలియన్ల అమెరికన్ పిల్లలు  ఉదయిష్యపూర్వాంగా శస్త్రచికిత్సచేయించుకుంటున్నారు . ఇయర్ డ్రం లో ఇయర్ ట్యూబ్   వంటి సొరంగాలను వేయించుకుంటున్నారు.ఇది కేవలం మధ్య చెవిలో ఉన్న  ద్రవమును తొలగించటానికి మాత్రమే లేకపోతే  అది ఇయర్ డ్రం ను పేలుంస్తుంది.
చెవి గొట్టాలు (ఇయర్ ట్యూబ్స్)  ఒక సంవత్సరం లేదా అంతకన్నా ఎక్కువ కాలం పాటు ఉంటాయి తరువాత పడిపోతాయి లేదా మరియు  చిన్న రంధ్రం స్వయంగా మరియు సహజంగా మూసివేయబడుతున్న ఆశతో శస్త్రచికిత్స ద్వారా తొలగించబడుతుంది.
కాని - 10 నుండి 20 శాతం కేసులలో - అది కాదు.
ప్రపంచంలోని అత్యున్నత మరియు ఆర్థికవ్యవస్థ కలిగి ఉన్న దేశంలో అటువంటి పరిస్థితి ఉంటే, ప్రపంచవ్యాప్తంగా ఏం జరుగుతుందో అని ఊహించవచ్చు.
చెవి గొట్టాలు మెడికల్ సమస్య కి మెకానికల్ పరిష్కారం మాత్రమే, ఇప్పటికే ఉన్న ఇన్ఫెక్షన్కు ఏమీ చేయదు. 
ముఖ్యమైన సమస్య ఇన్ఫెక్షన్- అది అలాగే ఉంది.
చెవి గొట్టాలు ఒక పెద్ద రంధ్రం యొక్క సంభావ్యతను అరికట్టటానికి, ఒక చిన్న రంధ్రం లోని  ద్రవం ఒత్తిడిని తగ్గించడం ద్వారా నిరోధించవచ్చు.
ఇయర్ డ్రం చిల్లు ని అర్థం చేసుకుందాం :
ఇయర్ డ్రం చిల్లు మీ  చర్మంపై ఒక గాయం లాగా ఉంటుంది.
అన్ని బాగా ఉంటె, శరీరం రోగనిరోధక శక్తితో ఉండి  మరియు సాధారణ సంక్రమణతోనూ ఉంటే, గాయం సహజంగా ముసుకుంటుంది.
మీ జుట్టు నెమ్మదిగా ఎలాగైతే పెరుగుతుంధో, ఒక గాయం కూడా నెమ్మదిగా నయం అవుంతుంది - కానీ అది దగ్గరగా మూసుకుంటుంది. మీరు దాని గురించి ఓపికగా వేచి ఉండాలి.
ఒక చిన్న పిల్లాడి లాగా శరీరం యొక్క రోగనిరోధక శక్తి తక్కువగా ఉంటే- మరియు బ్యాక్టీరియా ఒక సూపర్ బ్యాక్టీరియల్ ఇన్ఫెక్షన్ అయితే, యాంటీబయాటిక్స్ ద్వారా నయం అవనది- ఒక యాంటిబయోటిక్ రెసిస్టెంట్ ఇన్ఫెక్షన్ - అప్పుడు ఒక గాయం నయం అవటానికి లేదా ఇయర్ డ్రం చిల్లు మూసుకోటానికి  అంతరాయం కలిగుతుంది మరియు అది శరీరం లో అలాగే ఉంటుంది.
సూపర్ బ్యాక్టీరియల్ అంటువ్యాధి గాయం లేదా చిల్లు మూసివేత యొక్క సహజ ప్రక్రియను నిలిపివేస్తుంది.
 
అలాంటి సందర్భాలలో -
మీరు అన్ని యాంటీబయాటిక్స్ ఆపటం ద్వారా శరీర రోగనిరోధక శక్తిని తిరిగి నిర్మించుకోవాలి మరియు బాగా మంచి ఆహారం తీసుకోవాలి. 
 
మా మొక్క నించి తీసిన సారం ద్వారా మీరు నెమ్మదిగా కానీ తప్పనిసరిగా ఇన్ఫెక్షన్తని తగిచుకోవచ్చు ... మరియు గాయం/చిల్లు మూసివేత సహజ ప్రక్రియ - పునఃప్రారంబాం అవుతుంది!
ఇది మేము పని చేసే లాజిక్. దీని వల్లా ఓపికగా సహజ  రీతి లో చిల్లు మూసి  మేజిక్   చేయవచ్చు.
మా వెబ్ పేజీ ను చూసేవారు చాలామంది ఇయర్ డ్రం లో చిల్లు వున్నవారే….
మా సహాయం కోసం ఎదురు చూస్తారు.
కానీ మీరు ఇతరులకు ఈ చిల్లు నుండి వారి ఇయర్ డ్రం కాపాడటం లో సహాయపడవచ్చు ... ..
వారికి  ఇక్కడ మీకు లభించే ఈ జ్ఞానము ఉండదు .
మీ కుటుంబం మరియు మిత్రులలో , 15 సంవత్సరాల వయస్సులోనే ఉన్న పిల్లలు, చెవి నొప్పి, మిడిల్ ఇయర్ ఇన్ఫెక్షన్, ఓఎంఈ  ఇన్ఫెక్షన్ వంటి  దానినుంచి బాధపడతారు  - ఇది ఒక సూపర్ బ్యాక్టీరియా ఇన్ఫెక్షన్ కావచ్చు.
మరియు చిరిగిన ఇయర్ డ్రం కు దారి తీయవచ్చు.
మా సహాయం కోసం ఎదురు చూడరు.
ఈ జ్ఞానము మీ చుట్టుపక్కల అందరికి చెప్పండి మరియు
ఒక పిల్లాడి ఇయర్ డ్రం ను కాపాడండి.
ఫ్లూయిడ్స్ తో దీర్ఘకాలిక మధ్య చెవి ఇన్ఫెక్షన్ కారణంగా సంభావ్య  ఇయర్ డ్రం  పర్ఫరేషణ్ను ను  కాపాడటం, మా పాలచాగ ఉన్న చెవి డ్రాప్స్ ద్వారా ఒక రోజు లేదా రొండు రోజులు పని.
దీర్ఘకాలిక మధ్య చెవి ఇన్ఫెక్షన్ మరియు  రప్చర్డ /పెర్ఫోర్టెడ్ ఇయర్ డ్రం మరమ్మతు కోసం అనీల్ డోగ్రా యొక్క చెవి డ్రాప్స్ - అన్ని సహజమైనవి, హెర్బల్ మరియు  అన్ని వయసుల వారికి సురక్షితమైనది.
స్టాండింగ్ సూచనలు -
---------------------------------
దయచేసి వెంటనే నోటి ద్వారా తీసుకునే లేదా ఓరల్ యాంటీబయాటిక్స్ ఆపండి. దానికి బదులుగా ఆకు కూరలు తో చేసిన వేడి సూప్ లేదా తాజా పండ్ల రసాలను వారానికి రెండు సార్లు  తీసుకోండి.
స్నానం చేసేటప్పుడు ఏటిపరిస్థితిలో ను  చెవిలో నీరు ప్రవేశించకూడదు, ప్రత్యేకంగా చిల్లులు ఉంటే .. స్నానం చేసేటప్పుడు ఒక పత్తి బంతిని చెవిలో చేర్చండి. మీరు కాటన్ బాల్ కు కొద్దిగా వాసెలైన్ ను వర్తించవచ్చు - ఇది నీటిని తిప్పికొడుతుంది.
చెవి లోని చిల్లు మరమ్మతులు జరిగిన తరువాత కనీసం ఒక సంవత్సరం వరకు, ఈత లేదా మతపరమైన స్నానం చేయకూడదు.
రసాయన, హోమియోపతిక్ లేదా ఇంట్లో చేసిన మూలికాలు చెవులు లోకి వేయరాదు.
మా మూలికాల  డ్రాప్స్ లో ఏముందంటే  ----------------------------------
మా పరిశుద్ధమైన మొక్క నుండి తీసిన సారమే అసలైన మాస్టర్ డ్రాప్స్.
ఈ పరిశుద్ధమైన డ్రాప్స్ నుండి  మీతా  అని డ్రాప్స్ చేయవచ్చు.
కాలానుగుణంగా ఈ డ్రాప్స్ రంగు గాడాం అవచు లేదా కోగ్యులేటెడ్ ప్లాంట్ రెసిడ్యూను  చూపించవచు - అవి సాధారణమైనవి - ఎప్పటికీ వాటి ప్రభావము మరియు సామర్థ్యము చెక్కుచెదరని. మా డ్రాప్స్ కు ఎటువంటి గడువు లేదు. వీలైనంత వరకు, వాటిని  సాధారణ ఉష్ణోగ్రతల వద్ద శుభ్రపరిచిన స్థలం లో, ప్రత్యక్ష కాంతి నుండి దూరంగా ఉంచవచ్చు.
పర్యావరణ సూక్ష్మజీవి లు కి  మా డ్రాప్స్ పాడుచేసే సామర్ధ్యం లేదు. అందువల్ల అవి ఎప్పటికీ మంచివి.
మేము నాలుగు 10 ml / 300 డ్రాప్స్  ద్రోప్పేర్  సీసాలు ను పంపుతాము -
రెండు సీసాలు మా స్వచ్ఛమైన మొక్క సారం సుమారు మొత్తం కలిగి. 600 ప్యూర్ మొక్క సారం చుక్కలు.
 
మీ పెరఫారాషన్ చికిత్స కోసం, మీకు మరింత ప్యూర్ డ్రాప్స్ అవసరం లేదు.
మా చికిత్స యొక్క సాఫల్యం లేదా వైఫల్యం ఈ కోధీ డ్రాప్స్ వల్ల జరుగుతుంది. ఇంకొంచం మిగిలిపోవచ్చు.  అది ఏపతికి పాడవదు.
ఒక సీసా లో పలుచపరిచిన 10 మిలీ మంచి నీరు లో కలిపి స్వచ్ఛమైన సారం యొక్క 25 చుక్కలతో  చెవి డ్రాప్స్ ఉంటుంది.
మరింత స్వచ్ఛమైన డ్రాప్స్ జోడించడం ద్వారా మీరు ఎప్పుడైనా కావలసిన శక్తిని పెంచుకోవచ్చు.
 
నాల్గవ సీసా ఒక 10ml నాసికా డ్రాప్ బాటిల్. ఇది మొక్కల యొక్క స్వచ్ఛమైన  సారం లోని  4 చుక్కలను, మంచి నీరు తో మిగిలిన 10 మిల్లీలీలను జోడించడం ద్వారా ఎప్పుడైనా మల్లి  చేయవచ్చు
స్వచ్ఛమైన మొక్క సారం డ్రాప్స్ తో, నాసల్ డ్రాప్స్ మరియు పలచబరిచిన చెవి డ్రాప్స్ ను  ఎప్పుడైనా ఎవరికైనా తయారు చేయవచ్చు.
నాసల్ డ్రాప్స్-
-----------------------
మీకు చలి, నాసికా రద్దీ సమస్య లేదా గొంతు సంక్రమణ సమస్య ఉంటే రోజుకు ఒకసారి నాసికా రంధ్రాలలో నాసికా డ్రాప్స్ 2 చుక్కల ను వేయండి.
ఇది సైనసిటిస్కు మాత్రమే నిజమైన పరిష్కారం.
 
అన్ని అంతర్గతంగా కలిసివుండడం వల్ల ఇది మధ్య చెవి సంక్రమణలో  సహాయపడుతుంది.
ఇయర్ డ్రాప్స్ అడ్మినిస్ట్రేషన్ - 
-------------------------------
 
ఏ పెరఫారాషన్  లేకుండా చెవి నొప్పి / దీర్ఘకాలిక మధ్య చెవి ఇన్ఫెక్షన్ ఉన్నప్పుడు :
మీ ఇయర్ డ్రం ను మా డ్రాప్స్ తో కాపాడుకోండి.
బాధ ఉన్న చెవి లో  4 చుక్కలను వేయండి మరియు 2 నిముషాల పాటు ఉంచండి.
ఈ తరువాత మీరు నిటారుగా నిలబడి, చెవి నుండి బయిటికి వచ్చేధీ పత్తితో  శుభ్రం చేసుకోవాలి.
మీకు చెవిలోని భారం  లేదా నొప్పి పూర్తిగా నయం అయి అంతవరకు మరియు సాధారణ అనుభూతి వరకు మీరు ఒక రోజుకి  ఒకటి నించి మూడుసార్లు వరుకు  ఈ ప్రక్రియ చేయవచ్చు.
మా చుక్కలు టిన్నిటస్  కి చెందవు, అయినప్పటికీ, ఇన్ఫెక్షన్ ను తగించడానికి  సహాయపడగలదు.   
టిన్నిటస్  అనేది చెవి లోని లోపల భాగానికి సంబంధించిన ఒక సమస్య. ఇది యొక్క బ్రెయిన్కు కు కనెక్ట్ అయి ఉంటుంది, మరియు మా డ్రాప్స్ చెవి లోని లోపల భాగాని చేరదు.
చివరికి ఎంత వినికిడి పెరుగుతుంది, ఎవరికైనా   ఊహ మాత్రమే . సమయం మాత్రమే చెప్పవచ్చు.
స్విమ్మర్స్ కోసం - ఇన్ఫెక్షన్ నుండి ముందు జాగ్రత్త లేదా నివారణ కోసం ఈత, డైవింగ్, సర్ఫ్ బోర్డింగ్ లేదా స్కూబా డైవింగ్ తర్వాత ప్రతి రెండు నిమిషాలకి  చెవి లో 4 చుక్కలను వేయండి.
నాసికా డ్రాప్స్ కూడా పైన సూచించినట్లుగా ఒకసారి వేయాలి .
ఇయర్ డ్రం లో పెరఫారాషన్ లేదా చిల్లులు ఉన్నప్పుడు :
మొదట్లో పలచబడ్డ డ్రాప్స్ వేయండం ప్రారంభించండి. రోజుకి ఒక సరి 2 నుండి 4 డ్రాప్స్ , ప్రతి 2 నిముషాల కి.
ఉద్రిక్తత భరించదగినది అయినట్లయితే, మీరు ప్రతి ప్రత్యామ్నాయం రోజులు లో స్వచ్ఛమైన చుక్కలను వేయడం ప్రారంభించండి.
ఉద్రిక్తత మరింత భరించదగినది అయితే స్వచ్ఛమైన డ్రాప్స్ ను వేయండి.  లేకపోతె పలచగా ఉన్న డ్రాప్స్ ను వాడవచ్చు.
అంతిమంగా ఉద్రిక్తత తగుతుంది, తద్వారా మీరు మళ్ళీ స్వచ్ఛమైన డ్రాప్స్ ను వయవచు.
ఈ పై ప్రక్రియ చాలా ఎక్కువ సమయం పడుతుంది. దాని గురించి ఓపిక గా ఉండటం తపీతే మరేమీ చేయలేము.
మొక్క నుండి స్వచ్ఛమైన సారం యొక్క డ్రాప్స్ రోజు విడిచి రోజు ఒక సారి  కలుపుకోవాలి.
రొండు నిముషాలు వరుకు రొండు నుండి మూడు స్వచ్ఛమైన డ్రాప్స్ సరిపోతుంది.
పూర్తిగా నయం అయి అంత వరుకు బాధగా ఉన్న చెవి లో ఏ రకమైన  బాహ్య నీరు చేరకూడదు. కనీసం ఒక  సంవత్సరం వరుకు జగ్రతా పడాలి.
చీము  రావడం పూర్తిగా ఆగిపోయి   మరియు దురద తగుతే, ఇది సంక్రమణను తటస్థీకరించినట్లు సూచిస్తుంది.
ఈ సమయమ వరుకు మీరు స్వచ్ఛమైన డ్రాప్స్ ను  కలుపుకుని వాడారు. ఇక ముందు కూడా ప్రత్యామ్నాయ రోజున స్వచ్ఛమైన డ్రాప్స్ ను వాడటం  మాత్రమే కొనసాగింది.
యాంటిబయోటిక్ రెసిస్టెన్స్ మరియు సూడోమోనాస్ ఎరుగ్సినోసా, ఎంఆర్ఎస్ఏ , ఈ.కోలి వంటి సూపర్ బగ్స్ యొక్క యుగంలో ఈ తటస్థీకరణ సంక్రమణ అస్తిత్వ సాధన కాదు.
ఈ సూపర్ బగ్స్ ప్రపంచవ్యాప్తంగా నాశనమ చేసుతున్నాయి. వీటిని మా మొక్క యొక్క సారంతో తటస్థీకరించవచ్చు.
ప్రతిష్టాత్మకమైన ది శ్రీరామ్ ఇన్స్టిట్యూట్ ఫర్ ఇండస్ట్రియల్ రీసెర్చ్, న్యూఢిల్లీ, భారత, నుండి సర్టిఫికేట్ కాపీలు ఈ సైట్లో పోస్ట్ చేయబడుతున్నాయి.
 
ఇన్ఫెక్షన్ తటస్థీకరణ పొందిన తరువాత, రంధ్రం యొక్క పరిమాణం తనిఖీ చేయించొకోండి మరియు ఒక ఈఎంటి వైద్యుడు ద్వారా అంచనా వేయించుకోండి.
 
రోజు విడిచి రోజు కు ఒకసారి స్వచ్ఛమైన డ్రాప్స్ ను కలుపుకోవాలి ,మరియు  రంధ్రపు పరిమాణం 40 రోజులు తర్వాత తనిఖీ చేయించుకోండి. సాధ్యమైతే మళ్ళి 80 రోజుల తరువాత అదే ఈ ఎన్ టి వైద్యుడు దగిర తనిఖీ చేయించుకోండి.
ఎపుడు ఐతే 2 వ లేదా 3 వ పరిశీలనలో నయం / మరమ్మత్తు లేదా మూసివేయడం జరుగుతుందో మరియు రంధ్రం పరిమాణం తగుతుందో, మా స్వచ్ఛమైన డ్రాప్స్ ఉపయోగించితే  కొని నెలల్లో మూసుకుపోతుంది, లేకుంటే మీరు శస్త్రచికిత్సా మరమ్మతు కోసం వెళ్ళవలసి ఉంటుంది.
 
అదనపు పాయింట్లు -
కాలానుగుణంగా ఈ డ్రాప్స్ రంగు గాడాం అవచు లేదా కోగ్యులేటెడ్ ప్లాంట్ రెసిడ్యూను  చూపించవచు - ఎప్పటికీ శక్తివంతమైన మరియు సమర్థవంతమైనదిగా ఉంటుంది.
ఈ సారం వైద్యరాజ్ అనిల్ డోగ్రామరియు కుటుంబం ద్వారా చేతి తో తయారు పడింది..
 
వైద్యరాజ్ అనిల్ డోగ్రా -+91 9810260704
 
భారతదేశంలో ఆర్డర్స్ కొరకు పైన సెట్ యొక్క ధర 3700.00 రూపాయలు, షిప్పింగ్ తో సహా. ధరలు ఎప్పుడైనా మార్చడం జరుగుతుంది.
 
సాధారణంగా వైద్యం పూర్తి వైద్యం కోసం అదనపు స్వచ్ఛమైన సారం అవసరం లేదు. మీకు అదనపు సారం కావాలనుకుంటే, పైన పేర్కొన్న మొత్తం సెట్ను మళ్లీ ఆదేశించాలి.    
భారత్ దేశం బయట ఆదేశిచితే, షిప్పింగ్ తో సహా ఈ పైన చూపిన సెట్ ధర  USD 145.౦౦.
హెర్బల్ వస్తువుల దిగుమతి పరిమితులు వల్ల , మేము యుఎఇ, సౌదీ మరియు కొన్ని ఇతర ఇస్లామిక్ దేశాలకు పంపించము.
ఇది పాకిస్తాన్కు పంపబడుతుంది.
మీరు www.Paypal.com ద్వారా మా ఇమెయిల్ చిరునామా [email protected] ను ఉపయోగించి చెల్లించవచ్చు లేదా మనీగ్రాం లేదా వెస్ట్రన్ యూనియన్ ద్వారా క్రింది వివరాలను ఉపయోగించి చెల్లించవచ్చు:
 
అనిల్ కుమార్ డోగ్రా, ఐ ఏ / 20 ఏ , ఫసె వన్ , అశోక్ విహార్, ఢిల్లీ , భారత్- 110052 . ఫోన్: +91 9810260704. 
మీరు వివరాలను మా ఇమెయిల్ చిరునామా [email protected] కు పంపవచ్చు.
 
భారతదేశం లోపల - దయచేసి క్రింది ఖాతాలో డబ్బుని  జమ చేసి మరియు పేరు, చిరునామా, పిన్ కోడ్ మరియు ఫోన్ నంబర్  మా ఇమెయిల్ లేదా మా ఫోన్లో 9810260704 కు ఎస్ఎంఎస్ ద్వారా  లేదా వాట్సాప్ ద్వారా తెలియజేయండి:
 
దయచేసి ఎస్బిఈ  బ్యాంకు  బ్రాంచ్ అశోక్ విహార్, ఫసె వన్, ఢిల్లీ 110052, భారత వద్ద శ్రీమతి. మీను డోగ్రా సంఖ్య 35782552316 యొక్క సేవింగ్స్ ఖాతాలో రూ. 3700 ని డిపాజిట్ చేయండి. నెఫ్ట్ ఐఎఫ్ఎస్ సి కోడ్ SBIN0007783.
 
ఎఫ్ ఏక్కుస్ (ఫాక్ట్స్ మరియు ప్రశ్నలు):
1.) ఎర్డ్రూమ్ చెక్కుచెదరకుండా మరియు వ్యక్తి చెవి నొప్పి మరియు మధ్య చెవి ఇన్ఫెక్షన్ కలిగి ఉన్నప్పుడు, ENT వైద్యులు ఎర్ర్రమ్ పల్ఫరేషన్ యొక్క ఏ చెవి డ్రాప్స్ మరియు Incase ఏ చెప్పవు, ENT వైద్యులు ఏ చెవి డ్రాప్స్ ఉంచకూడదు హెచ్చరించడానికి. సో ఎందుకు మరియు ఎలా మీ చెవి డ్రాప్స్ సహాయపడవచ్చు?
1.) వ్యక్తి  యొక్క ఇయర్ డ్రం చెక్కుచెదరకుండా మరియు  చెవి నొప్పి లేదా మధ్య చెవి ఇన్ఫెక్షన్ కలిగి ఉన్నప్పుడు, ఈఎంటి వైద్యులు చెవి డ్రాప్స్ వద్దు అంతారు.  ఇయర్ డ్రం పల్ఫరేషన్ యొక్క సందర్భం లో కూడా ఈఎంటి వైద్యులు చెవి డ్రాప్స్ వద్దు అంతారు. యిట్లనప్పుడు మీ చెవి డ్రాప్స్ ఎందుగు మరియు ఎలా సహాయపడుతుంది?
మధ్య చెవి ఇన్ఫెక్షన్ లేదా ఓటైటిస్ మీడియా నయం చేయటానికి ఈఎనటి వైద్యులు  చెవి లో డ్రాప్స్ వైయదు ఏ  డ్రాప్స్ ఇయర్ డ్రం ను దాటి చెవి యొక్క లోపల భాగాన్ని చేరలేవు
చాలా వర్గీకరణపరంగా మాట్లాడితే, మేము ధృవీకరించి చెపేది ఏమిటెంటే, మా చెవి  డ్రాప్స్ ఏదైనా తీవ్రమైన లేదా దీర్ఘకాలిక ఓటిటిస్ మీడియాను  ఏ వయసైనా కానీ, ఒక రోజు నుండి ఒక వారం లోపల నయం చేయగలవు.
నోటి యాంటీబయాటిక్స్ అవసరం లేదు.
మోడరన్ మెడికల్ సైన్స్ ప్రోగ్రెస్లో ఉన్న పని, కనీసం చెప్పటానికి.
 
వాస్తవానికి ఓస్మోసిస్ ద్వారా మా చెవి డ్రాప్స్ అతిసూక్ష్మమ గా ఇంకా తగినంత పరిమాణంలో, ఇన్ఫెక్షన్ని తటస్తం చేయడానికి ఇయర్ డ్రం అంతటా చేరుతుంది,. జోడించిన చుక్కల మిశ్రమాన్ని కేవలం 2 నిమిషాల తరువాత వదిలేయండి.
 
వైద్యులు భయపడేది ఎమిటెంటే కెమికల్ ఔషధం చెవి డ్రాప్స్ ద్వారా సమస్యను పెంచుతుంది - ఇది సరైనది కావచ్చు.
 
చెవి డ్రాప్స్ తమాతో తాము బాక్టీరియల్ పాథోజన్ తీసుకువెళ్ళవచ్చు - మరియు మేము వాటిని అంగీకరిస్తున్నారు.
కాని - మా చెవి డ్రాప్స్ విభిన్నంగా ఉంటాయి.
మా డ్రాప్స్ పూర్తిగా ఔషధంగా ఉంటాయి, మరియు అవి రోగకారక కవచాలను తటస్తం చేయడానికి నిరూపించబడ్డాయి.
ఒకరు మా చుక్కలతో పూర్తిగా సురక్షితం.
మేము కూడా మా డ్రాప్స్ తో ఏ ఇతర చెవి డ్రాప్ వద్దని చెపుతాము మరియు ఈత వద్దని ఆదేశించు తాము. ఇయర్ డ్రం పూర్తిగా మూసుకుపోయే అంత వరకు స్నానం చేస్తున్నప్పుడు నీరు  మీ చెవిలో ప్రవేశించకూడదు. మున్సిపల్ నీటికి లో సూపర్ బ్యాక్టీరియా వ్యాధి కారకాలను కలిగి ఉంటుంది మరియు సంక్రమణను పునఃప్రారంభించవచ్చు.
 
2.) మీరు 100 శాతం ఇయర్ డ్రం మూసివేతకు హామీ ఇవ్వగలరా?
100 శాతం సంక్రమణ నష్టపరిచే పూర్తి హామీ ఉంది, కానీ పూర్తి ఇయర్ డ్రం మరమ్మత్తు యొక్క హామీ 60 నుండి 70 శాతం మాత్రమే.
ఇది ప్రక్రియ లోఒక అడుగు, మరియు దీనిగురించి  స్పష్టంగా పైన వివరించబడ్డాయి. మేము ఎన్నో ర్యూపార్టెడ్ ఇయర్ డ్రం పూర్తిగా మూసివేసాము. 
 
టెస్టిమోనియల్స్ జాబితాలో మా ఖాతాదారుల జాబితా, వారి ఫోన్ నంబర్లతో చికిత్స ఫలితాలకు సంబంధం లేకుండా ఉంటుంది. ఈ జాబితా పూర్తి కాదు, ఎందుకంటే అనేక క్లయింట్లు గోప్యత సమస్యల కారణంగా చేర్చబడకూడదని ఎంచుకుంటాయి.
3.) నా చెవి నుండి చీము  రాదు, అంటే నాకు ఇన్ఫెక్షన్ లేదా?
 
చీము చనిపోయిన కణాలను కలిగి ఉంటుంది. ఇది శరీర రోగనిరోధక శక్తి లేదా ఔషధం తీసుకుని సంక్రమణ ను పోరాడు తున్నపుడు బయిటికి వస్తుంది. 
 
చీము ఎప్పుడు బయటకు వస్తూ ఉంటే, అది సంక్రమణ ఇప్పటికీ ఉంది అని సూచిస్తుంది.
 
 
కొన్నిసార్లు, ప్రారంభంలో చీము ఉండదు, కానీ మీరు మా చెవి డ్రాప్స్ చేర్చండి, అది బయిటికి రావడం ప్రారంభిస్తుంది. దీని అర్థం ఇన్ఫెక్షన్ నిద్రాణమైనది. ఇది యాంటీబయాటిక్స్ కారణంగా లేదా ఇంకో కారణం గా ఎండబెట్టింది, కానీ పూర్తి గా తగ్గ లేదు.
 
మా డ్రాప్స్ ఇప్పటికే ఉన్న సంక్రమణకు వ్యతిరేకంగా పోరాటం పునఃప్రారంభించగానే, చనిపోయిన కణాలు సృష్టించబడతాయి మరియు వారు చీము గా ప్రవహిస్థాయి.
 
రంధ్రం పూర్తిగా మరమ్మతులు అయ్యేంత వరకు పబ్లిక్ సరఫరా నీరు చెవిలోకి ప్రవేశించటానికి అనుమతించరాదు - ఎందుకంటే ఇది ప్రజా నీటి సరఫరాలో చెడు బ్యాక్టీరియా వలన అంటువ్యాధిని జోడించడం లేదా పునఃప్రారంభం కావచ్చు.
 
స్నానం, స్విమ్మింగ్ లేదా మతపరమైన స్నానం చేసే సమయంలో ఈ వ్యాధి ప్రమాదం ఉంది.
 
జాగ్రత్త, స్నానం చేసేటప్పుడు చెవి ని పత్తి తో కాపాడుకోవాలి.
మా డ్రాప్స్ వల్ల చీము పూర్తిగా ఆగిపోతే, మేము సంక్రమణ పూర్తిగా పోయింది అని చెప్పగలము.
 
4.) మేము వైద్యంరాజ్ అనిల్ ను కలుసుకోవచ్చా మరియు మీ చేతి నుండి చెవి డ్రాప్స్ తీసుకోవచ్చా?
 
లేదు.మేము ఇక్కడ వివరంగా అని చెపుతాము. మీరు కాల్ మరియు ఇమెయిల్ పంపవచ్చు.
 
మేము అన్ని చెవి సమస్యల కోసం ఈ అంతిమ నివారణ కలిగి ఉన్నాము మరియు ఏ ఇతర ఔషధం సిఫార్సు లేదు.
 
సాధారణంగా, మీరు డాక్టర్ చూసినప్పుడు, ఇక్కడ వివరించే వాటిలో 10 శాతం కూడా వారు వివరించరు. వైద్యలు- హెర్బాలిస్ట్స్ అవటం తో - మేము ఆరోగ్యం సమస్యను సంపూర్ణంగా చికిత్స చేస్తాం, అందువల్ల మా హెర్బల్ డ్రాప్స్ వ్యాధి నిర్ధారణకు సంబంధం లేకుండా పని చేస్తుంది మరియు సహాయపడుతుంది, 
 
అన్ని పెరఫారాషన్ లేదా చిల్లు  సమస్యలు సమానంగా ఉంటాయి.
 
కెమికల్ బేస్డ్ మోడరన్ మెడిసిన్ లేదా అలోపతీ లాంటిది కాకుండా, సమస్యలో కొంత భాగాన్ని మాత్రమే లక్ష్యంగా పెట్టుకోవడం లేదా పరిష్కరించడం జరుగుతుంది, మిగిలినవి దుష్ప్రభావాలతో చిక్కుకుంటాయి. మా డ్రాప్స్ అటువంటిది కాదు.
 
 
5.) ఈ మధ్య ఇయర్ డ్రం శస్త్రచికిత్స ఎందుకు విఫలం  అవుతోంది  మరియు మిడిల్ ఇయర్  ఇన్ఫెక్షన్  కి చెవిలో ట్యూబ్స్ లేదా గ్రోమ్మేట్స్ వేయండం ఎందుకు ప్రమాదకరం అవుతోంది?
ఎందుకు ఈ రోజుల్లో శస్త్రచికిత్సలు విఫలం అవుతోంది?
 
ప్రతి సంవత్సరం అమెరికాలో చెవి  గొట్టాలను లేదా గ్రోమెట్లు వంటి 2 మిలియన్ల రివేట్చె అతిసూక్షముగాఇయర్ డ్రం ద్వారా చిల్లు పొడిచి  వెయ్య బడతాయి. ఎక్కువగా ఈ సర్జరీ చిన్న పిల్లలు లో చేస్తారు. 
ఈ చెవి గొట్టాలు ఒకటి లేదా రొండు సంవత్సరాలో పడిపోయేలా ఉంటాయి. అతిసూక్ష్మమైన చెవి రంధ్రం దానంతటి అదే త్వరగా మూసుకుంటుంది అని వూహించుకుందాము.
ఈ గామ్మెట్లు ఒక సొరంగంను సృష్టించడానికి ఒక చిన్న శస్త్రచికిత్స రంధ్రం ద్వారా ఉంచుతారు, తద్వారా ఇయర్ డ్రమ్స్ వెనక ఉన్న  చీము పోగొ అవకండా బయటకు ప్రవహిస్తుంది. ఎందుకంటే అది పోగొ ఆవూతే కర్ణభేరి లేదా ఇయర్ డ్రం పై ఒత్తిడి తెచ్చి దానిని వెదజల్లుతుంది.
ఈ రోజుల్లో, చీము తీక్ష్ణమైన లేదా దీర్ఘకాలిక మధ్య చెవి సంక్రమణం కారణంగా వస్తుంది. ఇది సామాన్యమైన ఓరల్ యాంటీబయాటిక్స్తో ద్వారా తటస్థీకరించబడదు, చంపబడదు లేదా తొలగించబడదు.
మధ్య చెవి ఇన్ఫెక్షన్ ఎక్కువగా యాంటిబయోటిక్ రెసిస్టెంట్ అవుతుంది - అందువల్ల ఒకే ప్రత్యామ్నాయం మార్గం ఏమిటంటే  ఇయర్ డ్రం ద్వారా యాంత్రిక సొరంగంను తయారు చేయడం.  దీని వల్ల కనీసం ఇయర్ డ్రం ని పెద్ద రంధ్రం లోకి విస్ఫోటనం అవ్వకండి కాపాడుకోవచ్చు.
శిశు రోగనిరోధక శక్తి వయస్సుతో బాగుంటుందని ఊహిస్తూ, సంక్రమణ కు సహజంగా చికిత్స చేసి తటస్థీకరిస్తారు. ఆపై చెవి ట్యూబ్ లేదా గ్రోమెట్ పడిపోతుంది లేదా తొలిగించి పడుతుంది. అదే రోగనిరోధక శక్తి మిగిలి ఉన్న చిన్న రంధ్రంను మూసివేయడానికి సహాయపడుతుంది.
 
ఇదా పూర్తీ కదా లేదా ఇయర్ ట్యూబ్స్ వెనక ఉన్న లాజిక్.
కానీ సూపర్ బ్యాక్టీరియల్ ఇన్ఫెక్షన్ మల్లి వస్తే, చెవి ట్యూబ్ పడిపోయిన తరువాత కూడా, రంధ్రం మూతపడదు, కాని సమయంతో బ్యాక్టీరియా జనాభా పెరగటం కారణంగా పెద్దదిగా అవుతుంది.
టైమ్ప్యాన్లోప్లాస్టీ లేదా ఇయర్ డ్రం పెరఫారాషన్ రిపేర్ శస్త్రచికిత్సతో కూడా ఇదే పరిస్థితి- 
శస్త్రచికిత్సకు ముందు శస్త్రవైద్యుడు ఓరల్ యాంటీబయాటిక్స్ను అంతర్లీన సంక్రమణను నిర్మూలించడానికి మీకు ఇస్తారు, దీని వలన ఇయర్ డ్రం సహజంగానే మూసివేయబడలేదు.
డాక్టర్ దృశ్యపరంగా ఎటువంటి సంక్రమణ లేనప్పుడు అతను దానిని తొలగించినట్లు భావిస్తాడు.
 పూర్తి సంక్రమణ పోయిందో లేదో నిర్ణయించడానికి అతను ఏ సూక్ష్మజీవ పరీక్ష చేయడు.
కొన్నిసార్లు అలా చేయటం కూడా అసాధ్యమ.
కానీ సంక్రమణ చాలా అతిసూక్ష్మమైన బ్యాక్టీరియా. ఇది  యాంటీబయాటిక్స్మ తీసుకున్న దీర్ఘకాలం వరుకు చెవిలో ఉంటే, లేదా ఇవి యాంటిబయోటిక్ రెసిస్టెంట్ సూపర్బ్యూగ్స్ లేదా సూపర్ బ్యాక్టీరియా ఐయితే, ఇట్లాంటి  పరిస్థితుల్లో  డాక్టర్ ఇయర్ డ్రం మరమ్మత్తు చేస్తే, అది ఎలా ఉంటుంది అంటే  బలహీనత పునాది పై ఒక భవంతి కటి నట్లే  ....
భవనం ఎపుడైనా కూలిపోతుంది.
కొని సంవత్సరాల తరువాత, ఈ సూపర్ బగ్స్ పెరుగుతాయి మరియు మరమ్మత్తు అయినా ఇయర్ డ్రం ను పడు చేస్తాయి.
ఈ రోజుల్లో, ఇది మరింత సాధారణ మరియు తరచుగా అవుతోంది.
మనం సూపర్ బగ్స్ ఒక్క యుగం లో జీవిస్తున్నాము. ఇటు వంటి ఎంటిబయోటిక్ రెసిస్టెంట్ సూపర్ బగ్స్ ను చంప గలిగే ఎంటిబయోటిక్ తీసుకునే అంత వరుకు ఈ శస్త్రచికిత్సలు విఫలమ అవుతాయి.
5.) మేము ఇయర్ డ్రం ని కాపాడుకోడానికి  ఇయర్ డ్రం సర్జరీ తరువాత ఈ చెవి డ్రాప్స్ ఉపయోగించవవచ్చా?
 
 
మీరు శస్త్రచికిత్స ద్వారా మరమ్మత్తు పొందినట్లయితే, మీరు ఒక నెల పాటు వేచి ఉండి, ఆ చెవిలో మా పలచ పరిచిన డ్రాప్స్ యొక్క 4 చుక్కలను రెండు నిముషాల పాటు, వారానికి ఒక సరి సమస్త్రం అంత వేయియండి. మీరు ముందు తీసుకున్న లేదా శస్త్రచికిత్సకు ముందు తీసుకున్న యాంటీబయాటిక్స్తో చంపబడిన సూపర్ఫార్గ్ల కారణంగా మరమ్మతులు ఉన్నవాటిని విఫలం కాకూడదని నిర్ధారించుకోండి.
ఈ విధంగా మీరు ఈ దోషాల ప్రమాదాన్ని తగించవచ్చు. దోషాల  సంఖ్యలో వృద్దియగుట ఇయర్ డ్రం మరమ్మతు వైఫేల్యిస్తుంది. 
 
 
6.) మీ రొండు ఇయర్ డ్రమ్స్ లో చిల్లు ఉంటె, మును ఆన్ చెవి లో మా డ్రాప్స్ వాడండి.  మేకుకు నమ్మకం కుదిరాక రొండో చెవి లో డ్రాప్స్ వేయండి.
 
7.) కొన్నిసార్లు పల్ఫరస్ కేసుల్లో ఇన్ఫెక్షన్ తీవ్రంగా ఉంటుంది మరియు లోపల ఉన్న పరిస్థితి ఎలా ఉంటుంది 
అంటే, మీరు తొలిసారిగా కరిగించిన చుక్కలు వేసినప్పుడు, నొప్పి చాలా ఉంటుంది మరియు ఇది ఎక్కువ సమయం కోసం భారంగా ఉంటుంది, అంటే  సగం రోజు లేదా ఎక్కువ సమయం వరుకు.
 
అలాంటి సందర్భాలలో, పలచపడిన డ్రాప్స్ లోని 50 శాతం తీసుకుని నీటితో మరింత పలచన చేయొచ్చు. నాసల్ డ్రాప్స్  కొనసాగించండి. నొప్పి మరియు తీవ్రత ముగిసినప్పుడు మాత్రమే ఈ కొత్త అదనపు పలచని చుక్కలను జోడించండి.
పలచబరిచిన డ్రాప్స్ ప్యూర్ సారం యొక్క 25 చుక్కలను కలిగి ఉంటుంది మరియు మిగిలిన 10 మి.లీ క్లీన్ వాటర్ని కలిగి ఉంటుంది. ఒక కొత్త ఖాళీని 10 ml డిప్పర్ సీసాగా తీసుకురావడం ద్వారా, మీరు కొత్తగా కరిగించిన చుక్కలను సృష్టించవచ్చు.
 
8.) ఓరల్ కెమికల్ యాంటీబయాటిక్స్ ఇన్ఫెక్షన్ని ఆరపెడుతుంది - ఇన్ఫెక్షన్ని పూర్తిగా తటస్థితమైందా లేదా అని ఎవరికీ తెలియదు.  నొప్పి, వాపు లేదా భారము కొనసాగితే - ఈ ప్రజలకు చెవి సొరంగం శుభ్రం చేయిచుకోటం తప్ప వేరే మార్గం లేదు . సమస్య ఏమిటంటే వారు శుభ్రం చేయడానికి సాధనం లేదా సాంకేతికత వంటి వాల్యూమ్ క్లీనర్ వాడతారు. వాక్యూమ్ ప్రెజర్ పెరుగుతే , అది ఇయర్ డ్రం ను శుభ్రం చేస్తున్నప్పుడే పేలుస్తుంది. అటువంటి అనేక కేసులు మేము చూసాము.
మీ ప్రియమైన స్నేహితులు మరియు కుటుంభం సభ్యులు కు ఇయర్ ఎక్సటర్న లేదా టన్నెల్ శుభ్రం చేయించొకుడని తేలి చేయండి. ప్రత్యేకంగా ఒక వాల్యూమ్ టూల్ ద్వారా అసలు చేయించుకుడదు.
మా పలుచపరిచన  డ్రోప్స్ మాత్రమే, నెమ్మదిగా మరియు సహజంగా చెవి వాక్స్ ను శుభ్రం చేస్తుంది. ఇది ఎలాంటి బాహ్య వాతావరణాన్ని s సృష్టించుతుందంటే , తరువాత చెవి సహజంగానే స్వయంగా చెవి లో ఉన్న వాక్స్ ను శుభ్రపరుస్తుంది.  ఇయర్ బడ్ ని ఉపయోగించవద్దు.
9.) కొన్నిసార్లు, పలుచబరిచిన డ్రాప్స్ ద్వారా చెవి లో నొప్పి మరియు భారము చాలా ఎక్కువ పొడిస్తుంది - ఇది కొన్ని సందర్భాల్లో మాత్రమే జరుగుతుంది.
అలాంటి సందర్భాలలో, పలుచబరిచిన డ్రాప్స్ ప్రతి ప్రత్యామ్నాయ రోజులు లేదా తరువాత నొప్పి మరియు భ్రమణ పూర్తిగా ఉపశమనం కలిగిం చే వరుకు వాడాలి.
 
ఇటువంటి సందర్భాల్లో క్లిష్టమైన మరియు తీవ్రమైన సంక్రమణ సమస్యలు ఉంటాయి. దాని గురించి చాలా ఓపికగా ఉండాలి, మరియు తొందర పది స్వల్ప కాలంలో ఫలితాలను ఆశించకూడదు.
 
అలాగే, ఇయర్ డ్రం చిల్లు యొక్క దీర్ఘకాల సంక్రమణ మరియు పునఃసృష్టిని నయం చేయడం, ఓర్పు, క్రమబద్ధత మరియు క్రమశిక్షణ యొక్క ఆట.
 
అంతేకాక, మీరు ఏమి జరుగుతుందో విశ్లేషించడానికి తెలివైన, స్మార్ట్ మరియు స్వీయ అంతర్దృష్టి అయి ఉండాలి , మరియు మా డ్రాప్స్ ని, మొత్తం జ్ఞానం, ఇక్కడ ప్రదర్శిస్తాము మరియు వ్యాసం సలహా వాడి  మీ స్వంత చికిత్స వ్యూహాలను మార్చండి.


ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਇੱਕ ਸਿੰਗਲ ਜਾਂ ਦੋਵੇਂ ਕੰਨਾਂ ਵਿੱਚ ਮੋਰੀ ਹੋ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਮੋਰੀ ਜਨਮ ਤੋਂ ਹੋ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਕੋਈ ਸੱਮਸਿਆ ਨਹੀਂ।
ਜੇ ਕੋਈ ਪੱਸ ਬਾਹਰ ਨਹੀਂ ਆ ਰਹੀ ਅਤੇ ਠੀਕ ਸੁਣ ਰਿਹਾ ਹੈ - ਇਸ ਬਾਰੇ ਕੁਝ ਵੀ ਕਰਨ ਲਈ ਪਰੇਸ਼ਾਨ ਨਾ ਹੋਵੋ। ਲੋਕ ਲੰਬੇ ਸਮੇਂ ਤੱਕ ਇੱਕ ਭਰੇ ਹੋਏ ਕੰਨ ਦੇ ਨਾਲ ਆਮ ਜੀਵਨ ਜਿਉਂਦੇ ਹਨ। 
ਸਿਰਫ ਇਹ ਸਾਵਧਾਨੀ ਰੱਖੋ ਕਿ ਬਾਹਰ ਤੋਂ ਪਾਣੀ ਦੋਨਾਂ ਵਿਚੋਂ ਕਿਸੇ ਵੀ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਨਾ ਦਾਖਲ ਹੋਵੇ। ਦੋਵੈਂ ਕੰਨਾਂ ਨੂੰ ਨਹਾਉਣ ਜਾਂ ਇਸ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ ਵੀ ਬਾਹਰੀ ਪਾਣੀ ਤੋਂ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ।
ਜਦੋਂ ਪੱਸ ਸ਼ੁਰੂ ਹੋਣ ਲੱਗ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਜਾਂ ਇਸ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨਾਲ ਸੁਣਵਾਈ ਬਹੁਤ ਜ਼ਿਆਦਾ ਪ੍ਰਭਾਵਤ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਇਲਾਜ ਦੀ ਲੋੜ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। 
ਜੇ ਤੁਹਾਡੇ ਦੋਨੋ ਕੰਨਾਂ ਵਿੱਚ ਮੋਰੀ ਹੈ ਤਾਂ ਤੁਸੀਂ ਉਸ ਕੰਨ ਨਾਲ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰੋਗੇ ਜਿਸਦਾ ਮੋਰੀ ਛੋਟੀ ਹੈ ਜਦੋਂ ਤਕ ਕਿ ਦੂਜੇ ਕੰਨ ਵੀ ਵਹਿਣ ਨਾ ਲੱਗ ਜਾਵੇ। 
ਜੇ ਦੋਵੈਂ ਵਹਿੰਦੇ ਹੋਣ ਤਾਂ ਤੁਸੀਂ ਦੋਵੈਂ ਕੰਨਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰੋ। 
 
ਵਹਿਣ ਦਾ ਅਰਥ ਹੈ ਸਕ੍ਰਿਏ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ। 
 
ਮੇਰੇ ਸਾਰੇ ਵੀਡੀਓ ਅਤੇ ਲੇਖਾਂ ਅਤੇ ਵੈੱਬਸਾਈਟ ਨੂੰ ਧਿਆਨ ਨਾਲ ਪੜ੍ਹੋ ਅਤੇ ਸਲਾਹ ਅਤੇ ਹਿਦਾਇਤਾਂ ਦੀ ਪਾਲਣਾ ਕਰੋ। 
 
ਤੁਹਾਡੇ ਤਕਰੀਬਨ 100 ਪ੍ਰਤੀਸ਼ਤ ਸਵਾਲਾਂ ਦੇ ਜਵਾਬ ਇੱਥੇ ਦਿੱਤੇ ਹੋਏ ਹਨ। 
 
ਸਾਡੇ ਡ੍ਰੌਪਸ ਨੂੰ ਕਿਵੇਂ ਆਰਡਰ ਕਰਨਾ ਉਸ ਬਾਰੇ ਵੀ ਦਸਿਆ ਗਿਆ ਹੈ। 
 
ਪੜ੍ਹਨ ਅਤੇ ਸਮਝਣ ਦੀ ਬਜਾਏ ਲੋਕ ਯਕੀਨ ਕਰਨ ਲਈ ਮੈਨੂੰ ਸਿੱਧਾ ਫੋਨ ਕਰਦੇ ਹਨ। ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਇਹ ਕੰਮ ਨਹੀਂ ਕਰੇਗੀ। 
 
ਤੁਹਾਨੂੰ ਇਸ ਸਮੱਸਿਆ ਬਾਰੇ ਜਾਣੂ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਸਫਲਤਾ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ ਤੁਸੀਂ ਸਾਡੇ ਟੂਲ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਿਵੇਂ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹੋ। 
 
ਸਫ਼ਲਤਾ ਕੇਵਲ ਸਾਡੇ ਭਰੋਸੇ ਨਾਲ ਨਹੀਂ ਆਵੇਗੀ ਪਰ ਜੇਕਰ ਤੁਸੀਂ ਹਿਦਾਇਤਾਂ ਦੀ ਪਾਲਣਾ ਕਰੋਗੇ ਤਾਂ ਇਹਦੇ ਮਿਲਣ ਦੀ ਜ਼ਰੂਰ ਵਧੇਰੀ ਸੰਭਾਵਨਾ ਹੈ।
 
ਅਸੀਂ ਸਪੱਸ਼ਟ ਤੌਰ ਤੇ ਇਹ ਦੱਸਦੇ ਹਾਂ ਕਿ ਸਾਡੇ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਈਅਰ ਡ੍ਰੌਪਸ ਕੁਦਰਤੀ ਤੌਰ 'ਤੇ ਭਰੇ ਹੋਏ ਕੰਨ ਨੂੰ ਠੀਕ ਕਰਨ ਲਈ ਇਕੋ ਅਤੇ ਅਸਲੀ ਹੱਲ ਹਨ- ਪੂਰੇ ਵਿਸ਼ਵ ਵਿੱਚ।
 
ਸਾਡੇ ਇਲਾਜ ਦੇ ਲੌਕਿਕ ਅਤੇ ਸੰਕਲਪ ਨੂੰ ਸਪਸ਼ਟ ਤੌਰ ਤੇ ਹੇਠਾਂ ਵਿਸਤ੍ਰਿਤ ਵਿਸਥਾਰ ਵਿੱਚ ਦੱਸਿਆ ਗਿਆ ਹੈ ਅਤੇ  ਨਾਲ ਹੀ ਮਾਈਕਰੋਬਾਇਓਜੀਲ ਸਾਰਟੀਫਿਕੇਟ ਜੋ ਸਾਡੇ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟ੍ਰੈਕਟ ਦੀ ਵਿਸ਼ਵ ਪੱਧਰੀ ਵਿਲੱਖਣਤਾ ਨੂੰ ਦਰਸਾਉਂਦਾ ਹੈ।
----------------------
 
ਸੰਪੂਰਨ ਤੰਦਰੁਸਤੀ ਅਤੇ ਭਰੇ ਹੋਏ ਕੰਨ ਨੂੰ ਠੀਕ ਕਰਨ ਲਈ ਸਾਡੀ ਸਫਲਤਾ ਦੀ ਦਰ 60 ਤੋਂ 70 ਪ੍ਰਤੀਸ਼ਤ ਹੈ।
 
ਉਤਪੱਤੀ/ ਪਸ / ਤਰਲ ਪਦਾਰਥ ਨਾਲ ਭਰੇ ਕੰਨ ਵਾਲੀ ਗੰਭੀਰ ਜਾਂ ਲੰਬੇ ਸਮੇਂ ਦੀ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਦੇ ਮਾਮਲੇ ਵਿੱਚ ਸਾਡੀ ਸਫਲਤਾ ਦਰ 100% ਹੈ।
 
ਸਾਡੇ ਗਿਆਨ ਅਤੇ ਖੋਜ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ - ਅਸੀਂ ਬੜੀ ਦ੍ਰਿੜਤਾ ਨਾਲ ਕਹਿੰਦੇ ਹਾਂ ਕਿ ਸਾਡਾ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਡ੍ਰੌਪ ਸਾਡੇ ਦੁਆਰਾ ਜਾਂ ਸਾਡੇ ਲਈ ਬਿਹਤਰ ਨਹੀਂ ਬਣਾਇਆ ਜਾ ਸਕਦਾ।
 
ਪੂਰਨ ਬੰਦ ਹੋਣ ਵਿੱਚ 100% ਤੋਂ ਵੀ ਘੱਟ ਸਫਲਤਾ ਦਰ ਦੇ ਲਈ ਬਹਾਨੇ ਦਿੱਤੇ ਬਗੈਰ ਅਸੀਂ ਕਹਿੰਦੇ ਹਾਂ ਕਿ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਕਾਰਕ ਹੁੰਦੇ ਹਨ  ਜੋ ਕਿ ਸਾਡੇ ਨਿਯੰਤਰਣ ਤੋਂ ਬਾਹਰ ਹਨ।
 
ਵੈਦਾਰਾਜ ਅਨਿਲ ਡੋਗਰਾ। 
+91 9810260704
ਵਿਸ਼ਵ ਭਰ ਵਿੱਚ ਈਐੱਨਟੀ ਡਾਕਟਕ ਅਤੇ ਹਸਪਤਾਲ ਕ੍ਰੋਨਿਕ ਓਟਾਈਟਸ ਮੀਡਿਆ ਵਿਦ ਏਫ਼ਯੂਸ਼ਨ (ਓ।ਐੱਮ।ਈ।ਏ।) ਦੇ ਵਿਰੁੱਧ ਬੇਅਸਰ ਹਨ।
ਓਈਐਮਈ ਨੂੰ ਪਸ/ ਫਲੂਇਡਜ਼ ਜਾਂ ਕ੍ਰੋਨਿਕ ਸਪਪਰੇਟਿਵ ਓਟਾਈਟਸ ਮੀਡੀਆ ਨਾਲ ਰਿਕੂਰੈਂਟ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਵੀ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸਨੂੰ ਆਮ ਤੌਰ ਤੇ 'ਗਲੂ ਈਯਰ' ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ।
 
ਇੱਕ ਸਧਾਰਨ ਭਾਸ਼ਾ ਵਿੱਚ ਦੱਸਣ ਲਈ, ਓਐੱਮਈ ਉਦੋਂ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਜਦੋਂ ਤੁਸੀਂ ਮਹਿਸੂਸ ਕਰਦੇ ਹੋ ਕਿ ਤੁਹਾਡਾ ਕੰਨ ਦਰਦ ਦੇ ਨਾਲ ਜਾਂ ਬਿਨ੍ਹਾਂ ਦਰਦ ਤੋਂ ਬੰਦ ਹੈ ਜਾਂ ਤਰਲ ਪਦਾਰਥ ਨਾਲ ਭਰਿਆ ਹੋਇਆ ਹੈ ਅਤੇ ਜਦੋਂ ਅਜਿਹੀ ਸਥਿਤੀ ਐਂਟੀਬਾਇਟਿਕ ਦੇ 2 ਤੋਂ 3 ਲਗਾਤਾਰ ਕੋਰਸਾਂ ਲੈਣ ਦੇ ਬਾਅਦ ਵੀ ਬਾਰ ਬਾਰ ਵਾਪਸ ਆਵੇ ।
ਕ੍ਰੋਨਿਕ ਓਐੱਮਈ ਸਥਿਤੀ ਵਿੱਚ ਤਰਲ ਦਾ ਦਬਾਅ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਬਣਦਾ ਹੈ ਜੋ ਕਿ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਦੇ ਪਿੱਛੇ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਸਦਾ ਦਬਾਅ ਅਖੀਰ ਵਿੱਚ Eardrum ਨੂੰ ਫਾੜ ਦਿੰਦਾ ਹੈ।
ਓਐੱਮਈ (OME) ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਦੇ ਵਿਰੁੱਧ ਐਂਟੀਬਾਇਟਿਕਸ ਦੀ ਇਹ ਬੇਅਸਰਤਾ ਵਿਸ਼ਵ ਵਿੱਚ ਈਯਰਡ੍ਰਮ  ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਦਾ ਵੱਡਾ ਕਾਰਣ ਹੈ।
ਵੈਦਿਆਰਾਜ ਅਨਿਲ ਡੋਗਰਾ ਦੇ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟ੍ਰੈਕਟ ਨੂੰ ਪ੍ਰਤਿਸ਼ਠਾਵਾਨ ਮਾਈਕਰੋਬਾਇਓਲੋਜੀ ਲੈਬਜ਼  - ਸ਼੍ਰੀਰਾਮ ਇੰਡਸਟਰੀਅਲ ਰਿਸਰਚ, ਨਵੀਂ ਦਿੱਲੀ, ਭਾਰਤ ਦੁਆਰਾ ਪ੍ਰਮਾਣਿਤ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ - ਸੂਡੋਮੋਨਾਸ ਏਰੂਗਿਨੋਸਾ, ਐੱਮ। ਆਰ। ਐੱਸ। ਏ ਅਤੇ ਈ। ਕੋਲੀ ਵਰਗੇ ਸਭ ਤੋਂ ਮੁਸ਼ਕਲ ਸੁਪਰ ਬੈਕਟੀਰੀਆ ਤੋਂ ਬਚਾਉਣ ਲਈ।
ਇਹ ਖੋਜ 1930 ਦੇ ਦਹਾਕੇ ਵਿਚ ਐਲੇਗਜ਼ੈਂਡਰ ਫਲੇਮਿੰਗ ਦੁਆਰਾ ਪੈਨਿਸਿਲਿਨ ਦੀ ਖੋਜ ਦੇ ਬਰਾਬਰ ਹੈ।
ਪੈਨਿਸਿਲਿਨ ਦੀ ਖੋਜ ਨਾਲ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕ ਯੁੱਗ ਸ਼ੁਰੂ ਹੋਇਆ ਅਤੇ ਹੁਣ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕ ਰੋਧਕ ਸੁਪਰਬਗਜ਼ ਜਾਂ ਸੁਪਰ ਬੈਕਟੀਰੀਆ ਦੇ ਆਗਮਨ ਅਤੇ ਫੈਲਣ ਦੇ ਕਾਰਨ ਇਹ ਖਤਮ ਹੋ ਗਿਆ ਹੈ।
ਸਾਲਾਨਾ - ਓ।ਐਮ।ਈ। ਤੋਂ ਪੀੜਤ ਅਮਰੀਕੀ ਬੱਚਿਆਂ ਦੇ 2 ਮਿਲੀਅਨ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਇਰਾਦਤਨ ਤੌਰ ਤੇ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਦੇ ਵਿੱਚ ਈਯਰਟੀਊਬ ਵਰਗੀ ਸੁਰੰਗ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਪਰਫੋਰੇਟ ਕਿੱਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ , ਮੱਧਮ ਕੰਨ ਵਿਚੋਂ ਤਰਲ ਪਦਾਰਥ ਕਢਣ ਲਈ , ਨਹੀਂ ਤਾਂ ਇਸ ਨਾਲ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਫਟ ਜਾਵੇਗਾ।
ਕੰਨ ਦੇ ਟਿਊਬ ਇੱਕ ਸਾਲ ਜਾਂ ਉਸ ਤੋਂ ਵੱਧ ਲਈ ਰਹਿੰਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਫਿਰ ਜਾਂ ਤਾਂ ਬੰਦ ਹੋ ਜਾਂਦੇ ਹਨ ਜਾਂ ਸਰਜਰੀ ਨਾਲ ਕਢੇ ਜਾਂਦੇ ਹਨ ਇਸ ਆਸ ਨਾਲ ਕਿ ਛੋਟੀ ਮੋਰੀ ਆਪਣੇ ਆਪ ਹੀ ਬੰਦ ਹੋ ਗਈ ਹੈ।
ਪਰ - 10 ਤੋਂ 20 ਪ੍ਰਤੀਸ਼ਤ ਦੇ ਕੇਸਾਂ ਵਿੱਚ ਇਹ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ।
 
ਜੇ ਵਿਸ਼ਵ ਦਾ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡਾ ਦੇਸ਼ ਅਤੇ ਅਰਥ ਵਿਵਸਥਾ ਵਿਚ ਅਜਿਹਾ ਮਾਮਲਾ ਹੈ ਤਾਂ ਅਸੀਂ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਕਲਪਨਾ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹਾਂ ਕਿ ਸੰਸਾਰ ਭਰ ਵਿਚ ਕੀ ਹੋ ਰਿਹਾ ਹੈ।
ਈਅਰ ਟਿਊਬ ਇੱਕ ਮੈਡੀਕਲ ਮਸਲੇ ਲਈ ਸਿਰਫ ਇੱਕ ਮਕੈਨਿਕ ਹੱਲ ਹੈ ਅਤੇ ਮੌਜੂਦਾ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਲਈ ਕੁਝ ਵੀ ਨਹੀਂ ਕਰਦਾ।
ਮੁੱਖ ਮੁੱਦਾ ਹੈ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਜੋ ਕਿ ਰਹਿੰਦੀ ਹੈ।
ਈਅਰ ਟਿਊਬਾਂ ਤਰਲ ਦੇ ਦਬਾਅ ਨੂੰ ਘੱਟ ਕਰਨ ਲਈ ਪਹਿਲਾਂ ਤੋਂ ਇੱਕ ਛੋਟੇ ਜਿਹੇ ਮੋਰੀ ਬਣਾਕੇ ਇੱਕ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਵੱਡੇ ਮੋਰੀ ਦੀ ਸੰਭਾਵਨਾ ਨੂੰ ਰੋਕਦੀਆਂ ਹਨ।
ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਹੋਲ ਨੂੰ ਸਮਝਣਾ:
ਇੱਕ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਹੋਲ ਤੁਹਾਡੀ ਚਮੜੀ 'ਤੇ ਇੱਕ ਜ਼ਖ਼ਮ ਵਾਂਗ ਹੈ।
ਜੇ ਸਰੀਰਿਕ ਇਮਿਊਨਿਟੀ ਅਤੇ ਆਮ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨਾਲ ਸੱਭ ਕੁੱਝ ਠੀਕ ਹੈ ਤਾਂ ਜ਼ਖ਼ਮ ਕੁਦਰਤੀ ਤੌਰ ਤੇ ਬੰਦ ਹੋ ਜਾਂਦਾ ਹੈ।
ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਤੁਹਾਡੇ ਵਾਲ ਹੌਲੀ ਹੌਲੀ ਵਧਦੇ  ਹਨ, ਇੱਕ ਜ਼ਖ਼ਮ ਵੀ ਹੌਲੀ ਬੰਦ ਹੋ ਜਾਂਦਾ ਹੈ - ਪਰ ਇਹ ਬੰਦ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਤੁਹਾਨੂੰ ਬਸ ਇਸ ਬਾਰੇ ਧੀਰਜ ਰੱਖਣਾ ਹੋਵੇਗਾ
 
ਪਰ ਜੇ ਸਰੀਰ ਵਿਚ ਇਮਿਊਨਿਟੀ ਘੱਟ ਹੈ ਜਿਵੇਂ ਇੱਕ ਬੱਚੇ ਵਿੱਚ ਹੁੰਦੀ ਹੈ - ਅਤੇ ਜਾਂ ਬੈਕਟੀਰੀਆ ਸੁਪਰ ਬੈਕਟੀਰੀਅਲ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਹੈ - ਇੱਕ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਜੋ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕਸ ਦੁਆਰਾ ਮਾਰੀ ਨਹੀਂ ਜਾਂਦੀ - ਇੱਕ ਐਂਟੀਬਾਇਉਟਿਕ ਰੋਧਕ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ - ਫਿਰ ਇਕ ਜ਼ਖ਼ਮ ਜਾਂ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਹੋਲ ਦੇ ਬੰਦ ਹੋਣ ਦੀ ਕੁਦਰਤੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਹੈ - ਇੰਟਰਜੇਕ੍ਟ ਕਿੱਤਾ ਜਾਣਾ, ਰੁਕਾਵਟ ਬਣਨਾ ਅਤੇ ਇਹਦਾ ਰੁੱਕਣਾ।
 
ਸੁਪਰ ਬੈਕਟੀਰੀਅਲ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਜ਼ਖਮ ਜਾਂ ਹੋਲ ਕਲੋਜ਼ਰ ਦੀ ਕੁਦਰਤੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਨੂੰ ਰੋਕ ਦਿੰਦਾ ਹੈ।
 
ਅਜਿਹੇ ਮਾਮਲਿਆਂ ਵਿੱਚ -
 
ਤੁਸੀਂ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕਸ ਨੂੰ ਰੋਕ ਕੇ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਸਹੀ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਖੁਆਉਣ ਦੁਆਰਾ ਸਰੀਰ ਦੀ ਇਮਿਊਨਿਟੀ ਵਾਪਸ ਬਣਾਉ। 
 
ਸਾਡੇ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਦੇ ਨਾਲ ਤੁਸੀਂ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਅਤੇ ਜ਼ਖ਼ਮ / ਹੋਲ ਦੇ ਬੰਦ ਹੋਣ ਦੀ ਕੁਦਰਤੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਨੂੰ ਹੌਲੀ ਹੌਲੀ ਪਰ ਨਿਸ਼ਚਿਤ ਤੌਰ ਤੇ ਅਤੇ ਲਗਾਤਾਰ ਘੱਟ ਕਰਦੇ ਹੋ  - ਮੁੜ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰੋ!
ਇਹ ਉਹ ਲੋਜੀਕ ਹੈ ਜਿਸ ਨਾਲ ਅਸੀਂ ਕੰਮ ਕਰਦੇ ਹਾਂ ਅਤੇ ਕੇਵਲ ਇਹ ਮੋਰੀ ਬੰਦ ਕਰਨ ਦੇ ਕੁਦਰਤੀ ਮੈਜਿਕ ਨੂੰ ਧੀਰਜ ਨਾਲ ਪੈਦਾ ਕਰਦਾ ਹੈ।
ਸਾਡੇ ਪੇਜ 'ਤੇ ਵਿਜ਼ਟਰ ਜ਼ਿਆਦਾਤਰ ਉਹ ਵਿਅਕਤੀ ਹਨ ਜਿੰਨ੍ਹਾਂ ਦੇ ਪਹਿਲਾਂ ਹੀ ਪਰਫੋਰੇਟਡ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਹਨ।।।।
ਤੁਸੀਂ ਸਾਡੀ ਜਾਂਚ ਕਰੋ।
 
ਪਰ ਤੁਸੀਂ ਦੂਸਰਿਆਂ ਦੀ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਤੋਂ ਬਚਾਅ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹੋ ।।। ।।
 
ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਇਹ ਗਿਆਨ ਨਹੀਂ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਇੱਥੇ ਆਏ ਹੋ।
 
ਤੁਹਾਡੇ ਪਰਿਵਾਰ ਅਤੇ ਦੋਸਤਾਂ ਵਿੱਚ ਬਹੁਤ ਲੋਕ ਹਨ ਜ਼ਿਆਦਾਤਰ 15 ਸਾਲ ਜਾਂ ਇਸ ਤੋਂ ਵੱਧ ਉਮਰ ਦੇ ਬੱਚੇ ਜੋ ਕੰਨ ਦੀ ਪੀੜ, ਮੱਧ-ਕੰਨ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ, ਇੱਕ ਓਈਐਮ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਤੋਂ ਪੀੜਤ ਹੋ ਸਕਦੇ ਹਨ ਜਾਂ ਹੋ ਰਹੇ ਹਨ - ਇਹ ਸੰਭਾਵੀ ਤੌਰ 'ਤੇ ਸੁਪਰ ਬੈਕਟੀਰੀਅਲ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਹੋ ਸਕਦੀ ਹੈ ।।।
 
ਅਤੇ ਇਸਦਾ ਨਤੀਜਾ ਇੱਕ ਫਟਿਆ ਹੋਇਆ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ।
 
ਉਹ ਸਾਡੇ ਵੱਲ ਧਿਆਨ ਨਹੀਂ ਦੇ ਰਹੇ।
 
ਇਸ ਗਿਆਨ ਨੂੰ ਫੈਲਾਓ ਅਤੇ -
 
ਇਕ ਬੱਚੇ ਦੇ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਬਚਾਓ।
ਤਰਲ ਪਦਾਰਥਾਂ ਦੇ ਨਾਲ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਦੇ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਦੇ ਕਾਰਨ ਇੱਕ ਸੰਭਾਵੀ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਨੂੰ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਕਰਨਾ ਸਾਡੇ ਲਈ ਇੱਕ ਜਾਂ ਦੋ ਦਿਨ ਦੀ ਗੱਲ ਹੈ - ਇੱਕਲੇ ਸਾਡੇ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਈਯਰ ਦੇ ਨਾਲ।
ਕ੍ਰੋਨਿਕ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਦੇ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਅਤੇ ਫਟੇ ਹੋਏ / ਪਰੀਫੋਰੇਟਿਡ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਮੁਰੰਮਤ ਲਈ ਅਨਿਲ ਡੋਗਰਾ ਦੇ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ  - ਸਾਰੇ ਕੁਦਰਤੀ। ਸਾਰੇ ਹਰਬਲ। ਹਰ ਉਮਰ ਲਈ ਸੁਰੱਖਿਅਤ।
ਸਥਾਈ ਨਿਰਦੇਸ਼ -
---------------------------------
ਕਿਰਪਾ ਕਰਕੇ ਤੁਰੰਤ ਓਰਲ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕਸ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਨੂੰ ਬੰਦ ਕਰ ਦਿਓ। ਇਸ ਦੀ ਬਜਾਏ ਹਫ਼ਤੇ ਵਿੱਚ ਕਈ ਵਾਰ ਹਰੀ ਸਬਜ਼ੀ ਦਾ ਗਰਮ ਸੂਪ ਜਾਂ ਤਾਜ਼ਾ ਜੂਸ ਪੀਓ।
ਨਹਾਉਣ ਵੇਹਲੇ ਪਾਣੀ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਦਾਖਲ ਨਹੀਂ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਖਾਸ ਤੌਰ ਤੇ ਜੇ ਉਹ ਪਰਫੋਰੇਟ ਹੈ। ਨਹਾਉਣ ਸਮੇਂ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਰੂਈ ਦੀ ਇੱਕ ਬਾਲ ਪਾਓ। ਤੁਸੀਂ ਰੂਈ ਦੀ ਬਾਲ ਉੱਪਰ ਥੋੜਾ ਜਿਹਾ ਵੈਸਲੀਨ ਲਗਾ ਸਕਦੇ ਹੋ - ਇਹ ਪਾਣੀ ਨੂੰ ਦੂਰ ਕਰ ਦੇਵੇਗਾ।
ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਦੇ ਇਲਾਜ ਦੇ ਘੱਟੋ ਘੱਟ ਇਕ ਸਾਲ ਤੱਕ ਤੈਰਾਕੀ ਜਾਂ ਧਾਰਮਿਕ ਇਸ਼ਨਾਨ ਨਹੀਂ ਕਰਨਾ।
 
ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਕੋਈ ਰਸਾਇਣਕ ਜਾਂ ਹੋਮੀਓਪੈਥੀ ਜਾਂ ਘਰੇਲੂ ਹਰਬਲ ਦਵਾਈ ਨਹੀਂ ਪਾਉਣੀ।
 
ਸਾਡੀ ਹਰਬਲ ਡ੍ਰੌਪ ਦੇ ਪੈਕੇਜਾਂ ਵਿਚ ਕੀ ਹੈ ----------------------------------
 
ਸਾਡੇ ਸ਼ੁੱਧ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਡ੍ਰੌਪਸ ਮਾਸਟਰ ਡ੍ਰੌਪਸ ਹਨ।
 
ਹੋਰ ਸਾਰੇ ਡ੍ਰੌਪ ਕਦੇ ਵੀ ਇਹਨਾਂ ਸ਼ੁੱਧ ਡ੍ਰੌਪ ਨਾਲ ਬਣਾਏ ਜਾ ਸਕਦੇ ਹਨ।
 
ਇਹ ਡ੍ਰੌਪ ਗਹਿਰੇ ਹੋ ਸਕਦੇ ਹਨ ਜਾਂ ਸਮਕਾਲੀ ਪਲਾਂਟ ਰਹਿੰਦ-ਖੂੰਹਦ ਨੂੰ ਸਮੇਂ ਨਾਲ ਵਿਖਾਇਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ- ਇਹ ਸਧਾਰਨ ਹੈ - ਉਹਨਾਂ ਦੀ ਪ੍ਰਭਾਵਸ਼ੀਲਤਾ ਅਤੇ ਸਮਰੱਥਾ ਬਰਕਰਾਰ ਰਹਿੰਦੀ ਹੈ - ਹਮੇਸ਼ਾ ਲਈ। ਸਾਡੇ ਡ੍ਰੌਪ ਦੇ ਖਰਾਬ ਹੋਣ ਦੀ ਕੋਈ ਮਿਆਦ ਨਹੀਂ ਹੈ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਜਿੰਨਾ ਸੰਭਵ ਹੋ ਸਕੇ ਸਿੱਧਾ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ ਤੋਂ ਦੂਰ ਸਧਾਰਣ ਤਾਪਮਾਨ 'ਤੇ ਸਾਫ਼ ਥਾਂ ਵਿੱਚ ਰੱਖਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ। 
ਕੋਈ ਵੀ ਵਾਤਾਵਰਣਕ ਮੈਕਰੋਬ ਸਾਡੇ ਡ੍ਰੌਪ ਨੂੰ ਮਾਰਨ ਦੀ ਸਮਰੱਥਾ ਨਹੀਂ ਰੱਖਦੇ। ਇਸੇ ਕਰਕੇ ਇਹ ਠੀਕ ਰਹਿੰਦੇ ਹਨ - ਸਦਾ ਲਈ।
ਅਸੀਂ ਚਾਰ 10 ਮਿਲੀਲੀਟਰ / 300 ਡ੍ਰੋਪ ਡਰੌਪਰ ਬੋਤਲਾਂ ਭੇਜਦੇ ਹਾਂ -
ਦੋ ਬੋਤਲਾਂ ਵਿੱਚ ਲੱਗਭੱਗ 600 ਸ਼ੁੱਧ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਡ੍ਰੌਪਸ ਦੇ ਬਰਾਬਰ ਸਾਡੇ ਸ਼ੁੱਧ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਹੈ।
ਤੁਹਾਡੇ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਦੇ ਇਲਾਜ ਲਈ ਤੁਹਾਨੂੰ ਵਧੇਰੇ ਸ਼ੁੱਧ ਡ੍ਰੌਪ ਦੀ ਲੋੜ ਨਹੀਂ ਪਵੇਗੀ।
ਸਾਡੇ ਇਲਾਜ ਦੀ ਸਫ਼ਲਤਾ ਜਾਂ ਅਸਫਲਤਾ ਇਹਨਾਂ ਨਾਲ ਹੀ ਹੋਵੇਗੀ ਅਤੇ ਇਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਕੁਝ ਹੋਰ ਬੱਚ ਵੀ ਸਕਦੇ ਸਨ। ਉਹ ਕਦੇ ਵੀ ਖਰਾਬ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੇ - ਕਦੇ ਵੀ।
 
ਇੱਕ ਬੋਤਲ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਦੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਜਿਹਦੇ ਵਿੱਚ 10 ਮੀਲੀਲੀਟਰ ਸਾਫ਼ ਪਾਣੀ ਵਿੱਚ 25 ਮੀਲੀਲੀਟਰ ਸ਼ੁੱਧ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਮਿਲਾਇਆ ਹੁੰਦਾ ਹੈ।
ਹੋਰ ਸ਼ੁੱਧ ਡ੍ਰੌਪਸ ਪਾ ਕੇ ਤੁਸੀਂ ਕਿਸੇ ਵੀ ਸਮੇਂ ਤਾਕਤ ਵਧਾ ਸਕਦੇ ਹੋ।
 
ਚੌਥੀ ਬੋਤਲ ਇੱਕ 10 ਮੀਲੀਲੀਟਰ ਨੇਜ਼ਲ ਡਰੌਪ ਬੋਤਲ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਜੋ ਕਿਸੇ ਵੀ ਸਮੇਂ ਸ਼ੁੱਧ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਦੇ 4 ਤੁਪਕੇ ਅਤੇ ਬਾਕੀ 10 ਮੀਲੀਲੀਟਰ ਸਾਫ਼ ਪਾਣੀ ਪਾ ਕੇ ਬਣਾਇਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ।
ਨੇਜ਼ਲ ਡਰੌਪ ਅਤੇ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਕਿਸੇ ਦੁਆਰਾ ਕਿਸੇ ਵੀ ਸਮੇਂ ਸ਼ੁੱਧ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਡ੍ਰੌਪਸ ਦੇ ਨਾਲ ਬਣਾਏ ਜਾ ਸਕਦੇ ਹਨ।
ਨੇਜ਼ਲ ਡ੍ਰੌਪ -
-----------------------
 
ਇੱਕ ਦਿਨ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਵਾਰ ਦੋਨਾਂ ਨੋਸਟ੍ਰਿਲ ਵਿੱਚ ਨੇਜ਼ਲ ਡ੍ਰੌਪ ਦੇ 2 ਤੁਪਕੇ ਪਾਓ ਜਾਂ ਜੇ ਠੰਢ / ਨੱਕ ਰੁੱਕਣ ਦੀ ਸੱਮਸਿਆ ਹੋਵੇ ਜਾਂ ਗਲੇ ਦੀ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਦੀ ਸੱਮਸਿਆ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਜਿੰਨੇ ਵਾਰ ਲੋੜ ਹੋਵੇ ।
ਇਹ ਸਾਇਨੋਸੈਟਿਸ ਲਈ ਇਕੋ-ਇੱਕ ਅਸਲੀ ਹੱਲ ਹੈ।
ਇਹ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਦੇ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਵਿਚ ਮਦਦ ਕਰੇਗਾ ਕਿਉਂਕਿ ਇਹ ਸਾਰੇ ਅੰਦਰੂਨੀ ਤੌਰ ਤੇ ਜੁੜੇ ਹੋਏ ਹਨ।
ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਦਾ ਇਸਤੇਮਾਲ -
-------------------------------
ਕੰਨ ਦੇ ਦਰਦ / ਕ੍ਰੋਨਿਕ ਮਿਡਲ ਈਅਰ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਲਈ - ਅਜੇ ਤੱਕ ਕੋਈ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਨਹੀਂ:
ਆਪਣੇ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਇਕੱਲੇ ਸਾਡੇ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡ੍ਰੌਪਾਂ ਨਾਲ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਕਰੋ।
ਪੀੜਤ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਦੇ 4 ਤੁਪਕੇ ਪਾਓ ਅਤੇ ਇਸਨੂੰ 2 ਮਿੰਟ ਲਈ ਰਹਿਣ ਦਿਓ।
ਇਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਜਦੋਂ ਤੁਸੀਂ ਸਿੱਧੇ ਖੜ੍ਹੇ ਹੋ ਜਾਂਦੇ ਹੋ ਤਾਂ ਤੁਸੀਂ ਕੰਨ ਵਿੱਚੋਂ ਬਾਹਰ ਆਉਣ ਵਾਲੀ ਕੋਈ ਵੀ ਚੀਜ਼ ਸਾਫ ਕਰਦੇ ਹੋ।
ਤੁਸੀਂ ਇੱਕ ਦਿਨ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਤੋਂ ਤਿੰਨ ਵਾਰੀ ਅਜਿਹਾ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹੋ ਜਦੋਂ ਤੱਕ ਤੁਹਾਡਾ ਭਾਰਾਪਨ ਅਤੇ / ਜਾਂ ਦਰਦ ਨਹੀਂ ਚਲਾ ਜਾਂਦਾ ਅਤੇ ਤੁਸੀਂ ਠੀਕ ਮਹਿਸੂਸ ਨਾ ਕਰਨ ਲੱਗ ਜਾਵੋ।
ਸਾਡੇ ਡ੍ਰੌਪ ਟਿਨਿਟੀਟਸ ਲਈ ਨਹੀਂ ਹਨ ਹਾਲਾਂਕਿ ਇਹ ਇਸ ਵਿੱਚ ਮਦਦ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹਨ ਜਦੋਂ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਖ਼ਤਮ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਹੈ।
ਟਿਨਿਟੀਟਸ ਅੰਦਰੂਨੀ ਕੰਨ ਦੀ ਸੱਮਸਿਆ ਹੈ ਜੋ ਦਿਮਾਗ ਨਾਲ ਜੁੜਿਆ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਡ੍ਰੌਪ ਅੰਦਰੂਨੀ ਕੰਨ ਤੱਕ ਨਹੀਂ ਪਹੁੰਚਦੇ।
ਅੰਤ ਵਿਚ ਸੁਣਵਾਈ ਕਿੰਨੀ ਕੁ ਸੁਧਰੇਗੀ, ਇਹ ਕਿਸੇ ਦਾ ਅੰਦਾਜ਼ਾ ਹੈ। ਸਿਰਫ ਸਮਾਂ ਹੀ ਦੱਸ ਸਕਦਾ ਹੈ
 
ਤੈਰਾਕਾਂ ਲਈ - ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਸਾਵਧਾਨੀ ਜਾਂ ਰੋਕਥਾਮ ਲਈ ਹਰ ਵਾਰੀ ਤੈਰਾਕੀ, ਡਾਇਵਿੰਗ, ਸਰਫ ਬੋਰਡਿੰਗ ਜਾਂ ਸਕੂਬਾ ਡਾਈਵਿੰਗ ਕਰਨ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਦੇ 4 ਤੁਪਕੇ ਪਾਓ।
ਉਪਰੋਕਤ ਦੱਸੇ ਅਨੁਸਾਰ ਨੇਜ਼ਲ ਡ੍ਰੌਪਸ ਨੂੰ ਇਕ ਵਾਰ ਪਾਉਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ।
 
ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਦੇ ਮਾਮਲਿਆਂ ਵਿੱਚ -
 
ਪਹਿਲਾਂ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡ੍ਰੌਪ ਪਾਉਣ ਨਾਲ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰੋ। ਇੱਕ ਦਿਨ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਵਾਰ 2 ਤੋਂ 4 ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟ੍ਰੈਕ੍ਟ ਪਾਓ, ਹਰ ਰੋਜ਼ 2 ਮਿੰਟ ਲਈ।
 
ਜੇ ਸਟਿੰਗਿੰਗ ਸਹਿਣਯੋਗ ਹੈ ਤਾਂ ਤੁਸੀਂ ਹਰ ਅਤਰ ਦਿਨ ਨੂੰ ਸ਼ੁੱਧ ਤੁਪਕੇ ਪਾਉਣਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰੋ।
 
ਜੇ ਸਟਿੰਗਿੰਗ ਸਹਿਣਸ਼ੀਲ ਹੋਣੀ ਜਾਰੀ ਰਹਿੰਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਤੁਸੀ ਸ਼ੁੱਧ ਡ੍ਰੌਪ ਪਾਉਣੇ ਜਾਰੀ ਰੱਖਦੇ ਹੋ ਨਹੀਂ ਤਾਂ ਤੁਸੀਂ ਵਾਪਸ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਤੁਪਕੇ ਇਸਤੇਮਾਲ ਕਰੋ।
ਅਖੀਰ ਵਿੱਚ ਸਟਿੰਗਿੰਗ ਬਹੁਤ ਘੱਟ ਹੋ ਜਾਣੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਜੋ ਤੁਸੀਂ ਫਿਰ ਤੋਂ ਸ਼ੁੱਧ ਡ੍ਰੌਪ ਪਾ ਸਕੋ।
ਇਹ ਉਪਰੋਕਤ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਕਈਆਂ ਲਈ ਬਹੁਤ ਜਿਆਦਾ ਸਮਾਂ ਲੈ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਬਾਰੇ ਧੀਰਜ ਰੱਖਣ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ ਕੋਈ ਵੀ ਕੁਝ ਨਹੀਂ ਕਰ ਸਕਦਾ।
ਸ਼ੁੱਧ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਡ੍ਰੌਪਸ ਨੂੰ ਹਰ ਦੂਜੇ ਦਿਨ ਪਾਉਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ
ਦੋ ਮਿੰਟਾਂ ਲਈ ਦੋ ਤੋਂ ਤਿੰਨ ਤੁਪਕੇ ਬਹੁਤ ਹਨ।
ਕੋਈ ਵੀ ਬਾਹਰੀ ਪਾਣੀ ਪੀੜਤ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਨਹੀਂ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਜਦੋਂ ਤੱਕ ਉਹ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਠੀਕ ਨਾ ਹੋ ਜਾਵੇ ਜਾਂ ਠੀਕ ਹੋਣ ਦੇ ਇੱਕ ਸਾਲ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਵੀ।
ਇੱਕ ਵਾਰੀ ਪੱਸ ਬਾਹਰ ਆਉਣਾ ਬੰਦ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਸਟਿੰਗਿੰਗ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਚਲੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ, ਇਹ ਸੰਕੇਤ ਦਿੰਦੀ ਹੈ ਕਿ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਠੀਕ ਹੋ ਗਈ ਹੈ।
ਇਸ ਸਮੇਂ ਤਕ ਤੁਸੀਂ ਪਹਿਲਾਂ ਹੀ ਸ਼ੁੱਧ ਡ੍ਰੌਪ ਪਾ ਰਹੇ ਹੋ ਅਤੇ ਸਿਰਫ ਇਕੋ ਦਿਨ ਸ਼ੁੱਧ ਤੁਪਕੇ ਪਾਉਣੇ ਜਾਰੀ ਰੱਖੋ, ਹਰ ਇੱਕ ਦੂਜੇ ਦਿਨ।
ਇਨਫ਼ੈਕਸ਼ਨ ਨੂੰ ਠੀਕ ਕਰਨਾ ਐਟੀਬਾਇਓਟਿਕ ਰੋਧਕ ਅਤੇ ਸੁਪਰਬਗਜ਼ ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਸੂਡੋਮੋਨਾਸ ਏਰਿਨਜੀਨੋਸਾ, ਐੱਮ। ਆਰ। ਐੱਸ। ਏ।, ਈ। ਕੋਲੀ, ਦੇ ਇਸ ਯੁੱਗ ਵਿਚ ਕੋਈ ਪ੍ਰਾਪਤੀ ਨਹੀਂ ਹੈ।
 
ਇਹ ਸੁਪਰਬਗਜ਼ ਦੁਨੀਆ ਭਰ ਵਿੱਚ ਤੂਫ਼ਾਨ ਮਚਾ ਰਹੇ ਹਨ। ਇਹ ਸਿਰਫ ਸਾਡੇ ਪਲਾਂਟ ਐਕਸਟ੍ਰੈਕਟ ਦੇ ਨਾਲ ਸ਼ਾਂਤ ਕੀਤੇ ਜਾ ਸਕਦੇ ਹਨ।
 
ਇਸਨੂੰ ਦਰਸਾਉਂਦੀ ਪ੍ਰਤਿਸ਼ਠਾਵਾਨ ਸ੍ਰੀਰਾਮ ਇੰਸਟੀਚਿਊਟ ਫਾਰ ਇੰਡਸ੍ਟ੍ਰਿਯਲ ਰਿਸਰਚ, ਨਵੀਂ ਦਿੱਲੀ, ਦੇ ਸਰਟੀਫਿਕੇਟ ਦੀਆਂ ਕਾਪੀਆਂ ਇਸ ਸਾਈਟ 'ਤੇ ਪੋਸਟ ਕੀਤੀਆਂ ਗਈਆਂ ਹਨ।
 
 
ਇੱਕ ਵਾਰ ਜਦੋਂ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਠੀਕ ਹੋ ਜਾਵੇ ਤਾਂ ਈਐਨਟੀ ਡਾਕਟਰ ਤੋਂ ਮੋਰੀ ਦੇ ਅਕਾਰ ਦੀ ਜਾਂਚ ਅਤੇ ਅਨੁਮਾਨ ਲਗਵਾਓ।
ਹਰੇਕ ਦੂਜੇ ਦਿਨ ਇਕ ਵਾਰ ਸ਼ੁੱਧ ਡ੍ਰੌਪ ਪਾਉਣਾ ਜਾਰੀ ਰੱਖੋ ਅਤੇ 40 ਦਿਨਾਂ ਦੇ ਬਾਅਦ ਮੋਰੀ ਦੇ ਅਕਾਰ ਦੀ ਜਾਂਚ ਕਰਵਾਓ ਅਤੇ ਫਿਰ ਉਹੀ ਈ।ਐੱਨ।ਟੀ। ਡਾਕਟਰ ਤੋਂ 80 ਦਿਨਾਂ ਬਾਅਦ ਜਾਂਚ ਕਰਵਾਓ, ਜੇ ਸੰਭਵ ਹੋਵੇ।
ਜੇ ਦੂਜੀ ਜਾਂ ਤੀਜੀ ਜਾਂਚ ਵਿਚ ਇਹ ਪਤਾ ਲਗਦਾ ਹੈ ਕਿ ਠੀਕ ਹੋ ਰਿਹਾ ਹੈ ਜਾਂ ਬੰਦ ਹੋ ਰਿਹਾ ਹੈ ਅਤੇ ਮੋਰੀ ਦਾ ਆਕਾਰ ਘੱਟ ਗਿਆ ਹੈ, ਇਹ ਸਾਡੇ ਸ਼ੁੱਧ ਤੁਪਕਿਆਂ ਨਾਲ ਕੁਝ ਕੁ ਮਹੀਨਿਆਂ ਵਿਚ ਬੰਦ ਹੋ ਜਾਏਗਾ, ਨਹੀਂ ਤਾਂ ਤੁਹਾਨੂੰ ਸਰਜੀਕਲ ਇਲਾਜ ਕਰਵਾਉਣਾ ਪੈ ਸਕਦਾ ਹੈ।
ਵਧੇਰੀ ਜਾਣਕਾਰੀ -
ਐਕਸਟ੍ਰੈਕਟ ਸਮੇਂ ਦੇ ਨਾਲ ਬੋਤਲ ਦੀ ਸਾਇਡਾਂ ਦੇ ਆਲੇ-ਦੁਆਲੇ ਗੂੜਾ / ਕਾਲਾ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਕੋਟੁਲੇਟਿਡ ਪਲਾਂਟ ਰੇਸਿਦੂ ਦੇ ਅੰਦਰ ਪ੍ਰਗਟ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ ਪਰੰਤੂ ਇਹ ਤਾਕਤਵਰ ਅਤੇ ਪ੍ਰਭਾਵੀ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ, ਸਦਾ ਲਈ।
 
ਇਸ ਐਕਸਟ੍ਰੈਕਟ ਨੂੰ ਵੈਦਾਰਾਜ ਅਨਿਲ ਡੋਗਰਾ ਅਤੇ ਪਰਿਵਾਰ ਨੇ ਬਣਾਇਆ ਹੈ।
 
ਵੈਦਾਰਾਜ ਅਨਿਲ ਡੋਗਰਾ
 
+91 9810260704
 
 
ਭਾਰਤ ਅੰਦਰ ਆਰਡਰ ਕਰਨ ਲਈ ਉਪਰੋਕਤ ਸੈੱਟ ਦੀ ਕੀਮਤ ਸ਼ਿਪਿੰਗ ਸਮੇਤ 3700.00 ਰੁਪਏ ਹੈ। ਕੀਮਤਾਂ ਕਿਸੇ ਵੀ ਸਮੇਂ ਤਬਦੀਲੀ ਦੇ ਅਧੀਨ ਹਨ।
 
 
ਆਮ ਤੌਰ 'ਤੇ ਪੂਰੇ ਇਲਾਜ ਲਈ ਵਾਧੂ ਸ਼ੁੱਧ ਐਕਸਟਰੈਕਟ ਦੀ ਲੋੜ ਨਹੀਂ ਪਵੇਗੀ। ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਵਾਧੂ ਲੋੜ ਹੈ ਤਾਂ ਉੱਪਰ ਦੱਸੇ ਗਏ ਇੱਕ ਨਵਾਂ ਸੈੱਟ ਨੂੰ ਦੁਬਾਰਾ ਆਰਡਰ ਕਰਨ ਦੀ ਲੋੜ ਹੈ। 
 
ਉੱਪਰਲੇ ਸੈੱਟ ਦੀ ਕੀਮਤ ਭਾਰਤ ਤੋਂ ਬਾਹਰ ਸ਼ਿਪਿੰਗ ਸਮੇਤ 145.00 ਅਮਰੀਕੀ ਡਾਲਰ ਹੈ।
ਅਸੀਂ ਯੂਏਈ, ਸਉਦੀ ਅਤੇ ਕੁੱਝ ਹੋਰ ਇਸਲਾਮਿਕ ਦੇਸ਼ਾਂ ਨੂੰ ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਹਰਬਲ ਉਤਪਾਦਾਂ ਦੇ ਆਯਾਤ ਦੀ ਪਾਬੰਦੀਆਂ ਕਾਰਨ ਭੇਜ ਨਹੀਂ ਸਕਦੇ ਹਾਂ।
ਇਹ ਪਾਕਿਸਤਾਨ ਨੂੰ ਭੇਜਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ।
ਤੁਸੀਂ ਸਾਡੇ ਈ-ਮੇਲ ਪਤੇ [email protected] ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰਕੇ www.Paypal.com ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰਕੇ ਪੇਮੈਂਟ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹੋ ਜਾਂ ਮਨੀਗ੍ਰਾਮ ਜਾਂ ਵੈਸਟਰਨ ਯੂਨੀਅਨ ਦੁਆਰਾ ਹੇਠਾਂ ਦਿੱਤੇ ਵੇਰਵੇ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰਕੇ ਭੇਜ ਸਕਦੇ ਹੋ:
ਅਨਿਲ ਕੁਮਾਰ ਡੋਗਰਾ, ਆਈਏ / 20 ਏ, ਫੇਜ਼ ਪਹਿਲਾ, ਅਸ਼ੋਕ ਵਿਹਾਰ, ਦਿੱਲੀ, ਇੰਡੀਆ - 110052। ਫੋਨ +91 9810260704
ਤੁਸੀਂ ਫਿਰ ਸਾਡੇ ਈ-ਮੇਲ [email protected] 'ਤੇ ਵੇਰਵਾ ਭੇਜ ਸਕਦੇ ਹੋ ।
ਭਾਰਤ ਦੇ ਅੰਦਰ - ਕਿਰਪਾ ਕਰਕੇ ਹੇਠਾਂ ਦਿੱਤੇ ਖਾਤੇ ਵਿੱਚ ਪੈਸੇ ਜਮ੍ਹਾਂ ਕਰੋ ਅਤੇ ਸਾਡੇ ਈ-ਮੇਲ ਉੱਤੇ ਜਾਂ ਸਾਡੇ ਫੋਨ 9810260704 ਤੇ SMS ਜਾਂ Whatsapp ਰਾਹੀਂ ਨਾਮ, ਪਤਾ, ਪਿੰਨ ਕੋਡ ਅਤੇ ਫ਼ੋਨ ਨੰਬਰ ਸੂਚਿਤ ਕਰੋ:
 
ਕਿਰਪਾ ਕਰਕੇ ਐਸਬੀਆਈ ਬੈਂਕ ਸ਼ਾਖਾ ਅਸ਼ੋਕ ਵਿਹਾਰ, ਫੇਜ਼ 1, ਦਿੱਲੀ 110052, ਭਾਰਤ ਵਿਚ ਸ੍ਰੀਮਤੀ ਮਿਨੂ ਡੋਗਰਾ ਦੇ ਬੱਚਤ ਖਾਤੇ ਨੰਬਰ 35782552316 ਵਿੱਚ 3700 ਰੁਪਏ ਜਮ੍ਹਾਂ ਕਰਵਾਓ। NEFT IFSC ਕੋਡ SBIN0007783 ਹੈ।
 
ਸਵਾਲ:
 
1।) ਜਦੋਂ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਠੀਕ ਹੈ ਅਤੇ ਵਿਅਕਤੀ ਨੂੰ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਪੀੜ ਅਤੇ ਜਾਂ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਦਾ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਹੈ ਤਾਂ ਈਐਨਟੀ ਡਾਕਟਰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਕੰਨ ਦੇ ਡ੍ਰੌਪਜ਼ ਨੂੰ ਮਨਾਂ ਕਰਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਦੇ ਮਾਮਲੇ ਵਿੱਚ ਈਐਨਟੀ ਡਾਕਟਰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਕੰਨ ਦੇ ਡ੍ਰੌਪ ਨੂੰ ਨਾ ਪਾਉਣ ਦੀ ਚੇਤਾਵਨੀ ਦਿੰਦੇ ਹਨ। ਇਸ ਲਈ ਕਿਉਂ ਅਤੇ ਕਿਵੇਂ ਤੁਹਾਡੇ ਕੰਨ ਦੇ ਡ੍ਰੌਪ ਸਹਾਇਤਾ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹਨ?
 
ਈਐਨਟੀ ਡਾਕਟਰਾਂ ਦਾ ਕਹਿਣਾ ਹੈ ਕਿ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਦੀ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਜਾਂ ਓਟਾਈਟਸ ਮੀਡੀਆ ਨੂੰ ਠੀਕ ਕਰਨ ਲਈ ਕਿਸੇ ਵੀ ਕੰਨ ਦਾ ਡ੍ਰੌਪ ਨਹੀਂ ਪਾਉਣਾ ਕਿਉਂਕਿ ਕੋਈ ਵੀ ਡ੍ਰੌਪ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਵਿੱਚ ਦਾਖਲ ਨਹੀਂ ਹੋ ਸਕਦਾ। 
 
ਜ਼ਿਆਦਾਤਰ ਸਪੱਸ਼ਟ ਤੌਰ ਤੇ ਬੋਲਦੇ ਹੋਏ ਅਸੀਂ ਦਸਦੇ ਹਾਂ ਅਤੇ ਦਾਅਵਾ ਕਰਦੇ ਹਾਂ ਕਿ ਸਾਡੀ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਕਿਸੇ ਵੀ ਤੀਬਰ ਜਾਂ ਗੰਭੀਰ ਓਟੀਟਿਸ ਮੀਡੀਆ ਨੂੰ, ਕਿਸੇ ਵੀ ਉਮਰ ਤੇ, ਇਕ ਦਿਨ ਤੋਂ ਇਕ ਹਫ਼ਤੇ ਦੇ ਅੰਦਰ ਠੀਕ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹਨ, ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਠੀਕ ਕਰਨ ਦੇ ਨਾਲ।
ਕਿਸੇ ਵੀ ਓਰਲ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕਸ ਦੀ ਲੋੜ ਨਹੀਂ।
ਆਧੁਨਿਕ ਮੈਡੀਕਲ ਸਾਇੰਸ ਚਲ ਰਿਹਾ ਇੱਕ ਕੰਮ ਹੈ।
ਵਾਸਤਵ ਵਿੱਚ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਔਸਮੋਸਿਸ ਰਾਹੀਂ ਘੱਟ ਪਰ ਪ੍ਰਭਾਵਸ਼ਾਲੀ ਮਾਤਰਾ ਵਿੱਚ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨੂੰ ਘੱਟ ਕਰਨ ਲਈ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਦੇ ਅੰਤ ਤੱਕ ਪਹੁੰਚਦੇ ਹਨ। ਬਾਕੀ ਬਚੇ ਹੋਏ ਤੁਪਕੇ ਦੋ ਮਿੰਟ ਬਾਅਦ ਹੀ ਨਿਕਲ ਜਾਂਦੇ ਹਨ।
ਡਾੱਕਟਰਾਂ ਨੂੰ ਡਰ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ ਕਿ ਕੰਨ ਡਰਾਪ ਰਾਹੀਂ ਇੱਕ ਰਸਾਇਣਕ ਦਵਾਈ ਸਮੱਸਿਆ ਨੂੰ ਵਧਾ ਸਕਦੀ ਹੈ - ਜੋ ਸਹੀ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ।
ਨਾਲ ਹੀ ਕੰਨ ਆਪ ਬੈਕਟੀਰੀਅਲ ਪੈਥੋਜਨ ਨੂੰ ਲੈ ਸਕਦਾ ਹੈ - ਅਤੇ ਅਸੀਂ ਉਹਨਾਂ ਨਾਲ ਸਹਿਮਤ ਹਾਂ।
ਪਰ - ਸਾਡੇ ਪੁਰਾਣੇ ਡ੍ਰੌਪ ਵੱਖਰੇ ਹਨ
ਸਾਡੇ ਡ੍ਰੌਪ ਬਿਲਕੁਲ ਹਰਬਲ ਹਨ ਅਤੇ ਉਹਨਾਂ ਨੇ ਪੈਥੋਜਨ ਦੇ ਸਭ ਤੋਂ ਔਖੇ ਪਰਭਾਵ ਨੂੰ ਘੱਟ ਕਰਨ ਦੀ ਸਮਰਥਾ ਸਾਬਤ ਕੀਤੀ ਹੈ।
ਹਰ ਕੋਈ ਸਾਡੇ ਤੁਪਕੇ ਨਾਲ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਹੈ
 
ਅਸੀਂ ਇਹ ਵੀ ਨਿਰਦੇਸ਼ ਦਿੰਦੇ ਹਾਂ ਕਿ ਸਾਡੇ ਤੁਪਕੇ ਨਾਲ ਕੋਈ ਹੋਰ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਨਾ ਪਾਵੋ ਅਤੇ ਨਾ ਸਵਿਮਮਿੰਗ ਕਰੋ। ਨਹਾਉਣ ਵੇਹਲੇ ਪਾਣੀ ਉਦੋਂ ਤੱਕ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਜਾਣਾ ਨਹੀਂ ਚਾਹੀਦਾ ਜਦੋਂ ਤੱਕ ਕਿ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਪੂਰੀ ਤਰਾਂ ਬੰਦ ਨਾ ਹੋਵੇ। ਇਹ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੈ ਕਿਉਂਕਿ ਮਿਊਂਸਪਲ ਪਾਣੀ ਵਿੱਚ ਸੁਪਰ ਬੈਕਟੀਰੀਆ ਪੈਥੋਜਨ ਹੁੰਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨੂੰ ਮੁੜ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ।
 
2।) ਕੀ ਤੁਸੀਂ 100 ਪ੍ਰਤੀਸ਼ਤ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਬੰਦ ਹੋਣ ਦਾ ਭਰੋਸਾ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹੋ?
 
100 ਪ੍ਰਤੀਸ਼ਤ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨਿਕਲੀਕਰਨ ਦਾ ਪੂਰਾ ਭਰੋਸਾ ਹੈ ਪਰ ਮੁਕੰਮਲ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਦੇ ਇਲਾਜ ਦਾ ਸਿਰਫ 60 ਤੋਂ 70 ਫੀਸਦੀ ਭਰੋਸੇਯੋਗਤਾ ਹੈ।
 
ਇਹ ਨਿਰਦੇਸ਼ਾਂ ਨਾਲ ਇੱਕ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹਨਾਂ ਨੂੰ ਉੱਪਰ ਦੱਸੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਦਰਸਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ। ਅਸੀਂ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਫਟੇ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਅਤੇ ਹਮੇਸ਼ਾ ਲਈ ਬੰਦ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ।
ਪ੍ਰਸੰਸਾ ਪੱਤਰ ਸੂਚੀ ਵਿੱਚ ਸਾਡੇ ਗ੍ਰਾਹਕਾਂ ਦੀ ਸੂਚੀ ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਫੋਨ ਨੰਬਰਾਂ ਦੇ ਨਾਲ ਹੈ, ਇਲਾਜ ਦੇ ਨਤੀਜਿਆਂ ਦੀ ਪਰਵਾਹ ਕੀਤੇ ਬਿਨਾਂ। ਇਹ ਸੂਚੀ ਪੂਰੀ ਨਹੀਂ ਹੈ ਕਿਉਂਕਿ ਪ੍ਰਾਈਵੇਸੀ ਸਮੱਸਿਆ ਦੇ ਕਾਰਨ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਗ੍ਰਾਹਕ ਸ਼ਾਮਲ ਨਾ ਕੀਤੇ ਜਾਣ ਦਾ ਫੈਸਲਾ ਕਰਦੇ ਹਨ।
3।) ਕੋਈ ਪਸ ਮੇਰੇ ਕੰਨ ਤੋਂ ਬਾਹਰ ਨਹੀਂ ਆਂਦੀ, ਕੀ ਇਸ ਦਾ ਇਹ ਮਤਲਬ ਹੈ ਕਿ ਇਸਨੂੰ ਕੋਈ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨਹੀਂ ਹੈ?
ਪੱਸ ਵਿਚ ਮਰੇ ਹੋਏ ਸੈੱਲ ਹੁੰਦੇ ਹਨ ਜੋ ਸਰੀਰ ਦੇ ਅੰਦਰੂਨੀ ਸੁਰੱਖਿਆ ਅਤੇ ਜਾਂ ਦਵਾਈ ਦੁਆਰਾ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨਾਲ ਲੜਦੇ ਸਮੇਂ ਬਾਹਰ ਨਿਕਲਦੇ ਹਨ।
ਜੇ ਪੱਸ ਹਰ ਵੇਲੇ ਬਾਹਰ ਆਉਂਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਇਹ ਸੰਕੇਤ ਦਿੰਦਾ ਹੈ ਕਿ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਅਜੇ ਵੀ ਹੈ।
 
ਕਦੇ-ਕਦੇ ਕੋਈ ਪੱਸ ਸ਼ੁਰੂ ਵਿੱਚ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੀ ਪਰ ਜਿਵੇਂ ਹੀ ਤੁਸੀਂ ਸਾਡੇ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਪਾਉਂਦੇ ਹੋਂ ਇਹ ਆਉਣਾ ਸ਼ੁਰੂ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਦਾ ਭਾਵ ਹੈ ਕਿ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਸੀ। ਇਹ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕਸ ਦੇ ਕਾਰਨ ਸੁੱਕ ਗਈ ਸੀ ਪਰ ਖਤਮ ਨਹੀਂ ਹੋਈ ਸੀ।
 
ਜਿਉਂ ਹੀ ਸਾਡੇ ਡ੍ਰੌਪਸ ਮੌਜੂਦਾ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਦੇ ਵਿਰੁੱਧ ਕਢਣਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰਦੀ ਹੈ ਮੁਰਦਾ ਸੈੱਲ ਬਣ ਜਾਂਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਉਹ ਪਿੱਸ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਬਾਹਰ ਨਿਕਲਦੇ ਹਨ।
 
ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਪਬਲਿਕ ਸਪਲਾਈ ਦੇ ਪਾਣੀ ਨੂੰ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਉਦੋਂ ਤੱਕ ਜਾਣਾ ਨਹੀਂ ਦੇਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਜਦੋਂ ਤੱਕ ਮੋਰੀ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਠੀਕ ਨਹੀਂ ਹੋ ਜਾਂਦੀ - ਕਿਉਂਕਿ ਇਹ ਪਬਲਿਕ ਪਾਣੀ ਸਪਲਾਈ ਵਿੱਚ ਮਾੜੇ ਬੈਕਟੀਰੀਆ ਦੇ ਕਾਰਨ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਵਿੱਚ ਵਾਧਾ ਜਾਂ ਮੁੜ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ।
ਨਹਾਉਣ, ਸਵਿਮਮਿੰਗ ਜਾਂ ਧਾਰਮਿਕ ਇਸ਼ਨਾਨ ਵੇਹਲੇ ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਦੀ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਦਾ ਖ਼ਤਰਾ ਹੁੰਦਾ ਹੈ।
ਇਸ ਲਈ ਧਿਆਨ ਰੱਖੋ ਅਤੇ ਨਹਾਉਣ ਵੇਹਲੇ ਕੰਨ ਦੀ ਸੁਰੱਖਿਆ ਲਈ ਰੂਈ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰੋ।
 
ਇਕ ਵਾਰ ਜਦੋਂ ਪੱਸ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਸਾਡੇ ਡ੍ਰੌਪ ਨਾਲ ਰੁਕ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਅਸੀਂ ਕਹਿ ਸਕਦੇ ਹਾਂ ਕਿ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਚਲੀ ਗਈ ਹੈ। 
 
 
4।) ਕੀ ਅਸੀਂ ਵੈਦਿਆਰਾਜ ਅਨਿਲ ਨੂੰ ਮਿਲ ਸਕਦੇ ਹਾਂ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਹੱਥਾਂ ਨਾਲ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਲੈ ਸਕਦੇ ਹਾਂ?
ਨਹੀਂ। ਅਸੀਂ ਇੱਥੇ ਵਿਸਤਾਰ ਵਿੱਚ ਹਰ ਚੀਜ਼ ਦੀ ਵਿਆਖਿਆ ਕਰਦੇ ਹਾਂ। ਬਾਕੀ ਤੁਸੀਂ ਕਾਲ ਜਾਂ ਈਮੇਲ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹੋ।
 
ਸਾਡੇ ਕੋਲ ਕੰਨ ਦੀਆਂ ਸਾਰੀਆਂ ਸਮੱਸਿਆਵਾਂ ਲਈ ਇਹ ਅੰਤਮ ਉਪਾਅ ਹੈ ਅਤੇ ਕਿਸੇ ਹੋਰ ਦਵਾਈ ਦੀ ਸਿਫ਼ਾਰਸ਼ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ।
ਆਮ ਤੌਰ 'ਤੇ ਜਦੋਂ ਤੁਸੀਂ ਡਾਕਟਰ ਨੂੰ ਮਿਲਦੇ ਹੋ ਉਹ ਇੱਥੇ ਦੱਸੇ ਗਏ ਦੀ 10 ਪ੍ਰਤੀਸ਼ਤ ਦੀ ਵਿਆਖਿਆ ਵੀ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ ਹਨ। ਅਤੇ ਵੈਦਿਆ - ਹਰਬਲਿਸਟਸ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਅਸੀਂ ਇੱਕ ਸਿਹਤ ਦੀ ਸੱਮਸਿਆ ਨੂੰ ਸਰਵਵਿਆਪਕ ਢੰਗ ਨਾਲ ਠੀਕ ਕਰਦੇ ਹਾਂ, ਇਸ ਲਈ ਸਾਡੇ ਹਰਬਲ ਡ੍ਰੌਪ ਕੰਮ ਕਰਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਮਦਦ ਕਰਦੇ ਹਨ, ਨਿਦਾਨ ਦੇ ਬਾਵਜੂਦ।
 
ਸਾਰੇ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਦੇ ਮੁੱਦੇ ਵੀ ਇਸੇ ਤਰ੍ਹਾਂ ਹਨ।
 
ਇਹ ਕੈਮੀਕਲ ਅਧਾਰਤ ਮਾਡਰਨ ਮੈਡੀਸਨ ਜਾਂ ਐਲੋਪੈਥੀ ਤੋਂ ਉਲਟ ਹੈ ਜਿੱਥੇ ਇਸ ਸੱਮਸਿਆ ਦਾ ਸਿਰਫ਼ ਇਕ ਖ਼ਾਸ ਹਿੱਸਾ ਹੀ ਨਿਸ਼ਾਨਾ ਜਾਂ ਸੰਬੋਧਿਤ ਕੀਤਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ ਜਦੋਂ ਕਿ ਬਾਕੀ ਦੇ ਪਾਸੇ ਉਲਟ ਪ੍ਰਭਾਵਾਂ ਨਾਲ ਉਲਝੇ ਹੁੰਦੇ ਹਨ।
5।) ਕਿਉਂ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਰਿਪੇਅਰ ਸਰਜਰੀ ਅੱਜਕਲ ਅਕਸਰ ਅਸਫ਼ਲ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਈਅਰ ਟਿਊਬਾਂ ਜਾਂ ਗ੍ਰੋਮਮੇਟ ਨੂੰ ਪਾਉਣ ਨਾਲ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਵਿੱਚ ਖ਼ਤਰਾ ਵੱਧ ਰਿਹਾ ਹੈ।
ਇਹ ਅੱਜਕਲ ਅਕਸਰ ਕਿਉਂ ਅਸਫਲ ਹੁੰਦੇ ਹਨ?
 
ਈਯਰ ਟਿਊਬਜ਼ ਜਾਂ ਗ੍ਰੋਮੈਟਸ ਵਰਗੇ 2 ਮਿਲੀਅਨ ਰਿਵੈਟ ਨੂੰ ਇਕ ਛੋਟੀ ਜਿਹੀ ਮੋਰੀ ਬਣਾ ਕੇ, ਹਰ ਸਾਲ ਅਮਰੀਕਾ ਵਿੱਚ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਵਿੱਚ ਰੱਖਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਉਹ ਜ਼ਿਆਦਾਤਰ ਬੱਚਿਆਂ ਤੇ ਇਹ ਸਰਜਰੀ ਕਰਦੇ ਹਨ।
 
ਇਹ ਈਯਰ ਟਿਊਬ ਇੱਕ ਜਾਂ ਦੋ ਸਾਲਾਂ ਵਿੱਚ ਗਿਰ ਜਾਂਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਇਹ ਮੰਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਕਿ ਕੰਨ ਦੀ ਮੋਰੀ ਆਪਣੇ ਆਪ ਬੰਦ ਹੋ ਗਈ ਹੈ - ਜਲਦੀ ਹੀ। 
 
ਇਹ ਗ੍ਰਾਮਟ ਇੱਕ ਸੁਰੰਗ ਨੂੰ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਇੱਕ ਛੋਟੇ ਜਿਹੇ ਸਰਜੀਕਲ ਹੋਲ ਰਾਹੀਂ ਰੱਖੇ ਜਾਂਦੇ ਹਨ ਤਾਂ ਕਿ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਦੇ ਪਿੱਛੇ ਪਸ ਬਾਹਰ ਨਿਕਲ ਜਾਵੇ ਅਤੇ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਦੇ ਪਿੱਛੇ ਇਕੱਠਾ ਨਾ ਹੋਵੇ - ਕਿਉਂਕਿ ਜੇ ਇਹ ਹੁੰਦਾ ਹੈ - ਇਹ ਕੰਨਾਂ 'ਤੇ ਦਬਾਅ ਪਾ ਸਕਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਸ ਨੂੰ ਫਾੜ ਸਕਦਾ ਹੈ।
ਤੀਬਰ ਜਾਂ ਲੰਬੇ ਮੱਧ-ਕੰਨ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਕਾਰਨ ਪਸ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਜੋ ਅੱਜਕਲ ਓਰਲ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕਸ ਨਾਲ ਸ਼ਾਂਤ ਜਾਂ ਮਾਰੀ ਜਾਂ ਖਤਮ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੀ।
ਮੱਧ-ਕੰਨ ਦੀ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਜ਼ਿਆਦਾਤਰ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕ ਰੋਧਕ ਬਣ ਜਾਂਦੀ ਹੈ - ਇਸ ਲਈ ਕੇਵਲ ਇਕੋ ਵਿਕਲਪ ਮਕੈਨੀਕਲ ਸੁਰੰਗ ਬਣਾਉਣਾ ਹੈ ਅਤੇ ਘੱਟੋ ਘੱਟ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਵੱਡੇ ਮੋਰੀ' ਚ ਫੱਟਣ ਤੋਂ ਬਚਾਉਣਾ ਹੈ।
ਇਹ ਉਮੀਦ ਕੀਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਕਿ ਉਮਰ ਨਾਲ ਬੱਚੇ ਦੀ ਇਮਮੁਨਿਟੀ ਵੱਧਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨਾਲ ਕੁਦਰਤੀ ਤੌਰ ਤੇ ਲੜਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਨਿਰਪੱਖ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਉਦੋਂ ਜਦੋਂ ਈਯਰ ਟਿਊਬ ਜਾਂ ਗ੍ਰੋਮੈਟ ਬੰਦ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਜਾਂ ਹਟਾਈ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਉਹ ਹੀ ਇਮਮੁਨਿਟੀ ਛੋਟੇ ਜਿਹੇ ਮੋਰੀ ਨੂੰ ਬੰਦ ਕਰਨ ਵਿੱਚ ਮਦਦ ਮਿਲੇਗੀ।
ਇਹ ਈਯਰ ਟਿਊਬਾਂ ਦੇ ਪਿੱਛੇ ਪੂਰੀ ਕਹਾਣੀ ਜਾਂ ਲੋਜੀਕ ਹੈ।
ਪਰ ਜੇ ਸੁਪਰ ਬੈਕਟੀਰੀਅਲ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਚਾਲੂ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਈਅਰ ਟਿਊਬ ਬੰਦ ਹੋ ਜਾਣ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਮੋਰੀ ਬੰਦ ਨਹੀਂ ਹੋਵੇਗੀ ਪਰੰਤੂ ਸਮੇਂ ਦੇ ਨਾਲ ਬੈਕਟੀਰੀਆ ਜਨਸੰਖਿਆ ਭਰਨ ਦੇ ਕਾਰਨ ਵੱਡਾ ਹੋ ਜਾਵੇਗਾ।
ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਟਾਈਮਪੈਨਪਲਾਸਟੀ ਜਾਂ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਰਿਪੇਅਰ ਸਰਜਰੀ ਨਾਲ ਕੇਸ ਹੈ -
ਸਰਜਰੀ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾਂ ਸਰਜਨ ਤੁਹਾਨੂੰ ਅੰਦਰੂਨੀ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨੂੰ ਖਤਮ ਕਰਨ ਲਈ ਓਰਲ ਐਂਟੀਬਾਇਟਿਕਸ ਦਿੰਦਾ ਹੈ ਜਿਸ ਕਾਰਨ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਕੁਦਰਤੀ ਤੌਰ ਤੇ ਆਪਣੇ ਆਪ ਬੰਦ ਨਹੀਂ ਹੋ ਜਾਂਦੀ।
ਜਦੋਂ ਡਾਕਟਰ ਕੋਈ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨਹੀਂ ਦੇਖਦਾ ਤਾਂ ਉਹ ਇਹ ਮੰਨਦਾ ਹੈ ਕਿ ਇਹ ਖਤਮ ਹੋ ਗਈ ਹੈ।
ਉਹ ਇਹ ਨਿਰਧਾਰਤ ਕਰਨ ਲਈ ਕੋਈ ਵੀ ਮਾਈਕਰੋਬਾਇਓਲਾਜੀ ਜਾਂਚ ਨਹੀਂ ਕਰਦਾ ਕਿ ਸੰਪੂਰਨ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਖ਼ਤਮ ਹੋ ਗਈ ਹੈ ਜਾਂ ਨਹੀਂ।
ਇਸ ਨੂੰ ਕਈ ਵਾਰ ਅਜਿਹਾ ਕਰਨ ਦੀ ਵਿਵਹਾਰਿਕਤਾ
ਪਰ ਇੰਨਫੈਕਸ਼ਨ ਬਹੁਤ ਹੀ ਥੋੜ੍ਹੀ ਦੇਰ ਲਈ ਬੈਕਟੀਰੀਆ ਅਤੇ ਫੰਜਾਈ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਜੇਕਰ ਇਹ ਥੋੜ੍ਹਾ ਜਿਹਾ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕਸ ਦੇ ਲੰਬੇ ਸਮੇਂ ਬਾਅਦ ਬੱਚ ਜਾਂਦੇ ਹਨ ਜਾਂ ਇਹ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕ ਰੈਜ਼ੀਸਟੈਂਟ ਸੁਪਰਬਗਜ਼ ਜਾਂ ਸੁਪਰ ਬੈਕਟੀਰੀਆ ਹਨ ਅਤੇ ਡਾਕਟਰ ਈਰਡਰੂਮ ਦੀ ਮੁਰੰਮਤ ਕਰਦੇ ਹਨ, ਇਹ ਕਮਜ਼ੋਰ ਉਪਰ ਇੱਕ ਇਮਾਰਤ ਦੇ ਨਿਰਮਾਣ ਵਰਗਾ ਹੀ ਹੈ ਬੁਨਿਆਦ…।।
ਇਸ ਦੀ ਇਮਾਰਤ ਢਹਿ ਜਾਵੇਗੀ।
ਇਸ ਲਈ ਇਹ ਸੁਪਰਬਗਜ਼ ਦੋ ਕੁ ਸਾਲ ਜਾਂ ਘੱਟ ਦੇ ਬਾਅਦ ਠੀਕ ਹੋਏ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਗੁਣਾ ਅਤੇ ਨਸ਼ਟ ਕਰਦੇ ਹਨ।
ਇਹ ਅੱਜ-ਕੱਲ੍ਹ ਵੱਧ ਅਤੇ ਆਮ ਹੋ ਰਿਹਾ ਹੈ।
ਅਸੀਂ ਸੁਪਰਬਗਜ਼ ਦੇ ਯੁਗ ਵਿਚ ਰਹਿ ਰਹੇ ਹਾਂ - ਅਜਿਹੀ ਸਰਜਰੀਆਂ ਅਸਫਲ ਹੋਣਗੀਆਂ ਜਦੋਂ ਤੱਕ ਕਿਸੇ ਵਿੱਚ ਐਨਟੀਬੀਓਟੀਕ ਨਾ ਹੋਣ ਹੋ ਐਨਟੀਬੀਓਟੀਕ ਰਿਸਿਸਟੈਂਟ ਸੁਪਰਬਗਜ਼ ਨੂੰ ਨਸ਼ਟ ਕਰ ਸਕਣ।
5।) ਕੀ ਅਸੀਂ ਆਪਣੇ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਬਚਾਉਣ ਲਈ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਰਿਪੇਅਰ ਸਰਜਰੀ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਇਹ ਈਅਰ ਡ੍ਰੌਪ ਵਰਤ ਸਕਦੇ ਹਾਂ?
ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਸਰਜਰੀ ਰਾਹੀਂ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਦਾ ਇਲਾਜ ਕਰਵਾਉਂਦੇ ਹੋਂ ਤਾਂ ਤੁਸੀਂ ਇੱਕ ਮਹੀਨੇ ਦਾ ਇੰਤਜ਼ਾਰ ਕਰੋ ਅਤੇ ਫਿਰ ਉਸ ਕੰਨ ਵਿਚ ਸਾਡੇ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਈਯਰ ਡ੍ਰੌਪ ਦੇ 4 ਤੁਪਕਿਆਂ ਨੂੰ ਪਾਓ, ਹਫ਼ਤੇ ਵਿਚ ਇਕ ਵਾਰ ਇਕ ਸਾਲ ਲਈ ਦੋ ਮਿੰਟਾਂ ਲਈ, ਇਸ ਗੱਲ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਕਿ ਠੀਕ ਹੋਏ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਸੁਪਰਬੱਗ ਕਾਰਨ ਅਸਫਲ ਨਾ ਹੋਏ ਹੋਵੇ ਜੋ ਐਂਟੀਬਾਇਓਟਿਕਸ ਨਾਲ ਮਾਰਿਆ ਨਹੀਂ ਜਾ ਸਕਦੇ, ਜੋ ਤੁਸੀਂ ਸਰਜਰੀ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾਂ ਜਾਂ ਬਾਅਦ ਲਿਆ ਸੀ।
ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਤੁਸੀਂ ਇਹਨਾਂ ਬੱਗਾਂ ਦੇ ਗੁਨਾ ਹੋਣ ਅਤੇ ਠੀਕ ਹੋਏ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਅਸਫਲ ਹੋਣ ਦੇ ਜੋਖਮ ਨੂੰ ਪੂਰੀ ਤਰਾਂ ਖ਼ਤਮ ਕਰਦੇ ਹੋਂ।
6।) ਜੇ ਤੁਹਾਡੇ ਦੋਵੇਂ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਪਰਫੋਰੇਟ ਹਨ ਤਾਂ ਪਹਿਲੇ ਦੋਵਾਂ ਵਿੱਚੋਂ ਇੱਕ 'ਤੇ ਸਾਡੇ ਡ੍ਰੌਪ ਅਜਮਾਓ ਅਤੇ ਜਦੋਂ ਤੁਹਾਨੂੰ ਯਕੀਨ ਹੋ ਜਾਵੇ ਤਾਂ ਦੂਜੇ ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰੋ
 
 
7।) ਕਈ ਵਾਰੀ ਪਰਫੋਰੇਸ਼ਨ ਦੇ ਕੇਸਾਂ ਵਿੱਚ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਬਹੁਤ ਜ਼ਿਆਦਾ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਅੰਦਰਲੀ ਸਥਿਤੀ ਅਜਿਹੇ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਕਿ ਜਦੋਂ ਤੁਸੀਂ ਪਹਿਲੀ ਵਾਰੀ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡ੍ਰੌਪ ਪਾਉਂਦੇ ਹੋ, ਬਹੁਤ ਸਾਰਾ ਦਰਦ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹ ਲੰਬੇ ਸਮੇਂ ਲਈ ਭਾਰਾਪਣ ਵਿੱਚ ਬੋਲਦਾ ਹੈ, ਅੱਧਾ ਦਿਨ ਜਾਂ ਉਸ ਤੋਂ ਵੱਧ ਲਈ।
ਅਜਿਹੇ ਮਾਮਲਿਆਂ ਵਿੱਚ ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡ੍ਰੌਪ ਦੀ ਬੋਤਲ ਵਿੱਚੋਂ 50 ਪ੍ਰਤੀਸ਼ਤ ਹਿੱਸਾ ਲੈ ਕੇ ਅਤੇ ਇਸਨੂੰ ਸਾਫ਼ ਪਾਣੀ ਪਾਕੇ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਤੁਪਕੇ ਨੂੰ ਪਤਲਾ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਨੇਜ਼ਲ ਡ੍ਰੌਪ ਦੇ ਨਾਲ ਜਾਰੀ ਰੱਖੋ ਪਰ ਜਦੋਂ ਇਹ ਦਰਦ ਅਤੇ ਭਾਰੀਪਨ ਖਤਮ ਹੋ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਤਾਂ ਇਹ ਨਵੇਂ ਵਾਧੂ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡ੍ਰੌਪ ਨੂੰ ਪਾਓ।
 
 
 
ਭੇਜੇ ਗਏ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡ੍ਰੌਪ ਵਿੱਚ ਸ਼ੁੱਧ ਐਕਸਟ੍ਰੈਟ ਦੇ 25 ਡ੍ਰੌਪ ਅਤੇ 10 ਮਿਲੀਲੀਟਰ ਸਾਫ਼ ਪਾਣੀ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਤੁਸੀਂ ਨਵੀਂ ਖਾਲੀ 10 ਮਿਲੀਲੀਟਰ ਡਰਪਰ ਬੋਤਲ ਲੈਕੇ ਨਵੇਂ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਤੁਪਕੇ ਵੱਖਰੇ ਤੌਰ ਤੇ ਵੀ ਬਣਾ ਸਕਦੇ ਹੋ।
 
8।) ਓਰਲ ਕੈਮੀਕਲ ਐਂਟੀਬਾਇਉਟਿਕਸ ਸਿਰਫ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਨੂੰ ਸੁਕਾਉਂਦੇ ਹਨ - ਕੋਈ ਨਹੀਂ ਜਾਣਦਾ ਕਿ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਨਿਕਲੀ ਹੈ ਜਾਂ ਨਹੀਂ। ਇਸ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ ਜੇ ਦਰਦ, ਜਲਣ ਜਾਂ ਭਾਰਾਪਣ ਜਾਰੀ ਰਹਿੰਦੀ ਹੈ - ਇਨ੍ਹਾਂ ਲੋਕਾਂ ਕੋਲ ਕੰਨ ਦੀ ਸੁਰੰਗ ਨੂੰ ਸਾਫ ਕਰਨ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ ਕੋਈ ਹੱਲ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ। ਸਮੱਸਿਆ ਇਹ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਸਾਫ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਵੈਕਯੂਮ ਕਲੈਨਰ ਜਿਹੇ ਟੂਲ ਜਾਂ ਤਕਨਾਲੋਜੀ  ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰਦੇ ਹਨ। ਜੇ ਵੈਕਿਊਮ ਪ੍ਰੈਸ਼ਰ ਵਧਦਾ ਹੈ ਤਾਂ ਇਹ ਆਪਣੇ ਆਪ ਸਫ਼ਾਈ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਨੂੰ ਫਾੜਦਾ ਦਿੰਦਾ ਹੈ। ਅਜਿਹੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਕੇਸ ਸਾਡੇ ਸਾਮਣੇ ਆਉਂਦੇ ਹਨ।
ਇਸ ਲਈ ਕਿਰਪਾ ਕਰਕੇ ਦੋਸਤ ਅਤੇ ਪਰਿਵਾਰ ਨੂੰ ਦੱਸੋ ਕਿ ਉਹ ਆਪਣੇ ਕੰਨ ਜਾਂ ਉਸਦੀ ਸੁਰੰਗ ਨੂੰ ਸਾਫ਼ ਨਾ ਕਰਾਉਣ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਤੌਰ 'ਤੇ ਵੈਕਿਊਮ ਟੂਲ ਦੁਆਰਾ ਨਹੀਂ।
ਸਾਡੇ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡਰੋਪ ਕੰਨ ਦੀ ਵੈਕਸ ਨੂੰ ਹੌਲੀ ਅਤੇ ਕੁਦਰਤੀ ਤੌਰ ਤੇ ਸਾਫ਼ ਕਰਦੇ ਹਨ। ਇਹ ਅਜਿਹੀ ਬਾਹਰੀ ਵਾਤਾਵਰਣ ਪੈਦਾ ਕਰਨਗੇ ਜੋ ਬਾਅਦ ਵਿੱਚ ਕੰਨ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਅਰੁਵਾਂਕ ਦੇ ਕੁਦਰਤੀ ਤੌਰ ਤੇ ਸਾਫ਼ ਕਰੇਗਾ ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਉਸ ਨੂੰ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ। ਸਫਾਈ ਲਈ ਕਿਸੇ ਵੀ ਈਯਰ ਬਡ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਨਾ ਕਰੋ।
9) ਕਈ ਵਾਰੀ, ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡ੍ਰੌਪ ਨਾਲ ਕੰਨ ਵਿੱਚ ਦਰਦ ਅਤੇ ਭਾਰਾਪਨ ਥੋੜਾ ਜਿਆਦਾਅਤੇ ਲੰਬਾ ਹੋ ਜਾਂਦਾ ਹੈ - ਇਹ ਸਿਰਫ ਕੁਝ ਮਾਮਲਿਆਂ ਵਿੱਚ ਵਾਪਰਦਾ ਹੈ।
ਅਜਿਹੇ ਮਾਮਲਿਆਂ ਵਿੱਚ ਡਾਇਲੁਟੇਡ ਡ੍ਰੌਪਾਂ ਨੂੰ ਹਰ ਇੱਕ ਦੂਜੇ ਦਿਨ ਜਾਂ ਬਾਅਦ ਵਿੱਚ ਵਰਤਿਆ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ - ਜਦੋਂ ਤੱਕ ਦਰਦ ਅਤੇ ਭਾਰਾਪਨ ਬਿਲਕੁਲ ਬੰਦ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ।
ਅਜਿਹੇ ਮਾਮਲਿਆਂ ਵਿੱਚ ਬਹੁਤ ਗੁੰਝਲਦਾਰ ਅਤੇ ਗੰਭੀਰ ਇਨਫੈਕਸ਼ਨ ਸੱਮਸਿਆ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਸਾਨੂੰ ਇਸ ਬਾਰੇ ਬਹੁਤ ਧੀਰਜ ਰੱਖਣਾ ਹੋਵੇਗਾ ਅਤੇ ਥੋੜੇ ਸਮੇਂ ਵਿਚ ਨਤੀਜਿਆਂ ਨੂੰ ਜਲਦੀ ਅਤੇ ਆਸ ਨਹੀਂ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ।
ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਇਕ ਪੁਰਾਣੀ ਬੀਮਾਰੀਆਂ ਨੂੰ ਠੀਕ ਕਰਨਾ ਅਤੇ ਈਯਰਡ੍ਰਮ ਹੋਲ ਦੀ ਪੁਨਰਗਠਨ ਕਰਨਾ ਧੀਰਜ, ਇਕਸਾਰਤਾ ਅਤੇ ਅਨੁਸ਼ਾਸਨ ਦੀ ਇੱਕ ਖੇਡ ਹੈ।
 
ਤੁਹਾਨੂੰ ਬੁੱਧੀਮਾਨ, ਸਮਾਰਟ ਅਤੇ ਸਵੈ-ਤਜਰਬੇਕਾਰ ਹੋਕੇ ਵਿਸ਼ਲੇਸ਼ਣ ਕਰਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਕਿ ਇਹ ਸਭ ਕੀ ਹੋ ਰਿਹਾ ਹੈ ਅਤੇ ਸਾਡੀ ਆਪਣੀ ਰਣਨੀਤੀਆਂ ਨਾਲ ਤਬਦੀਲੀਆਂ ਅਤੇ ਵਿਵਹਾਰ ਨੂੰ ਬਦਲਣ ਅਤੇ ਸਾਡੀ ਸਮੁੱਚੀ ਜਾਣਕਾਰੀ ਇੱਥੇ ਮੌਜੂਦ ਹੈ ਅਤੇ ਨਿਖੇੜ ਨੂੰ ਸਲਾਹ ਦਿੰਦੇ ਹਨ।


ಒಬ್ಬ ವ್ಯಕ್ತಿಯೂ ಒಂದೇ ಕಿವಿಯಲ್ಲಿ ಅಥವಾ ಎರಡೂ ಕಿವಿಗಳಲ್ಲೂ ಕಂಡಿಯನ್ನು ಹೊಂದಿರಬಹುದು. ಕಂಡಿಯೂ ಹುಟ್ಟಿನಿಂದಲೇ ಇರಬಹುದು. ಯಾವುದೇ ಸಮಸ್ಯೆ ಇಲ್ಲ.
 
 
ಯಾವುದೇ ರಂಧ್ರವಿರುವ ಕಿವಿ ತಮಟೆ  ಇಲ್ಲದಿದ್ದರೆ ಮತ್ತು ಕೇಳುವಿಕೆ ಸರಿಯಾಗಿದಲ್ಲಿ ಅದರ ಬಗ್ಗೆ ಏನೂ ಮಾಡುವ ಚಿಂತೆಯೇ ಬೇಡ. ರಂಧ್ರವಿರುವ ಇಯರ್ ಜನರು ಸಹ ದೀರ್ಘಕಾಲ ಸಾಮಾನ್ಯ ಜೀವನವನ್ನು ನಡೆಸಬಹುದು.
ಯಾವ ಹೊರಗಿನ ನೀರು ಯಾವ ಕಿವಿಯಲ್ಲೂ ಪ್ರವೇಶಿಸಬಾರದು ಎಂಬ ಮುನ್ನೆಚ್ಚರಿಕೆ ಇಟ್ಟುಕೊಳ್ಳಿ. ಸ್ನಾನ ಮಾಡುವಾಗ ಅಥವಾ ಇತರ ಕಡೆಯಿಂದ ಹೊರಗಿನ ನೀರಿನಿಂದ ರಕ್ಷಿಸಬೇಕು.
 
 
ಕೀವು ಹೊರಬರಲು ಶುರುವಾದಾಗ ಅಥವಾ ಈ ಸೋಂಕಿನಿಂದ ಕೇಳುವಿಕೆ ಅತೀತವಾಗಿ ಭಾದಿತವಾದಾಗ ಕ್ರಮಗಳನ್ನು ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳಬೇಕಾಗುತ್ತದೆ.
 
 
ಮತ್ತೊಂದು ಕಿವಿಯಲ್ಲೂ ಹರಿವು ಶುರುವಾಗುವುದನ್ನು ಹೊರತು, ನೀವು ಎರಡೂ ಕಿವಿಗಳಲ್ಲಿ ರಂಧ್ರವನ್ನು ಹೊಂದಿದ್ದರೆ, ಸಣ್ಣ ರಂಧ್ರ ಹೊಂದಿರುವ ಕಿವಿಯೊಂದಿಗೆ ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿ.
 
ಎರಡೂ ಕಿವಿಗಳಲ್ಲೂ ಹರಿವು ಇದ್ದರೆ ನೀವು ಎರಡು ಕಿವಿಗಳೊಂದಿಗೆ ಒಂದೇ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಶುರುಮಾಡಬಹುದು.
 
ಹರಿವು ಎಂದರೆ ಸಕ್ರಿಯ ಸೋಂಕಿದೆ ಎಂದು ಅರ್ಥ.
 
ನನ್ನ ಎಲ್ಲ ವೀಡಿಯೋಗಳನ್ನು ಪ್ರಬಂಧಗಳನ್ನು ಮತ್ತು ವೆಬ್‌ಸೈಟ್ ಅನ್ನು ಗಮನವಾಗಿ ನೋಡಿ ಓದಿ ಸಲಹೆಗಳನ್ನು ಮತ್ತು ಸೂಚನೆಗಳನ್ನು ಅನುಸರಿಸಿ.
 
ನಿಮ್ಮ ಪ್ರಶ್ನೆಗಳಲ್ಲಿ ಬಹುತೇಕೆ 100 ಶೇಕಡಾ ಪ್ರಶ್ನೆಗಳು ಅಲ್ಲಿ ಉತ್ತರಿಸಲಾಗಿರುತ್ತದೆ.
 
ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳನ್ನು ಕೊಂಡುಕೊಳ್ಳುವುದು ಹೇಗೆ ಎಂಬುದೂ ಸಹ ಅಲ್ಲಿ ತಿಳಿಸಲಾಗಿದೆ.
 
 
 
ಓದಿ ಅರ್ಥಮಾಡಿಕೊಳ್ಳುವ ಬದಲು, ಜನರು ಬರೇ  ಒಂದು ಭರವಸೆಗಾಗಿ ನನಗೆ ಕೂಡಲೇ ಕರೆ ಮಾಡುತ್ತಾರೆ.  ಅದು ಹಾಗೆ ನಡೆಯುವ ಕೆಲಸವಲ್ಲ.
 
ನಿಮ್ಮ ಸಮಸ್ಯೆಯ ಬಗ್ಗೆ ಮತ್ತು ಯಶಸ್ಸು ಸಾಧಿಸಲು ನಮ್ಮ ಉಪಕರಣವನ್ನು ಹೇಗೆ ಅತ್ಯುತ್ತಮವಾಗಿ ಬಳಸುವುದು ಎಂಬುದರ ಬಗ್ಗೆ ನೀವು ಸಾಕ್ಷರರಾಗಿರಬೇಕು ಮತ್ತು. 
 
ಯಶಸ್ಸು ಕೇವಲ ನಮ್ಮ ಭರವಸೆಯಿಂದ ಆಗುವುದಿಲ್ಲ, ಆದರೆ ನೀವು  ಸೂಚನೆಗಳನ್ನು ಅನುಸರಿಸಿದರೆ ಅದಕ್ಕೆ ಖಂಡಿತವಾಗಿ ಭಾರೀ ಸಾಧ್ಯತೆ ಇದೆ.
 
ನಾವು ವರ್ಗೀಯವಾಗಿ ತಿಳಿಸುವುದೇನೆಂದರೆ, ನಮ್ಮ ಈ ಸಸ್ಯ ಸಾರ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳು ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ರಂಧ್ರವನ್ನು ಮುಚ್ಚಲು -ಇಡೀ ವಿಶಾಲ ಪ್ರಪಂಚದಲ್ಲಿ-  ಇರುವ ಒಂದೇ ಮತ್ತು ನಿಜವಾದ ಪರಿಹಾರ.
 
ನಮ್ಮ ಸಸ್ಯ ಸಾರದ ವಿಶ್ವ ಅಂತಸ್ತಿನ ಅನನ್ಯತೆಯನ್ನು ತಿಳಿಸುವ ಮೈಕ್ರೊಬ್ಶಾಲಾಜಿಕಲ್ ಪ್ರಮಾಣಪತ್ರದೊಂದಿಗೆ, ನಮ್ಮ ಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ತರ್ಕ ಮತ್ತು ಪರಿಕಲ್ಪನೆ ಸ್ಪಷ್ಟವಾಗಿ ಕೆಳಗೆ ತಿಳಿಸಿ ವಿಸ್ತರಿಸಲಾಗಿದೆ.
------------------------------- --- - - - - -
 
ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ರಂಧ್ರದ ಸಂಪೂರ್ಣ ಶಮನ ಮತ್ತು ಮುಚ್ಚುವಿಕೆಯಲ್ಲಿ ನಮ್ಮ ಯಶಸ್ಸು ದರ ಶೇಕಡಾ 60 ರಿಂದ 70 ಮಾತ್ರ.
 
ರಂಧ್ರವಿಲ್ಲದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ಒಂದಿಗೆ ಹರಿವು/ ಕೀವು/ ದ್ರವದ ಜೊತೆ  ತೀವ್ರ ಅಥವಾ ಧೀರ್‌ಗಕಾಲದ ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕಿನ ನಿರ್ದರ್ಶಣಗಳಲ್ಲಿ ನಮ್ಮ ಯಶಸ್ಸಿನ ದರ 100 %.
 
ಶ್ರದ್ದೆಯಿಂದ ನಾವು ತಿಳಿಸುವುದೇನೆಂದರೆ ನಮ್ಮ ಸಸ್ಯ ಸಾರಗಳನ್ನು ನಮಗಾಗಿ ಅಥವಾ ನಮ್ಮಿಂದ ಇನ್ನೂ ಉತ್ತಮವಾಗಿಸಲು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಎಂದು - ಇದು ನಮ್ಮ ತಿಳಿವು ಮತ್ತು ಸಂಶೋಧನೆಯ ಪ್ರಕಾರ.
 
ಸಂಪೂರ್ಣ ಮುಚ್ಚುವಿಕೆಯಲ್ಲಿ 100 % ಗಿಂತ ಕಡಿಮೆ ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ ಯಶಸ್ಸು ದರಕ್ಕೆ ಕಾರಣ ನೀಡದೆ, ನಮ್ಮ ನಿಯಂತ್ರಣಕ್ಕೆ ಮೀರಿದ ಹಲವು ಅಂಶಗಳು ಇವೆ ಎಂದು ನಾವು ಹೇಳುತ್ತೇವೆ.
 
 
ವೈದ್ಯರಾಜ್ ಅನಿಲ್ ಡೋಗ್ರಾ
+91 9810260704
 
 
 
 
ಎಫ್ಯೂಶನ್ ಜೊತೆಗೆ ದೀರ್ಘಕಾಲದ ಓಟಿಟಿಸ್ ಮೀಡಿಯಾ(ಓ ಎಂ ಈ ) ವಿರುದ್ದ ವಿಶ್ವಾದ್ಯಂತ ಈ ಎನ್ ಟೀ ವೈದ್ಯರು ಮತ್ತು ಆಸ್ಪತ್ರೆಗಳು ನಿಷ್ಪರಿಣಾಮಕಾರಿಯಾಗಿದ್ದಾರೆ.
 
ಓ ಎಂ ಈ ಅನ್ನು ಕೀವು/ ದ್ರವದೊಂದಿಗಿರುವ ರಿಕರೆಂಟ್ ಮಿಡಲ್ ಇಯರ್ ಇನ್ಫೆಕ್ಶನ್  ( ಮರುಕಳಿಸುವ ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕು)  ಅಥವಾ ಕ್ರಾನಿಕ್ ಸುಪ್ಪುರಟಿವ್ ಆಟಿಟಿಸ್ ಮೀಡೀಯ ಎಂದು ಹೇಳಲಾಗುತ್ತದೆ. ಇದನ್ನು ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ 'ಗ್ಲೂ ಇಯರ್' / ಅಂಟು ಕಿವಿ ಎಂದು ಹೇಳಲಾಗುವುದು.
ಸರಳ ಭಾಷೆಯಲ್ಲಿ ಹೇಳುವುದಾದರೆ, ನೋವು ಜೊತೆ ಅಥವಾ ನೋವು ಇಲ್ಲದೆ, ದ್ರವ ಕಿವಿಯನ್ನು ಮುಚ್ಚಿವಂತೆ ಅಥವಾ ತುಂಬಿದಂತೆ ನಿಮಗೆ ಅನಿಸಿದರೆ- , ಮತ್ತು ಇಂತಹ ಪರಿಸ್ಥಿತಿ ರೋಗನಿರೋಧಕ ಔಷದಿಗಳನ್ನು 2- 3 ಭಾರೀ ಸತತವಾಗಿ ನೀಡಿದ ನಂತರವೂ ಮರಳಿ ಬರುತ್ತಿದಲ್ಲಿ - ಅದು ಓ ಎಂ ಈ ಆಗಿದೆ.
 
ಧೀರ್ಗಕಾಲ ಓ ಎಂ ಈ ಪರಿಸ್ಥಿತಿಯಲ್ಲಿ, ದ್ರವದ ಒತ್ತಡ ಮಧ್ಯ ಕಿವಿಯಲ್ಲಿ- ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಯ ಹಿಂದೆ ಆರೋಹಿಸುತ್ತದೆ- ಅಂತಿಮವಾಗಿ ಈ ಒತ್ತಡವು ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಯನ್ನು ಸಿಡಿಯುತ್ತದೆ.
 
ಓ ಎಂ ಈ ಸೋಂಕಿನ ವಿರುದ್ದ ರೋಗನಿರೋಧಕ ಓಷಾಧಿಗಳ ಈ ನಿಷ್ಫಲತೆಯೇ , ಜಗತ್ತಿನಲ್ಲಿ ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಯ ರಂಧ್ರದ ಪ್ರಮುಖ ಕಾರಣ.
 
ಸ್ಯೂಡೊಮೋನಾಸ್ ಏರೋಜಿನೋಸ, ಎಂ ಆರ್ ಎಸ್ ಏ ಮತ್ತು ಈ. ಕೋಲೈ ನಂತ ಕಠಿಣ ಸೂಪರ್ ಬಾಕ್ಟೇರಿಯಾ ಗಳನ್ನು ಕೊಲ್ಲಲು ಭಾರತದ ನವ ದೆಹಲಿಯ ' ಧಿ ಶ್ರೀ ರಾಮ್ ಇನ್ಸ್ಟಿಟ್ಯೂಟ್ ಫಾರ್ ಇಂಡಸ್ಟ್ರಿಯಲ್ ರಿಸರ್ಚ್ ರವರ ಮೈಕ್ರೊಬಿಯಾಲಜೀ ಲ್ಯಾಬ್ ನಿಂದ ವೈದ್ಯರಾಜ್ ಅನಿಲ್ ಡೋಗ್ರಾ ರವರ ಸಸ್ಯ ಸಾರ ಪ್ರಮಾಣೀಕರಿಸಲಾಗಿದೆ.
 
ಈ ಆವಿಷ್ಕಾರವೂ 1030 ರಲ್ಲಿ ಅಲೆಗ್ಸ್ಯಾಂಡರ್ ಫ್ಲೆಮಿಂಗ್ ರವರ ಪೆನಿಸಿಲಿನ್ ಆವಿಷ್ಕಾರಕ್ಕೆ ಹೋಲುತ್ತದೆ.
ಪೆನಿಸಿಲಿನ್ ಆವಿಷ್ಕಾರದೊಂದಿಗೆ ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಗಳ ಯುಗ ಪ್ರಾರಂಭವಾಗಿತು, ಮತ್ತು ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ನಿರೋಧಕ ಸೂಪರ್ ಬಗ್ಸ್ ಮತ್ತು ಸೂಪರ್ ಬಾಕ್ಟೇರಿಯಾಗಳ ಆಗಮನ ಮತ್ತು ಹರಡುವಿಕೆಯಿಂದ ಅದು ಈಗ  ಕೊನೆಗೊಂಡಿದೆ.
ವಾರ್ಷ್ಕವಾಗಿ, ಓ ಎಂ ಈ ಇಂದ ಬಳಲುತ್ತಿರುವ 2 ಮಿಲಿಯನ್  ಅಮೆರಿಕನ್ ಮಕ್ಕಳ ಕಿವಿಯ ತಮಟೆ, ಅದು ಸಿಡಿಯದಿರಲೆಂದು , ಕೇವಲ ಮಧ್ಯ ಕಿವಿಯ ದ್ರವವನ್ನು ಬರಿದು ಮಾಡಲು, ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಯಲ್ಲಿ ಸುರಂಗದಂತೆ ಕಿವಿಯ ಕೊಳವೆಯೊಂದನ್ನು ಇಡಲು ಉದ್ದೇಶಪೂರ್ವಕವಾಗಿ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯಿಂದ ರಂಧ್ರ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ.
 
ಈ ಕಿವಿ ಕೊಳವೆಯು ಸರಿ ಸುಮಾರು ಒಂದು ವರ್ಷದ ಕಾಲದ ವರೆಗೂ ಅಲ್ಲೇ ಉಳಿಯುತ್ತದೆ, ನಂತರ ಅದಾಗೆ ಬೀಳುತ್ತದೆ ಅಥವಾ ಆ ಸಣ್ಣ ರಂಧ್ರ ನೈಸರ್ಗಿಕವಾಗಿ ಸ್ವತಃ ಮುಚ್ಚುತ್ತದೆ ಎಂಬ ನಂಬಿಕೆಯಿಂದ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ಮೂಲಕ ತೆಗೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ.
ಆದರೆ, 10 - 20 ಪ್ರತಿಶತ ಸಂಧರ್ಬಗಳಲ್ಲಿ - ಅದು ಆಗುವುದಿಲ್ಲ.
 
ವಿಶ್ವದ ಅತಿ ದೊಡ್ಡ ದೇಶ ಮತ್ತು ಅರ್ಥಿಕಸ್ಥಿತಿಯಲ್ಲಿರುವ ದೇಶದ ವ್ಯವಹಾರ ಇಂತಹದಾದರೆ, ವಿಶ್ವದಾದ್ಯಂತ್ಕಾ ಏನಾಗುತ್ತಿರಬಹುದೆಂದು ನಾವು ಊಹಿಸಬಹುದು.
ಕಿವಿ ಕೊಳವೆಗಳು ಈ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಸಂಸ್ಯೆಗೆ ಒಂದು ಯಾಂತ್ರಿಕ ಪರಿಹಾರವೇ ಹೊರತು, ಅಸ್ತಿತ್ವ ಸೋಂಕನ್ನು ಏನೂ ಮಾಡುವುದಿಲ್ಲ. 
ಪ್ರಮುಖ ಸಮಸ್ಯೆಯಾದ ಸೋಂಕು ಉಳಿಯುತ್ತದೆ.
 
ಕಿವಿ ಕೊಳವೆಗಳು, ದ್ರವದ ಒತ್ತಡವನ್ನು ಸರಾಗಗೊಳಿಸಲು, ಮೊದಲೇ ಚಿಕ್ಕ ರಂಧ್ರವನ್ನು ಮಾಡುವುದರ ಮೂಲಕ, ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಯಲ್ಲಿ ದೊಡ್ಡ ರಂಧ್ರವಾಗುವ ಸಂಭವನೀಯತೆಯನ್ನು ತಡೆಗಟ್ಟುತ್ತದೆ.
 
ಕಿವಿಯ ತಮಟೆ ರಂಧ್ರವನ್ನು ತಿಳಿದುಕೊಳ್ಳುವುದು:
 
ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಯ ರಂಧ್ರ ನಿಮ್ಮ ಚರ್ಮದ ಮೇಲೆ ಒಂದು ಗಾಯದಂತೆ.
ದೇಹದ ಪ್ರತಿರಕ್ಷಣ ಶಕ್ತಿ ಚೆನ್ನಾಗಿದ್ದು, ಸಾಮಾನ್ಯ ಸೋಂಕಾಗಿದಲ್ಲಿ, ರಂಧ್ರವು ಅದಾಗೆ ಮುಚ್ಚ್ಚಿಕೊಳ್ಳುತ್ತದೆ.
 
ನಿಮ್ಮ ಕೂದಲು ಮತ್ತೆ ನಿಧಾನವಾಗಿ ಬೆಳೆಯುವಂತೆಯೇ, ಗಾಯವು ಇನ್ನೂ ನಿಧಾನವಾಗಿ ಮುಚ್ಚುತ್ತದೆ- ಆದರೆ ಖಂಡಿತ ಮುಚ್ಚ್ಚುವುದು. ನೀವು ಅದರ ಪ್ರತಿ ತಾಳ್ಮೆಯಿಂದ ಮಾತ್ರ ಇರಬೇಕು.
 
ಆದರೆ ಮಕ್ಕಳಲ್ಲಿರುವಂತೆ, ದೇಹದ ಪ್ರತಿರಕ್ಷಣೆ , ಕಡಿಮೆಯಾಗಿದಲ್ಲಿ, ಅಥವಾ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯ ಸೂಪರ್ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯ ಆಗಿದಲ್ಲಿ- ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಗಳಿಂದ ನಾಶವಾಗದ ಸೋಂಕು - ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ನರೋಧಕ ಸೋಂಕು - ಹೀಗಿದ್ದಾಗ ಗಾಯದ ಅಥವಾ ಕಿವಿಯ ತಾಟೆಯ ರಂಧ್ರದ ನೈಸರ್ಗಿಕ ಮುಚ್ಚುವಿಕೆಯ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆ ಪ್ರತಿಬಂಧಿಸಲಾಗಿ, ಅಡೆತಡೆಯಾಗಿ ನಿಂತುಹೋಗುತ್ತದೆ.
ಗಾಯ ಅಥವಾ ರಂಧ್ರದ ಮುಚ್ಚುವಿಕೆಯ ನೈಸರ್ಗಿಕ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆಯನ್ನು ಸೂಪರ್ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯ ಸೋಂಕು ನಿಲ್ಲಿಸುತ್ತದೆ.
 
ಇಂತಹ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ - 
 
ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಗಳನ್ನು ನಿಲ್ಲಿಸುವ ಹಾಗು ಚೆನ್ನಾಗಿ ಊಟ ಮಾಡುವುದರಿಂದ ದೇಹದ ಪ್ರತಿರಕ್ಷಿತ ಶಕ್ತಿಯನ್ನು ಮತ್ತೆ ನಿರ್ಮಿಸುವಿರಿ.
 
 
ನಮ್ಮ ಈ ಸಸ್ಯ ಸಾರದೊಂದಿಗೆ, ನೀವು ನಿಧಾನವಾಗಿ ಆದರೆ ಖದಿತವಾಗಿ ಮತ್ತು ನಿರಂತರವಾಗಿ ಸೋಂಕನ್ನು ತಗ್ಗಿಸಬಹುದು ಮತ್ತು ರಂಧ್ರದ/ ಗಾಯದ ಮುಚ್ಚುವಿಕೆಯ ನೈಸರ್ಗಿಕ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆ- ಪುನರಾರಂಭವಾಗುವುದು.
 
ಇದೇ ನಾವು ಕೆಲಸ ಮಾಡುವ ತರ್ಕ, ಮತ್ತು ಇದು ಒಂದೇ ತಾಳ್ಮೆಯಾಗಿ ರಂಧ್ರ ಮುಚ್ಚುವಿಕೆಯ ನೈಸರ್ಗಿಕ ತಂತ್ರವನ್ನು ಪುನರ್ರಚನೆ ಮಾಡುತ್ತದೆ.
 
ನಮ್ಮ ಪುಟಕ್ಕೆ ಭೇಟಿ ನೀಡುವವರಲ್ಲಿ ಹೆಚ್ಚಿನವರು ಈಗಾಗಲೇ ರಂಧ್ರವಾದ ಕಿವಿಯ ತಮಟೆ ಹೊಂದಿದ ವ್ಯಕ್ತಿಗಳು.
 
ನೀವು ನಮ್ಮನ್ನು ನೋಡಿರಿ.
 
ಆದರೆ ನೀವು ಇತರರನ್ನು ಅವರ ಕಿವಿ ತಮಟೆ ರಂಧ್ರವಾಗುವುದರಿಂದ ರಕ್ಷಿಸಬಹುದು.
 
ನಿಮಗೆ ಇಲ್ಲಿ ಸಿಗುವ ತಿಳಿವು ಅವರಿಗೆ ಇಲ್ಲ.
 
ಕಿವಿ ನೋವು, ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕು ಓ ಎಂ ಈ ಸೋಂಕು- ಸಮರ್ಥವಾಗಿ ಸೂಪರ್ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯ ಸೋಂಕಾಗಿರಬಹುದು- ಇವುಗಳಿಂದ ಬಳಲಬಹುದಾದ ಅಥವಾ ಬಳಲುತ್ತಿರುವ ಹತ್ತಾರು  ಜನರು ನಿಮ್ಮ ಕುಟುಂಬದಲ್ಲಿ ಅಥವಾ ಸ್ನೇಹಿತರಲ್ಲಿರಬಹುದು, ಹೆಚ್ಚಾಗಿ 15 ವರ್ಷಗಳ ವರೇಗಿರುವ ಮಕ್ಕಳು.
 
ರಂಧ್ರವಾದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ಕಡೆಗೆ ಕರೆದೊಯ್ಯಬಹುದು.
 
ಅವರು ನಮ್ಮನ್ನು ಹುಡುಕುತ್ತಿಲ್ಲ.
 
ಈ ತಿಳಿವನ್ನು ಸುತ್ತಲೂ ಹರಡಿ
 
ಒಂದು ಮಗುವಿನ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು ಕಾಪಾಡಿ.
ದ್ರವ ತುಂಬಿರುವ ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕಿನಾಂದ ಸಾಂಭಾವ್ಯವಾಗಿ ಆಗಬಹುದಾದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ರಂಧ್ರವನ್ನು ತಪ್ಪಿಸುವುದು ನಮಗೆ ಕೇವಲ ಒಂದು ಅಥವಾ ಎರಡೇ ದಿನಗಳ ಕೆಲಸ- ಇದು ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ನಮ್ಮ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳಿಂದಲೇ ಸಾಧ್ಯ.
 
ದೀರ್ಘಕಾಲ ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕು ಮತ್ತು ರಂಧ್ರವಾದ/ ಛಿದ್ರಗೊಂಡಿದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ದುರಸ್ತಿಗಾಗಿ ಅನಿಲ್ ಡೋಗ್ರಾ ರವರ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳು- ಸಂಪೂರ್ಣ ನೈಸರ್ಗಿಕ, ಎಲ್ಲ ಗಿಡಮೂಲಿಕೆ. ಎಲ್ಲಾ ವಯಸ್ಸಿಗೂ ಸುರಕ್ಷಿತ.
 
ಸ್ಟಾಂಡಿಂಗ್ ಇನ್ಸ್ಟ್ರಕ್ಶನ್ಸ್ –
 
- - - - - - - - - - - - - - - - - - -
 
ಬಾಯಿಂದ ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳುವ ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಗಳನ್ನು ದಯವಿಟ್ಟು ತಕ್ಷಣವೇ ನಿಲ್ಲಿಸಿ. ಅದರ ಬದಲಿಗೆ ವಾರಕ್ಕೆ ಎರಡು ಬಾರಿ ಹಸಿರು ತರಕಾರಿ ಬಿಸಿ ಸೂಪ್ ಅಥವಾ ತಾಜಾ ರಸವನ್ನು ಸೇವಿಸಿ.
 
ಸಮಸ್ಯೆ ಇರುವ ಕಿವಿಯಲ್ಲಿ , ವಿಶೇಷವಾಗಿ ರಂಧ್ರವಾಗಿದಲ್ಲಿ, ಸ್ನಾನ ಮಾಡುವಾಗ ನೀರು ಪ್ರವೇಶಿಸಬಾರದು. ಸ್ನಾನ ಮಾಡುವಾಗ ಕಿವಿಯಲ್ಲಿ ಹತ್ತಿಯ ಉಂಡೆಯನ್ನು ಇಡಿ. ಹತ್ತಿಯ ಉಂಡೆಗೆ ಸ್ವಲ್ಪ ವ್ಯಾಸಲೀನ್ ಹಚ್ಚಬಹುದು. ಇದು ನೀರನ್ನು ಹಿಮ್ಮೇಟಿಸುತ್ತದೆ.
 
ರಂಧ್ರವನ್ನುದುರಸ್ತಿ ಮಾಡಿ ಒಂದು ವರ್ಷದ ವರೆಗೂ ಈಜುವುದು ಅಥವಾ ಧಾರ್ಮಿಕ ಸ್ನಾನ ಮಾಡಬಾರದು.
 
ಯಾವುದೇ ರಾಸಾಯನಿಕ, ಅಥವಾ ಹೋಮ್ಯೋಪತಿ ಅಥವಾ ಮನೆಯ ಗಿಡಮೂಲಿಕ ಪರಿಹಾರಗಳನ್ನು ಕಿವಿಗಳಿಗೆ ಹಾಕಬಾರದು..
 
 
 
ನಮ್ಮ ಗಿಡಮೂಲಿಕಾ ಡ್ರಾಪ್ಸ್ ಪ್ಯಾಕೇಜ್ ನಲ್ಲಿ ಏನಿದೆ.................................
 
ನಮ್ಮ ಶುದ್ದವಾದ ಸಸ್ಯ ಸಾರ ಹನಿಗಳೇ ಮಾಸ್ಟರ್ ಹನಿಗಳು.
 
ಇತರ ಎಲ್ಲಾ ಹನಿಗಳನ್ನು ಯಾವುದೇ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಈ ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳಿಂದ ಮಾಡಬಹುದು.
 
ಈ ಹನಿಗಳು ಗಾಢವಾಗಬಹುದು ಅಥವಾ ಸಮಯದೊಂದಿಗೆ ತೋರುವ ಹೆಪ್ಪುಗಟ್ಟಿದ ಸಸ್ಯದ ಶೇಷವನ್ನು ಸೂಚೀಸಬಹುದು- ಅದು ಸಹಜ- ಅವುಗಳ ಪರಿಣಾಮಕಾರಿತ್ವ ಮತ್ತು ಸಾಮರ್ಥ್ಯ ಹಾಗೆಯೇ ಉಳಿಯುತ್ತದೆ- ಶಾಸ್ವತವಾಗಿ , ನಮ್ಮ ಈ ಹನಿಗಳಿಗೆ ಮುಕ್ತಾಯವಿಲ್ಲ. ಸಾಧ್ಯವಾದಷ್ಟು , ನೇರ ಬೆಳಕಿನಿಂದ ದೂರ, ಸಾಮಾನ್ಯ ತಾಪಮಾನದಲ್ಲಿ ಶುದ್ಧವಾದ ಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ ಅವುಗಳಲ್ಲಿ ಇಡಬಹುದು.
 
ಪರಿಸರದ ಸೂಕ್ಷ್ಮಜೀವಿ ಯಾವುದಕ್ಕೂ ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳನ್ನು ನಾಶಮಾಡುವ ಸಾಮರ್ಥ್ಯವಿಲ್ಲ.  ಇದರಿಂದಲೇ ಈ ಹನಿಗಳು ಚೆನ್ನಾಗಿ ಉಳಿಯುತ್ತವೆ- ಎಂದೆಂದಿಗೂ.
 
ನಾವು ನಾಲ್ಕು 10 ಎಂ ಎಲ್ / 300 ಹನಿಗಳ ದ್ರಾಪರ್ ಬಾಟ್ಲಿಗಳನ್ನು ಕಳುಹಿಸುತ್ತೇವೆ.
ಎರಡು ಬಾಟ್ಳಿಗಳು ನಮ್ಮ ಶುದ್ಧವಾದ ಸಸ್ಯ ಸಾರವನ್ನು ಹೊಂದಿವೆ, ಒಟ್ಟು ಅಂದಾಜು 600 ಶುದ್ಧ ಸಸ್ಯ ಸಾರ ಹನಿಗಳು.
 
ನಿಮ್ಮ ರಂಧ್ರದ ಚಿಕಿತ್ಸೆಗೆ , ನಿಮಗೆ ಹೆಚ್ಚಿನ ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳ ಅಗತ್ಯವಿರಲ್ಲ.
 
ನಮ್ಮ ಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ಯಶಸ್ಸು ಅಥವಾ ವಿಫಲತೆ ಇವುಗಳೊಂದಿಗೆ ಮಾತ್ರ ಆಗಬಹುದು ಅಥವಾ ಅದರ ನಂತರ ಇನ್ನೂ ಕೆಲವು ಉಳಿಯಬಹುದು. ಅವು ಎಂದೂ ಕೆಟ್ಟು ಹೋಗುವುದಿಲ್ಲ- ಎಂದಿಗೂ.
 
ಒಂದು ಬಾಟ್ಲಿ 10 ಮಿಲೀ ಶುದ್ಧ ನೀರಿನಲ್ಲಿ ಬೆರೆಸಿದ ಶುದ್ಧ ಸಾರದ 25 ಹನಿಗಳ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿರುತ್ತದೆ.
 
ಹೆಚ್ಚು ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಸೇರಿಸುವ ಮೂಲಕ ನಿಮಗೆ ಬೇಕಾದಾಗ ಶಕ್ತಿಯನ್ನು ಹೆಚ್ಚಿಸಬಹುದು.
 
ನಾಲ್ಕನೇ ಬಾಟಲಿಯು 10 ಮಿಲೀ ನೆಸಲ್ ಡ್ರಾಪ್ ಬಾಟಲಿಯಾಗಿದೆ, ಇದನ್ನು 4 ಹನಿಗಳ ಶುದ್ಧ ಸಸ್ಯದ ಸಾರವನ್ನು ಮತ್ತು ಉಳಿದ 10 ಮಿಲೀ ಶುದ್ಧ ನೀರನ್ನು ಸೇರಿಸುವ ಮೂಲಕ ಯಾವುದೇ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಮರುಸೃಷ್ಟಿಸಬಹುದು.
 
ಹೀಗಾಗಿ, ನೆಸಲ್ ಡ್ರಾಪ್ಸ್ ಹಾಗು ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಯಾರು ಬೇಕಾದರೂ ಯಾವಾಗಬೇಕಾದರೂ ಶುದ್ಧ ಸಾರ ಹನಿಗಳ ಮೂಲಕ ಮಾಡಬಹುದು.
 
ನೆಸಲ್ ಡ್ರಾಪ್ಸ್-
-----------------------------
 
ದಿನಕ್ಕೆ ಒಂದು ಬಾರಿ, ನೆಸಲ್ ದ್ರಾಪ್‌ಗಳ 2 ಹನಿಗಳನ್ನು ಮೂಗಿನ ಪ್ರತಿ ಹೊಳೆಯಲ್ಲಿ ಹಾಕಿ,  ನೆಗಡಿ/ ಮೂಗು ಕಟ್ಟಿರುವ ಸಮಸ್ಯೆ ಅಥವಾ ಗಂಟಲು ಸೋಂಕಿನ ಸಮಸ್ಯೆ ಇದಲ್ಲಿ ಬೇಕಾದಷ್ಟು ಬಾರಿ ಹಾಕಬಹುದು.
 
ಸೈನಸೈಟಿಸ್ ಸಮಸ್ಯೆಗೆ ಇದು ಒಂದೇ ನಿಜವಾದ ಪರಿಹಾರ.
 
ಆಂತರಿಕವಾಗಿ ಸಂಬಂಧ ಹೊಂದಿರುವುದರಿಂದ ಇದು ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕಿಗೆ ಸಹ ಸಹಾಯ ಮಾಡುತ್ತದೆ.
 
ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಹಾಕುವುದು- 
---------------------------------------
ಇನ್ನೂ ರಂಧ್ರವಾಗದ , ಕಿವಿ ನೋವು / ಧೀರ್ಗಕಾಲ ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕಿಗೆ:
 
ನಮ್ಮ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳಿಂದ ಮಾತ್ರ ನಿಮ್ಮ ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಯನ್ನು ರಕ್ಷಿಸಿ.
 
ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳ 4 ಹನಿಗಳನ್ನು ಸಂಬಂಧಪಟ್ಟ ಕಿವಿಗೆ ಹಾಕಿ, ಅದು 2 ನಿಮಿಷ ಹಾಗೆಯೇ ಇರಲಿ.
 
ನಂತರ ನೀವು ಎದ್ದು ನೇರವಾಗಿ ನಿಲ್ಲುವಾಗ, ಕಿವಿಯಿಂದ ಏನಾದರೂ ಹೊರಬಂದಲ್ಲಿ ಅದನ್ನು ಹತ್ತಿಯಿಂದ ಶುದ್ಧ ಮಾಡಿಕೊಳ್ಳಿ.
ನಿಮ್ಮ ಭಾರ ಮತ್ತು/ ಅಥವಾ ನೋವು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಹೋಗಿ ನಿಮಗೆ ಸಹವಾಗಿ ಎನ್ನಿಸುವ ವರೆಗೂ ನೀವು ಇದನ್ನು ದಿನಕ್ಕೆ ಒಂದರಿಂದ ಮೂರು ಬಾರಿ ಮಾಡಬಹುದು.
 
ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳು ಟಿನ್ನಿಟಸ್ ಸಮಸ್ಯೆಗೆ ಅಲ್ಲ, ಅದಕ್ಕೆ ಸೋಂಕಿನ ನಂತರ ಹನಿಗಳು ಸಹಾಯ ಮಾಡಿದರೂ ಸಹ.
ಟಿನ್ನಿಟಸ್ ಎಂಬುದು ಮೆದುಳಿಗೆ ಸೇರುವ ಒಳ ಕಿವಿಯ ಸಮಸ್ಯೆ, ಮತ್ತು ಈ ಹನಿಗಳು ಒಳ ಕಿವಿಯನ್ನು ತಲುಪುವುದಿಲ್ಲ.
ಅಂತಿಮವಾಗಿ ಶ್ರಾವಣ ಎಷ್ಟು ಸುಧಾರಿಸುತ್ತದೆ ಎಂಬುದು ಒಬ್ಬೊಬ್ಬರ ಊಹೆ . ಕೇವಲ ಸಮಯ ಹೇಳಬಹುದು.
 
ಈಜುಗಾರರಿಗೆ - ಈಜು, ಡೈವಿಂಗ್, ಸರ್ಫ್ ಬೋರ್ಡಿಂಗ್ ಅಥವಾ ಸ್ಕೂಬಾ ಡೈವಿಂಗ್ ಮುಗಿದ ನಂತರ ಪ್ರತಿ ಬಾರಿ , ಮುನ್ನೆಚ್ಚರಿಕೆಯಾಗಿ ಅಥವಾ ಸೋಂಕನ್ನು ತಡೆಗಟ್ಟಲು, ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳ 4 ಹನಿಗಳನ್ನು 2 ನಿಮಿಷಕ್ಕೆ ಹಾಕಿ.
 
ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಯ ರಂಧ್ರದ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ:
 
ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಮೊದಲು ಹಾಕುವುದರ ಮೂಲಕ ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿ. ಪ್ರತಿ ದಿನ 2 ನಿಮಿಷಕ್ಕೆ, ದಿನಕ್ಕೆ ಒಂದು ಬಾರಿ ಎಂದು ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದೆ ಸಸ್ಯ ಸಾರದ 2- 4 ಹನಿಗಳನ್ನು ಹಾಕಿ.
 
ಕುಟುಕುವಿಕೆಯು ಸಹನೀಯವಾಗಿದ್ದಲ್ಲಿ ಆಥಾವ ಸಹನೀಯಯವಾಗಬಹುದಾದರೆ, ಪರ್ಯಾಯ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಹಾಕಲು ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿ.
 
ಕುಟುಕುವಿಕೆಯು ಸಹನೀಯವಾಗೆ ಇದ್ದು ಬಂದರೆ, ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಮುಂದುವರಿಸಿ ಅಥವಾ ಮತ್ತೆ ತೇಳುವುಗೊಳಿಸಿದ ಹನಿಗಳಿಗೆ ಹಿಂತಿರುಗಿರಿ.
 
ಅಂತಿಮವಾಗಿ ಕುಟುಕುವಿಕೆಯು ತುಂಬಾ ಕಡಿಮೆಯಾಗಬೇಕು, ಆದ್ದರಿಂದ ನೀವು ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಹಾಕಬಹುದು.
 ಹಲವು ಜನಕ್ಕೆ ಈ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆಯೂ ತುಂಬಾ ಸಮಯ ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳಬಹುದು.  ತಾಳ್ಮೆಯಿಂದಿರುವುದನ್ನು ಹೊರತು ಒಬ್ಬರು ಮಾಡಲು ಏನೂ ಇಲ್ಲ. 
 
ಪ್ರತಿ ಪರ್ಯಾಯ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಸೇರಿಸಿಕೊಳ್ಳಬೇಕು.
 
. 2 ನಿಮಿಷಕ್ಕೆ 2- 3 ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳು ಸಾಕು.
 
ಸಂಬಂಧಪಟ್ಟ ಕಿವಿ ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಗುಣಹೊಂದಿ, ಮತ್ತೆ ಒಂದು ವರ್ಷದ ನಂತರ ಸಹ ಯಾವುದೇ ಹೊರಗಿನ ನೀರು ಪ್ರವೇಶಿಸಬಾರದು.
 
ಒಮ್ಮೆ ಕೀವು ಹೊರಬರುವುದು ನಿಂತಮೇಲೆ ಹಾಗು ಕುಟುಕುವಿಕೆ ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಹೂದಮೇಲೆ, ಸೋಂಕು ತಟಸ್ಥಗೊಂಡಿದೆ ಎಂದು ಅದು ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ.
 
ಅಷ್ಟರೊಳಗೆ, ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಸೇರಿಸಲು ನೀವು ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿರುವಿರಿ, ಮತ್ತು ಪರ್ಯಾಯ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ಕೇವಲ ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಮಾತ್ರ ಸೇರಿಸಲು ಮುಂದುವರೆಯಬಹುದು.
 
ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಪ್ರತಿರೋಧನೆ ಮತ್ತು ಸ್ಯೂಡೋಮೊನಸ್ ಏರುಜಿನೋಸಾ, ಎಂ ಆರ್ ಎಸ್ ಏ ಮತ್ತು ಈ . ಕೋಲೈ ತರಹದ ಸೂಪರ್ ಬಗ್ ಗಳ ಯುಗದಲ್ಲಿ ಸೋಂಕನ್ನು ತಟಸ್ಥಗೊಳಿಸುವುದು ಸಾಮಾನ್ಯ ಸಾಧನೆಯಲ್ಲ.
 
ಈ ಸೂಪರ್ ಬಗ್ ಗಳು ವಿಸ್ವದಾದ್ಯಂತ ಹಾನಿ ಉಂಟುಮಾಡುತ್ತಿವೆ. ಇವುಗನ್ನು ಕೇವಲ ನಮ್ಮ ಸಸ್ಯ ಸಾರದಿಂದಲೇ ತಟಸ್ಥಗೊಳಿಸಬಹುದು.
 
ಪ್ರತಿಷ್ಟ ' ಧಿ ಶ್ರೀ ರಮ್ ಇನ್ಸ್ಟಿಟ್ಯೂಟ್ ಫಾರ್ ಇಂಡಸ್ಟ್ರಿಯಲ್ ರಿಸರ್ಚ್' ನವ ದೆಹಲಿ, ಭಾರತ- ಇವುಗಳನ್ನೇ ಸೂಚಿಸುವ ಇವರ ಪ್ರಮಾಣದ ಪ್ರತಿಗಳು ಈ ಸೈಟ್  ನಲ್ಲಿ ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ.
 
ಒಮ್ಮೆ ಸೋಂಕು ತಟಸ್ಥವಾದ ನಂತರ ರಂಧ್ರದ ಅಳತೆಯನ್ನು ಈ ಎನ್ ಟೀ ವೈದ್ಯರೊಬ್ಬರಿಂದ ಪರಿಶೀಲಿಸಿ ಅಂದಾಜು ಮಾಡಿಕೊಳ್ಳಿ.
 
ಒಂದು ದಿನ ಬಿಟ್ಟು ಒಂದು ದಿನ ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಸೇರಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಮುಂದುವರಿಸಿರಿ ಮತ್ತು .40  ದಿನಗಳ ನಂತರ ಮತ್ತೆ ಒಮ್ಮೆ80 .ದಿನಗಳ ನಂತರ ಸಾಧ್ಯವಾದರೆ ಅದೇ ಈ ಎನ್ ಟೀ ವೈದ್ಯರಿಂದ  ರಂಧ್ರದ ಅಳತೆಯನ್ನು ಪರೀಕ್ಷಿಸಿಕೊಳ್ಳಿರಿ.
 
2 ನೇ ಅಥವಾ 3 ನೇ ಪರಿಶೀಲನೆಯಲ್ಲಿ ಗುಣವಾಗುವ/ ಮುಚ್ಚುವಿಕೆಯಾಗುವ ಮತ್ತು ರಂಧ್ರದ ಅಳತೆ ಕಡಿಮೆಯಾಗುವಂತೆ ಕಂಡುಬಂದರೆ, ನಮ್ಮ ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳನ್ನು ಉಪಯೋಗಿಸುವುದರಿಂದ ಕೆಲವೇ ತಿಂಗಳುಗಳಲ್ಲಿ ಅದು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಮುಚ್ಚುವುದು. ಇಲ್ಲದಿದ್ದರೆ ನೀವು ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸಾ ದುರಸ್ತಿ ಮಾಡಬೇಕು.
 
ಹೆಚ್ಚುವಾರಿ ಅಂಶಗಳು:
 
ಸಾರವು ಸಮಯದೊಂದಿಗೆ ಬಾಟ್ಲಿಯ ಬದಿಗಳಲ್ಲಿ ಘಾಡ ಅಥವಾ ಕಪ್ಪಾಗಬಹುದುಮತ್ತು ಹೆಪ್ಪುಗಟ್ಟಿದ ಸಸ್ಯ ಶೇಷ ಒಳಗೆ ಕಾಣಿಸಿಕೊಳ್ಳಬಹುದು , ಆದರೆ ಇದು ಶಾಶ್ವತವಾಗಿ ಸಾಮರ್ಥ್ಯವಾಗಿ ಮತ್ತು ಪರಿಣಾಮಕಾರಿಯಾಗಿ ಉಳಿಯುತ್ತದೆ.
 
ಇದು ಅನಿಲ್ ವೈದ್ಯರಾಜ್ ಡೋಗ್ರಾ ಮತ್ತು ಕುಟುಂಬದವರಿಂದ ಕೈಯಿಂದ ಮಾಡಲಾದುದ್ಡು
 
ಅನಿಲ್ ವೈದ್ಯರಾಜ್ ಡೋಗ್ರಾ
 
+91 9810260704
 
 
 
ಈ ಮೇಲ್ಕಂಡ ಜೊತೆಯ ಬೆಲೆ ರೂ. 3700/- , ಇದು ಶಿಪ್ಪಿಂಗ್ ಒಳಗೊಂಡು ಭಾರತದೊಳಗಿನ ಆರ್ಡರ್ ಗಳಿಗೆ. ಬೆಳೆಗಳು ಯಾವಾಗ ಬೇಕಾದರೂ ಬದಲಾಗಲು ಸಾಧ್ಯ.
 
ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಸಂಪೂರ್ಣ ಗುಣಹೊಂದಲು ಹೆಚ್ಚಿನ ಶುದ್ಧ ಹನಿಗಳ ಅಗತ್ಯವಿರುವುದಿಲ್ಲ. ಹೆಚ್ಚು ಅಗತ್ಯವಿದಲ್ಲಿ, ಪುನಃ ಮೇಲ್ಕಂಡಂತೆ ಇಡೀ ಜೊತೆಯನ್ನು ಕೊಂಡುಕೊಳ್ಳಬೇಕು.
 ಭಾರತದ ಹೊರಗೆ ಶಿಪ್ಪಿಂಗ್ ಒಳಗೊಂಡು ಈ ಸೆಟ್ ಬೆಲೆ 145. 00 ಯು. ಎಸ್ ಡಾಲರ್‌ಗಳು.
 
ಕೀಡಮೂಲಿಕ ಉತ್ಪನ್ನಗಳ ಆಮುದಿನ ಮೇಲಿರುವ ನಿರ್ಬಂಧಗಳ ಕಾರಣ ಇದನ್ನು ಯು. ಏ . ಏ ,  ಸೌದಿ, ಮತ್ತು ಇತರ ಇಸ್ಲಾಂ ದೇಶಗಳಿಗೆ ಕಳುಹಿಸಲು ಸಾಧ್ಯವಲ್ಲ.
 ಇದನ್ನು ಪಾಕಿಸ್ತಾನಿಗೆ ಕಳುಹಿಸಬಹುದು.
 
ನೀವು www.paypal.com ನಲ್ಲಿ [email protected]  ಎಂಬ ನಮ್ಮ ಇಮೇಲ್ ಅದರ ಮೂಲಕ ಅಥವಾ ಕೆಳಕಂಡ ಮಾಹಿತಿಯ ಮೂಲಕ ಮನೀ ಗ್ರಾಮ್ ಅಥವಾ ವೆಸ್ಟರ್ನ್ ಯೂನಿಯನ್ ನಿಂದಲೂ ನೀವು ವೆಚ್ಚ ಸಲ್ಲಿಸಬಹುದು:
 
ANIL KUMAR DOGRA, IA / 20 A, PHASE ONE, ASHOK VIHAR, DELHI , INDIA - 110052 . Phone +91 9810260704. 
 
ಆದ ನಂತರ ವಿವರಗಳನ್ನು [email protected]  ಎಂಬ ಈಮೇಲ್ ಗೆ ಕಳುಹಿಸಿ.ಭಾರತ ಒಳಗೆ - ವೆಚ್ಚವನ್ನು ಕೆಳಕಂಡ ನಮ್ಮ ಅಕೌಂಟ್ ಗೆ ಸಲ್ಲಿಸಿ ಮೇಲ್ಕಂಡ ಈಮೇಲ್ ಮೂಲಕ ಅಥವಾ 9810260704 ಈ ಸಂಖೆಗೆ ಸಂದೇಶ ಅಥವಾ ವಾತ್ಸಪ್ ಮೂಲಕ ನಿಮ್ಮ ಹೆಸರು, ವಿಳಾಸ, ಪಿನ್ ಕೋಡ್ ದೂರವಾಣಿ ಸಂಖ್ಯೆ ಇವುಗಳೊಂದಿಗೆ ತಿಳಿಸಿ.
ರೂ. 3700/ - ಅನ್ನು ಶ್ರೀಮತಿ ಮೀನು ಡೋಗ್ರಾ ರವರ ಸೇವಿಂಗ್ಸ್ ಅಕೌಂಟ್ ಸಂಖ್ಯೆ 35782552316 ಎಸ್. ಬೀ ಐ ಬಾಂಕ್, ಅಶೋಕ್ ವಿಹಾರ್ ಬ್ರಾಂಚ್ , ಫೇಸ್ .1 ದೆಹಲಿ- 110052 , ಇಂಡಿಯಾ. IFSC CODE is SBIN0007783  ಇದಕ್ಕೆ ಡೆಪಾಸಿಟ್ ಮಾಡಿ.
 
ಪದೇ ಪದೇ ಕೇಳಲಾಗುವ ಪ್ರಶ್ನೆಗಳು
 
1. ಕಿವಿಯ ತಮಟೆ ಸರಿಯಾಗಿ ಇದ್ದಾಗ ಮತ್ತು ವ್ಯಕ್ತಿಗೆ ಕಿವಿ ನೋವು ಮತ್ತು ಅಥವಾ ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕು ಇದ್ದಾಗ, ಈ ಎನ್ ಟೀ ವೈದ್ಯರು ಯಾವುದೇ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳು ಹಾಕಬಾರದೆನ್ನುತ್ತಾರೆ, ಮತ್ತು ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ರಂಧ್ರದ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಎನ್ ಟೀ ವೈದ್ಯರು ಯಾವುದೇ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳು ಹಾಕಬಾರದೆಂದು ಎಚ್ಚರಿಸುತ್ತಾರೆ. ಆದರಿಂದ ನಿಮ್ಮ ಹನಿಗಳು ಯಾಕೆ ಮತ್ತು ಹೇಗೆ ಸಹಕರಿಸುತ್ತದೆ?
 
ಈ ಎನ್ ಟೀ ವೈದ್ಯರು ಯಾವುದೇ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕು ಅಥವಾ ಓಟಿಸಿಸ್ ಮೀಡೀಯ ಇವುಗಳನ್ನು ಗುಣಪಡಿಸಲು ಹಾಕಬಾರದೆಂದು  ಹೇಳುವುದು, ಏಕೆಂದರೆ ಯಾವುದೇ ಹನಿಗಳು ರಂಧ್ರವಾಗದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು ದಾಟಿ ಪ್ರವೇಶಿಸಲು ಅಥವಾ ಹೋಗಲು ಸಾಧ್ಯವಲ್ಲ.
 
ಅತಿ ವರ್ಗೀಯವಾಗಿ ಹೇಳಬೇಕಾದರೆ, ನಮ್ಮ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳು ರಂಧ್ರ ಹೊಂದದ ಕಿವಿ ತಮತೆಯೊಂದಿಗೆ, ಒಂದೇ ದಿನದಿಂದ ಒಂದು ವಾರದೊಳಗೆ , ಯಾವುದೇ ವಯಸ್ಸಿನವರಿಗೆ, ಯಾವುದೇ  ತೀವ್ರ ಅಥವಾ ಧೀರ್ಗಕಾಲ ಆಟಿಟಿಸ್ ಮೀಡೀಯ ಇದರನ್ನೂ ಗುಣಪಡಿಸಬಹುದು ಎಂದು ನಾವು ತಿಳಿಸಿ ಹಕ್ಕು ಸಾಧಿಸುತ್ತೇವೆ.
 
ಬಾಯಿಂದೆ ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳುವ ಯಾವುದೇ ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಗಳ ಅಗತ್ಯವಿಲ್ಲ.
 
ಆಧುನಿಕ ವೈದ್ಯಕೀಯ ವಿಜ್ಞಾನವು ಕನಿಷ್ಠವಾಗಿ ಹೇಳಲು ಪ್ರಗತಿಯಾಲಿರುವ ಒಂದು ಕೆಲಸವಾಗಿದೆ.
 
ವಾಸ್ತವವಾಗಿ ಓಸ್ಮೋಸಿಸ್ ಮೂಲಕ ನಮ್ಮ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳು ಸೋಂಕನ್ನು ತಟಸ್ಥಗೊಳಿಸಲು ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು  ಕಡಿಮೆಆದರೆ ಸಾಕಷ್ಟು ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ  ತಲುಪುತ್ತವೆ. ಸೇರಿಸುವ ಉಳಿದ ಹನಿಗಳು ಎರಡೇ ನಿಮಿಷಗಳಲ್ಲಿ ಹೊರ ಹೋಗುತ್ತವೆ.
ಕಿವಿ ಹನಿಗಳ ಮೂಲಕ ರಸಾಯನ ಔಷದಿಯು ಸಮಸ್ಯೆಯನ್ನು ಹೆಚ್ಚಿಸಬಹುದು ಎಂದು ವೈದ್ಯರು ಭಯಪಡುತ್ತಾರೆ - ಯಾವುದು ಸರಿಯಾಗಿರಬಹುದು.
ಅಲ್ಲದೆ, ಕಿವಿ ಹನಿಗಳೇ  ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯಾ ರೋಗಕಾರಕವನ್ನು ಕೊಂಡೊಯ್ಯಬಹುದು - ಮತ್ತು ನಾವು ಅವರೊಂದಿಗೆ ಒಪ್ಪಿಕೊಳ್ಳುತ್ತೇವೆ.
ಆದರೆ ನಮ್ಮ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳು ವಿಭಿನ್ನವಾದದ್ದು.
 
ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳು ಕೇವಲ ಗಿಡಮೂಲಿಕೆಗಳಾಗಿವೆ ಮತ್ತು ರೋಗಕಾರಕಗಳ ಕಠಿಣವಾದವುಗಳನ್ನು ತಟಸ್ಥಗೊಳಿಸಲು ಅವು ಸಮರ್ಥವಾಗಿವೆ.
ಯಾರೊಬ್ಬರೂ ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳಿಂದ ಸುರಕ್ಷಿತವಾಗಿರುವರು.
ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳ ಜೊತೆಗೆ ಇತರ ಯಾವುದೇ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಹಾಕಬಾರದು ಮತ್ತು ಈಜಬಾರದು ಎಂದು ನಾವು ಸೂಚಿಸುತ್ತೇವೆ. ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ರಂಧ್ರ  ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಮುಚ್ಚುವ ತನಕ ಸ್ನಾನ ಮಾಡುವಾಗ ನಿಮ್ಮ ಕಿವಿಗೆ ನೀರು ಪ್ರವೇಶಿಸಬಾರದು. ಮುನ್ಸಿಪಲ್ ನೀರು ಸೂಪರ್ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯಾ ರೋಗಕಾರಕಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿರುವುದರಿಂದ ಮತ್ತು ಸೋಂಕನ್ನು ಮರುಪ್ರಾರಂಭಿಸಬಹುದು ಎಂಬ ಕಾರಣ ಇದು ಅಗತ್ಯ.
 
2. ಕಿವಿ ತಮಟೆ ರಂಧ್ರದ 100 ಪ್ರತಿಶತ ಮುಚ್ಚಿವಿಕೆಯ ಭರವಸೆ ನೀಡಲು ನಿಮಗೆ ಸಾಧ್ಯವೇ?
100 ಪ್ರತಿಶತ ಸೋಂಕು ತಟಸ್ಥಗೊಳಿಸುವಿಕೆಯ ಸಂಪೂರ್ಣ ಭರವಸೆ ಇದೆ, ಆದರೆ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ಸಂಪೂರ್ಣ  ದುರಸ್ತಿಯ 60 ರಿಂದ 70 ಪ್ರತಿಶತದಷ್ಟು ಭರವಸೆ ಮಾತ್ರ.
ಇದು ಕ್ರಮಗಳೊಂದಿಗೆ ಒಂದು ಪ್ರಕ್ರಿಯೆ, ಮತ್ತು ಇವುಗಳು ಮೇಲೆ ವಿವರಿಸಲ್ಪಟ್ಟಿವೆ. ನಾವು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಮತ್ತು ಶಾಶ್ವತವಾಗಿ ಹಲವಾರು ರಂಧ್ರವಾಗಿರುವ ಕಿವಿ ತಮಟೆಗಳನ್ನು ಮುಚ್ಚಿದ್ದೇವೆ.
ಪ್ರಶಂಸಾಪತ್ರದ ಪಟ್ಟಿಯಲ್ಲಿ ಅವರ ದೂರವಾಣಿ ಸಂಖ್ಯೆಯೊಂದಿಗೆ ನಮ್ಮ ಗ್ರಾಹಕರ ಪಟ್ಟಿಯು ಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ಫಲಿತಾಂಶವನ್ನು ಲೆಕ್ಕಿಸದೆ ಇರುವುದು. ಗೌಪತ್ಯೆ ಸಮಸ್ಯೆಗಳ ಕಾರಣಕ್ಕಾಗಿ ಹಲವಾರು ಗ್ರಾಹಕರು ಒಳಗೊಳ್ಳದಿರಲು ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡುವುದರಿಂದ ನಮ್ಮ ಪಟ್ಟಿ ಸಂಪೂರ್ಣವಲ್ಲ.
 
3. ನನ್ನ ಕಿವಿಯಿಂದ ಯಾವುದೇ ಕೀವು ಹೊರಬರುವುದಿಲ್ಲ, ಇದರರ್ಥ  ಯಾವುದೇ ಸೋಂಕು ಇಲ್ಲ ಎಂದಾಗುತ್ತದೆಯೇ?
ಕೀವು ಔಷದಿ ಮತ್ತು ದೇಹದ ರೋಗ ನಿರೋಧಕ ಶಕ್ತಿ ಸೋಂಕನ್ನು ಎದುರಿಸಿದಾಗ ಹೊರಬರುವ ಸತ್ತ ಕೋಶಗಳನ್ನು ಒಳಗೊಂಡಿದೆ.
ಕೀವು ಆಗ್ಗಾಗೆ ಹೊರಬಂದಾಗ, ಅದು ಸೋಂಕು ಇನ್ನೂ ಇರುತ್ತದೆ ಎಂದು ಸೂಚಿಸುತ್ತದೆ.
ಕೆಲವೊಮ್ಮೆ,  ಕೀವು ಆರಂಭದಲ್ಲಿ ಇರುವುದಿಲ್ಲ, ಆದರೆ ನೀವು ನಮ್ಮ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಸೇರಿಸಿದಾಗ, ಇದು ಹೊರಬರಲು ಪ್ರಾರಂಭವಾಗುತ್ತದೆ. ಇದರರ್ಥ ಸೋಂಕು ಸುಪ್ತವಾಗಿತ್ತೆಂದು ಇದು ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಗಳ ಕಾರಣದಿಂದಾಗಿ ಒಣಗಿಹೋಗಿತ್ತು, ಆದರೆ ಅದು ಮುಗಿಯಲಿಲ್ಲ.
 
ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳು ಅಸ್ತಿತ್ವದಲ್ಲಿರುವ ಸೋಂಕಿನ ವಿರುದ್ಧದ ಹೋರಾಟವನ್ನು ಮತ್ತೆ ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿದಾಗ, ಸತ್ತ ಜೀವಕೋಶಗಳು ರಚಿಸಲ್ಪಡುತ್ತವೆ ಮತ್ತು ಅವುಗಳು ಕೀವು ಎಂದು ಹೊರಹೊಮ್ಮುತ್ತವೆ.
ರಂಧ್ರವನ್ನು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ದುರಸ್ತಿ ಮಾಡುವ ಸಮಯದವರೆಗೆ ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಸರಬರಾಜು ನೀರನ್ನು ಕಿವಿಗೆ ಪ್ರವೇಶಿಸಲು ಅನುಮತಿಸಬಾರದು - ಏಕೆಂದರೆ  ಸಾರ್ವಜನಿಕ ನೀರಿನಲ್ಲಿರುವ ಕೆಟ್ಟ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯ  ಸೋಂಕನ್ನು ಸೇರಿಸಲು ಅಥವಾ ಮರುಪ್ರಾರಂಭಿಸಬಹುದು.
 
ಸ್ನಾನ, ಈಜು ಅಥವಾ ಧಾರ್ಮಿಕ ಸ್ನಾನದ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಈ ಸೋಂಕಿನ ಅಪಾಯವಿದೆ.
ಆದ್ದರಿಂದ ಹುಷಾರಾಗಿರಿ ಮತ್ತು ಸ್ನಾನ ಮಾಡುವಾಗ ಕಿವಿಯನ್ನು ಅನ್ನು ರಕ್ಷಿಸಲು ಹತ್ತಿ ಉಪಯೋಗಿಸಿ.
 
ಒಮ್ಮೆ ಕೀವು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳಿಂದಾಗಿ ನಿಂತಾಗ, ನಂತರ ಸೋಂಕು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಹೋಗಿದೆ ಎಂದು ನಾವು ಹೇಳಬಹುದು.
 
4. ನಾವು ವೈದರಾಜ್ ಅನಿಲ್ ಅವರನ್ನು ಭೇಟಿ ಮಾಡಬಹುದೇ ಮತ್ತು ಕೈಯಿಂದ ನಿಮ್ಮಿಂದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳಬಹುದೇ?
ಇಲ್ಲ. ನಾವು ಎಲ್ಲವನ್ನೂ ಇಲ್ಲಿ ವಿವರಿಸುತ್ತೇವೆ. ನೀವು ಕರೆ ಮಾಡಬಹುದು ಮತ್ತು ಇಮೇಲ್ ಕಳುಹಿಸಬಹುದು.
ಎಲ್ಲಾ ಕಿವಿ ಸಮಸ್ಯೆಗಳಿಗೆ ನಾವು ಈ ಅಂತಿಮ ಪರಿಹಾರವನ್ನು ಹೊಂದಿದ್ದೇವೆ ಮತ್ತು ಯಾವುದೇ ಔಷಧವನ್ನು ಶಿಫಾರಸು ಮಾಡುವುದಿಲ್ಲ.
 
ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ, ನೀವು ವೈದ್ಯರನ್ನು ನೋಡಿದಾಗ, ನಾವು ಇಲ್ಲಿ ವಿವರಿಸುವ 10% ರಷ್ಟು ಸಹ ವಿವರಿಸುವುದಿಲ್ಲ. ಮತ್ತು ವೈದ್ಯರು - ಹರ್ಬಲಿಸ್ಟ್ಗಳು ನಾವು ಆರೋಗ್ಯ ಸಮಸ್ಯೆಯನ್ನು ಸಮಗ್ರವಾಗಿ ಪರಿಗಣಿಸುತ್ತೇವೆ, ಆದ್ದರಿಂದ ನಮ್ಮ ಹರ್ಬಲ್ ಹನಿಗಳು ರೋಗನಿರ್ಣಯದ ಲೆಕ್ಕವಿಲ್ಲದೆ  ಕೆಲಸ ಮತ್ತು ಸಹಾಯ ಮಾಡುತ್ತದೆ.
ಎಲ್ಲ ರಂಧ್ರವಿಕೆ ಸಮಸ್ಯೆಗಳು ಸಮಾನ.
ಇದು , ಇಲ್ಲಿ ಸಮಸ್ಯೆಯ ಕೆಲವು ಭಾಗಗಳನ್ನು ಮಾತ್ರ ಗುರಿಯಾಗಿಸಿ ಅಥವಾ ಉದ್ದೇಶಿಸಿ, ಉಳಿದವು ಪಾರ್ಶ್ವ ಪರಿಣಾಮಗಳೊಂದಿಗೆ ಸಿಕ್ಕಿಹಾಕಿಕೊಳ್ಳುವ ರಸಾಯನ ಆದಾರಿತ ಆಧುನಿಕ ಔಷದಿ ಅಥವಾ ಅಲೋಪಥಿಗಿಂತ ಭಿನ್ನವಾಗಿದೆ.
 
5. ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ದುರಸ್ತಿ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯು ಈ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ಹೆಚ್ಚಾಗಿವಿಫಲಗೊಳ್ಳುತ್ತದೆ ಏಕೆ ಮತ್ತು ಕೊಳವೆಗಳು ಅಥವಾ ಗ್ರೆಮ್ಗಳು ಹಾಕುವುದು ಮಧ್ಯ ಕಿವಿ ಸೋಂಕಿನಲ್ಲಿ ಹೆಚ್ಚು ಅಪಾಯಕಾರಿಯಾಗುವು ಏಕೆ? 
ಇದು ಈ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ವಿಫಲವಾಗುವುದು ಏಕೆ?
 
ಅಮೇರಿಕ ದಲ್ಲಿ ಪ್ರತಿವರ್ಷ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ಒಳಗೆ ಒಂದು ಚಿಕ್ಕ ರಂಧ್ರ ಮಾಡುವುದರ ಮೂಲಕ ರಂಧ್ರವಾಗದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ಒಳಗೆ 2 ಮಿಲಿಯನ್ ರಿವೆಟ್ ನಂತ ಕಿವಿ ಕೊಳವೆಗಳು ಮತ್ತು ಗ್ರೊಮೆಟ್ ಗಳು ಇರಿಸಲಾಗುವವು. ಈ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯನ್ನು ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ಮಕ್ಕಳಿಗೆ ಮಾಡಲಾಗುವುದು.
 
ಈ ಕಿವಿ ಕೊಳವೆಗಳು ಒಂದು ವರ್ಷ ಅಥವಾ ಎರಡು ವರ್ಷಗಳಲ್ಲಿ ಉರಿದುಹೋಗಬೇಕು ಮತ್ತು ಸಣ್ಣ ಕಿವಿ ರಂಧ್ರವು ತನ್ನಿಂದಲೇ ಬೇಗನೆ ಮುಚ್ಚಲ್ಪಡುತ್ತದೆ ಎಂದು ಊಹಿಸಲಾಗಿದೆ .
 
ಈ ಗ್ರಾಮೆಟ್ ಗಳು  ಒಂದು ಸುರಂಗ ರಚಿಸಲು ಒಂದು ಸಣ್ಣ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸಾರಂಧ್ರದ ಮೂಲಕ ಇಡಲಾಗುತ್ತದೆ ಆದ್ದರಿಂದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯಹಿಂದಿರುವ ಕೀವು ಹೊರಗೆ ಹರಿಯುತ್ತದೆ ಮತ್ತು ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ  ಹಿಂದೆ ಸಂಗ್ರಹಿಸುವುದಿಲ್ಲ - ಇದು ಮಾಡಿದರೆ - ಅದು ಕಿವಿ ತಮಟೆಯ ಮೇಲೆ ಒತ್ತಡ ಹಾಕಬಹುದು ಮತ್ತು ತಮಟೆ ಸಿಡಿಯಬಹುದು.
 
ಕೀವು ತೀವ್ರ ಅಥವಾ ದೀರ್ಘಕಾಲದ ಮಧ್ಯದ ಕಿವಿ ಸೋಂಕಿನಿಂದ ಉಂಟಾಗುತ್ತದೆ, ಅದು ಈ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ಓರಲ್ ಆಂಟಿಬಯೋಟಿಕ್ಗಳೊಂದಿಗೆ ತಾಟಸ್ಥಗೊಳಿಸುವುದು ಅಥವಾ ಕೊಲ್ಲಲಾಗುವುದು ಅಥವಾ ತೆಗೆದುಹಾಕಲ್ಪಡುವುದಿಲ್ಲ.
 
 
ಮಧ್ಯದ ಕಿವಿ ಸೋಂಕು ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ಆಂಟಿಬಯೋಟಿಕ್ ನಿರೋಧಕವಾಗಿ ಮಾರ್ಪಟ್ಟಿದೆ - ಆದ್ದರಿಂದ ಮಿಕ್ಕಿರುವ ಏಕೈಕ ಪರ್ಯಾಯ  ಕಿವಿ ತಮತೆಯೊಳಗೆ ಒಂದು ಯಾಂತ್ರಿಕ ಸುರಂಗವನ್ನು ಮಾಡುವುದು-  ಮತ್ತು ಕನಿಷ್ಟ ಒಂದು ದೊಡ್ಡ ರಂಧ್ರದೊಳಗೆ ಕಿವಿ ತಮಟೆ ಸ್ಫೋಟಿಸದಂತೆ ಉಳಿಸುತ್ತದೆ.
ವಯಸ್ಸಿನೊಂದಿಗೆ ಮಗುವಿನ ರೋಗ ನಿರೋಧಕ ಶಕ್ತಿ ಹೆಚ್ಚಾಗುತ್ತಾ, ಸೋಂಕು ನೈಸರ್ಗಿಕವಾಗಿ ಎದುರಿಸಲಾಗಿ ತಟಸ್ಥಗೊಳ್ಳುತ್ತದೆ ಎಂದು ಆಶಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ, ತದನಂತರ ಕಿವಿ ಕೊಳವೆ ಅಥವಾ ಗ್ರೊಮೆಟ್ ಬೀಳಿದಾಗ ಅಥವಾ ತೆಗೆದುಹಾಕಲ್ಪಟ್ಟಾಗ, ಅದೇ ನಿರೋಧಕ ಶಕ್ತಿ  ಉಳಿದಿರುವ ಸಣ್ಣ ರಂಧ್ರವನ್ನು ಮುಚ್ಚಲು ಸಹಾಯ ಮಾಡುತ್ತದೆ.
 
ಇದು ಕಿವಿ ಕೊಳವೆಗಳ ಹಿಂದೆ ಇರುವ ಸಂಪೂರ್ಣ ಕಥೆ ಅಥವಾ ತರ್ಕ.
 
ಆದರೆ ಸೂಪೆರ್ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯ ಸೋಂಕು ಕಿವಿ ಕೊಳವೆ ಬಿದ್ದ ನಂತರ ಶುರುವಾದರೆ, ರಂಧ್ರವು ಮುಚ್ಚಿಕೊಳ್ಳದೆ ಸಮಯೋದೊಂದಿಗೆ ಗುಣಿಸುವ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯ ಜನಸಂಖ್ಯೆಇಂದ ಕೊನೆಯಲ್ಲಿ ಅತಿ ದೊಡ್ಡದಾಗುತ್ತದೆ.
 
ಟಿಂಪಾನೋಪ್ಲಾಸ್ಟಿ ಅಥವಾ ಕಿವಿ ತಮಟೆ ರಂಧ್ರದ ದುರಸ್ತಿ ಸ್ಜಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆ ಇವುಗಳ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲೂ ಇದೆ ಸ್ಥಿತಿ.
 
ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಗೆ ಮುಂಚಿತವಾಗಿ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸಕ ಮೂಲ ಸೋಂಕನ್ನು ತೊಡೆದುಹಾಕಲು ಓರಲ್ ಆಂಟಿಬಯೋಟಿಕ್ಗಳನ್ನು ನಿಮಗೆ ನೀಡುತ್ತಾರೆ, ಈ ಕಾರಣದಿಂದಾಗಿ ಕಿವಿ ತಮಟೆ ಸ್ವಾಭಾವಿಕವಾಗಿ ಸ್ವತಃ ಮುಚ್ಚಿಹೋಗಲಿಲ್ಲ.
 
ಡಾಕ್ಟರ್ ದೃಷ್ಟಿ ಇಂದ ಯಾವುದೇ ಸೋಂಕನ್ನು ನೋಡದಿದ್ದರೆ ಅದನ್ನು ತೆಗೆದುಹಾಕಲಾಗಿದೆ ಎಂದು ಭಾವಿಸುತ್ತಾರೆ.
 
ಪೂರ್ಣ ಸೋಂಕನ್ನು ಹೋಗಿದೆಯೇ  ಎಂದು ನಿರ್ಧರಿಸಲು ಯಾವುದೇ ಸೂಕ್ಷ್ಮಜೀವಿಯ ಪರೀಕ್ಷೆಯನ್ನು ಮಾಡುವುದಿಲ್ಲ ಮಾಡುವುದಿಲ್ಲ.
 
ಇದು ಕೆಲವೊಮ್ಮೆ ಮಾಡುವುದು ಅಪ್ರಾಯೋಗಿಕ.
 
ಆದರೆ ಸೋಂಕು ತೀರಾ ಚಿಕ್ಕ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯಾ ಮತ್ತು ಶಿಲೀಂಧ್ರಗಳಾಗಿದ್ದು, ದೀರ್ಘಾವಧಿಯ ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಗಳ  ನಂತರ ಇವುಗಳ ಸ್ವಲ್ಪ ಮಿಕ್ಕಿದ್ದು ಅಥವಾ ಇವುಗಳು ಆಂಟಿಬಯೋಟಿಕ್ ನಿರೋಧಕ ಸೂಪರ್ ಬಗ್ ಅಥವಾ ಸೂಪೆರ್ ಬ್ಯಾಕ್ಟೀರಿಯ ಆಗಿದ್ದರೆ , ಮತ್ತು ವೈದ್ಯರು ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು ದುರಸ್ತಿ ಮಾಡಿದರೆ , ಅದು ದುರ್ಬಲ ಅಡಿಪಾಯದ ಮೇಲೆ ಕಟ್ಟಡ ನಿರ್ವಹಿಸುವುದಕ್ಕೆ ಸಮಾನ.  
 
ಕಟ್ಟಡವು ಕಸಿಯಲು ಬದ್ಧವಾಗಿದೆ.
 
 
ಆದ್ದರಿಂದ ಈಸೂಪೆರ್ ಬಗ್ ಗಳು  ಗುಣಿಸಿ ಮತ್ತೊಮ್ಮೆ ಕೆಲವು ವರ್ಷಗಳ ನಂತರ ಪುನಃ ದುರಸ್ತಿಮಾಡಿದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು  ಮತ್ತು ಕುಸಿಯುತ್ತವೆ.
 
ಈ ದಿನಗಳಲ್ಲಿ ಇದು ತುಂಬಾ ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಪುನಃಸಂಭವಿಸುತ್ತಿದೆ.
 
ನಾವು ಸೂಪರ್  ಬಗ್ ಗಳ ಯುಗದಲ್ಲಿ ವಾಸಿಸುತ್ತಿದ್ದೇವೆ - . ಈ ಆಂಟಿಬಯೋಟಿಕ್ ನಿರೋಧಕ ಸೂಪರ್ ಬಗ್ ಗಳನ್ನು ನಾಶಗೊಳಿಸಲು ಸಾಧ್ಯವಿರುವ ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಅನ್ನು ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳದ್ದಿದ್ದರೆ ಈ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಗಳು ವಿಫಲವಾಗಲು ಬದ್ಧವಾಗಿವೆ.
 
6. ಕಿವಿ ತಮಟೆ ದುರಸ್ತಿ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ನಂತರ  ನಮ್ಮ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು  ಉಳಿಸಲು ನಾವು ಈ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಬಳಸಬಹುದೇ?
ನೀವು ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ಮೂಲಕ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು ದುರಸ್ತಿ ಮಾಡಿದರೆ, ಒಂದು ತಿಂಗಳು ತಾಳಿ ನಂತರ ಒಂದು ವರ್ಷಕ್ಕೆ, ವಾರಕ್ಕೆ ಒಂದು ಬಾರಿ ಅಂತ 2 ನಿಮಿಷಕ್ಕೆ ನಮ್ಮ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು 4 ಹನಿಗಳು ಹಾಕಬೇಕು, ಇದರಿಂದ ಶಸ್ತ್ರಚಿಕಿತ್ಸೆಯ ಮೊದಲು ತೆಗೆದುಕೊಂಡ ಆಂಟಿಬಯಾಟಿಕ್ ಗಳಿಂದ ನಾಶವಾಗದ ಸೂಪರ್ ಬಗ್ ಗಳಿಂದ ದುರಸ್ತಿ ಮಾಡಿದ ಕಿವಿಯ ತಮಟೆ ವಿಫಲವಾಗಬಾರದೆಂದು ಖಚಿತಪಡಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು.
 
ಈ ರೀತಿ ಇಂತಹ ಬಗ್ ಗಳು ಸಮಯದೊಂದಿಗೆ ಗುಣಿಸಿ ದುರಸ್ತಿ ಮಾಡಿದ ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು ವಿಫಲಗೊಳಿಸುವ ಅಪಾಯವನ್ನು ತಗ್ಗಿಸಬಹುದು.
 
ನಿಮ್ಮ ಎರಡೂ ಕಿವಿಯ ತಮಟೆಗಳು ರಂಧ್ರವಾಗಿದ್ದರೆ, ಮೊದಲು ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳನ್ನು ಒಂದು ಕಿವಿಯಲ್ಲಿ ಪ್ರಯತ್ನಿಸಿ, ನಂತರ ಸ್ವಲ್ಪ ಆತ್ಮವಿಶ್ವಾಸ ಪಡ್ದೇಡ ಮೇಲೆ ಇತರ ಕಿವಿಯಲ್ಲಿ ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿ.
 
ಕೆಲವೊಮ್ಮೆ ರಂಧ್ರ ಪ್ರಕರಣಗಳಲ್ಲಿನ ಸೋಂಕು ಅತಿ ತೀವ್ರವಾಗಿರುತ್ತದೆ ಮತ್ತು ಪರಿಸ್ಥಿತಿ ಹೇಗಿರುತ್ತದೆ  ಅಂದರೆ ನೀವು ಮೊದಲ ಬಾರಿಗೆ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳನ್ನು ಸೇರಿಸಿದಾಗ ಸಹ ಹೆಚ್ಚು ನೋವು ಇರುತ್ತದೆ ಮತ್ತು  ಅದು ದೀರ್ಘಕಾಲ ಭಾರತ್ವದೊಂದಿದೆ ಉಳಿಯುತ್ತದೆ, ಅರ್ಧ ದಿನ ಅಥವಾ ಹೆಚ್ಚು.
 
ಅಂತಹ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ, ಅದರಲ್ಲಿ 50 ಪ್ರತಿಶತವನ್ನು ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಹನಿಗಳ ಬಾಟಲಿಯಿಂದ ತೆಗೆದುಕೊಂಡು ಅದಕ್ಕೆ ಶುದ್ಧ ನೀರನ್ನು ಸೇರಿಸುವುದರ ಮೂಲಕ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಹನಿಗಳನ್ನು ಇನ್ನೂ ತೆಳುಗೊಳಿಸಬಹುದು. ನೇಸಲ್ ಡ್ರಾಪ್ಸ್ ಅನ್ನು ಮುಂದುವರಿಸಿ ಆದರೆ ನೋವು ಮತ್ತು ಭಾರತ್ವ ಮುಗಿದ ನಂತರ ಮಾತ್ರ ಈ ಹೊಸ ಅಧಿಕ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಹನಿಗಳನ್ನು ಸೇರಿಸಿ.
 
ಕಳುಸಾಲಾಗಿರುವ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಹನಿಗಳು ಸಸ್ಯ ಸಾರದ 25 ಹನಿಗಳನ್ನು ಮತ್ತು ಮಿಕ್ಕಿದ್ದು 10 ಮಿಲೀ ಶುದ್ಧ ನೀರನ್ನು ಹೊಂದಿರುವುದು. ಸಲಹೆಯಾಗಿ , ನೀವು ಹೊಸ ಖಾಲಿ 10 ಮಿಲಿ ಡ್ರಾಪರ್ ಬಾಟಲಿಯನ್ನು ಪಡೆಯುವುದರ ಮೂಲಕ ನೀವು ಹೊಸ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಡ್ರಾಪ್ಸ್ ಅನ್ನು ಪ್ರತ್ಯೇಕವಾಗಿ ರಚಿಸಬಹುದು.
 
ಬಾಯಿಂದ ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳುವ ರಸಾಯನ  ಆಂಟಿಬಯೋಟಿಕ್ಗಳು  ಸೋಂಕನ್ನು ಬರೇ ಒಣಗಿಸುತ್ತವೆ - ಸೋಂಕನ್ನು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ತಟಸ್ಥಗೊಳಿಸಿದರೆ ಅಥವಾ ಇಲ್ಲವೇ ಎಂದು ಯಾರಿಗೂ ತಿಳಿದಿಲ್ಲ. ಇದನ್ನು ದಾಟಿ, ನೋವು, ಉರಿಯೂತ ಅಥವಾ ಭಾರವು ಮುಂದುವರಿದರೆ - ಈ ಜನರು ಕಿವಿಯೈಯ  ಸುರಂಗವನ್ನು ಸ್ವಚ್ಛಗೊಳಿಸುವುದು ಮಾತ್ರ ಮಾಡಬಹುದು. ಸಮಯೇ ಏನೆಂದರೆ ಸ್ವಚ್ಛಗೊಳಿಸಲು ವಕ್ಯುಮ್ ಕ್ಲೀನರ್  ಸಾಧನ ಅಥವಾ ತಂತ್ರಜ್ಞಾನದಂತಹ ಉಪಕರಣವನ್ನು ಬಳಸುತ್ತಾರೆ. ವಾಕ್ಯೂಮ್ ಒತ್ತಡ ಹೆಚ್ಚಾದರೆ, ಸ್ವಚ್ಚಮಾಡುವಾಗಲೇ, ಅದು ಕಿವಿ ತಮಟೆಯನ್ನು ಸಿಡಿಯುತ್ತದೆ. ಇಂತಹ ಅನೇಕ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ ನಾವು ಕಂಡಿದ್ದೇವೆ.
 
ಸ್ನೇಹಿತರು ಅಥವಾ ಕುಟುಂಬವನ್ನು ಅವರ ಹೊರಗಿನ ಕಿವಿ ಅಥವಾ ಟನೆಲ್ ಅನ್ನು ಸ್ವಚ್ಚಗೊಳಿಸಬಾರದೆಂದು  ತಿಳಿಸಿ, ನಿರ್ದಿಷ್ಟವಾಗಿ ವಕ್ಯುಮ್ ಉಪಕರಣ  ಮೂಲಕ ಅಲ್ಲ.
 
 
ನಮ್ಮ ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಹನಿಗಳು ಮಾತ್ರ, ಕಿವಿಯ  ಮೇಣವನ್ನು ನಿಧಾನವಾಗಿ ಮತ್ತು ನೈಸರ್ಗಿಕವಾಗಿ ಸ್ವಚ್ಛಗೊಳಿಸುವುದು. ಅದು ಅಂತಹ ಬಾಹ್ಯ ಪರಿಸರವನ್ನು ಸೃಷ್ಟಿಸುತ್ತದೆ, ನಂತರ ಕಿವಿ ಸ್ವಾಭಾವಿಕವಾಗಿ ಮಾಡಬಾಕಾಗಿರುವ ಹಾಗೆಯೇ ಕಿವಿಯ ಮೇಣೆಯನ್ನು ಸ್ವತಃ ಶುದ್ಧೀಕರಿಸುತ್ತದೆ. ಶುಧೀಕರಿಸಲು ಯಾವುದೇ ಕಿವಿ ಬಡ್ಸ್ ಅನ್ನು ಉಪಯೋಗಿಸ ಬೇಡಿ.
 
 
ಕೆಲವೊಮ್ಮೆ, ತೆಳುಗೊಳಿಸಿದ ಕಿವಿ ಹನಿಗಳೊಂದಿಗೆ ನೋವು ಮತ್ತು ಭಾರವನ್ನು  ಸ್ವಲ್ಪ ಹೆಚ್ಚು ಮತ್ತು ದೀರ್ಘಕಾಲದವರೆಗೆ ಇರುತ್ತದೆ - ಇದು ಕೆಲವು ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ ಮಾತ್ರ ಸಂಭವಿಸುತ್ತದೆ.
 
ಅಂತಹ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ, ತೆಳುಗೊಳಿಸೀದ  ಹನಿಗಳನ್ನು ಸಹ ಪ್ರತಿ ಪರ್ಯಾಯ ದಿನಗಳನ್ನು ಅಥವಾ ನಂತರ ಬಳಸಬೇಕು - ನೋವು ಮತ್ತು ಭಾರವನ್ನು ಸಂಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಕಡಿಮೆಯಾಗುವವರೆಗೆ.
 
ಇಂತಹ ಪ್ರಕರಣಗಳು ಸಂಕೀರ್ಣ ಮತ್ತು ತೀವ್ರವಾದ ಸೋಂಕಿನ ಸಮಸ್ಯೆಗಳನ್ನು ಹೊಂದಿವೆ. ನಾವು ಅದರ ಬಗ್ಗೆ ಬಹಳ ತಾಳ್ಮೆಯಿಂದಿರಬೇಕು ಮತ್ತು ಮೂನ್ನುಗ್ಗಿ ಫಲಿತಾಂಶಗಳನ್ನು ಅಲ್ಪಾವಧಿಗೆ ನಿರೀಕ್ಷಿಸಬಾರದು.
 
ಹಾಗೆಯೇ, ದೀರ್ಘಕಾಲದ ಸೋಂಕನ್ನು ಗುಣಪಡಿಸುವುದು ಮತ್ತು ಎಆರ್ಡರುಕಿವಿ ತಂತೆಯ ರಂಧ್ರ ಮತ್ತೆ ಬೆಳೆಯುವುದು,  ತಾಳ್ಮೆ, ಸ್ಥಿರತೆ ಮತ್ತು ಶಿಸ್ತು ಒಂದು ಆಟವಾಗಿದೆ.
 
ಮತ್ತು ಏನು ನಡೆಯುತ್ತದೆ ಎಂದು ವಿಶ್ಲೇಷಿಸಲು ನೀವು ಜಾಣರಾಗಿ, ಬುದ್ಧಿವಂತರಾಗಿ ಮತ್ತು ಸ್ವಯಂ-ಆತ್ಮಾವಲೋಕನವಾಗಿರಬೇಕು. ಮತ್ತು ನಮ್ಮ ಹನಿಗಳೊಂದಿಗ ನಿಮ್ಮ ಸ್ವಂತ ಚಿಕಿತ್ಸಾ ವಿಧಾನಗಳನ್ನು ಬದಲಿಸಲು ಮತ್ತು ರೂಪಿಸಲು ಬೇಕು. ಮತ್ತು ನಾವು ನಮ್ಮ ಒಟ್ಟಾರ ಜ್ಞಾನವನ್ನು ಇಲ್ಲಿ ಪ್ರಸ್ತುತಪಡಿಸಿದ್ದೇವೆ ಮತ್ತು ಸಲಹೆಯನ್ನು ಪ್ರಯತ್ನಿಸಿದ್ದೇವೆ.


ஒருவருக்கு ஒரு காதிலோ அல்லது இரு காதுகளிலுமோ ஓட்டை இருக்கலாம்.
 இது பிறவியிலேயே இருக்கக்கூடியது. இதனால் ஒரு தொல்லையுமில்லை.
சீழ் வடியாமலோ அல்லது கேட்கும் திறன் இருந்தால் சிகிச்சை எதுவும் தேவையில்லை. துளையுள்ள செவிப்பறை படைத்தவர்கள்யுடன் ஆரோக்கியம் படைத்த மற்றவர்கள் போல நீண்ட ஆயுளுடன் வாழ முடியும்.
வெளியிலிருந்து எந்தவிதமான நீரும் காதுகளுக்குள்ளே செல்லக்கூடாது என்பதில் மிகுந்த கவனமாயிருங்கள். குறிப்பாக குளிக்கும் சமயத்திலோ அல்லது மற்ற நேரங்களிலோ.
இந்த நோய் கண்டவுடன் சீழ் வடிந்தாலோ அல்லது கேட்கும் திறன் பாதிக்கப்பட்டாலோ சிகிச்சையை மேற்கொள்ளவேண்டும்.
இரு காதுகளிலும் துளை இருந்தால் மற்றும் மற்ற காதிலும் சீழ் வழியாமல் இருந்தால், சிறிய துளை இருக்கும் காதிலிருந்து தொடங்கவும். 
இரண்டிலும் வழிந்தால் ஒரே நேரத்தில் இரு காதுகளிலிருந்தும் தொடங்குங்கள்.
சீழ் வடிந்தால் நோய் பற்றியுள்ளது என்று அர்த்தம்.
என்னுடைய விடியோக்களையும் வலைதளத்தையும் கவனமாக உணர்ந்து என்னுடைய அறிவுறுத்தல்களையும் தகவல்களையும் செயல்படுத்துங்கள்.
ஏறத்தாழ உங்களின் 100 சதவீத கேள்விகளுக்கு அதில் பதில் கிடைக்கும்.
எங்கள் மருந்தை எவ்வாறு ஆர்டர் செய்வது என்ற தகவலும் அதில் காணப்படும்.
தகவல்களை சரிவர படித்து புரிந்துகொள்வதற்கு பதிலாக பலர் உடனே என்னை தொலைபேசியில் அழைத்து உறுதிமொழி பெற முயல்கிறார்கள். இது ஒரு முறையான அணுகுமுறை இல்லை.
இப்பிரச்சினை பற்றிய மற்றும் எங்கள் சாதனத்தை எத்தனை சிறப்பாக பயன்படுத்தி வெற்றிபெற முடியும் என்ற விழிப்புணர்வு உங்களுக்கு இருத்தல் வேண்டும்.
எங்கள் உத்தரவாதம் மட்டுமே வெற்றியை ஈட்டி தராது. ஆனால் எங்கள் அறிவுறுத்தல்களை முறையாக கடைபிடித்தல் மூலம் வெற்றிக்கான சாத்தியகூறுகளை அதிகரித்துக்கொள்ளலாம்.
இப்பரந்த உலகிலே செவிப்பறை துளையை முழுமையாகவும் இயற்கையாகவும் அடைக்க வல்ல ஒரே உண்மையான மருந்து செடியிலிருந்து தயாரிக்கப்பட்ட எங்கள் காது மருந்து ஒன்றுதான் என்பதை திட்டவட்டமாக அறிவிக்கிறோம்.
 
எங்கள் சிகிச்சையின் தத்துவத்தை பற்றி கீழே மிக தெளிவாக விளக்கப்பட்டுள்ளது. கூடவே எங்கள் செடி பகுப்பின் உலக தர தனித்துவத்தை பறைசாற்றும் நுண்ணுயிர் சான்றிதழ்களும் தரப்பட்டுள்ளன.
----------------------
செவிப்பறை துளை அடைப்பது மற்றும் குணப்படுத்துவதில் மட்டுமே எங்களின் வெற்றி சதவிகிதம் 60-70% ஆகும்.
செவிப்பறை பாதுகாப்பாக இருந்து பொழிவு/சீழ்/திரவ வழிதலுடன் கூடிய குறுகிய அல்லது நாள்பட்ட மைய காது நோயை குணப்படுத்துவதில் எங்களின் வெற்றி சதவிகிதம் 100% ஆகும்
எங்கள் அறிவு மற்றும் ஆராய்ச்சியின் படி எங்களின் செடி சாற்று துளிகளை எங்களாலோ அல்லது எங்களுக்காகவோ மேம்படுத்த முடியாது.
எந்த சாக்கும் சொல்ல விரும்பாமல், நூறு சதவிகிதத்திற்கு குறைவான வெற்றிக்கு காரணம் என்னவென்றால் எங்கள் கட்டுபாட்டை மீறி பல காரணிகள் இருப்பதே அல்லது இருந்ததே என்பதை தெளிவுபடுத்துகிறோம். 
வைத்யராஜ் அனில் டோக்ரா
+91 9810260704
உலகிலுள்ள காது மூக்கு தொண்டை (ஈஎன்டி) மருத்துவர்கள் மற்றும் மருத்துவமனைகள் நாள்பட்ட பொழிவுடன் கூடிய ஆடைட்டிஸ் மீடியா (ஓஎம்ஈ) நோய்க்கு சிகிச்சையளிப்பதில் மிக குறைந்த வெற்றியையே பெறுகிறார்கள்.
ஓஎம்ஈ சீழ்/திரவங்களுடன் கூடிய மீண்டும் மீண்டும் தோன்றும் மைய காது நோய் அல்லது நாள்பட்ட ஊடுருவிய ஆடைட்டிஸ் மீடியா என்றும் அழைக்கப்படுகிறது. இது பொதுவாக ‘பசை காது’ என்று அழைக்கப்படுகிறது.
எளிமையாக சொல்வதென்றால், உங்கள் காது வலியுடன் அல்லது வலியில்லாமல் மூடிய அல்லது திரவம் நிரம்பிய நிலையிலோ இருந்தால் மற்றும் 2 அல்லது 3 வெற்றிகரமான நுண்ணுயிர் கொல்லி சிகிச்சைக்குப் பின்னும் அந்நிலை மீண்டும் மீண்டும் தோன்றினால் அதற்கு ஓஎம்ஈ என்று பெயர்.
நாள்பட்ட ஓஎம்ஈ நிலையில், திரவ அழுத்தம் மைய காதில் செவிப்பறைக்கு சற்று பின்னே உருவாகுகிறது. அவ்வழுத்ததினால் செவிப்பறை வெடிக்கின்றது.
 
உலகில் ஓஎம்ஈ சிகிச்சைக்கான நுண்ணுயிர் கொல்லிகளின் இந்த குறைவான சக்தியே செவிப்பறையில் ஏற்படும் துளைக்கு முக்கிய காரணமாகும்.  
வைத்யராஜ் அனில் டோக்ராவின் செடி பகுப்பானது புது டில்லியை சேர்ந்த பெருமை வாய்ந்த த ஸ்ரீராம் தொழிற்துறை ஆராய்ச்சி கல்விக்கூடத்தின் நுண்ணுயிர் ஆய்வகத்தினால் சான்றளிக்கபட்டது. அதாவது சூடோமானஸ் ஆரிஜினோசா, எம்எஸ்ஆர்ஏ மற்றும் ஈ.கோலை போன்ற மிக கடினமான சூப்பர் பாக்டீரியாக்களையும் கொல்லும் ஆற்றல் வாய்ந்ததென்று.
இந்த கண்டுபிடிப்பானது அலெக்சான்டர் பிளெமிங் 1930களில் உருவாக்கிய பெனிசிலின் கண்டுபிடிப்புக்கு நிகரானது.
பெனிசிலின் கண்டுபிடிப்புக்கு பிறகு நுண்ணுயிர் கொல்லி யுகம் தொடங்கியது. ஆனால் நுண்ணுயிர் கொல்லிகளுக்கு அடங்காத சூப்பர் பக்குகள் அல்லது சூப்பர் பாக்டீரியாக்கள் உருவாகி பரவ தொடங்கியவுடன் எந்த யுகம் தற்போது முடிவுக்கு வந்துவிட்டது
ஒவ்வொரு வருடமும் ஓஎம்ஈயால் அவதிப்படும் இரண்டு மில்லியன் அமெரிக்க குழந்தைகளின் செவிப்பறைகளில் அறுவை சிகிச்சை மூலம் செவிப்பறை வழியாக நீள்குழாய் ஒன்று இணைக்கப்படுகிறது. இது மைய காதில் தேங்கியுள்ள திரவம் செவிப்பறையை கிழித்துவிடாமலிருக்க அத்திரவத்தை வெளியேற்றுவதற்காக செய்யப்படுகிறது.
இந்த நீள்குழாய்கள் ஒரு வருட காலம் உள்ளே இருக்கும். பின் அவைகள் தானாகவே கீழே விழுந்து விடும் அல்லது அறுவை சிகிச்சை மூலம் அகற்றப்படும். அச்சிறு துளை இயற்கையாகவே மூடி கொள்ளும் என்ற நம்பிக்கையின் அடிப்படையில் இந்த அறுவை சிகிச்சை மேற்கொள்ளப்படுகிறது.
ஆனால் 10லிருந்து 20 சதவிகித குழைந்தைகள் விஷயத்தில் அந்த நம்பிக்கை பொய்த்து விடுகிறது.
உலகில் பொருளாதார மற்றும் மருத்துவ ரீதியாக மிக அதிக முன்னேற்றம் கண்ட நாட்டிலேயே இந்த நிலைமை என்றால் மற்ற நாடுகளின் நிலைமையை நீங்கள் ஊகித்து கொள்ளுங்கள்.
காது குழாய்கள் என்பது மருத்துவ பிரச்சினைக்கான இயந்திர அடிப்படியிலமைந்த ஒரு தீர்வாகும். மூலகாரணியான நோயை அது தீர்ப்பதில்லை. அது தங்கி விடுகிறது.
காது குழாய்கள் செவிப்பறையில் முன்னரே சிறிய துளை உருவாக்கி திரவ அழுத்தத்தை குறைத்து பெரிய துளை ஏற்படும் வாய்ப்பினை தடுக்கிறது.
செவிப்பறை துளையைப் பற்றி தெரிந்து கொள்வோம்:
செவிப்பறை துளை என்பது உங்கள் தோலில் ஏற்படும் புண் போன்றது.
 
 
உடல் நோய் எதிர்ப்பு சக்தி சரியான முறையில் இருந்து சாதாரண நோயாக இருந்தால் புண் தானே ஆறிவிடுகிறது.
உங்கள் முடி மெதுவாக வளர்வது போல் புண்ணும் மேலும் மெதுவாக ஆறுகிறது. ஆனால் கண்டிப்பாக ஆறுகிறது. நீங்கள் செய்ய வேண்டியதெல்லாம் பொறுமையை கடைபிடிப்பதுதான்.
ஆனால் நோய் எதிர்ப்பு சக்தி குறைவாக இருந்து -- குறிப்பாக குழந்தையாக இருந்தால் -- சூப்பர் பாக்டீரியா நோயாக இருந்தாலோ, நுண்ணுயிர் கொல்லியால் கொல்ல முடியாத பாக்டீரியாவோ அல்லது நுண்ணுயிர் கொல்லிக்கு அடங்காத நோயாக இருந்தாலோ, புண் அல்லது செவிப்பறை துளை இயற்கையாக மூடிக்கொள்வது பாதிக்கபட்டு நின்றுவிடுகிறது.
சூப்பர் பாக்டீரியா நோய் புண் அல்லது செவிப்பறை துளை இயற்கையாக மூடிக்கொள்வதை நிறுத்தி விடுகிறது.
அம்மாதிரி சூழ்நிலைகளில்:
இழந்த நோய் எதிர்ப்பு சக்தியை நுண்ணுயிர் கொல்லியை நிறுத்தி நன்றாக உணவு உட்கொள்வதின் மூலம் திரும்ப பெறலாம்.
எங்கள் செடி பகுப்பின் உதவியுடன் மெதுவாக ஆனால் உறுதியாகவும் தொடர்ச்சியாகவும் நோயை முறியடிக்கிறீர்கள். மேலும் புண்/துளை இயற்கையாக மூடிக்கொள்ளும் பணி துவங்குகிறது.
இந்த தத்துவத்தின் அடிப்படையிலேயே நாங்கள் செயல்படுகிறோம். இது மட்டுமே பொறுமையாக இயற்கையாகவே துளை மூடிக்கொள்ளும் மாயத்தை உருவாக்கும்.
எங்கள் வலைதளத்திற்கு வருகை தருபவர்கள் ஏற்கனவே துளையுள்ள செவிப்பறையை உடையவர்களாக இருக்கிறார்கள்.
நீங்களே எங்களை தேடி வருகிறீர்கள்
ஆனால் நீங்கள் மற்றவர்களின் செவிப்பறையில் துளை ஏற்படாமல் அவர்களை காப்பாற்றி உதவலாம்.
ஏனென்றால் உங்களுக்கு இங்கிருந்து கிடைக்கும் ஞானம் அவர்களுக்கு கிடைப்பதில்லை
உங்கள் குடும்பத்திலோ அல்லது நண்பர்களின் குடும்பத்திலோ குறிப்பாக 15 வயதுக்குட்பட்ட குழந்தைகள் சூப்பர் பாக்டீரியா நோயினால் பாதிக்கப்பட்டு காது வலி, மைய காது நோய் அல்லது ஓஎம்ஈ நோயால் அவதிப்படலாம்.
அது செவிப்பறை துளைப்பில் முடியலாம்.
 
அவர்களெல்லாம் எங்களை நாடுவதில்லை. இந்த தகவலை அவர்களிடையே பரப்பி அவர்களின் செவிப்பறையை காப்பாற்றுங்கள்.
திரவ வழிதலுடன் கூடிய நாள்பட்ட மைய காது நோயால் ஏற்படும் செவிப்பறை துளையை எங்கள் காது சொட்டுக்கள் மூலம் தடுக்க எங்களுக்கு வெறும் ஓரிரு நாளே போதுமானது.
அனில் டோக்ராவின் காது சொட்டுக்கள் இயற்கையானது மற்றும் அனைத்து வயதுகளுக்கும் பாதுகாப்பானது.
கட்டயாமாக பின்பற்ற வேண்டிய அறிவுறுத்தல்கள்
வாய் வழியே உட்கொள்ளும் நுண்ணுயிர் கொல்லிகள் உட்கொள்வதை உடனே நிறுத்தவும். இதற்கு பதிலாக சூடான பச்சை காய் சூப் அல்லது பழ சாறை வாரம் இருமுறை உட்கொள்ளவும்.
குளியலின் போது தண்ணீர் நோயுற்ற காதினுள் நுழைய கூடாது. காதில் சிறிது வாசலைன் தடவிய பஞ்சை சுருட்டி வைத்துகொள்ளவும். இது நீரை விலக்கும்.
துளை குணமடைந்து ஒரு வருடம் வரை நீச்சலோ தலை முழுக்கோ போடக்கூடாது.
ரசாயன அல்லது ஹோமியோபதி அல்லது வீட்டு மருந்துகளை காதுகளில் இட கூடாது.
இந்த மூலிகை சொட்டு சிகிச்சையில் உள்ளது என்னவெனில்:
எங்கள் பரிசுத்தமான செடி சாறுதான் அதி முக்கியமான சொட்டுகளாகும்.
இதிலிருந்து வேறு பல சொட்டுகளை எந்நேரத்திலும் தயாரித்துக்கொள்ள முடியும்.
சில காலம் கழித்து இந்த சொட்டுகள் கறுத்தோ அல்லது அடர்த்தியாகவோ தோன்றும். இது இயற்கையானதுதான். இது சொட்டுக்களின் வீரியத்தையும் பலனையும் சிறிதும் குறைக்காது. எப்போதும் சொட்டுகள் வலுவானதாக இருக்கும். இவைகள் காலாவதியே ஆகாது. கூடுமானவரை இதை சுத்தமான இடத்தில் சாதாரண வெப்ப நிலையில் நேரடி வெளிச்சம் படாமல் சேமித்து வைக்கவும்.
சுற்றுபுறத்தில் இருக்கும் எந்த நுண்ணுயிரும் எங்கள் மருந்தை செயலிழக்க வைக்க இயலாது. இதனால்தான் இது எப்போதும் வீரியத்துடன் இருக்கிறது.
இது நான்கு 10 மிலி/300 சொட்டுக்கள் கொண்ட டிராப்பர் பாட்டில்களில் கிடைக்கிறது.
இரண்டு பாட்டில்களில் பரிசுத்தமான செடி சாறு சுமார் 600 பரிசுத்தமான செடி சாறு துளிகள் உள்ளது.
உங்கள் துளை சிகிச்சைக்கு மேலும் அதிக துளிகள் தேவைப்படலாம்.
சிகிச்சையின் வெற்றி அல்லது தோல்வி இந்த அளவுகளிலேயே அடங்கும். சிகிச்சைக்கு பின் சில துளிகள் மீதமிருக்கும். ஆனால் அவைகள் எப்போதுமே காலாவதியாகாது.
ஒரு பாட்டிலில் நீர்க்கப்பட்ட காது சொட்டுக்கள் மற்றும் 25 துளிகள் சுத்தமான சாறு 10 மிலி சுத்தமான தண்ணீரில் கலக்கப்பட்டு வழங்கப்படும்.
இதன் வீரியத்தை நீங்கள் எந்நேரமும் சுத்தமான சொட்டுக்களை சேர்த்து அதிகரித்துக்கொள்ளலாம்.
நான்காவது பாட்டிலில் 10 மிலி நாசி சொட்டு இருக்கும். இதில் 4 சொட்டுக்கள் சுத்தமான செடி சாறு மற்றும் 10 மிலி சுத்தமான தண்ணீரையும் சேர்த்து எந்நேரமும் இதை நீங்கள் தயாரித்து கொள்ளலாம்.
நாசி சொட்டுக்களையும் நீர்க்கபட்ட காது சொட்டுக்களையும் எந்நேரமும் எவரேனும் சுத்த பகுப்பை கொண்டு தயாரித்து கொள்ள முடியும்.
நாசி சொட்டுக்கள்
ஜலதோஷம்/மூக்கடைப்பு அல்லது தொண்டை நோய் இருந்தால் நாசி சொட்டுக்களை ஒவ்வொரு நாசி துவாரத்திலும் 2 சொட்டுக்கள் என்ற விகிதத்தில் நாள் ஒரு முறையோ அல்லது தேவைக்கேற்ப அதிகமாகவோ இட வேண்டும். 
சைனசுக்கான ஒரே தீர்வு இதுதான்.
மேலும் உட் காதும் தொண்டையும் நேரடி தொடர்பில் இருப்பதால் இது மைய காது நோய்க்கும் தீர்வாக அமையலாம்.
காது சொட்டுக்களை இட்டுக்கொள்ளுதல்
 
காது வலி அல்லது துளை ஏற்படுத்தாத நாள்பட்ட மையகாது நோய்க்கு:
உங்கள் செவிப்பறையை எங்கள் நீர்க்கப்பட்ட சொட்டுக்களின் துணை மட்டுமே கொண்டு காப்பாற்றுங்கள்.
நான்கு துளிகள் நீர்க்கப்பட்ட சொட்டை பாதிக்கப்பட்ட காதில் இட்டு இரண்டு நிமிடம் காத்திருக்கவும். 
பின் நேராக நின்று பஞ்சினால் காதிலிருந்து வரும் அனைத்தையும் சுத்தப்படுத்தவும்.
இதை ஒவ்வொரு நாளும் ஒரு முறையோ அல்லது மூன்று முறையோ கனத்ததன்மை நீங்கும் வரை அல்லது வலி பூரணமாக நீங்கி நீங்கள் இயல்பாக உணரும் வரை கடைபிடியுங்கள்.
எங்கள் சொட்டுக்கள் காதிரைச்சலுக்கு பயன்படாது. ஆனால் இந்த நோய் குணமானவுடன் சொட்டுக்கள் ஆற்றலுடன் செயல்படலாம்.
காதிரைச்சல் என்பது மூளையுடன் இணைக்கப்பட்டுள்ள உட்காது சம்பந்தப்பட்ட ஒரு பிரச்சினையாகும். அதனால் சொட்டுக்கள் உட்காதுக்குள் நுழையாது.
கேட்கும் திறனில் எத்தனை முன்னேற்றம் கிடைக்கும் என்பது யாராலும் சொல்ல இயலாது. பொறுத்துதான் பார்க்க வேண்டும்.
நீச்சல் செய்பவர்கள்—நீச்சல், குதித்தல் சர்ஃபிங் அல்லது ஸ்கூபா டைவிங் ஆகியவைகளுக்கு பிறகு 4 துளிகள் நீர்க்கபட்ட சொட்டுக்களை இரண்டு நிமிடம் இடவும். இது நோய் பரவுவதிலிருந்து தற்காத்துக் கொள்ள முடியும்.
மேலும், மேலே சொன்னவாறு நாசி சொட்டுக்களையும் ஒருமுறை இட்டுக்கொள்ள வேண்டும்.
செவிப்பறை துளை ஏற்பட்டிருந்தால்
முதலில் நீர்க்கபட்ட சொட்டுக்களிலிருந்து தொடங்கவும். நீர்க்கபட்ட செடி சாறை 2-4 துளிகள் ஒவ்வொரு நாளும் ஒரு முறை 2 நிமிட நேரம் இட்டுக்கொள்ளவும்.
வலி பொறுத்துக்கொள்ள கூடிய நிலை தோன்றினால் ஒரு நாள் விட்டு ஒரு நாள் மட்டுமே சுத்தமான சொட்டுக்களை விட்டு கொள்ளவும்.
வலி பொறுத்துக்கொள்ள கூடிய நிலை தொடர்ந்தால் சுத்தமான சொட்டுக்களை பயன்படுத்துங்கள் அல்லது நீர்க்கப்பட்ட துளிகளை மீண்டும் பயன்படுத்துங்கள்.
இறுதியாக வலி மிகவும் குறைந்து நீங்கள் வெறும் சுத்தமான சொட்டுகளை மட்டுமே இட்டுக்கொள்ளும் நிலை தோன்றும்.
இந்த முறையில் பலருக்கு அவகாசம் மிக அதிகமாக தேவைப்படும். அதனால் பொறுமையை கடைபிடிப்பதை தவிர வேறு மார்க்கமில்லை.
சுத்தமான சாற்று சொட்டுக்களை ஒரு நாள் விட்டு ஒரு நாள் சேர்த்துக்கொள்ளவும்.
இரண்டு அல்லது மூன்று சொட்டுக்கள் இரண்டு நிமிடத்திற்கு போதுமானது.
பாதிக்கப்பட்ட காதினுள் நீர் புகாமல் ஒரு வருட காலம் கவனமாக பார்த்துக்கொள்ளவும்.
சீழ் வடிதல் மற்றும் வலி நின்றுவிட்டால் நோய் முற்றிலும் குணமடைந்து விட்டதென்று அர்த்தம்.
இந்நேரத்தில் நீங்கள் சுத்தமான சொட்டுக்களை ஏற்கனவே சேர்த்து கொண்டிருந்தீர்ப்பீர்கள் மற்றும் வெறும் சுத்தமான சொட்டுக்களை மட்டுமே ஒரு நாள் விட்டு ஒரு நாள் இட்டுக்கொள்வதை தொடர்ந்து செய்து கொண்டிருந்தீர்ப்பீர்கள்.
கொல்லிக்கு கட்டுபடா தன்மையினாலும் மற்றும் இக்காலகட்டம் சூடோமோனஸ் ஆரிஜிநோசா, எம்ஆர்எஸ்யே மற்றும் ஈ கோலை போன்ற சூப்பர் பக்ஸ் நிலவும் சூழ்நிலையாதலாலும் நோய் குணமாக்குதல் என்பது ஒரு மிக பெரிய சாதனையாகும். 
 
இந்த சூப்பர் பக்ஸ் உலகம் முழுதும் நாசத்தை ஏற்படுத்துகின்றன. இவைகளை எங்கள் செடி சாறை மட்டுமே பயன்படுத்தி கொல்ல முடியும்.
புது டில்லியை சேர்ந்த பெருமை வாய்ந்த த ஸ்ரீராம் தொழிற்துறை ஆராய்ச்சி கல்விக்கூடத்தின் நுண்ணுயிர் ஆய்வகத்தினால் அளிக்கப்பட்ட சான்றிதல்களின் நகல்கள் இந்த வலைதளத்தில் கொடுக்கப்பட்டிருக்கிறது.
நோய் குணமானதும் துளையின் அளவை ஈஎன்டி மருத்துவரின் துணை கொண்டு சோதித்தறிந்து கொள்ளுங்கள்.
தொடர்ந்து ஒரு நாள் விட்டு ஒரு நாள் சுத்தமான சொட்டுக்களை இட்டுக்கொண்டு 40 தினங்களுக்கு பிறகும் 80 தினங்களுக்கு பிறகும் கூடுமானவரை அதே ஈஎன்டி மருத்துவரின் துணை கொண்டு துளையின் அளவை சோதித்தறிந்து கொள்ளுங்கள்.
இரண்டாவது அல்லது மூன்றாவது சோதனையின் போது குணமாகுதல்/மூடிகொள்ளுதல் நடைபெற்று துளையின் அளவு குறைந்தால், துளை இரண்டு மாதங்களில் முழுவதுமாக மூடிக்கொள்ளும் வெறும் எங்கள் சொட்டுக்களின் உதவியினாலேயே. இல்லையென்றால் அறுவை சிகிச்சையை நீங்கள் நாட வேண்டியிருக்கும். 
கூடுதல் அம்சங்கள்
சில காலம் கழித்து இந்த சொட்டுகள் கறுத்தோ அல்லது அடர்த்தியாகவோ தோன்றும். இது இயற்கையானதுதான். இது சொட்டுக்களின் வீரியத்தையும் பலனையும் சிறிதும் குறைக்காது. எப்போதும் சொட்டுகள் வலுவானதாக இருக்கும்.
இந்த சாறு வைத்யராஜ் அனில் டோக்ரா மற்றும் குடும்பத்தினரால் கைப்பட தயாரிக்கப்பட்டது.
வைத்யராஜ் அனில் டோக்ரா
+91 9810260704
இந்த மருந்தின் விலை பட்டுவாடா செலவை சேர்த்து ரூ. 3700.00 இந்தியாவுக்குள். விலை எப்போது வேண்டுமானாலும் மாறலாம்.
பொதுவாக முழு குணமடைய கூடுதல் சுத்தமான சாறு தேவைப்படாது. அப்படி தேவைபட்டால் 
ஒரு புதிய மருந்தை நீங்கள் ஆர்டர் செய்ய வேண்டும்.
 
இந்தியாவிற்கு வெளியே விலை $145.00.
மூலிகை மருந்து இறக்குமதி கொள்கை நிலவுவதால் யுஏஈ, சவுதி அரேபியா மற்றும் வேறு இஸ்லாமிய நாடுகளுக்கு எங்களால் அனுப்ப இயலாது.  
பாகிஸ்தானுக்கு அனுப்ப முடியும்.
[email protected] என்ற மின்னஞ்சல் மூலம் www.Paypal.com ஐப் பயன்படுத்தி பணம் செலுத்தலாம். அல்லது மனிக்ராம் அல்லது வெஸ்டன் யூனியன் மூலமும் பணம் செலுத்தலாம். முகவரி:
அனில் குமார் டோக்ரா, 1A/20 A, பேஸ் 1, அசோக் விஹார், டெல்லி, இந்தியா – 110052. போன் +91 9810260704.
பின் நீங்கள் எங்களுக்கு [email protected] என்ற மின்னஞ்சலில் தகவல் கொடுக்கலாம்.
இந்தியாவுக்குள் நீங்கள் பணத்தை கீழ்வரும் கணக்கில் செலுத்தி உங்கள் பெயர், தொலைபேசி எண் மற்றும் முகவரி போன்ற தகவல்களை எங்களுக்கு தெரிவியுங்கள். எங்கள் போன்: 9810260704. குறுஞ்செய்தி அல்லது வாட்சப்பையும் பயன்படுத்தலாம்.
திருமதி மினு டோக்ரா, கணக்கு எண்: 35782552316, பாரத ஸ்டேட் பேன்க், அசோக் விஹார் கிளை, டெல்லி 110052. NEFT IFSC குறியீடு: SBIN0007783
அடிக்கடி கேட்கப்படும் கேள்விகள்: 
1) செவிப்பறை ஒழுங்காக இருந்து ஆனால் காது வலியோ, மைய காது நோயிருந்தாலோ அல்லது செவிப்பறை துளையிருந்தாலோ ஈஎன்டி மருத்துவர்கள் காது சொட்டு மருந்தை உபயோகிக்க மறுக்கிறார்கள். அதனால் உங்கள் காது சொட்டு மருந்து எந்த வகையில் பயன்படுகிறது?
ஈஎன்டி மருத்துவர்கள் காது சொட்டு மருந்தை மைய காது நோய் அல்லது ஆட்டைட்டிஸ் மீடியா ஆகியவைகளுக்கு ஏன் பரிந்துரை செய்ய மறுக்கிறார்கள் என்றால் எந்த மருந்தும் ஒழுங்காக இருக்கும் செவிப்பறை மூலம் உள் நுழைந்து செல்ல முடியாத காரணத்தினால்தான்.
உறுதியாக சொல்லவேண்டும் எனில் எங்கள் சொட்டு மருந்து எவ்விதமான குறுகிய கால அல்லது நாள்பட்ட ஆட்டைட்டிஸ் மீடியாவை எந்த வயதினருக்கும் செவிப்பறை ஒழுங்காக இருந்தால் ஒரே நாளில் குணபடுத்தும்.
வாய் வழியே உட்கொள்ளும் நுண்ணுயிர் கொல்லிகளுக்கு அவசியமில்லை.
நவீன மருத்துவம் என்பது இன்னும் முழுமையாக உருவாகாத நிலையிலேதான் உள்ளது.
உண்மையாக எங்கள் காது சொட்டு மருந்து சவ்வூடு பரவுதல் அடிப்படையில் சிறிய அளவில் ஆனால் போதுமான அளவில் செவிப்பறைக்குள் நுழைந்து நோயை கட்டுபடுத்துகிறது. அதிக சொட்டுக்கள் இரண்டே நிமிடங்களில் வழிந்து வெளியேறுகிறது.
மருத்தவர்கள் காது சொட்டு மருந்திலுள்ள எதாவது ஒரு ரசாயன மருந்து பிரச்சினையை அதிகபடுத்தும் என்று அச்சம் கொள்கிறார்கள். இந்த அச்சத்தில் ஓரளவு நியாயம் இருக்கத்தான் செய்கிறது.
மேலும் சொட்டு மருந்திலே கூட பாக்டீரியா நுண்ணுயிர்கள் எதாவது இருக்கலாம். மருத்துவர்களின் இந்த அச்சத்தை நாங்களும் ஆதரிக்கிறோம்.
ஆனால் எங்கள் காது சொட்டு மருந்து வித்தியாசமானவை.
எங்கள் மருந்து முற்றிலும் மூலிகைகளை அடிப்படையாக கொண்டவை. அது மிகவும் கடினமான நுண்ணுயிர்களையும் கொல்லும் ஆற்றல் படைத்தது என்பது நிரூபிக்கப்பட்ட உண்மையாகும்.. 
எங்கள் மருந்து உங்களுக்கு பரிபூரண பாதுகாப்பை வழங்கும்.
மேலும் எங்கள் மருந்துடன் வேறு எந்த காது மருந்தையும் சேர்க்கக் கூடாதெனவும் நீச்சல் செய்யக் கூடாதெனவும் நாங்கள் அறிவுறுத்துகிறோம். செவிப்பறை முழுவதுமாக மூடிக்கொள்ளும் வரை குளிக்கும் போது நீர் உட்புகாமல் பாதுகாப்பாக இருக்க வேண்டும். ஏனென்றால் நகராட்சி தண்ணீரில் இருக்கும் சூப்பர் பாக்டீரியாக்கள் நோயை மீண்டும் உருவாக்கலாம்.
2) 100 சதவிகிதம் செவிப்பறை மூடிக்கொள்ளும் என்ற உத்தரவாதத்தை உங்களால் தர முடியுமா?
100 சதவிகிதம் நோய் குணமாகும் என்ற உத்தரவாதம் கொடுக்கிறோம். ஆனால் செவிப்பறை குணமாகும் என்று 60-70 சதவிகித உத்தரவாதம் மட்டுமே கொடுக்க இயலும்.
மேலே விளக்கமாக குறிப்பிட்டவாறு இது பல படிநிலைகளை கொண்ட ஒரு சிகிச்சை முறையாகும். நாங்கள் துளையால் பாதிக்கப்பட்ட பல செவிப்பறைகளை நிரந்தரமாக மூடியுள்ளோம்.
சிகிச்சை பலன்கள் சாராத எங்கள் நோயாளிகளின் தொலைபேசியடங்கிய சான்று பட்டியல் உள்ளது. இது முழுமையடையாத பட்டியலாகும் ஏனென்றால் பலர் சொந்த காரணங்களுக்காக தங்கள் விவரங்களை வெளியிட மறுக்கிறார்கள்.
3) என் காதில் சீழ் வடிவதில்லை. இதற்கு நோய் இல்லை என்று அர்த்தமா? 
சீழ் என்பது இறந்த செல்களாகும். நோயை உடல் எதிர்ப்பு சக்தியை கொண்டோ அல்லது மருந்தின் துணை கொண்டோ போராடும் போது சீழ் வடிகிறது.
அவ்வப்போது சீழ் வடிந்தால் நோய் இன்னும் தங்கியுள்ளது என்று அர்த்தம்.
சில வேளைகளில் சீழ் துவக்கத்தில் இருக்காது. ஆனால் எங்கள் சொட்டு மருந்தை இட ஆரம்பித்தவுடன் அது வரும். இதன் அர்த்தம் நோய் உள்ளேயே செயலற்ற தன்மையில் இருந்திருக்கிறது. கொல்லிகளை பயன்படுத்தியதால் அது காய்ந்து போயிருந்திருக்கும் ஆனால் முழுவதுமாக கொல்லப்படவில்லை.
எங்கள் மருந்து நிலவும் நோயை எதிர்க்க மீண்டும் துவங்கியவுடன் இறந்த செல்கள் உற்பத்தியாகி சீழாக வெளியேறுகின்றன.
துளை முழுவதுமாக குணமாகும் வரை நகராட்சி நீரை காதினுள் நுழைய அனுமதிக்ககூடாது. இத்தண்ணீரில் இருக்கும் கெட்ட பேக்டீரியாக்கள் நோயை அதிகபடுத்தும் அல்லது மீண்டும் உருவாக்கும்.  
இந்த நோய் அபாயம் குறிப்பாக குளிக்கும் போதோ, நீச்சலின் போதோ அல்லது முழுக்கு போடும்போதோ இருக்கும்.
ஆதலால் பஞ்சை உபயோகித்து எச்சரிக்கையுடன் குளியுங்கள்.
எங்கள் மருந்தின் மூலம் சீழ் வடிவது நின்றுவிட்டால் நோய் முற்றிலும் குணமாகிவிட்டது என்று அர்த்தம்.
4) நாங்கள் வைத்யராஜ் அனிலை சந்தித்து அவரின் கைகளிலிருந்தே இந்த மருந்தை வாங்கிக் கொள்ளலாமா?
இல்லை. நாங்கள் அனைத்தையும் இங்கே விவரித்துள்ளோம். பிற தகவல்களுக்கு நீங்கள் தொலைபேசியில் அழைக்கலாம் அல்லது மின்னஞ்சல் அனுப்பலாம்.
அனைத்து காது பிரச்சினைகளுக்கும் இந்த ஒரே தீர்வுதான் இறுதியான தீர்வாகும். நாங்கள் வேறெந்த சிகிச்சையையும் பரிந்துரைக்க மாட்டோம்.
பொதுவாக மருத்துவர்கள் நாங்கள் தரும் விளக்கங்களில் 10 சதவிகிதம் கூட விளக்க மாட்டார்கள். மூலிகை மருத்துவர்கள் என்ற முறையில் ஆரோக்ய பிரச்சினையை நாங்கள் முழுமையான முறையில் அணுகுகிறோம். எனவே எங்கள் மூலிகை மருந்து நோய் கண்டறிதல் எவ்வகையானாலும் ஆற்றலுடன் வேலை செய்து உங்களுக்கு உதவும்.
அனைத்து துளை பிரச்சினைகளும் ஒரே மாதிரியானவைதான்.
எங்கள் முறை ரசாயன சிகிச்சை அல்லது நுண்ணுயிர் கொல்லி முறை போலல்ல. மற்ற வகைகளில் பிரச்சினையின் ஒரு பகுதிதான் தீர்க்கப்படுகிறது. மீதமுள்ள பகுதி பக்க விளைவுகளால் பாதிக்கப்படுகிறது.
 
5) சமீப காலங்களில் மைய காது நோய்க்கு செவிப்பறை அறுவை சிகிச்சை ஏன் பலனளிப்பதில்லை மற்றும் நீள்குழாய்கள் அல்லது க்ரோமெட்கள் பொருத்துவது ஏன் அபாயகரமாக உள்ளது?
இரண்டு மில்லியன் கடையாணி போன்ற குழாய்கள் அல்லது க்ரோமெட்கள் அமெரிக்காவில் பத்திரமான செவிப்பறைகளில் ஒவ்வொரு வருடமும் பொருத்தப்படுகின்றன. இதற்கு ஒரு சிறு துளை செவிப்பறைகளில் எற்படுத்தப்படுகிறது. இந்த அறுவை சிகிச்சை பெரும்பாலும் குழந்தைகளுக்காக செய்யபடுகிறது.
 
இந்த நீள்குழாய்கள் ஒரு வருட காலம் உள்ளே இருக்கும். பின் அவைகள் தானாகவே கீழே விழுந்து விடும் அல்லது அறுவை சிகிச்சை மூலம் அகற்றப்படும். அச்சிறு துளை இயற்கையாகவே மூடி கொள்ளும் என்ற நம்பிக்கையின் அடிப்படையில் இந்த அறுவை சிகிச்சை மேற்கொள்ளப்படுகிறது.
இந்த க்ரோமட்டுகள் ஒரு சிறு அறுவை துளை மூலம் செலுத்தப்படுகிறது. இதன் நோக்கம் செவிப்பறையின் பின்னே இருக்கும் சீழை தேங்க விடாமல் வழிந்து வெளியேற வைப்பதுதான். ஏனென்றால் தேங்கும் சீழ் செவிப்பறையில் அழுத்தம் ஏற்படுத்தி அதை வெடிக்க வைத்துவிடும்.
இந்த சீழ் குறுகிய அல்லது நீண்ட கால மைய காது நோய், கொல்லிகளால்  கட்டுப்படுத்தப்படாமல் போனால் உருவாகிறது.
இந்நோய் சமீபத்தில் கொல்லிகளுக்கு கட்டுப்படாமல் போய்விட்டது. அதனால் இதற்கு ஒரே மாற்று இயந்திரம் மூலம் ஒரு துளையை ஏற்படுத்தி குறைந்த பட்சம் செவிப்பறையையாவது காப்பாற்றுவதுதான். 
குழந்தை வளர வளர அதன் நோய் எதிர்ப்பு சக்தியும் வளர்ந்து நோயிலிருந்து இயற்கையாகவே நிவாரணம் கிடைத்துவிடும் என்ற நம்பிக்கையில்தான் இந்த முறை மேல்நாடுகளில் கடைப்பிடிக்கப்படுகிறது. ஏற்படுத்தப்பட்ட சிறு துளை இயற்கையாகவே மூடிக்கொள்ளும் என்றும் நம்பப்படுகிறது.
காது குழாய்களின் தத்துவம் இதுதான்.
 
ஆனால் சூப்பர் பாக்டீரியாவால் நோய் ஏற்பட்டால் காது குழாய் விழுந்த பின்னும் துளை மூடிகொள்ளாமல் போய்விடும். பின் இத்துளை நுண்ணுயிர் எண்ணிக்கை அதிகரிப்பினால் பெரிதுதான் ஆகும்.
டிம்பனோப்லாஸ்டி அல்லது செவிப்பறை துளை சீராக்கும் அறுவை சிகிச்சைக்கும் இதே நிலைதான்.
அறுவை சிகிச்சைக்கு முன் மருத்துவர் செவிப்பறை துளை இயற்கையாகவே மூடாமல் இருத்தலுக்கான நோய்க்கு காரணமான நுண்ணுயிர்களை கொல்ல கொல்லிகளை வழங்குகிறார். 
மருத்துவர் நோய்க்கான எந்த அறிகுறியையும் காண்பதில்லை. அதனால் நோய் தீர்ந்துவிட்டது என்று அனுமானிக்கிறார்.
அவர் நோய் குணமாகிவிட்டதா என்று நுண்ணுயிர் பரிசோதனை எதுவும் செய்வதில்லை. 
அது சில வேளைகளில் சாத்தியமில்லாமலும் போகலாம்.
ஆனால் நோய் மிக சிறிய பாக்டீரியா மற்றும் காளான் ஆகியவைகளால் உருவாகி சிறிது மீதமிருந்தாலும் செவிப்பறையை சீர் செய்வது ஒரு வலு குன்றிய அடித்தளத்தின் மேல் ஒரு கட்டிடத்தை கட்டுவதற்கு சமம்.
அந்த கட்டிடம் எப்போது வேண்டுமானாலும் இடிந்து விழலாம்.
அதனால் இந்த சூப்பர் பாக்ஸ் பெருகி சீர் செய்யப்பட்ட செவிப்பறையை மீண்டும் ஓரிரு வருடங்களில் அழித்துவிடும்.
இது சமீப காலங்களில் மிக அதிக அளவில் நடக்கும் ஒரு செயலாகும்.
நாம் சூப்பர் பக் யுகத்தில் வாழ்கிறோம். இம்மாதிரியான அறுவை சிகிச்சைகள் கொல்லிகளுக்கு அடங்காத சூப்பர் பக்ஸை கொல்லும் ஒரு கொல்லி இல்லாத நிலையில் நிச்சயம் தோல்வியில்தான் முடியும்.
5) நாங்கள் உங்கள் மருந்தை எங்கள் செவிப்பறையை அறுவை சிகிச்சைக்கு பின் பயன்படுத்தலாமா?
உங்களுக்கு செவிப்பறை அறுவை சிகிச்சை நடந்திருந்தால் ஒரு மாத காலம் பொறுத்து 4 சொட்டுகள் எங்கள் நீர்க்கபட்ட காது சொட்டு மருந்தை வாரம் ஒரு முறை இரு நிமிடம் வீதம் ஒரு வருடத்திற்கு இடவும். இது சீர்செய்யப்பட்ட செவிப்பறை சூப்பர் பக்ஸால் தோல்வியடையாமல் காப்பாற்ற உதவும்.
இதன் மூலம் இந்த கிருமிகள் பெருகி சீர் செய்யப்பட்ட செவிப்பறையை பாதிக்கும் ஆபத்தை விலக்குகிறீர்கள்.
 
6) இரு செவிப்பறைகளும் துளையிடப்பட்டிருந்தால் எங்கள் மருந்தை ஒரு காதில் முயற்சிக்கவும். பின் நம்பிக்கையேற்பட்டால், அடுத்த காதிலும் இடுங்கள்.
 
 
 
7) சில வேளைகளில் துளையிட்ட நோயாளிகளில் நோயின் வீரியம் கடுமையாக இருக்கும். இதனால் நீர்க்கப்பட்ட மருந்தை இட்டாலே வலி கடுமையாக ஒரு நாள் முழுவதும் இருக்கும்.
இம்மாதிரி சூழ்நிலைகளில் நீர்க்கப்பட்ட மருந்தில் 50 சதவிகிதம் எடுத்து விட்டு சுத்தமான நீரை சேர்த்து மேலும் நீர்க்க வையுங்கள். நாசி மருந்தை தொடருங்கள் ஆனால் அதிக நீர்த்த மருந்தை வலியும் கனத்ததன்மையும் விலகிய பின்பே உபயோகபடுத்தவும்.
அனுப்பப்பட்ட நீர்த்த சொட்டுகளில் 25 சொட்டுகள் சுத்த சாறும் 10மிலி சுத்த தண்ணீரும் உள்ளது. நீங்கள் புதிய நீர்த்த சொட்டுகளை உருவாக்க ஒரு புதிய காலி 10மிலி டிராப்பர் பாட்டிலை தருவிக்கலாம். இது ஒரு சிபாரிசுதான்.
8) வாய் வழியே உட்கொள்ளும் கொல்லிகள் நோயை வெறும் காய மட்டும் வைக்கின்றன. நோய் முற்றிலும் குனமாக்கபட்டதா என்று யாரும் அறிவதில்லை. வலியோ, வீக்கமோ அல்லது கனத்ததன்மை இருந்தால் இவர்கள் காது சுரங்கத்தை சுத்தம் மட்டுமே செய்ய தெரிந்தவர்கள். என்ன பிரச்சனை என்றால் வாக்குவம் கிளீனர் போன்ற ஒரு கருவியை பயன்படுத்துகிறார்கள். சுத்தம் செய்யும் போது அழுத்தம் அதிகரித்தால் செவிப்பறை கிழிந்துவிடும். நாங்கள் இம்மாதிரியான பல நோயாளிகளை பார்த்துள்ளோம்.
அதனால் உங்கள் குடும்பத்தார்க்கும் நண்பர்களுக்கும் இத்தகவலை பகிருங்கள். காதுகளை வெளியிலிருந்து சுத்தம் செய்ய வேண்டாம் குறிப்பாக வாக்குவம் கிளீனர் பயன்படுத்தி.
எங்கள் நீர்த்த சொட்டு மருந்து ஒன்றே காதிலுள்ள மெழுகை மெதுவாகவும் இயற்கையாகவும் சுத்தம் செய்யும். இது பிற்காலத்தில் காது தன்னை தானே சுத்தம் செய்துகொள்ளும் தன்மையை பெற உதவுகிறது. காடு பட் பயன்படுத்தாதீர்கள்.
9) சில வேளைகளில் நீர்த்த துளிகள் பயன்படுத்த தொடங்கினால் வலியும் கனத்ததன்மையும் அதிகரிக்கும். இது சில சமயங்களில் மட்டுமே ஏற்படுகிறது.
அதனால், நீர்த்த சொட்டுக்களை ஒரு நாள் விட்டு ஒரு நாள் மட்டுமோ அல்லது பிற்பாடோ பயன்படுத்துங்கள் வலியோ கனத்தன்மையோ நீங்கும் வரை. 
இவ்வகைகளில் நோய் தீவிரமாகவும் சிக்கல் நிறைந்ததாகவும் இருக்கும். நாம் பொறுமையாகத்தான் இருக்க வேண்டும். அதி விரைவில் பலனை எதிர்பார்க்க கூடாது.
ஒரு நாள்பட்ட நோயை குணப்படுத்துவது மற்றும் செவிப்பறை வளர்ச்சி என்பது பொறுமை, தொடரத்துவம் மற்றும் கட்டுப்பாடு ஆகியவையை உள்ளடக்கியது.
மேலும் நீங்கள் அறிவாளியாகவும் புத்திசாலியாகவும் மற்றும் சுய பரிசோதனை செய்து கொள்பவராகவும் இருக்க வேண்டும். இக்குணங்களை கொண்டு என்ன நடக்கிறதென்று அறிந்து உங்கள் சிகிச்சை யுக்தியை சமயத்திற்கேற்றவாறு மாற்றியமைத்துகொள்ளுங்கள்.

Vaidyaraj Anil & Minu Dogra

+91 9810260704

[email protected]

Choose

Your

Language

Tamil
ஒருவருக்கு..


Telugu
జన్మతః ఒక..


Kannada
ಒಬ್ಬ ವ್ಯಕ್ತಿ..


Hindi
हम स्पष्ट करना..


Gujarati
કોઈ વ્યક્તિને..


Marathi
काही जणांना..


Bengali
একটা মানুষের..


Urdu
مسئلہ نہیں..


Punjabi
ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਇੱਕ..


English
We Categorically..

prevent

eardrum

perforation

Vaidyaraj Anil's Handmade

liquid extract

of uniquely processed

( a family secret )

fruits & bark of Banyan Tree,

Gall-Nuts & Sheetal Chini

USA & Outside India
US $ 145.00

Within India
INR 3700.00

This is Complete Treatment Set Price. Very Rarely there is a Need to Order again.

Click to Order
All prices include shipping.

No Refund. No Returns.
All Sales are final.

Video Testimonials*


Mr. Pawan Kumar, Rohtak


Mr. Manav Gupta, Delhi


Mr. Madan Sharma, Bangalore(In Hindi)


Mr. Madan Sharma, Bangalore(In English)


Mr. Harman Bahra, London


Master Arvind, Chennai